संसद में आज सुनाई देगी महाराष्ट्र के सियासी घमासान की गूंज

हरीश लखेड़ा/ट्रिन्यू नयी दिल्ली, 24 नवंबर महाराष्ट्र के सियासी घटनाक्रम की गूंज सोमवार को संसद में भी सुनाई देगी। शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस (एनसीपी) और कांग्रेस इस मुद्दे को संसद के दोनों सदनों में पुरजोर तरीके से उठाने की तैयारी में हैं। ये तीनों दल राज्यपाल को वापस बुलाने की मांग कर सकते हैं। इससे संसद के शीतकालीन सत्र के दूसरे हफ्ते में दोनों सदनों की कार्यवाही हंगामेदार होने के आसार हैं। उधर, महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी रविवार को दिल्ली में थे। वे राष्ट्रपति भवन में आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने आये थे। महाराष्ट्र में भाजपा नेता देवेंद्र फड़नवीस के मुख्यमंत्री तथा एनसीपी नेता अजित पंवार को उप मुख्यमंत्री की शपथ चुपके-चुपके दिलाने पर राज्यपाल विपक्षी दलों के निशाने पर हैं। विपक्षी दल राज्यपाल के फैसले पर लगातार सवाल उठा रहे हैं। हालांकि भाजपा महाराष्ट्र में राज्यपाल  की भूमिका को जायज ठहराने में जुटी है।

सुप्रीमकोर्ट पर टिकी नजर सोमवार को महाराष्ट्र मामले में सुप्रीम कोर्ट भी सुनवाई जारी रखेगा। इसलिए अब सभी दलों की नजर सुप्रीम कोर्ट पर टिकी है। विपक्षी दल चाहते हैं कि मुख्यमंत्री फड़नवीस को फ्लोर टेस्ट का आदेश दिया जाये। सुप्रीम कोर्ट में कांग्रेस और शिवसेना ने यही मांग की है। इसलिए अब शिवसेना व कांग्रेस का रुख सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर भी निर्भर करेगा। लेकिन ये दल अब संसद में इस मुद्दे पर मोदी सरकार को घेरने की पूरी कोशिश में हैं। ये दल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह से इस प्रकरण पर जवाब मांगने जा रहे हैं। एनसीपी भी सोमवार को संसद में अपना रुख और स्पष्ट करेगी। क्योंकि एनसीपी प्रमुख शरद पवार के बीते सप्ताह प्रधानमत्री नरेंद्र मोदी से अकेले में मुलाकात के बाद जिस तरह से महाराष्ट्र का सियासी घटनाक्रम बदला, उससे पवार की भूमिका पर कांग्रेस का एक बड़ा वर्ग अभी भी शक कर रहा है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें