32 देशों के 239 वैज्ञानिकों ने कहा-हवा में भी है कोरोना! !    श्रीनगर में लगा आधा ‘दरबार’, इस बार जम्मू में भी खुला नागरिक सचिवालय! !    कुवैत में 'अप्रवासी कोटा बिल' पर मुहर, 8 लाख भारतीयों पर लटकी वापसी की तलवार !    मुम्बई, ठाणे में भारी बारिश !    हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे पर ढाई लाख का इनाम, पूरे यूपी में लगेंगे पोस्टर !    एलएसी विवाद : पीछे हटीं चीन और भारत की सेनाएं, डोभाल ने की चीनी विदेश मंत्री से बात! !    अवैध संबंध : पत्नी ने अपने प्रेमी से करवायी पति की हत्या! !    कोरोना : भारत ने रूस को पीछे छोड़ा, कुल केस 7 लाख के करीब !    भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने साधा राहुल गांधी पर निशाना !    राहुल का कटाक्ष : हारवर्ड के अध्ययन का विषय होंगी कोविड, जीएसटी, नोटबंदी की विफलताएं !    

सरगम › ›

खास खबर
नीटू का मास्क

नीटू का मास्क

बाल कहानी मंजरी शुक्ला पापा ने सब्ज़ी का थैला उठाते हुए कहा-’चलो नीटू, सामने की दुकान से कुछ सब्ज़ी और फल लेकर आते हैं।’ पापा ने नीटू को मास्क पकड़ाते हुए कहा, ‘पर मैं मास्क लगाकर नहीं जाऊंगा।’ नीटू ने मास्क से दूर हटते हुए कहा मम्मी बोली-’याद है कल ही डॉक्टर ...

Read More

चिपचिपा मौसम और घरेलू इलाज

चिपचिपा मौसम और घरेलू इलाज

सेहत रजनी अरोड़ा मानसून का मौसम जहां मनभावन होता है, वहीं कुछ बीमारियों का कारण भी बनता है। इस मौसम की दिक्कतों और उनसे निजात पाने के उपायों पर आइये चर्चा करें। डायरिया और डिहाइड्रेशन : सुबह-शाम डेस्ट्राॅल और एमीबिका टैबलेट लें। 15-20 मिली कुटज़ारिष्ट बराबर मात्रा में पानी में मिलाकर लें। उल्टियां ...

Read More

आंखें भी होती हैं दिल की जुबां…

आंखें भी होती हैं दिल की जुबां…

होंठो पर पर्दा है…। आंखें बोल रही हैं…। कुछ उसी तरह जैसे एक गीत के बोल हैं, ‘आंखें भी होती हैं दिल की जुबां…।’ इन दिनों हर किसी के चेहरे पर मास्क है। ऐसे में महिलाओं के सौंदर्य प्रसाधनों में से एक लिपस्टिक जैसे एक कोने में दुबक सा गया ...

Read More

थ्रीडी और ‘नो डेकोरेशन’ से चमकेगा घर

थ्रीडी और ‘नो डेकोरेशन’ से चमकेगा घर

सज्जा थ्रीडी डेकोरेशन घर की सजावट के लिये काफी पॉपुलर है। घर की दीवारों को सजाना हो या फर्नीचर की बात हो, थ्रीडी डेकोर आइडियाज़ से आप रिमोल्डिंग कर सकते हैं, दोबारा घर डिज़ाइन कर सकते हैं। इसके लिये एक एप भी मौजूद है जो काफी क्रियेटिव है और इसकी मदद ...

Read More

हिंदी फीचर फिल्म: हमारे तुम्हारे

हिंदी फीचर फिल्म: हमारे तुम्हारे

शारा अंग्रेजी फिल्म की रीमेक ‘हमारे तुम्हारे’ का विषय उस जमाने के लिहाज से काफी आगे था और कलाकारों की भी पलटन थी, लेकिन निर्देशन में ढीलापन होने के कारण यह फिल्म उतनी नहीं चल पायी, जितनी उम्मीद की गयी थी। जीवनसाथी का असमय निधन होने के कारण पारिवारिक दायित्वों के ...

Read More

भाबी जी... हो या कुमकुम... सबने पहना मास्क

भाबी जी... हो या कुमकुम... सबने पहना मास्क

चैनल चर्चा प्रदीप सरदाना जैसा कि पिछले दिनों इसी कॉलम में बताया गया था कि लॉकडाउन के बाद जून अंत या जुलाई शुरू में सीरियल की शूटिंग शुरू हो जाएगी। ऐसा ही हुआ है। पिछले दिनों यह रिश्ता क्या कहलाता है, भाबी जी घर पर हैं, संतोषी मां, राधाकृष्ण, कुंडली भाग्य, ...

Read More

हिंदी फीचर फिल्म हाफ़ टिकट

हिंदी फीचर फिल्म हाफ़ टिकट

फ्लैशबैक शारा हाफ़ टिकट 1962 में रिलीज ऐसी रोमांटिक कॉमेडी फिल्म है जो हिंदी की क्लासिक फिल्मों में बराबर अपनी जगह बनाए हुए है। कॉमेडी ऐसी कि कहीं भोंडापन नजर नहीं आता। फ्लैश बैक के पाठक समझ ही गये होंगे कि यह किसकी फिल्म हो सकती है? जी हां, सही समझे। यह ...

Read More


चैनल चर्चा

Posted On December - 11 - 2010 Comments Off on चैनल चर्चा
स्तुति अनिल कपूर होस्ट पिछले दिनों ‘दस का दम’ के होस्ट के रूप में संजय दत्त का नाम सुर्खियों में आया था। लेकिन पिछले दिनों सोनी चैनल ने इस कार्यक्रम के होस्ट के लिए अनिल कपूर से भी बातचीत की। इससे लगता है कि संजय दत्त के साथ चैनल की हुई बातचीत में मामला पक्का नहीं हुआ। चैनल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने भी पूछने पर इस बात की पुष्टि की है कि अनिल कपूर से भी हमारी बातचीत चल रही है। उस अधिकारी 

सिनेमा के जरिए इंसाफ की लड़ाई

Posted On December - 11 - 2010 Comments Off on सिनेमा के जरिए इंसाफ की लड़ाई
....

‘यह साली जिंदगी’ अप्रत्याशित जिंदगी व प्रेम की दास्तान

Posted On December - 11 - 2010 Comments Off on ‘यह साली जिंदगी’ अप्रत्याशित जिंदगी व प्रेम की दास्तान
....

बोल्ड हीरोइन वाली छवि से मत जोड़ए : लारा

Posted On December - 11 - 2010 Comments Off on बोल्ड हीरोइन वाली छवि से मत जोड़ए : लारा
....

स्मिता पाटिल ‘भीगी पलकें’

Posted On December - 11 - 2010 Comments Off on स्मिता पाटिल ‘भीगी पलकें’
13 दिसंबर पुण्यतिथि आज से तेईस साल पहले स्मिता की मृत्यु से फिल्मी दुनिया में जो खालीपन आया था, वह कभी भरा नहीं जा सकता। आम नायिकाओं से पूरी तरह अलग विचारों वाली स्मिता को श्याम बेनेगल ने एंटी हीरोइन की संज्ञा दी थी। उनकी गैर-मौजूदगी हिंदी के सार्थक सिनेमा के साथ-साथ विश्व सिनेमा को भी खलती रही है। महाराष्ट्र के एक पूर्व मंत्री शिवाजीराव पाटिल की पुत्री स्मिता को छात्र जीवन से ही रंगमंच 

यह मेरा दीवानापन है अनुष्का

Posted On December - 11 - 2010 Comments Off on यह मेरा दीवानापन है अनुष्का
अनुष्का शर्मा ने मॉडलिंग के जरिए फिल्मों में एंट्री की थी और यशराज की फिल्म ‘रब ने बना दी जोड़ी’ में शाहरुख खान के अपोजिट लीड रोल के साथ उन्होंने अपनी अभिनय यात्रा की शुरुआत की। फिल्म को अच्छा रेस्पॉन्स मिला और अनुष्का के काम को भी लोगों ने खूब सराहा। इसके बाद आई ‘बदमाश कंपनी’ में उन्होंने शाहिद कपूर के साथ एक बिंदास लड़की का रोल निभाया और अब बारी है ‘बैंड बाजा बारात’ की। यशराज 

पिक्चर अभी बाकी है!

Posted On December - 11 - 2010 Comments Off on पिक्चर अभी बाकी है!
सीरियल ‘अद्र्धांगिनी’ के समय सुदीपा सिंह को हिंदुस्तानी टीवी जगत की ऐश्वर्या राय का दर्जा दिया गया था। हाल ही उन्हें अपनी पहली फिल्म ‘एक्शन रीप्ले’ में ऐश्वर्या राय के साथ काम करने का मौका मिला। ‘एक्शन रीप्ले’ में आदित्य राय कपूर की प्रेमिका का किरदार निभाने का अनुभव कैसा रहा? सुनने में भले ही अजीब लगे, लेकिन मेरे लिए यह बहुत अच्छा एक्सपीरियंस था। मैं अक्षय कुमार की 

कैटरीना का नया अवतार

Posted On December - 11 - 2010 Comments Off on कैटरीना का नया अवतार
फिल्म राजनीति में अपनी साड़ी नीति से परदे को सुलगाने वाली कैटरीना के इरादे नेक नहीं हैं। फिल्म तीस मार खां की यह शीला उर्फ अन्या दबंग की मुन्नी को अपनी हॉट अदाओं से पानी पिलाने के लिए तैयार है। कहने वाले तो यहां तक कह रहे हैं कि शीला की जवानी के आगे मुन्नी के ठुमके ठंडे पड़ जाएंगे। दूसरी तरफ अक्षय कुमार की उम्मीदों का घड़ा भी कैटरीना के सिर पर टिका हुआ है। लगातार तीन फ्लॉप फिल्में देने 

स्टंट-क्वीन फियरलेस नाडिया!

Posted On December - 11 - 2010 Comments Off on स्टंट-क्वीन फियरलेस नाडिया!
जन्मशती वर्ष (1910-1996) हिन्दी ही नहीं किसी भी भारतीय भाषा के सिनेमा के इतिहास में इतनी दबंग, इतनी निर्भीक, इतनी बहादुर, इतनी स्टंटबाज टारजन या रॉबिनहुड स्टॉइल की नायिका आज तक दूसरी नहीं हुई, जितनी नाडिया थी। जब नाडिया का हंटर चलता था, तो शेर जैसे दहाडऩे वाले खलनायक भीगी बिल्ली की तरह यहां-वहां छुपकर जान बचाते नजर आते थे। नाडिया ने हिंदुस्तानी सिनेमा के तीस और चालीस के  दशक में एक दिलेर-जांबाज 

महामाई तो छोटे परदे की पहली महिला धर्मगुरु है अश्विनी कालसेकर

Posted On December - 4 - 2010 Comments Off on महामाई तो छोटे परदे की पहली महिला धर्मगुरु है अश्विनी कालसेकर
पिछले चौदह वर्षों से अभिनय जगत में विविधतापूर्ण किरदार निभाने वाली अश्विनी कालसेकर की पहचान नकारात्मक किरदार निभाने वाली अभिनेत्री की बन चुकी है। इन दिनों वह ‘सहारा वन’ पर प्रसारित हो रहे सीरियल ‘गंगा की धीज’ में नकारात्मक किरदार महामाई के रूप में ही न$जर आ रही है। आप तो निगेटिव किरदार निभाने में माहिर हो गयी हैं? ऐसा कुछ नही है। मैंने हर तरह के किरदार निभाए हैं। पिछले 

प्रेम-कहानी के साथ आरक्षण पर नयी बहस

Posted On December - 4 - 2010 Comments Off on प्रेम-कहानी के साथ आरक्षण पर नयी बहस
अरमानों का बलिदान -आरक्षण भारतीय इतिहास में 1990 को कभी भुलाया नहीं जा सकता। इसी साल तत्कालीन प्रधानमंत्री स्व. वीपी सिंह ने भारत में सरकारी नौकरियों में ‘मंडल कमीशन’ की सिफारशें लागू करते हुए आरक्षण लागू किया था। और उस वक्त यह मुद्दा तीखी सामाजिक बहस का विषय बना। विद्यार्थियों ने देशभर में इसका विरोध किया और कुछ लोगों ने तो अपनी वेदना को व्यक्त करने के लिए आत्मघाती कदम भी उठाए। बीस 

कुछ भी करने से पहले दस बार सोचती हूं माधुरी

Posted On December - 4 - 2010 Comments Off on कुछ भी करने से पहले दस बार सोचती हूं माधुरी
धक-धक गर्ल माधुरी दीक्षित तीन साल बाद फिर से अपने उसी ग्लैमर वल्र्ड में वापस आ गई हैं जहां उन्हें शोहरत और दौलत के साथ इतना प्यार और सम्मान मिला जो मुश्किल से किसी को ही मिल पाता है। सच कहा जाए तो इस दौर की तमाम अभिनेत्रियों में माधुरी दीक्षित को जो मुकाम मिला है वह और किसी को नहीं मिला। सुन्दरता, अभिनय और नृत्य-योग्यता का इतना खूबसूरत संगम भला और कहां और किसमें है। माधुरी से मेरी पहली 

इंडस्ट्री के तौर-तरीके नहीं जानती थी सोनल चौहान

Posted On December - 4 - 2010 Comments Off on इंडस्ट्री के तौर-तरीके नहीं जानती थी सोनल चौहान
जे. संजीव मुकेश भट्ट की फिल्म ‘जन्नत’ में इमरान हाशमी के अपोजिट फिल्म करिअर की शुरुआत करने वाली सोनल चौहान दो वर्ष के बाद बॉलीवुड में वापसी कर रही है। मॉडलिंग की दुनिया से अभिनय के अखाड़े में कदम रखने वाली नोएडा (उत्तर प्रदेश) की सोनल चौहान हालांकि शुरुआती कामयाबी के साथ ही स्टार बन गई थीं, लेकिन बाद में वह हिंदी फिल्म इंडस्ट्री से गायब हो गईं। हालंाकि, वे इस दौरान साउथ की फिल्मों 

अपनी धरती, अपना संगीत

Posted On December - 4 - 2010 Comments Off on अपनी धरती, अपना संगीत
आशुतोष गोवारीकर की नई फिल्म ‘खेलें हम जी जान से’ की आजकल बड़ी चर्चा है। इस फिल्म का बैकग्राउंउ 1930 का चिटगांव विद्रोह है यानी कहानी बंगाल की सरजमीन पर आधारित है। यह कहानी है आजादी के पहले की, आजादी से जुड़ी लड़ाई की। फिल्म में अभिषेक बच्चन और दीपिका पादुकोण ने अपनी प्रचलित छवि के विपरीत किरदार निभाए हैं। फिल्म के गाने जावेद अख्तर ने लिखे हैं और उन्हें धुनों में पिरोया है सोहैल सेन 

अमरिकवा ने लूट लिया…

Posted On December - 4 - 2010 Comments Off on अमरिकवा ने लूट लिया…
भारत समेत दूसरे कई देशों ने हाल के दौर में जिस व्यापक आर्थिक मंदी का सामना किया, उसके लिए ज्यादातर लोग अमेरिका को जिम्मेदार मानते हैं। फिल्मकार सुभाष कपूर भी इनमें से एक हैं। जाहिर है कि आर्थिक मंदी के माहौल ने उन्हें भी बुरी तरह परेशान किया और तीन साल पहले छोटे बजट की फिल्म ‘सलाम इंडिया’ बनाने वाले सुभाष कपूर ने इसी मसले पर एक फिल्म बना डाली— ‘फंस गए रे ओबामा’। इस इंटरव्यू में 

भंसाली का गुस्सा और मोनी का पहला पड़ाव

Posted On December - 4 - 2010 Comments Off on भंसाली का गुस्सा और मोनी का पहला पड़ाव
टेक-रीटेक निर्देशक संजय लीला भंसाली को आम तौर पर तुनकमिजाजी का माना जाता है और उनके इसी बर्ताव के कारण इंडस्ट्री के धुरंधर कलाकार भी उनसे घबराते हैं। सैट पर भंसाली अपने कलाकारों के साथ बेहद सख्ती के साथ पेश आते हैं और जब तक उन्हें मनपसंद शॉट नहीं मिल जाता, वे लगातार जुटे रहते हैं। ऐसा बहुत कम होता है, जब वे किसी कलाकार की तारीफ करें या उसे एक अच्छा कलाकार बताएं। लेकिन नई अभिनेत्री मोनीकंगना