आज से उद्धव संभालेंगे कमान

मुंबई में बुधवार को महाराष्ट्र के नामित मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और उनकी पत्नी रश्मि ठाकरे से फूलों का गुलदस्ता ग्रहण करते राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी। -प्रेट्र

मुंबई, 27 नवंबर (एजेंसी) शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे बृहस्पतिवार को एक सार्वजनिक समारोह में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। इसी के साथ राज्य में 20 साल बाद पार्टी के पास यह पद होगा। इस बीच, बताया गया कि मंत्रिमंडल को लेकर राकांपा प्रमुख शरद पवार व अन्य नेताओं के बीच बातचीत हुई। उधर, बुधवार को उद्धव ठाकरे ने पत्नी रश्मी के साथ राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की। उद्धव (59) उसी शिवाजी पार्क में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे, जहां पर उनके पिता और शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे मशहूर दशहरा रैली को संबोधित करते थे। शिवसेना के आखिरी मुख्यमंत्री नारायण राणे थे जिन्होंने मनोहर जोशी के बाद 1999 में पद ग्रहण किया था। वर्ष 1995 में जोशी शिवसेना के पहले सीएम थे। कयास है कि अजित पवार को मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है। इस बीच, देर शाम वरिष्ठ नेता प्रफुल्ल पटेल ने कहा कि स्पीकर कांग्रेस और डिप्टी स्पीकर एनसीपी का होगा। इधर, पीएम ने उद्धव को फोन पर बधाई दी है। महाराष्ट्र की 14वीं विधानसभा का विशेष सत्र बुधवार को शुरू हुआ जिसमें नव निर्वाचित 285 सदस्यों को प्रोटेम स्पीकर कालीदास कोलांबकर ने शपथ दिलाई। गौर हो कि राज्य में 12 से 23 नवंबर तक राष्ट्रपति शासन लागू रहा। सुप्रीमकोर्ट ने मंगलवार को कोश्यारी से प्रोटेम स्पीकर नियुक्त करने और यह सुनिश्चित करने को कहा था कि सदन के सभी निर्वाचित सदस्यों को बुधवार शाम पांच बजे तक शपथ दिला दी जाए। राकांपा नेता अजित पवार के समर्थन से 23 नवंबर को बनी भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार मंगलवार दोपहर को तब गिर गयी जब पवार ने उपमुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। पवार के बाद देवेंद्र फड़नवीस को भी इस्तीफा देना पड़ा। इस बीच, शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि इसमें आश्चर्य नहीं होगा अगर महाराष्ट्र में अपना मुख्यमंत्री बनाने के बाद केंद्र में भी शिवसेना सरकार बनाए। इस बीच, बताया गया कि शपथ ग्रहण समारोह में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और द्रमुक नेता एमके स्टालिन को भी आमंत्रित किया गया है। शिवसेना सांसद विनायक राउत ने कहा कि पार्टी ने कद्दावर राजनीतिक नेताओं के अलावा आत्महत्या कर चुके किसानों के परिवार के सदस्यों समेत लगभग 400 किसानों को आमंत्रित किया है। सही समय आने पर बोलूंगा : फड़नवीस महाराष्ट्र के कार्यवाहक मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने बुधवार को कहा कि राकांपा नेता अजित पवार के समर्थन से गत सप्ताह बनी सरकार के विषय में वह सही समय आने पर बोलेंगे। फड़नवीस विधान भवन परिसर में संवाददाताओं से बात कर रहे थे। सार्वजनिक पार्क में ऐसे कार्यक्रमों की परिपाटी न बने : हाईकोर्ट इस बीच, बांबे हाईकोर्ट ने शिवाजी पार्क में शपथग्रहण कार्यक्रम के दौरान सुरक्षा को लेकर चिंता जताई। अदालत ने कहा कि सार्वजनिक मैदान में ऐसे कार्यक्रम नियमित परिपाटी नहीं बननी चाहिए। शिवाजी पार्क खेल का मैदान है या मनोरंजन पार्क, इसको लेकर दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कहा, ‘हम कल के समारोह के बारे में कुछ नहीं कहना चाहते... दुआ करते हैं कि कोई अप्रिय घटना न हो।'

विधानभवन परिसर में अजित पवार को गले लगातीं (बाएं) और शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे को पुचकारती सुप्रिया सुले। -प्रेट्र

सुप्रिया ने अजित को गले लगाया बुधवार को राकांपा नेता अजित पवार ने जैसे ही विधान भवन परिसर में प्रवेश किया, उनकी चचेरी बहन और सांसद सुप्रिया सुले ने उन्हें गले लगाया। राकांपा प्रमुख शरद पवार की बेटी सुप्रिया विधायकों का स्वागत करने के लिए प्रवेश द्वार पर खड़ी थीं। उन्होंने आदित्य को भी पुचकारा। इस मौके पर अजित ने कहा, 'मैं राकांपा में था और अब भी हूं। मैनें पार्टी कभी नहीं छोड़ी।' सत्ता के लिए धुर विरोधी आए साथ : शाह नयी दिल्ली : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को कहा कि जनादेश को धता बताकर धुर विरोधी विचारधारा वाले राजनीतिक दल सिर्फ सत्ता हासिल करने के लिये साथ आए हैं। एक टीवी कार्यक्रम में शाह ने कहा कि सिर्फ भाजपा को सत्ता से बाहर रखने के लिये नैतिकता और मूल्यों को ताक पर रखा गया। शाह ने कहा, ‘क्या मुख्यमंत्री पद की पेशकश कर समर्थन लेना खरीद-फरोख्त नहीं है। मैं एक बार फिर सोनिया गांधी और शरद पवार से कह रहा हूं कि मुख्यमंत्री पद का दावा करें और उसके बाद शिवसेना का समर्थन लें।’ उन्होंने कहा, ‘मैं फिर स्पष्ट करना चाहता हूं कि हमने शिवसेना को सीएम पद को लेकर कोई आश्वासन नहीं दिया था।’ मनमोहन और सोनिया से मिले आदित्य, दिया निमंत्रण नयी दिल्ली : उद्धव ठाकरे के पुत्र आदित्य बुधवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह से मिले और उन्हें शपथ ग्रहण समारोह के लिए आमंत्रित किया। मुलाकात के बाद आदित्य ने कहा कि इन दोनों नेताओं के मार्गदर्शन और आशीर्वाद की जरूरत है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

शहर

View All