दूध वाली चाय से तौबा

हेल्थ कैप्सूल

विजय चाय की चुस्की 10-15 कप में तबदील हो जाती है पता ही नहीं चलता। ज्यादा चाय का मतलब है सेहत से खिलवाड़। इसका मतलब यह नहीं कि चाय सेहत के लिए हानिकारक है, बल्कि चाय बनाने का तरीका हानिकारक है। खौलते पानी में चाय पत्ती व दूध डालते ही दूध और चाय पत्ती के पोषक गुण समाप्त हो जाते हैं। साधारण चाय की जगह ग्रीन टी, हर्बल टी, लेमन टी, व्हाइट टी, कैमोमाइल टी, जिंजर टी, रोज टी आदि ले सकते हैं। सेहत वाला तरीका 2 कप पानी को तेज आंच पर गर्म करें। पानी में उबाल आते ही गैस बंद करें। अब मनचाही चाय की पत्तियां डालें और पैन को ढक दें। एक मिनट के बाद चाय को कप में छानें। शहद या ब्राउन शुगर की मिठास डालें। फायदे ही फायदे

  • चाय में कैफीन और टैनिन होता, जो स्टीमुलेटर होते हैं। यानी इसे पीने से शरीर में फुर्ती आती है।
  • चाय में मौजूद एल-थियेनाइन नामक अमीनो-एसिड दिमाग को ज्यादा अलर्ट रखता है।
  • चाय में एंटीजन होते हैं, जो इसे एंटी-बैक्टीरियल क्षमता प्रदान करते हैं।
  • इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सिडेंट तत्व शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं और कई बीमारियों से बचाव करते हैं।
  • एंटी-एजिंग गुणों की वजह से चाय बुढ़ापे की रफ्तार को कम करती है।
  • चाय में फ्लोराइड होता है, जो हड्डियों को मजबूत करता है और दांतों में कीड़ा लगने से रोकता है।
  • चाय को कैंसर, हाई कोलेस्ट्रॉल, एलर्जी, लिवर और दिल की बीमारियों में फायदेमंद माना जाता है।
नुकसान भी हैं
  • दिन भर में तीन कप से ज्यादा पीने से एसिडिटी हो सकती है।
  • आयरन एब्जॉर्ब करने की शरीर की क्षमता को कम कर देती है।
  • बासी या देर तक रखी चाय न पीयेंं।
  • कैफीन के कारण चाय पीने की लत लग सकती है।
  • ज्यादा पीने से शरीर में खुश्की आ सकती है।
  • दांतों पर दाग आ सकते हैं।
  • देर रात चाय पीने से नींद नहीं आती।
  • चाय का अधिक सेवन त्वचा को रूखा, निस्तेज व झुर्रियों वाला बना देता है।
दूध से खत्म होते हैं चाय के गुण
  • दूध में मौजूद प्रोटीन चाय के फायदों को खत्म करता है
  • चाय पत्ती, दूध और चीनी को एक साथ उबालकर चाय बनाने का तरीका सही नहीं है। इससे चाय के सारे फायदे खत्म हो जाते हैं। इससे चाय काफी स्ट्रॉन्ग भी हो जाती है और उसमें कड़वापन आ जाता है।
  • रात को सोने और आराम करने से इंटेस्टाइन (आंत) फ्रेश होती है। ऐसे में सुबह उठकर सबसे पहले चाय पीना सही नहीं है।
  • जिन लोगों को एसिडिटी की दिक्कत है, उन्हें खाली चाय नहीं पीनी चाहिए।
  • ग्रीन टी के साथ में कुछ न खाएं तो इसका गुणकारी असर ज्यादा होता है।
  • दिन में तीन कप से ज्यादा चाय नहीं पीनी चाहिए।
  • चाय को बार-बार उबालकर पीना, भोजन के बाद लेना, बिल्कुल खाली पेट लेना गलत है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश

किसानों की आशंकाओं का समाधान जरूरी

किसानों की आशंकाओं का समाधान जरूरी

मुख्य समाचार

वीआरएस के बाद बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय की चुनाव लड़ने की अटकलें, फिलहाल किया इनकार!

वीआरएस के बाद बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय की चुनाव लड़ने की अटकलें, फिलहाल किया इनकार!

कहा- बिहार की अस्मिता और सुशांत को न्याय दिलाने के लिए लड़ी ...