रात 2 बजे छुट्टी पर भेजे गये वर्मा अौर अस्थाना

आलोक कुमार                                 वर्मा राकेश अस्थाना

ट्रिब्यून न्यूज सर्विस नयी दिल्ली, 24 अक्तूबर रिश्वतखोरी के आरोपों और आपसी टकराव में उलझे सीबीआई के दो शीर्ष अधिकारियों की लड़ाई में नया मोड़ आ गया है। केंद्र सरकार ने मंगलवार रात 2 बजे आदेश जारी करके सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा और विशेष निदेशक राकेश अस्थाना को छुट्टी पर भेज दिया। सीबीआई के संयुक्त निदेशक नागेश्वर राव को जांच एजेंसी का अंतरिम प्रमुख नियुक्त कर दिया गया। सीबीआई निदेशक को छुट्टी पर भेजने के फैसले से दिल्ली का सियासी पारा भी गरमा गया। इस सियासी घमासान में कांग्रेस समेत विपक्ष ने मोदी सरकार के इस फैसले पर सवाल उठाये। इस बीच, वर्मा भी इस फैसले के खिलाफ सुप्रीमकोर्ट चले गये हैं। उनकी याचिका पर सुनवाई 26 अक्तूबर को होगी। केंद्र सरकार की ओर से सफाई देने उतरे वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा कि इस मामले में केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) की सिफारिशों को माना गया है। निष्पक्ष जांच के लिए दोनों अफसरों को छुट्टी पर भेजा गया है। सीबीआई की ऐतिहासिक छवि रही है और उसकी ईमानदारी को बनाए रखने के लिए ऐसा करना जरूरी हो गया था। अब सीवीसी की सिफारिश पर एक एसआईटी इस पूरे मामले की जांच करेगी। उन्होंने कहा कि यदि अधिकारी निर्दोष होंगे तो उनकी वापसी हो जाएगी। जेटली ने कहा कि यह एक विचित्र और दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति पैदा हो गई थी कि सीबीआई के दो बड़े अफसरों ने एक-दूसरे के खिलाफ आरोप लगा दिए। सरकार जांच नहीं कर सकती। जांच सीबीआई ही करेगी, निगरानी सीवीसी करेगा।

अस्थाना के खिलाफ जांच कर रही टीम बदली सीबीआई ने अपने विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच कर रही टीम में बड़े बदलाव किए हैं। मंगलवार देर रात सीबीआई प्रमुख का प्रभार संभालने वाले एम. नागेश्वर राव ने पुलिस अधीक्षक के तौर पर सतीश डागर को अस्थाना के खिलाफ दर्ज मामले की जांच का जिम्मा सौंपा है। डागर इससे पहले डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह के खिलाफ मामलों की जांच कर चुके हैं। वहीं, पिछले जांच अधिकारी डीएसपी एके बस्सी का तबादला कर उन्हें तत्काल प्रभाव से पोर्ट ब्लेयर भेज दिया गया है। कांग्रेस ने राफेल  से जोड़े तार कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सरकार के इस फैसले को राफेल से जोड़ दिया। उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए कहा कि देश के चौकीदार ने सीबीआई निदेशक को हटा दिया। क्योंकि उन्होंने राफेल डील पर सवाल उठाए थे। कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने सीबीआई निदेशक को छुट्टी पर भेजनेे के फैसले को गलत बताते हुए मोदी सरकार से आधा दर्जन सवाल पूछे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि राफेल घोटाले से घबराने पर ही मोदी सरकार ने यह फैसला किया। सिंघवी ने कहा, 'मोदी सरकार देश की सभी एजेंसियों को नष्ट कर रही है।’ मोदी सरकार और भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने अपना विशिष्ट गुजरात मॉडल केंद्र और सीबीआई में लागू कर दिया है।'

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

शहर

View All