कुछ ने पाया किसी ने गंवाया

इस चुनाव में किसी का किला ढह गया तो किसी का बमुश्किल बच पाया। यही नहीं कई नये किले भी बने। जनता ने अपना फैसला सुना दिया और इस फैसले से फिर एक बार सिद्ध हो गया कि खामोश रहने वाली जनता जब वोट के माध्यम से बोलती है तो ऐसे ही बोलती है। कई जगह परिणाम चौंकाने वाले रहे।

कश्मीर में जहां फारुक अब्दुल्ला अपना किला फतह नहीं कर पाये वहीं मोदी लहर में उत्तर प्रदेश में मुलायम सिंह यादव अपने और परिवार के अन्य लोगों की सीटों को बचा ले गये। जनता ने अपना फैसला सुना दिया है, अब सियासत की बारी है।

मोदी की हवा का रुख बनाया इस टीम ने

चंडीगढ़, 16 मई (ट्रिन्यू)

गुजरात के मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की जीत के पीछे जिस हवा ने काम किया वह यूं ही नहीं बनी, बाकायदा इसके पीछे एक टीम है, जो पूरे देश में उनकी लहर को बनाने में करीब 2 साल से सक्रिय है। इस टीम में जहां दिग्गज नेता और ब्यूरोक्रेट्स अपने दिमाग का इस्तेमाल करते हैं वहीं तकनीक के जानकार भी सोशल नेटवर्किंग साइट्स में मोदी का नाम बुलंद करने में जुटे हैं।

सौरभ पटेल, गोपी तलाटी नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र बडोदरा में प्रचार से लेकर बूथ मैनेजमेंट तक की जिम्मेदारी एनर्जी व पेट्रो केमिकल मंत्री सौरभ पटेल  और गोपी तलाटी संभालते हैं।

भीखु दलसानिया इनके जिम्मे है गुजरात में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ, पार्टी और प्रदेश सरकार के बीच में तालमेल बनाने, संगठन की मज़बूती का काम।

आनंदी पटेल

मोदी की गैरहाजिरी में राज्य सरकार के दो मंत्री आनंदी पटेल और नितिन पटेल काम संभालते रहे।

यूपी में अमित शाह मोदी के सबसे खास गुजरात के पूर्व गृह मंत्री अमित शाह ने यूपी में करीब -करीब हाशिये पर जा चुकी पार्टी में जान भरी। इन्हें विशेष तौर पर कमान सौंपी गई थी।

मुस्लिम को साधते हैं यह मुस्लिमों  के दिल में अपने लिए प्यार जगाने के लिए मोदी की टीम में मुख्तार अब्बास नकवी, शहनवाज सिंह, आसिफा खान और महबूब अली चिश्ती शामिल हैं। जफर सुरेशवाला भी मुस्लिम डेवलपमेंट्स के आर्टिकल लिखकर हवा बनाते रहे।

सोशल मीडिया के खिलाड़ी हैं हीरेन जोशी आईटी सेल, सोशल मीडिया का पूरा काम डॉक्टर हीरेन जोशी के हवाले रहा। मूल रूप से राजस्थान के रहने वाले जोशी के ऊपर ही सारा जिम्मा था। अरविंद गुप्ता, चीफ आईटी सेल भाजपा दिल्ली के नेतृत्व में करीब 500 युवा आईटी प्रोफेशनल्स और वालंटियर्स मोदी का ट्विटर, फेसबुक, ब्लॉग और मोदी एप्स संभालते हैं ।

पंडया पर है प्रचार की जिम्मेदारी इसी आईटी टीम के अंडर में हर राज्य में भाजपा की संवाद टीम आती है।  इसका काम है सोशल मीडिया में पार्टी खासकर मोदी का प्रचार करना । हितेश पांड्या पर मोदी के सभी भाषण, फोटो, ऑडियो, वीडियो प्रेजेंटेशन, न्यूज आर्टिकल और न्यूज चैनल्स को मैनेज करने की जिम्मेदारी है।

पॉलिसी एंड प्लानिंग ग्रुप

  • हेल्थ स्पेशलिस्ट प्रशांत किशोर 2011 से उन लोगों को संभालते हैं, जो मोदी के लिए काम करना चाहते हैं। -सिटिजंस फॉर एकाउंटेबल गवर्नेंस (कैग) की 250 लोगों की टीम पर कंटेट, स्पीच और रिसर्च का जिम्मा पूरे प्रचार अभियान में रहा।
  • कैग के सबसे जानदार सदस्य हैं 28 साल के अनिल हांडा, जो हांगकांग से नौकरी छोड़कर मोदी के साथ जुलाई 2013 में जुड़े ।
  • आईआईटी और आईआईएम प्रोफेशनल्स से लैस एक वार रूम अहमदाबाद में तो दूसरा गांधीनगर में है। कैग की वजह से ही मोदी की चाय पर चर्चा का कार्यक्रम लोगों की जुबान पर आया। इसके अलावा नौकरशाह भी मोदी की टीम में हैं।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

मुख्य समाचार