दृष्टिबाधित दम्पति मेहनत की कमाई जमा करने बैंक गये तो पता चला, बंद हो चुके हैं नोट!

इरोड (तमिलनाडु), 12 जुलाई (एजेंसी) तमिलनाडु के इरोड जिले में अगरबत्ती बेचने वाले दृष्टिबाधित पति-पत्नी उस समय स्तब्ध रह गए जब उन्हें पता चला कि उन्होंने मेहनत की कमाई से जो 24 हजार रुपये बचाए थे, वे 1,000 और 500 रुपये के चलन से बाहर हो चुके नोटों में है, जिन्हें लगभग 4 साल पहले बंद किया जा चुका है। सुदूर पोठिया मूपानूर गांव के निवासी सोमू (58) ने दावा किया कि उन्हें नवंबर 2016 में हुई नोटबंदी के बारे में शुक्रवार को पता चला जब वह अपनी और अपनी पत्नी पलानीअम्मल की बचत की रकम बैंक में जमा कराने गए। उन्होंने पत्रकारों से कहा कि कोविड-19 के चलते बीते 4 महीने से कोई कमाई नहीं हो पा रही थी, तो उन्होंने अपनी निरक्षर मां के पास रखी अपनी बचत निकाली। सोमू इस राशि को जमा कराने बैंक ले गए, जहां अधिकारियों ने उन्हें बताया कि ये नोट काफी पहले बंद हो चुके हैं। 10 साल में अगरबत्तियां बेचकर की थी बचत सोमू ने कहा कि उन्होंने और उनकी पत्नी ने नजदीकी अंथियूर और आसापास के इलाकों में 10 साल से अधिक समय तक अगरबत्तियां तथा कपूर बेचकर यह बचत की थी। उन्होंने कहा कि हर सप्ताह वह अपने साथ रह रहीं अपनी मां को कुछ पैसा दिया करते थे, जिसे वह अपने पास सुरक्षित रख लिया करती थीं। वह नियमित अंतराल पर इसे 500 या 1000 के नोटों में बदलवा लेते थे। सोमू ने कहा कि हम तीनों लोगों को पता ही नहीं था कि 1,000 और 500 के ये नोट बंद हो चुके हैं। मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजकर मांगी मदद सोमू ने कहा कि उन्होंने तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलनीस्वामी को ज्ञापन भेजकर उनसे मदद का अनुरोध किया है। पुलिस ने इस मामले की जांच करने की बात कही है। इससे पहले, नजदीकी तिरुपुर जिले से भी पिछले साल ऐसा ही मामला सामने आया था, जहां दो बुजुर्ग बहनों को पता चला था कि उनकी 46 हजार रुपये की जीवन भर की बचत 1,000 और 500 के चलन से बाहर हो चुके नोटों में है, जिन्हें बंद किया जा चुका है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

मुख्य समाचार

राम के लिए सजी अयोध्या

राम के लिए सजी अयोध्या

ऐतिहासिक आयोजन जन्मभूमि मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन आज, ...

पूरे कश्मीर में कर्फ्यू

पूरे कश्मीर में कर्फ्यू

विशेष दर्जा समाप्त किए जाने का एक साल पूरा

एक दिन में 803 मौतें, 52 हजार नये मरीज

एक दिन में 803 मौतें, 52 हजार नये मरीज

कोरोना : मृत्यु दर हुई कम, ठीक होने वाले बढ़े