लद्दाख में शूटिंग का अलग क्रेज : ताहिर

लद्दाख में शूटिंग का अलग क्रेज : ताहिर

मुंबई : बॉलीवुड एक्टर ताहिर राज भसीन लद्दाख में पहली बार शूटिंग करने को लेकर रोमांचित हैं। अपनी डिजिटल सीरीज ‘ये काली काली आंखें’ की शूटिंग करने के लिए ताहिर करीब दो हफ्ते तक लद्दाख के दर्शनीय और मनोहर इलाके में मौजूद होंगे। उन्होंने कहा, 'लद्दाख का लैंडस्केप भव्य है और शूटिंग करने के लिए यह ख्वाबों की जगह है। अगले कुछ दिनों के दौरान ‘ये काली काली आंखें’ सीरीज की शूटिंग के सिलसिले में हम जिस तरह के दृश्यों को फिल्माने जा रहे हैं, उनकी विशालता और अहसास लद्दाख के पहाड़ों और ऊंचाइयों की अलौकिक सुंदरता में रचा-बसा हुआ है। मैं ‘लक्ष्य’, ‘जब तक है जान’ और ‘3 इडियट्स’ जैसी फिल्में देख-देख कर बड़ा हुआ हूं, जो लद्दाख के आयकॉनिक सीक्वेंसों में फिल्माई गई थीं। मैं हमेशा से इस अनूठे इलाके में शूटिंग करना चाहता था।'

ताहिर ने किशोरावस्था में लद्दाख की यात्रा की थी और उन छुट्टियों की अद्भुत यादें उनके मन में बसी हुई हैं। उनका कहना है, 'पिछली बार मैं 16 बरस की उम्र में लद्दाख गया था। मुझे अपने माता-पिता के साथ लंबी सैर पर निकलना और बौद्ध मंदिरों को करीब से देखना अच्छी तरह से याद है। मुझे यह भी याद है कि हम एक बेहद मनोरम यात्रा करते हुए पैंगॉन्ग्सो झील पहुंचे थे और मैंने अपने छोटे भाई के साथ बेहद लजीज ठुकपा और मोमोज का जायका चखा था। वहां बहुत ज्यादा ठंड पड़ती है और जोरों की हवा भी चलती है, इसलिए मैं इस बार कोई चांस नहीं लेना चाहता और सुरक्षा के ऐतबार से मैंने दो गर्म जैकेट रख लिए हैं।' ताहिर कहते हैं, 'मैं पंद्रह सालों बाद लद्दाख लौट रहा हूं और इस वापसी की इससे बेहतर वजह और भला क्या हो सकती है कि मैं अपनी एक नयी डिजिटल सीरीज की शूटिंग करने वहां जा रहा हूं।'

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

राजनेताओं की जवाबदेही का सवाल

राजनेताओं की जवाबदेही का सवाल

तेल से अर्जित रकम का कीजिए सदुपयोग

तेल से अर्जित रकम का कीजिए सदुपयोग

ताऊ और तीसरी धारा की राजनीति

ताऊ और तीसरी धारा की राजनीति

अभिमान से मुक्त होना ही सच्चा ज्ञान

अभिमान से मुक्त होना ही सच्चा ज्ञान

फलक पर स्थापित ‘थलाइवा’ को फाल्के

फलक पर स्थापित ‘थलाइवा’ को फाल्के

नंदीग्राम रणभूमि के नये सारथी शुभेंदु

नंदीग्राम रणभूमि के नये सारथी शुभेंदु

राजनीति से अहद-ए-वफा चाहते हो!

राजनीति से अहद-ए-वफा चाहते हो!