खाना खाएं लेकिन सलीका भी सीखें

योगेश कुमार

खाना खाने के दौरान किया जाने वाला व्यवहार भी शिष्टाचार का अहम हिस्सा हैं। अब बच्चे हों या बड़े, अगर इन मैनर्स का ध्यान नहीं रखते हैं तो घर आए मेहमानों के सामने और अगर कहीं बाहर खाना खाने जा रहे हैं तो वहां भी दूसरों के समक्ष शर्मिन्दगी का शिकार होना पड़ सकता है। परिवार के सदस्य खाना भले ही कितने ही सलीके से क्यों न खाते हों लेकिन अगर आपको डायनिंग टेबल के कुछ खास मैनर्स की जानकारी नहीं है तो आप कभी न कभी इस वजह से शर्मिन्दगी का पात्र बन सकते हैं।

सलीके से लें भोजन चाहे आप ब्रेकफास्ट कर रहे हों अथवा लंच या डिनर, भोजन सलीके से प्लेट में डालें और भोजन उतना ही लें, जितनी आपको भूख हो। परिजनों सहित किसी पार्टी में जा रहे हैं तो वहां भी प्लेट को ठूंस-ठूंस कर न भरें। एक बार में दो-तीन से ज्यादा व्यंजन डाल लेने से खाने में तो परेशानी होगी ही, आसपास में देखने वालों को भी खराब लगेगा। इन व्यंजनों को खत्म करने के बाद ही दूसरी आइटम लें। अगर कोई व्यंजन ज्यादा गर्म है तो सबके बीच में उसे फूंक मार-मार कर ठंडा करने के बजाय उसके थोड़ा ठंडा होने का इंतज़ार करें।

भोजन का आनंद उठाएं खाना कितना भी स्वादिष्ट क्यों न बना हो और भूख भी भले ही कितनी ही ज्यादा क्यों न लगी हो, आराम से एक-एक कौर लेकर धीरे-धीरे चबाकर ही खाएं और खाने का भरपूर आनंद उठाएं। मुंह में एक ही बार में ज्यादा भोजन ठूंस लेना न आपको स्वयं अच्छा लगेगा और ऐसा करके आप दूसरों के समक्ष भी शर्मिन्दा होंगे। बहुत धीमे या बहुत तेज गति से खाना भी अच्छी आदत नहीं मानी जाती।

बीच में न उठें अगर आपके परिवार के सभी सदस्य एक साथ बैठकर भोजन कर रहे हैं और किसी सदस्य ने जल्दी भोजन खत्म कर लिया है, ऐसे में उसका वहां से उठ जाना डाइनिंग टेबल मैनर्स के खिलाफ है। जब तक सभी भोजन खत्म न कर लें, वहीं बैठे रहें। अगर किसी कारणवश बीच में उठना भी पड़े तो सभी से माफी मांगते हुए ‘एस्क्यूज मी’ अथवा ‘माफ कीजिएगा’ कहकर ही उठें।

शांति बनाए रखें भोजन घर में कर रहे हों या बाहर, खाना खाते समय शांत रहें और बच्चों को भी शोरशराबा न करने दें। खाना खाते समय बातें कम से कम करें। मुंह में खाना होते हुए तो बात बिल्कुल न करें। खाना खाते समय मुंह से आवाज़ न निकालें।

आराम से लें ड्रिंक्स के सिप भोजन के साथ अगर कोल्ड ड्रिंक या सॉफ्ट डिंªक ले रहे हैं तो एक ही बार में बहुत ज्यादा ड्रिंक पीने के बजाय ड्रिंक का सिप खाने के साथ आराम-आराम से लेते रहंे। ड्रिंक पीने के बाद गिलास को टेबल पर यहां-वहां न रखकर नियत स्थान पर ही वापस रखें। नेपकिन का प्रयोग करें। डाइनिंग टेबल पर भोजन का इंतजार करते समय वहां रखी खाली प्लेटों, चम्मच, छुरी, कांटे इत्यादि से न खेलें और न ही क्रॉकरी को एक-दूसरे से टकराकर आवाज करें। खाना खाते समय डाइनिंग टेबल पर मोबाइल का उपयोग डाइनिंग टेबल मैनर्स के खिलाफ माना जाता है। भोजन चाहे घर में कर रहे हों या बाहर, खाना खाते समय धूम्रपान हरगिज न करें और घर में खाना खाते समय भी बच्चों के समक्ष तो भूलकर भी धूम्रपान न करें।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें