बच्चों ने प्रतिभा से जीवंत कर दिया ‘सर्वे भवंतु सुखिन:’ का संदेश

चंडीगढ़ स्थित टैगोर थियेटर में शुक्रवार को ट्रिब्यून मॉडल स्कूल के वार्षिक संगीतमय कार्यक्रम ‘सर्वे भवंतु सुखिन:’ में अपनी प्रतिभा की छटा बिखेरते बच्चे। -रवि कुमार

चंडीगढ़, 29 नवंबर (ट्रिन्यू) शुक्रवार शाम कुछ खास थी। टैगोर थियेटर खचाखच भरा था और वहां मौजूद अभिभावक बच्चों की कलात्मक प्रतिभा की छटा देख गदगद हो रहे थे। मौका था सेक्टर 29 स्थित ट्रिब्यून मॉडल स्कूल के संगीतमय वार्षिक समारोह का। स्कूल के कक्षा 6 से लेकर 10वीं तक के 200 विद्यार्थियों ने विजय कुमार के नेतृत्व में कार्यक्रम 'सर्वे भवंतु सुखिन:' पेश किया। लघु नाटिकाओं के जरिये बच्चों ने अलग-अलग संदेश दिया। इसमें एक में चंपक बने चोर जिसे हितेश ने अभिनीत किया, को एहसास हुआ कि उसका विवेक सही दिशा में उसके व्यवहार के लिए उसका मार्गदर्शक था। इसी विवेक के जगने से वह समाज का सम्मानित सदस्य बन पाया। यशकरन द्वारा अभिनीत शमशेर सिंह ने उस प्रलोभन पर काबू पा लिया जो उसके बगल में था जब उसने सोने के सिक्कों को अपने पास रखने की कोशिश की जो उसके पास नहीं थे। प्रलोभन जैसे शैतान से सामना करना तब संभव हो पाया जब उसने ग्रामीणों के बीच कुछ सिक्कों को बांट दिया। सुमित ने महात्मा गांधी का अभिनय कर उस मामले को दर्शाया गया जिसके तहत दक्षिण अफ्रीका में रंगभेद के आधार पर गोरों द्वारा दिखाए गए अन्याय के खिलाफ संघर्ष को लगातार जारी रखा। इसी तरह, अहिंसा और सत्य के सिद्धांत ने स्वतंत्र भारत के लिए मार्ग प्रशस्त किया। कार्यक्रम का समापन बेहतरीन नृत्य के जरिये हुआ जिसकी कोरियोग्राफर रेनू पंत थीं। कावेरी और संजीव ने रंगारंग प्रॉप के जरिये इसे और जीवंत किया। थियेटर में बैठी जनता ने अतुल दुबे के गीत पर जोरदार तालियां बजाईं। इस मौके पर प्रिंसिपल वंदना सक्सेना ने बच्चों, टीचर्स और पूरे स्टाफ को उनके काम के लिए सराहा।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

शहर

View All