जनजातीय क्षेत्रों में खून जमा देने वाली ठंड

शिमला, 18 नवंबर (निस) हिमाचल प्रदेश में बीते दो दिनों के दौरान मौसम के साफ बने रहने से जहां राज्य के मैदानी व मध्यम ऊंचाई वाले इलाकों में लोगों को ठंड से राहत मिली है वहीं राज्य के जनजातीय क्षेत्रों में लोगों को अभी से खून जमा देने वाली ठंड का सामना करना पड़ रहा है। जनजातीय जिला लाहौल स्पिति के मुख्यालय केलांग में बीती रात मौजूदा सर्दियों की सबसे ठंडी रात रही और न्यूनतम तापमान माइनस 8 डिग्री तक गिर गया। जिले के अन्य हिस्सों कोकसर, दारचा और म्यार घाटी में न्यूनतम तापमान माइनस 12 डिग्री तक गिर गया है जिसके चलते इन क्षेत्रों में झीलों सहित पानी के अधिकांश स्रोत जम गए हैं जिस कारण लोगों को अभी से भारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। बर्फीली हवाओं के चलते लोगों को अभी से घरों से बाहर निकलना मुश्किल हो रहा है। राजधानी शिमला में आज लगातार दूसरे दिन धूप खिली रही जिससे अधिकतम और न्यूनतम तापमान में वृद्धि हुई है। मनाली में आज न्यूनतम तापमान 1.2, कल्पा में 3.4, भूंतर में 3.8, कुफरी में 8.4 और शिमला में 9.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग ने अगले दो दिन तक प्रदेश में मौसम साफ बने रहने की संभावना जताई है। विभाग ने कहा है कि इसके बाद हिमालय क्षेत्र में फिर से ताजा पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो रहा है जिससे आने वाले दिनों में प्रदेशवासियों को फिर से वर्षा और बर्फबारी का सामना करना पड़ेगा।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें