1100 नंबर पर शिकायत का हुआ उलटा असर! !    चैनल चर्चा !    सुकून और सेहत का संगम !    गुमनाम हुए जो गायक !    फ्लैशबैक !    'एवरेज' कहकर रकुल को किया रिजेक्ट! !    बदलते मौसम में त्वचा रोग और सफेद दाग !    सिल्वर स्क्रीन !    तुतलाहट से मुक्ति के घरेलू नुस्खे !    हेलो हाॅलीवुड !    

संसद का संग्राम 2014 › ›

खास खबर

साबरकांठा सीट : वाघेला को वफादारों के वोट बैंक का सहारा

Posted On April - 21 - 2014 Comments Off on साबरकांठा सीट : वाघेला को वफादारों के वोट बैंक का सहारा
भाजपा से साबरकांठा सीट को छीनने की कोशिशों के तहत कांग्रेस अपने शीर्ष क्षेत्रीय नेता शंकर सिंह वाघेला की ताकत के सहारे पांच विधायकों के समर्थन के अतिरिक्त राजूपतों, ठाकुरों और अन्य पिछड़ा वर्ग सहित अपने वफादार वोट बैंक पर निर्भर दिखाई देती है। वाघेला हालांकि, पंचमहल सीट से 2009 का लोकसभा चुनाव हार गए थे, लेकिन 2012 में कपाडवंज से विधानसभा चुनाव जीतकर उन्होंने फिर से वापसी की। बताया जाता 

वाराणसी में बाहरी मतदाता बाहरी प्रत्याशियों के भाग्य विधाता

Posted On April - 21 - 2014 Comments Off on वाराणसी में बाहरी मतदाता बाहरी प्रत्याशियों के भाग्य विधाता
कुरुक्षेत्र में तब्दील हो चुकी देश की सबसे प्रतिष्ठित वाराणसी लोकसभा सीट के साथ दिलचस्प तथ्य यह भी है कि वाराणसी में बाहर से आकर बसे मतदाता यहां के अधिकतर बाहरी प्रत्याशियों के  भाग्य विधाता बनने में अहम भूमिका निभायेंगे। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी नरेन्द्र मोदी, आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक अरविंद केजरीवाल, कांग्रेस के अजय राय तथा समाजवादी 

कुड्डलुर में कड़ी मेहनत कर रही है अन्नाद्रमुक

Posted On April - 20 - 2014 Comments Off on कुड्डलुर में कड़ी मेहनत कर रही है अन्नाद्रमुक
अन्नाद्रमुक उम्मीदवार ए अरून्मोजिथेवन द्रमुक का गढ़ माने जाने वाले कुड्डलुर  संसदीय निर्वाचन क्षेत्र में जीत दर्ज करने के लिए ज़मीन-आसमान  एक कर रहे हैं।  पूर्व विधायक और कुड्डलुर में थिट्टाकुड़ी के निवासी अरून्मोजिथेवन उन 61 अन्नाद्रमुक उम्मीदवारों में से एक हैं जिन्हें 2006 के विधानसभा चुनाव में चुना गया था। उस समय उनकी पार्टी के नेतृत्व वाले गठबंधन ने कुल 234 सीटों में से सिर्फ 69 सीटों 

‘दुखी पतियों’ को इंसाफ दिलाने का चुनावी दावा

Posted On April - 20 - 2014 Comments Off on ‘दुखी पतियों’ को इंसाफ दिलाने का चुनावी दावा
अहमदाबाद:  अहमदाबाद पूर्व निर्वाचन क्षेत्र में राजनीतिक दल और निर्दलीय उम्मीदवारों ने अपने-अपने घोषणापत्रों में ‘दुखी पतियों’ को इंसाफ दिलाने से लेकर गरीबों को शाही जीवनशैली मुहैया कराने तक का वादा किया है।  ‘अखिल भारतीय पत्नी अत्याचार विरोधी संघ’ नामक एनजीओ चलाने वाले दशरथ देवड़ा और अहमदाबाद पूर्व लोकसभा सीट से एक निर्दलीय उम्मीदवार ने पुरूषों की रक्षा के लिए एक 

सात गुना बढ़ी सियासी दलों की संख्या

Posted On April - 20 - 2014 Comments Off on सात गुना बढ़ी सियासी दलों की संख्या
नयी दिल्ली: आज़ादी के  बाद देश में अब तक हुए 15 लोकसभा चुनाव में राजनीतिक दलों की संख्या में करीब सात गुना बढ़ोतरी हुई है। जो 1952 के 53 दलों से बढ़कर साल 2009 के चुनाव में 363 हो गई।   चुनाव आयोग के आंकड़ों के मुताबिक, पिछले छह  दशक से ज्यादा समय में देश में राज्य स्तरीय और क्षेत्रीय दलों की संख्या में काफी वृद्धि दर्ज की गई। 1952 के चुनाव में 39 राज्य स्तरीय दलों ने हिस्सा लिया था। लेकिन पहले चुनाव 

नहीं लड़ रहे चुनाव लेकिन दांव पर साख

Posted On April - 20 - 2014 Comments Off on नहीं लड़ रहे चुनाव लेकिन दांव पर साख
लोकसभा चुनाव में राजनीति के कई धुरंधर महारथी चुनाव तो नहीं लड  रहे हैं लेकिन उनके नज़दीकी संबंधियों के चुनाव मैदान में होने के कारण उनकी प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। इसके साथ ही हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह तथा कुछ अन्य नेता भी अपनी राजनीतिक विरासत बढाने के लिए जी जान से लगे हैं।  शरद पवार इस बार आम चुनाव नहीं 

गुजरात में भाजपा के 42 फीसदी प्रत्याशी पूर्व कांग्रेसी

Posted On April - 20 - 2014 Comments Off on गुजरात में भाजपा के 42 फीसदी प्रत्याशी पूर्व कांग्रेसी
अदिति टंडन/ट्रिन्यू कांग्रेस मुक्त भारत का नारा लेकर चलने वाले भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी ने गुजरात में करीब 42 फीसदी ऐसे उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है जो पुराने कांग्रेसी थे। सूबे की 26 में से 11 सीटों पर गुजरात में पूर्व कांग्रेस नेता भाग्य आ•ामा रहे हैं। जिसका सीधा मतलब है कि भाजपा कांग्रेस के साथ रहे इन नेताओं के दम पर प्रदेश की 42.31 फीसदी सीटों पर 

कांग्रेस की नैया पार लगाएंगे मेगास्टार?

Posted On April - 20 - 2014 Comments Off on कांग्रेस की नैया पार लगाएंगे मेगास्टार?
तेलुगू सिनेमा के अमिताभ बच्चन कहे जाने वाले मेगास्टार के चिरंजीवी को इस तीर्थनगरी में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि पांच साल पहले उन्हें आंध्र प्रदेश विधानसभा में भेजने वाले लोग उनसे खासे नाराज दिखाई दे रहे हैं । ये लोग चिरंजीवी को अब खलनायक के रूप में देखते हैं जो राज्य का बंटवारा नहीं रोक पाए। सीमांध्र क्षेत्र में कांग्रेस की प्रचार समिति के अध्यक्ष और  राज्यसभा 

सपा के गढ़ में कठिन हुई कांग्रेस की राह

Posted On April - 20 - 2014 Comments Off on सपा के गढ़ में कठिन हुई कांग्रेस की राह
बाराबंकी: हमेशा से समाजवादियों का गढ़ रहे बाराबंकी लोकसभा क्षेत्र से साल  2009 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के टिकट पर चुनकर संसद पहुंचे राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के निवर्तमान अध्यक्ष और दर्जा प्राप्त केन्द्रीय कैबिनेट मंत्री पी. एल. पुनिया के सामने कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में लगातार दूसरी बार चुनाव जीतकर इतिहास बनाने का मौका और चुनौती है। कांग्रेस के खिलाफ चल 

छोटे राज्यों के गठन की मांग बना अहम चुनावी मुद्दा

Posted On April - 20 - 2014 Comments Off on छोटे राज्यों के गठन की मांग बना अहम चुनावी मुद्दा
नयी  दिल्ली: लोकसभा चुनाव में इस बार कई राज्यों में अलग राज्य के गठन की मांग का मुद्दा अहम विषय बना हुआ है । जिसमें गोरखालैंड, बुंदेलखंड, हरित प्रदेश, विदर्भ प्रदेश शामिल हैं। आंध्रप्रदेश के बंटवारे के  बाद तेलंगाना राज्य के गठन की पृष्ठभूमि में छोटे राज्यों के गठन का मुद्दा इस आम चुनाव में महत्वपूर्ण बन गया है। अलग बुन्देलखंड  का वादा भाजपा नेता और झांसी से पार्टी प्रत्याशी उमा 

मतदान में नहीं चलेगा राशन कार्ड

Posted On April - 20 - 2014 Comments Off on मतदान में नहीं चलेगा राशन कार्ड
देहरादून, 20 अप्रैल (निस) इस बार निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार राशन कार्ड से मतदान नही होगा। लेकिन अन्य फोटो पहचान पत्रों से मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकेंगें। यह जानकारी देते हुए निर्वाचन अधिकारी अक्षत गुप्ता ने बताया कि अगर आपका नाम मतदाता सूची में है और आपके पास मतदाता फोटो पहचान पत्र नही है, तब भी आप अपना वोट दे सकते हैं। ऐसे में फोटोयुक्त आधार कार्ड, मनरेगा जॉब कार्ड, 

यूपीए सरकार संवेदनहीन : शान्ता

Posted On April - 20 - 2014 Comments Off on यूपीए सरकार संवेदनहीन : शान्ता
धर्मशाला, 20 अप्रैल, (निस) भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं कांगड़ा-चम्बा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी शान्ता कुमार ने कहा कि कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार लचर और संवेदनहीन है। उन्होंने कहा है कि यूपीए सरकार के कुशासन से देश ने अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिष्ठा खो दी है। आज कांगड़ा जिला के फतेहपुर और ज्वाली में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए 

कर्मचारियों को देय भत्ते तुरंत दे सरकार : धूमल

Posted On April - 20 - 2014 Comments Off on कर्मचारियों को देय भत्ते तुरंत दे सरकार : धूमल
शिमला, 20 अप्रैल (ट्रिन्यू) पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल व प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सतपाल सत्ती ने राज्य सरकार से मांग की है कि वो चुनाव आयोग की अनुमति लेकर प्रदेश के कर्मचारियों व पेंशनरों को उनके देय लाभ तुरंत प्रदान करें।  वास्तविकता यह है कि सरकार के पास कर्मचारियों को देने के लिए न तो धन है और न ही उसकी नीयत ही है कि कर्मचारियों को लाभ दिए जाएं। धूमल और सत्ती ने कहा कि मुख्यमंत्री 

आसान नहीं मंडी लोकसभा क्षेत्र में चुनाव कराना

Posted On April - 20 - 2014 Comments Off on आसान नहीं मंडी लोकसभा क्षेत्र में चुनाव कराना
शशिकांत/ट्रिन्यू शिमला, 20 अप्रैल क्षेत्रफल के हिसाब से देश के सबसे बड़े लोकसभा क्षेत्रों में शुमार रहे मंडी लोकसभा क्षेत्र में चुनाव कराना आसान नहीं है। अलग-अलग भौगोलिक स्थिति वाला यह चुनाव क्षेत्र एक तरफ जहां मंडी, सुंदरनगर की समतल मानी जा सकने वाली घाटी में फैला हुआ है वहीं दूसरी तरफ इसका विस्तार तिब्बत की सीमाओं तक है। काला पानी के नाम से मशहूर चंबा जिले की दुर्गम 

मोदी ‘पीएम इन वेटिंग’ ही रहेंगे : वीरभद्र

Posted On April - 20 - 2014 Comments Off on मोदी ‘पीएम इन वेटिंग’ ही रहेंगे : वीरभद्र
नाहन, 20 अप्रैल (निस) तीन दिन के चुनावी दौरे पर कल शाम यहां पहुंचे हिमाचल के मुख्यमन्त्री वीरभद्र सिंह ने आज सिरमौर जिले के पांवटा, कफोटा तथा शिलाई में जनसभाओं को सम्बोधित करते हुए भाजपा के प्रधानमन्त्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी पर तीखे हमले किये तथा कहा कि नरेन्द्र मोदी को यह देश कभी प्रधानमन्त्री के रूप में नहीं चुनेगा। उनका देश का प्रधानमन्त्री बनने का सपना कभी भी साकार 

लोकसभा चुनाव में उसी दल को बढ़त मिली जिसकी प्रदेश में सरकार!

Posted On April - 20 - 2014 Comments Off on लोकसभा चुनाव में उसी दल को बढ़त मिली जिसकी प्रदेश में सरकार!
शशिकांत ट्रिब्यून न्यूज सर्विस शिमला, 20 अप्रैल लोकसभा और विधानसभा के चुनावी मुद्दों में भले ही जमीन आसमान का फर्क हो लेकिन हिमाचल के मतदाता आज तक राज्य में सत्तारूढ़ दल की हवा में ही बहते रहे हैं। देशभर में चलने वाली हवाओं का इस पहाड़ी प्रदेश के मतदाताओं पर कोई ज्यादा असर कभी नहीं हुआ। पिछले सभी चुनाव इस बात के गवाह रहे हैं कि देश में चाहे किसी भी दल की सरकार बनी