बिजली अधिकारी के खिलाफ चार्जशीट पर कर्मियों ने की हड़ताल

पिंजौर, 24 जून (निस)। पिंजौर रत्तपुर कालोनी स्थित बिजली विभाग के उपमंडल कार्यालय में आज एक आरोप पत्र को लेकर हंगामा खड़ा हो गया और उपमंडल कार्यालय के पूरे कर्मचारी हड़ताल पर चले गए जिसमें विभाग के एक अधिकारी सहित दो कर्मचारी आरोपी हैं। उपमंडल कार्यालय अधिकारी आर के रोहिल्ला द्वारा की गई जांच के बाद लगाई गई चार्ज शीट में अब्दुल्लापुर-धर्मपुर कालोनी में बिजली का गलत मीटर लगाने का आरोप है जिसका खुलासा तब हुआ जब पंजाबी सभा के पूर्व प्रधान सुभाष नागपाल ने विभाग से सूचना के अधिकार कानून के तहत अपनी जमीन में गलत मीटर लगाने बारे पूरी सूचना मांगी थी। उक्त कार्यवाही पर गलत मीटर लगवाने वाले, गलत गवाही देने और बिजली कर्मचारियों के विरुद्ध थाने में एफआईआर भी हो सकती है क्योंकि एसडीओ ने मीटर लगवाने वालों के विरुद्ध मामला दर्ज करने  की शिकायत पुलिस में पहले से ही दे रखी है। आरोप है कि सुभाष नागपाल की पत्नी आशा रानी के नाम पर बिजली कनैक्शन था जिसे हटाकर जाली दस्तावेजों के आधार पर चंडीगढ़ निवासी आकाश जैन के नाम पर लगा दिया गया था। बिजली विभाग के फोरमैन श्याम सुंदर, अकाऊटेंट पे्रम चंद के विरुद्ध आरोप पत्र जारी करने की सूचना जैसे ही आज कार्यालय में फैली तो उपमंडल कार्यालय के सभी कर्मचारी कामकाज ठप कर हड़ताल पर चले गए। एचएसईबी वर्कर यूनियन जिला पंचकूला यूनिट प्रधान पुष्पिन्द्र कुमार शर्मा, सचिव जयभगवान शर्मा पिंजौर उपमंडल प्रधान देवेन्द्र कुमार, वरिष्ठ उपप्रधान जगदीश चन्द्र, उपप्रधान मोहन लाल, सचिव श्याम सुंदर, कैशियर जय किशन, यूनिट उपप्रधान राजविन्द्र सिंह सहित सभी कर्मचारी, जेई कार्यालय परिसर में एकत्र हुए और वहीं धरने पर बैठ गए और एसडीओ के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की। राजविन्द्र सिंह और पुष्पिन्द्र शर्मा ने प्रेस को जारी बयानों में विभाग अधिकारियों को चेतावनी देते हुए झूठे आरोप-पत्र को वापस लेने की मांग की और कहा कि कल को वे पूरी यूनिट में गेट मीटिंग करेंगे और फिर भी आरोपों को वापस नहीं लिया गया तो आंदोलन को यूनिट स्तर पर ले जाएंगे। सभी कर्मचारी एसडीओ आर के रोहिल्ला से बात करने के लिए उनके कार्यालय में इतंजार करते रहे लेकिन एसडीओ नहीं आए। जब पत्रकारों ने एसडीओ से फोन पर इसका कारण पूछा तो उन्होंने बताया कि उन्हें बताए बिना ही कर्मचारियों ने कार्यालय का कार्य बंद कर दिया। उन्होंने कहा कि जिन कर्मचारी और अधिकारी पर आरोप लगाए गए हैं वे बिल्कुल ठीक हैं कर्मचारियों को उनका जवाब देना चाहिए न कि हड़ताल करनी चाहिए।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें