राजीव गांधी फाउंडेशन को प्रधानमंत्री राहत कोष से मिली दान राशि : नड्डा

नयी दिल्ली, 26 जून (एजेंसी) भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि जब कांग्रेस-नीत संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सत्ता में था तब प्रधानमंत्री राष्ट्रीय आपदा राहत कोष (पीएमएनआरएफ) से एक ‘‘परिवार द्वारा संचालित'' राजीव गांधी फाउंडेशन को दान राशि मिली थी। नड्डा ने ट्वीट कर इसे ‘धोखाधड़ी' करार दिया और कहा कि ऐसा कर जनता की आंखों में धूल झोंकने का काम किया गया। उन्होंने अपने आरोपों को बल देने के लिए कुछ दस्तावेज भी अपने ट्विटर हैंडल पर साझा किए। पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच गतिरोध को लेकर कांग्रेस केंद्र सरकार पर लगातार हमलावर है। इसके मद्देनजर नड्डा ने भी अब आक्रामक रवैया अपना लिया है। उन्होंने कल ही एक डिजिटल रैली को संबोधित करते हुए कांग्रेस और गांधी परिवार पर सीधे आरोप लगाए थे। नड्डा ने अपने हमलावार रवैये को जारी रखते हुए कांग्रेस पर चीनी दूतावास से फाउंडेशन को बड़ी दान राशि मिलने का आरोप लगाया था। कांग्रेस ने हालांकि इन आरोपों को भाजपा की ‘चालाकी' और उसका ‘द्वेषपूर्ण खेल' करार दिया तथा कहा कि चीन ने सीमा पर कथित तौर पर जो हमारी जमीन पर कब्जा किया है, यह उससे जनता का ध्यान भटकाने की कोशिश है। कांग्रेस पर निशाना साधने के बजाए चीन पर पलटवार करे सरकार : अधीर रंजन कोलकाता : लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा है कि सरकार अपनी ‘रणनीतिक भूल' को छिपाने के लिए मुख्य विपक्षी दल पर निशाना साधने के बजाए चीन पर पलटवार करने की तैयारी करे और गलवान घाटी में गंवा चुके क्षेत्र पर फिर से कब्जा करे। उन्होंने दावा किया कि जवाबी कार्रवाई को लेकर मोदी सरकार की ‘दुविधा' का फायदा चीन उठा रहा है। चौधरी ने भाजपा नेतृत्व को आरोप साबित करने की चुनौती दी कि कांग्रेस पार्टी ने कभी राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ समझौता किया । उन्होंने कहा कि अगर आरोप साबित हो गए तो वह सांसद पद से इस्तीफा दे देंगे। चौधरी ने कहा, ‘भाजपा अपनी गलतियों, हिमालय को लेकर रणनीतिक नाकामी को छिपाने के लिए कांग्रेस पर निशाना साध रही है। भाजपा नेतृत्व को इतिहास के प्रति सम्मान का भाव नहीं है, वरना वे कभी ऐसा नहीं कहते कि कांग्रेस ने राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता किया ।' उन्होंने कहा, ‘इंदिरा गांधी के नेतृत्व में यह कांग्रेस पार्टी ही थी जिसने ऑपरेशन मेघदूत चलाकर 1984 में सियाचिन को हासिल किया था। कांग्रेस ही थी जिसने पाकिस्तान को विभाजित कर डाला और 1971 में बांग्लादेश अस्तित्व में आया।' उन्होंने कहा कि ‘करो या मरो’ राष्ट्रीय मंत्र होना चाहिए और जवाबी पलटवार से ही चीन को सबक सिखाया जा सकता है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

शहर

View All