मोहाली अब होगा अजीतगढ़

नयी दिल्ली, 12 फरवरी (भाषा)। शेक्सपीयर ने भले ही कहा हो कि नाम में क्या रखा है लेकिन अपने केन्द्रीय गृह मंत्रालय के लिए यह लाखों लोगों की भावनाओं से जुड़ा मामला है। मंत्रालय ने पिछले एक दशक के दौरान देश भर के 25 से अधिक कस्बों के नाम बदलने के प्रस्ताव मंजूर किए। सबसे अधिक 17 कस्बों के नाम केरल में बदले गए। उसके बाद पंजाब के चार कस्बों के नाम बदले गए जबकि ओडिशा के दो कस्बों के नाम बदलने के प्रस्ताव मंजूर किए गए। गृह मंत्रालय ने मध्य प्रदेश में हालांकि दो कस्बों के नाम बदलने का प्रस्ताव मंजूर किया लेकिन राजधानी भोपाल का नाम बदलकर भोजपाल करने के प्रस्ताव को नामंजूर कर दिया। पंजाब के मोहाली (साहिबजादा अजीत सिंह नगर) को अब अजीतगढ़ के नाम से जाना जायेगा जबकि सुनाम कस्बे को सुनाम ऊधम सिंह वाला कहा जाएगा। नवांशहर का नाम बदलकर शहीद भगत सिंह नगर किया गया है जबकि मुक्तसर कस्बे को अब श्री मुक्तसर साहिब के नाम से जाना जाएगा। ओडिशा के फूलबनी को बौध कौधमाल के नाम से जाना जाएगा जबकि सोनापुर का नाम बदलकर सुबर्णपुर किया गया है। केरल में त्रिचूर को त्रिसूर, क्विलोन को कोल्लम, अलेप्पी को अलपुझा, पालघाट को पालक्कड़, कोन्नानोर को कन्नूर, तेलीचेरी को थालासेरी, बडागरे को वडाकरा, परूर को परावूर और अलवाए को अलूवा नाम दिया गया है। केरल में जिन अन्य कस्बों के नाम बदले गए हैं, उनमें देवी कोलम को देवीकुलम,नाम दिया गया है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

दीवारें भी लगें हैप्पी

दीवारें भी लगें हैप्पी

सर्दियों का गर्मजोशी से करें स्वागत

सर्दियों का गर्मजोशी से करें स्वागत

कार्तिक आर्यन   हैप्पी होगा न्यू ईयर

कार्तिक आर्यन हैप्पी होगा न्यू ईयर

ऋषिना ने मेकअप रूम को बनाया मंदिर

ऋषिना ने मेकअप रूम को बनाया मंदिर

एक अपराध से उपजे अनेक सवाल

एक अपराध से उपजे अनेक सवाल

भूख का समाधान किये बिना विकास अधूरा

भूख का समाधान किये बिना विकास अधूरा

ऑटो ड्राइवर का संकल्प कि कोई भूखा न सोये

ऑटो ड्राइवर का संकल्प कि कोई भूखा न सोये

शहर

View All