उल्लंघन करते धरे गए 667 लोग, 29 पर केस

चंडीगढ़ में मंगलवार को कर्फ्यू के दौरान एक कनाडियन नागरिक पुलिस को मनीमाजरा स्थित हाउसिंग बोर्ड लाइट प्वाइंट पर घूमता मिला। पुलिस टीम विदेशी नागरिक से पूछताछ करती हुई। - रवि कुमार

चंडीगढ़/पंचकूला, 24 मार्च (ट्रिन्यू) चंडीगढ़ में लॉकडाउन के बाद देर रात से लगाए गए कर्फ्यू के बाद लोग अपने घरों में कैद हैं। चंडीगढ़ की सीमाएं सील होने के बाद से पुलिस शहर में प्रशासन के इन आदेशों को अनदेखा करने वालों के खिलाफ सख्ती से पेश आ रही है। पुलिस ने 667 लोगों को पकड़ा है। जिनमें से 29 लोगों के खिलाफ पुलिस ने मामले दर्ज किए। प्रशासन ने कर्फ्यू में हिरासत में लिये गए लोगों को बंद करने के लिए स्पोर्ट्स कांपलेक्स मनीमाजरा को ओपन जेल बना दिया है। उधर, कर्फ्यू के दौरान सेक्टर-26 में नियमों का सरेआम उल्लंघन कर रहे लोग पुलिस से उलझ पड़े। पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में ले लिया और वहां से भागने की कोशिश कर रहे लोगों पर बल का प्रयोग करना पड़ा। पुलिस ने लोगों के खिलाफ कर्फ्यू का उल्लंघन करने धारा 188 के तहत केस दर्ज किए। इनमें पुलिस ने साउथ डिवीजन, ईस्ट एवं साउथ डिवीजन में कड़ी कार्रवाई की है। वहीं पुलिस ने कर्फ्यू में सीमाओं और शहर के अन्य मार्गों पर दोपहिया वाहन चला रहे सैंकड़ों लोगों को काबू किया और 13 वाहनों को जब्त किया। इनमें कारें, ऑटो और दोपहिया वाहन शामिल थे। प्रशासन ने शहर को 4 जोन में बांटा चंडीगढ़ (ट्रिन्यू) : चंडीगढ़ नगर निगम ने सब्जियों और फल की बिक्री के लिए शहर को 4 जोन विभाजित कर दिया है। इसमें वर्क मुंशी, जेई से लेकर एसडीओ को तैनात किया गया है। निगम ने इनके संपर्क नंबर भी जारी किए हैं। जोन-1 में सेक्टर 1, 2, 3, 4, 9, 10, 11, 12, 14, 15, 16, 17, 22, 23, 24, 25, 25 वेस्ट खुड्डा जसु, खुड्डा लोहरा, खुड्डा अली शेर, धनास, पीजीआई कॉलोनी और कैंपबाला, जोन - 2 में सेक्टर 5, 6, 7, 8 सेक्टर 18, 19, 20, 21, 26, 27, 28, 29 और 30 से लेकर बापू धाम, दरिया, मनीमाजरा, मौलीजागरां, किशनगढ़, कॉलोनी न. 4, इंडस्ट्रियल एरिया फेज-1, रायपुर कला, रायपुर खुर्द और मक्खनमाजरा, जोन -3 में सेक्टर 35, 36, 37, 38 , 38 वेस्ट, सेक्टर 39, 39 वेस्ट, 40, 41, 42, 43, 52, 53, 54, 55, 56, मलोया और डड्डूमाजरा, जोन -4 में 31, 32, 33, 34, 4, 45, 46, 47, 48, 50, 51, राम दरबार, हल्लोमाजरा और बहलाना को शामिल किया गया है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अपने न बिछुड़ें, तीस साल में खोदी नहर

अपने न बिछुड़ें, तीस साल में खोदी नहर

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश