मद्रासी कॉलोनी होगी स्थानांतरित

आदित्य शर्मा/नस पंचकूला/चंडीगढ़, 29 नवंबर हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण (एचएसवीपी) के फैसले से सेक्टर 21 निवासियों को बड़ी राहत मिली है। प्राधिकरण ने आखिरकार 20 साल पुरानी लेबर कॉलोनी को यहां से स्थानांतरित करने का फैसला किया है। यह कॉलोनी सेक्टर 21 और गांव महेशपुर के बीच में है। इसे मद्रासी कॉलोनी भी कहा जाता है। पंचकूला प्रशासन और एचएसवीपी की बैठक में फैसला लिया गया कि केवल उन व्यक्तियों को आशियाना फ्लैट्स में ट्रांसफर किया जाएगा जिन्हें सितंबर 2009 में किये गए सर्वेक्षण में पात्र पाया गया। ये आशियाना फ्लैट्स औद्योगिक क्षेत्र फेज 1, सेक्टर 20, 26, 28 और गांव अभयपुर में स्थित हैं। खाली पड़े फ्लैट्स की संख्या 102 है। जिन व्यक्तियों के नाम सर्वेक्षण में सामने नहीं आए उन्हें हटा दिया जाएगा। मामले को लेकर प्रशासन और हूडा के बीच बैठकें नियमित रूप से हो रही थीं। लोगों को मद्रासी कालोनी के कारण उत्पन्न समस्याओं के बारे में शिकायत थी। एचएसवीपी ने इसके साथ उपलब्ध जमीन के बाजार मूल्य के बारे में सर्वेक्षण भी किया था और इसके बाद लोगों को यहां से स्थानांतरित करने का फैसला किया था।

मद्रास के मूल निवासी हैं यहां के बासिंदे मद्रासी कालोनी के अधिकांश निवासी मद्रास के मूल निवासी हैं, वे आजीविका की तलाश में शहर आए थे और श्रमिकों के रूप में काम कर रहे थे। आसपास के निवासियों ने एचएसवीपी को शिकायत कर समस्या के बारे में बताया था। एचएसवीपी ने पहले से ही आशियाना में खाली पड़े फ्लैटों की एक सूची तैयार कर ली थी। 1998 के बाद से यहां रह रहे कालोनी निवासियों को स्थानांतरित करने के बाद प्लॉटों का सीमाकंन किया जाएगा।

काटे जायेंगे प्लॉट, होगी नीलामी मद्रासी कॉलोनी को हटाने के बाद एचएसवीपी को करीब 8.5 एकड़ जमीन मिलेगी। इस पर करीब 14 मरले और एक कनाल के प्लॉट काटकर नीलामी की जायेगी। एस्टेट अफसर ममता शर्मा के मुताबिक हाल ही में एक बैठक हुई थी और अधीक्षक शाखा को पत्र जारी करने के लिए निर्देशित किया गया। उन्होंने कहा कि प्लॉट अलॉटमेंट लेटर के साथ साथ कब्जे का लेटर भी जारी किया जाएगा। इससे पहले झुग्गी-झोपडि़यों में रहने वालों को फ्लैट के आवंटन की प्रक्रिया में देरी हो रही थी।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

शहर

View All