हाईलेवल कमेटी के सदस्यों का दौरा कल

नयी दिल्ली, 20 नवंबर (एजेंसी) जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में फीस वढ़ोतरी का विरोध थमा नहीं है। पिछले तीन सप्ताह से विश्वविद्यालय के छात्र शुल्क वृद्धि का विरोध कर रहे हैं। बुधवार को दृष्टि बाधित विद्यार्थियों ने दिल्ली पुलिस के पुराने मुख्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। उधर, मानव संसाधन विकास (एचआरडी) मंत्रालय द्वारा नियुक्त उच्चाधिकार प्राप्त समिति छात्रों से मिलने और मौजूदा मुद्दों का समाधान ढूंढ़ने के लिए शुक्रवार को जेएनयू का दौरा करेगी। इससे पहले आज दिन में, जेएनयू छात्रसंघ के पदाधिकारियों ने यहां शास्त्री भवन में समिति के सदस्यों से मुलाकात की। उधर, दृष्टि बाधितों ने पुलिस पर आरोप लगाया कि उन्होंने लाठीचार्ज किया। उन्होंने कहा कि उनकी बस को रोक दिया गया और उसे वसंत कुंज थाने ले जाया गया। बाद में उन्होंने कहा कि उनकी बस को दिल्ली पुलिस के पुराने मुख्यालय ले जाया गया। हालांकि पुलिस ने लाठीचार्ज के आरोप को खारिज किया था। इस बीच, मंत्रालय की समिति ने विश्वविद्यालयों के हॉस्टल अध्यक्षों से भी मुलाकात की। समिति में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के पूर्व अध्यक्ष वी एस चौहान, एआईसीटीई के अध्यक्ष अनिल सहस्रबुद्धे और यूजीसी सचिव रजनीश जैन शामिल हैं। बैठक में शुल्क वृद्धि के मुद्दे पर प्रदर्शन के मद्देनजर परिसर में सामान्य स्थिति बहाल करने के तरीकों पर चर्चा की गई। सूत्रों ने बताया कि जेएनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष आइशी घोष ने हॉस्टल शुल्क वृद्धि को पूरी तरह वापस लेने की मांग की और कहा कि रिपोर्ट आने तक शुल्क वृद्धि को निलंबित रखा जाए।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

शहर

View All