अमरनाथ के जयकारों से गूंजा श्रीनगर, पूजा के बाद दशनामी अखाड़ा लौटी छड़ी मुबारक

गुफा में उप-राज्यपाल ने की ‘प्रथम पूजा’, 21 जुलाई से शुरु होने वाली यात्रा का औपचारिक आगाज़ सुरेश एस डुग्गर जम्मू, 5 जुलाई कोरोना संकटकाल में अमरनाथ यात्रा संपन्न करवाने की चुनौती के बीच उप राज्यपाल गिरीश चन्द्र मूूर्मु ने सपरिवार अमरनाथ गुफा में ‘प्रथम पूजा’ संपन्न की है। इसके साथ ही आज व्यास पूर्णिमा पर यात्रा की प्रतीक छड़ी मुबारक श्रीनगर से पहलगाम के लिए रवाना हुई जहां लिद्दर दरिया के किनारे गौरी शंकर मंदिर में उसकी पूजा की गई। आज सुबह 6 बजे श्रीनगर से पहलगाम के लिए छड़ी मुबारक यात्रा रवाना हुई थी। इस दौरान अमरनाथ के जयकारों से श्रीनगर गूंज उठा था। कोरोना महामारी के मद्देनजर 21 जुलाई से शुरू हो रही अमरनाथ यात्रा में इस बार विशेष सतर्कता बरती जा रही है। साधु-संतों के अलावा 55 साल से कम उम्र के श्रद्धालुओं को ही यात्रा की इजाजत दी गई है। बच्चे और बुजुर्ग इस बार बाबा बर्फानी के दर्शन नहीं कर सकेंगे। जम्मू से रोजाना 500 श्रद्धालु बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए सड़क मार्ग से भेेजे जाएंगे। इस बीच अमरनाथ यात्रा शुरू होने से पहले पवित्र गुफा में होने वाली पूजा संपन्न हो गई है। उप राज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू ने बाबा अमरनाथ की पूजा की। इस दौरान उनके परिवार के सदस्यों के अतिरिक्त उनके साथ कई अधिकारी मौजूद रहे। यात्रा की प्रतीक छड़ी मुबारक करीब 100 साधु-संतों और अन्य लोगों के साथ दशनामी अखाड़ा श्रीनगर से पहलगाम के लिए रविवार प्रात: 6 बजे रवाना हुई। आषाढ़ पूर्णिमा (व्यास पूर्णिमा) पर पहलगाम में अमरनाथ छड़ी मुबारक का भूमि पूजन, नवग्रह पूजन और ध्वजारोहण की रस्म पूरी की गई। व्यास पूर्णिमा पर पवित्र छड़ी मुबारक के संरक्षक और दशनामी अखाड़ा के महंत दीपेंद्र गिरी पहलगाम में लिद्दर दरिया के किनारे स्थित शिव मंदिर में भूमि पूजन और ध्वजारोहण किया। इसके साथ ही पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक, श्री अमरनाथ की वार्षिक तीर्थयात्रा का प्रारंभ माना जाता है। महंत दीपेंद्र गिरि ने कहा कि पौराणिक मान्यताओं के अनुरूप हमने पूजा की है और नवग्रह पूजन व ध्वजारोहण किया है। इसके बाद छड़ी मुबारक दशनामी अखाड़ा लौट आई। 20 जुलाई को छड़ी मुबारक गोपाद्री पर्वत पर स्थित भगवान शंकर की आराधना के लिए शंकराचार्य मंदिर जाएगी। इसके बाद 21 जुलाई को श्रीनगर की अधीष्ठ देवी मां शारिका की पूजा के लिए पवित्र छड़ी मुबारक हरि पर्वत जाएगी।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश

किसानों की आशंकाओं का समाधान जरूरी

किसानों की आशंकाओं का समाधान जरूरी

मुख्य समाचार

वीआरएस के बाद बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय की चुनाव लड़ने की अटकलें, फिलहाल किया इनकार!

वीआरएस के बाद बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय की चुनाव लड़ने की अटकलें, फिलहाल किया इनकार!

कहा- बिहार की अस्मिता और सुशांत को न्याय दिलाने के लिए लड़ी ...