अब गांवों के बुजुर्ग भी टहल सकेंगे पार्कों में

शिमला, 5 जुलाई (निस) हिमाचल प्रदेश में ग्रामीण क्षेत्रों के सभी 78 खंडों में बुजुर्गों के लिए मनोरंजक स्थान बनाने के लिए 100 पंचवटी पार्क और उद्यान स्थापित करने की प्रक्रिया शुरू की गई है। ग्रामीण विकास विभाग द्वारा अधिसूचित पंचवटी योजना का शुभारंभ हाल ही में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने किया था जिसके अंतर्गत खेल क्षेत्रों के साथ पार्क स्थापित किए जाएंगे। इन पार्कों को मुख्य रूप से वरिष्ठ नागरिकों के लिए डिजाइन किया जाएगा ताकि वे अपने स्वास्थ्य में सुधार कर सकें। पहले चरण में योजना के तहत जिला मंडी के विकास खंड गोहर में इन पार्कों के निर्माण के लिए भूमि चिन्हित की गई है। इसी तरह जिला ऊना में बंगाणा, जिला कुल्लू में बंजार और नग्गर, लाहौल-स्पीति जिले में काजा, कांगड़ा में नगरोटा बगवां और सुलह, जिला सिरमौर जिले में पांवटा साहिब, चंबा जिले में तीसा और भटियात, किन्नौर जिले में कल्पा, सोलन जिले में कंडाघाट, शिमला जिले में रोहड़ू और हमीरपुर जिले के नादौन में भूमि का चयन किया गया है। प्रत्येक पार्क में अत्याधुनिक व्यायाम और मनोरंजन के उपकरण, एक मीटर चौड़ा और 150 मीटर लंबा जॉगिंग ट्रैक, पैदल चलने का ट्रैक, योग और ध्यान की कक्षाओं के लिए एक विशेष स्थान, महिलाओं और पुरुषों के लिए शौचालय, और सोलर लाइटें होंगी। मनरेगा, स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) और 14वें वित्त आयोग के बजट प्रावधान के साथ पूरे राज्य में ऐसे 100 पार्कों के निर्माण पर 10 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। प्रत्येक पार्क में बेंच, फूलों की क्यारी, चारदीवारी, पार्क के चारों ओर बाड़, शौचालय, कूड़ादान, व्यायाम और मनोरंजन के उपकरण, आयुर्वेदिक और औषधीय पौधे जैसे आंवला, नीम, तुलसी और एलोवेरा लगाये जायेंगे। इनका रख-रखाव और प्रबंधन स्थानीय पंचायती राज संस्थानों द्वारा किया जाएगा। ऊंचाई वाले क्षेत्रों और जनजातीय क्षेत्रों में पार्क क्षेत्र लगभग एक बीघा होगा जबकि निचले क्षेत्रों में इस क्षेत्र को दो बीघा या उससे अधिक तक बढ़ाया जा सकता है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें