कालका, पिंजौर, नानकपुर अस्पताल अपग्रेड

पिंजौर, 27 नवंबर (निस) कालका, पिंजौर शहरी और दून क्षेत्र के ग्रामीणों की लंबे अरसे से चली आ रही बड़े हॉस्पिटल की दशकों पुरानी मांग अब जाकर पूरी हुई है। प्रदेश सरकार ने कालका, पिंजौर और नानकपुर के अस्पतालों के अपग्रेडेशन को हरी झंडी दे दी है। पहले चरण में पिंजौर ब्लाक के गांव नानकपुर के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को अपग्रेड कर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का दर्जा दे दिया है यहां एक 2 हफ्ते पूर्व एसएमओ, नेत्र चिकित्सक, दंत चिकित्सक सहित विशेषज्ञ चिकित्सकों अधिकतर स्टाॅफ की नियुक्ति भी कर दी गई है। हालांकि भविष्य में इस केंद्र को 60 बेड का हॉस्पिटल बनाने का भी प्रस्ताव है। स्वास्थ्य विभाग कालका सीएचसी को अपग्रेड कर उपजिला स्वास्थ्य केंद्र का दर्जा दे दिया है। अस्पताल को 100 बेड का बनाने का प्रस्ताव है। हालांकि नये स्वास्थ्य केंद्र के लिए जगह पर्याप्त नहीं है। दशकों पुरानी बिल्डिंग कमजोर हो चुकी है। इसे बहुमंजिला बनाने का प्रस्ताव भी खारिज हो चुका है। स्वास्थ्य विभाग अस्पताल के दोनों और पड़ी खाली जगह पर बहुमंजिला इमारत बनाने पर विचार कर रहा है। पुरानी बिल्डिंग को ढहाकर उसकी जगह नई बिल्डिंग बनाने का भी प्रस्ताव है। पिंजौर में ब्रिटिश शासन काल में स्थापित कर देश की पहली पीएचसी को अपग्रेड कर पॉलीक्लीनिक का दर्जा दिया गया है। फिलहाल इसकी बिल्डिंग छोटी है। स्टॉफ में वृद्धि करने और बिल्डिंग बनाने का भी प्रस्ताव है। इसमें आपातकालीन सेवाएं, डॉक्टर, लैब, लगभग 30 बेड की सुविधाएं उपलब्ध होंगी। पिंजौर-कालका सहित आसपास के ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को स्वास्थ्य सेवाओं के लिए पंचकूला या चंडीगढ़ जाना पड़ता था लेकिन जल्द ही सारी सुविधाएं यहीं उपलब्ध होंगी।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

शहर

View All