किताबों से दोस्ती !    'किसी कमज़ोर पर कभी मत हंसना' !    बुज़ुर्गों के अधिकार !    ओ रे... कन्हैया !    गुस्से से मिली सीख !    लज़्जत से भरपूर देसी ज़ायका !    नयी खोजों का दौर जारी !    सार्वजनिक स्थल पर शिष्टाचार !    व्रत-पर्व !    बच्चों को सिखायें डे टू डे मैनर्स !    

विचार › ›

खास खबर

सुभाष रस्तोगी विनोद खन्ना ने अपनी साहित्यिक यात्रा भले ही देर से शुरू की हो, लेकिन अपनी रचनाधर्मिता के बूते वे इधर के साहित्यिक परिदृश्य में अलग से जाने जाते हैं। उनके तीसरे सद्य: प्रकाशित कविता-संग्रह ‘उड़ान बाकी है’ में उनकी कुल 61 छंदोबद्ध कविताएं एवं 58 रुबाइयां संगृहीत हैं, जो ...

Read More

रोमांचक जीवन की तरह रोचक जीवनी

रोमांचक जीवन की तरह रोचक जीवनी

चंद्र त्रिखा पिछली सदी ने इस विश्व को कुछ अनूठे महामानव दिए। इन महामानवों ने पिछली पूरी सदी को वैचारिक रूप में जमकर झिंझोड़ा और कुछ भूखण्डों में उनकी वैचारिकता पर आधारित नए जीवन मूल्य भी स्थापित हुए। पुरानी मान्यताओं के खिलाफ चुनौतियां भी दर्ज हुईं। इनमें लेनिन, गांधी, मार्टिन लूथर ...

Read More

फैसला

फैसला

सुधीर केवलिया सुबह से चल रही तेज़ आंधी के कारण शहर में दिन के समय ही अंधेरा छा गया था। अचानक दोपहर को हुई मूसलाधार बारिश और बाद में तेज बौछारों से लोगों को गर्मी से राहत जरूर मिल रही थीं। बारिश के साथ आसमान में कड़कती बिजली की आवाज़ नेहा ...

Read More

बड़ी छतरी तले दीर्घकालीन सुरक्षा

बड़ी छतरी तले दीर्घकालीन सुरक्षा

आलोक पुराणिक निवेश का माहौल इन दिनों तरह-तरह की अनिश्चितताओं से भरा हुआ है। किसी न किसी वजह से शेयर बाजारों में विकट उथलपुथल है। चीन-अमेरिका का व्यापार युद्ध नये आयाम ले रहा है। ग्लोबल बाजार में तरह-तरह के नकारात्मक समाचार तैर रहे हैं। चीन मंदी की ओर है। भारत में ...

Read More

नेतृत्व की विकल्पहीनता से जूझती कांग्रेस

नेतृत्व की विकल्पहीनता से जूझती कांग्रेस

शायद यह कांग्रेस के इतिहास में पहली बार हुआ होगा कि कांग्रेस कार्यकारिणी समिति की बैठक सवेरे से आधी रात के बाद तक चलती रही हो और परिणाम के नाम पर ढाक के तीन पात वाली बात ही सिद्ध हो। राहुल गांधी का पार्टी के अध्यक्ष पद से हटने के ...

Read More

सुनहरे सफ़र की गगनभेदी सफलताएं

सुनहरे सफ़र की गगनभेदी सफलताएं

इसरो के 50 साल शशांक द्विवेदी इस बार का स्वतंत्रता दिवस कई मायनों में खास है क्योंकि इसरो इस बार अपनी स्थापना के 50 साल पूरे कर रहा है। 15 अगस्त 1969 को ही भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की स्थापना हुई थी। इन 50 सालों में इसरो ने कई उतार-चढ़ाव ...

Read More

समग्र विकास में बाधक विषमता की खाई

समग्र विकास में बाधक विषमता की खाई

दरअसल राजकुमार सिंह आज भारत 73वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। पराधीनता से स्वाधीनता हासिल करने का दिन हर्षोल्लास से मनाया ही जाना चाहिए। बेशक आजादी का वास्तविक अर्थ और महत्व वही समझ सकता है, जिसने गुलामी का दंश झेला हो। आजाद भारत का सफर भी कम शानदार नहीं रहा है। आखिर ...

Read More


  • फैसला
     Posted On August - 18 - 2019
    सुबह से चल रही तेज़ आंधी के कारण शहर में दिन के समय ही अंधेरा छा गया था। अचानक दोपहर....
  • रोमांचक जीवन की तरह रोचक जीवनी
     Posted On August - 18 - 2019
    पिछली सदी ने इस विश्व को कुछ अनूठे महामानव दिए। इन महामानवों ने पिछली पूरी सदी को वैचारिक रूप में....
  •  Posted On August - 18 - 2019
    विनोद खन्ना ने अपनी साहित्यिक यात्रा भले ही देर से शुरू की हो, लेकिन अपनी रचनाधर्मिता के बूते वे इधर....
  •  Posted On August - 17 - 2019
    लगता है जी कि देश की खुशी को किसी की नजर लग गयी है। कुछ लोगों को लगता है कि....

कितने झूठों को काटेगा कौआ

Posted On July - 26 - 2019 Comments Off on कितने झूठों को काटेगा कौआ
एक प्रसिद्ध फिल्मी गीत है : झूठ बोले कौआ काटे, काले कौए से डरियो। कई बार सोचता हूं कि झूठ बोलने पर कौआ काटने वाली बात में कुछ सच्चाई है भी या नहीं। कम से कम मेरे देखने, सुनने अथवा पढ़ने में तो अब तक ऐसा कोई मामला नहीं आया कि जिसमें किसी व्यक्ति ने झूठ बोला हो और उसे किसी कौए ने काट लिया ....

अधर्म के रन की टीस और धर्मसेना

Posted On July - 26 - 2019 Comments Off on अधर्म के रन की टीस और धर्मसेना
अंपायर के एक फैसले की चूक से कैसे विश्व कप पहली टीम की किस्मत से फिसलकर दूसरी टीम की झोली में चला जाता है, उसकी मिसाल है चर्चित अंपायर कुमार धर्मसेना का एक विवादित निर्णय। जिसकी टीस निष्पक्ष क्रिकेट चाहने वाले प्रशंसकों को सालों-साल सालती रहेगी। 14 जुलाई को विश्व कप 2019 के  फाइनल में जो घटनाक्रम घटा, उसने क्रिकेट जगत को स्तब्ध किया। ....

इमरान पर ट्रंप की मेहरबानी के निहितार्थ

Posted On July - 26 - 2019 Comments Off on इमरान पर ट्रंप की मेहरबानी के निहितार्थ
ट्रंप मेहरबान तो इमरान पहलवान! आज की तारीख़ में पाकिस्तान की घरेलू राजनीति में प्रधानमंत्री इमरान ख़ान की ताक़त बढ़ी है, यह दिखाया जाने लगा है। अमेरिका से लौट आने पर पाकिस्तान में इमरान ख़ान का स्वागत जिस तरह से उनके सांसद कर रहे हैं, उससे इसकी झलक मिलने लगी है। अमेरिका से प्राप्त यह ताक़त देश में 40 अतिवादी समूहों के सफाये में इमरान ....

दुगुना हुआ मर्ज

Posted On July - 26 - 2019 Comments Off on दुगुना हुआ मर्ज
यह बेहद चिंता का विषय है कि पंजाब में एचआईवी संक्रमितों की संख्या में अप्रत्याशित वृद्धि हो रही है। हालिया आंकड़े चौंकाते हैं कि पंजाब में वर्ष 2016-17 के मुकाबले एचआईवी पॉजिटिव लोगों की संख्या में चालीस फीसदी की वृद्धि हुई है जो निश्चित रूप से सरकार और समाज की चिंता का विषय होना चाहिए। दरअसल, यह आंकड़ा इस बात की पुष्टि भी करता है ....

पहले ही जन्म में हलाक रिश्ते

Posted On July - 25 - 2019 Comments Off on पहले ही जन्म में हलाक रिश्ते
एक अंग्रेजी कहावत है कि शादी उन लोगों के लिये ही वरदान है, जिन्हें रात को अकेले सोने से डर लगता है। जो जल्दबाजी में शादी करते हैं, वे इसकी कीमत चुकाते हैं पर जो सोच समझकर विवाह रचाते हैं, वे भी कोई तीर नहीं मारते। शादियों का अन्त और मध्य प्रायः एक जैसा ही होता है। ....

आपकी राय

Posted On July - 25 - 2019 Comments Off on आपकी राय
खुद जिम्मेदार दैनिक ट्रिब्यून के 22 जुलाई के अंक में संपादकीय ‘सिद्धू आउट’ क्रिकेटर से राजनेता बने, नवजोत सिंह सिद्धू के बड़बोलेपन तथा महत्वाकांक्षा के कारण उसकी वर्तमान अधोगति का विश्लेषण करने वाला था। सिद्धू को यह गलतफहमी है कि वह अपनी वाकपटुता के कारण एक सफल क्रिकेटर व टीवी कलाकार की तरह एक सफल राजनेता भी सकते हैं। राजनीति और उपर्युक्त दोनों बातें अलग-अलग हैं। शामलाल 

एकदा

Posted On July - 25 - 2019 Comments Off on एकदा
हुनर का हिसाब एक बार एक जहाज का इंजन खराब हो गया। जहाज के मालिक ने बहुत सारे विशेषज्ञों को बुलाकर उसकी जांच कराई लेकिन किसी को भी खराबी की वजह समझ में नहीं आई। आखिर थक हारकर एक बूढ़े मैकेनिक को बुलाया गया। वह आते ही काम में जुट गया। उसने इंजन का बारीकी से मुआयना किया। जहाज का मालिक उसे काम करते देख रहा था। बूढ़े मैकेनिक ने इंजन को जांचने के बाद अपने बक्से से एक छोटी-सी हथौड़ी निकाली 

नदी प्रबंधन के स्थायी उपाय जरूरी

Posted On July - 25 - 2019 Comments Off on नदी प्रबंधन के स्थायी उपाय जरूरी
देश में भीषण गर्मी के बाद बाढ़ ने अपना प्रकोप दिखाना शुरू कर दिया है। जबकि सभी जगहों पर बारिश सही ढंग से शुरू भी नहीं हुई है, उस स्थिति में देश के कुछ हिस्से भीषण बाढ़ की चपेट में हैं। बीते दिनों देश की औद्यौगिक राजधानी मुंबई बाढ़ के चलते थम गई। शहर और आसपास के इलाकों में भारी जलभराव हुआ, वहीं सड़क, रेल ....

नाटक के बाद कर्नाटक

Posted On July - 25 - 2019 Comments Off on नाटक के बाद कर्नाटक
राजनीतिक दांव-पेचों से सरकार बनाने-गिराने के खेल के लिये मशहूर कर्नाटक में भले ही कुमारस्वामी की कांग्रेस गठबंधन वाली सरकार गिर गई हो, मगर बीएस येदियुरप्पा के नेतृत्व में बनने वाली सरकार की राह इतनी आसान भी नहीं होगी, जिसकी चेतावनी विश्वास मत गंवाने के वक्त कुमारस्वामी ने दी है। ....

ट्रंप के ट्वीट्स से आहत दुनिया

Posted On July - 25 - 2019 Comments Off on ट्रंप के ट्वीट्स से आहत दुनिया
दुनियाभर की सरकारें, खासकर अमेरिकी, अपनी राजशक्ति की ताब दिखाने के लिए अनेक तरह के तौर-तरीके बरतती हैं, लिहाजा सैन्य दबाव, राजनयिक रूप से अलग-थलग करना, आव्रजन और आर्थिक प्रतिबंध इत्यादि किसी मुल्क को मनाने या धमकाने के हथियार के रूप में किए जाते हैं। ....

एकदा

Posted On July - 24 - 2019 Comments Off on एकदा
महमूद गज़नवी के दरबार में एक गरीब आदमी फरियाद लेकर आया- हुज़ूर, आपका भानजा मेरी पत्नी से जबरन मिलता है और उसे सताता है। विरोध करने पर मुझे भी मारता है। गज़नवी ने उसे सांत्वना देते हुए कहा-डरो मत। तुम बस एक बार उसे रंगे हाथों मुझे दिखा दो। मैं उसे स्वयं अपने हाथों से सज़ा देकर तुम्हें इंसाफ दूंगा। ....

आपकी राय

Posted On July - 24 - 2019 Comments Off on आपकी राय
17 जुलाई के दैनिक ट्रिब्यून का संपादकीय ‘जर्जर बुनियाद के हादसे’ आमतौर पर बरसात के दिनों में पुरानी या कमजोर नींव वाली बहुमंजिला इमारतों के गिरने से बहुमूल्य जान तथा माल के नुकसान की तरफ ध्यान आकर्षित करने वाला था। आखिर प्रशासन पुरानी इमारतों को इस किस्म के हादसे होने से पहले ही क्यों नहीं गिरा देता। ....

सावन के बहाने, जिंदगी के निशाने

Posted On July - 24 - 2019 Comments Off on सावन के बहाने, जिंदगी के निशाने
सुबह गृहदेवी ने नींद से जगाया-अजी, उठो। देखो, सावन आया है। मैंने कहा-इस साले सावन को भी आज ही आना था। सावन से कह दो कि तुम्हारे जीजाजी देर रात तक कार्यालय में काम करते रहते हैं, इसलिए अभी वे आराम कर रहे हैं। मैं अभी उठुंगा तो वह कहेगा-यार, जीजाजी, आज कार्यालय को मारो गोली, कोई ‘मूवी’ देखने चलते हैं, फिर शाम को किसी ....

खेलों को सिर्फ खेल ही रहने दो

Posted On July - 24 - 2019 Comments Off on खेलों को सिर्फ खेल ही रहने दो
रियो ओलंपिक खेलों में जब भारत की बेटियों ने रिकॉर्ड मेडल जीतकर अपनी प्रतिभा का सिक्का जमाया तो प्रधानमंत्री ने ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ के नारे को बेटी खिलाओ तक भी विस्तृत किया। मगर अफसोस! जब बेटियां खेलकर मेडल जीतने लगीं तो हम उनकी जीत पर ताली बजाना भूल क्रिकेट की हार की निराशा में डूब गये। ....

पर्यावरण मित्र खेती में ही समाधान

Posted On July - 24 - 2019 Comments Off on पर्यावरण मित्र खेती में ही समाधान
वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने अपना पहला बजटीय भाषण पेश करते समय ‘जीरो बजट’ खेती का जिक्र किया है। संयोग से यह ठीक उस वक्त हुआ है जब यूके द्वारा गठित ‘एसएसए फूड फार्मिंग एंड कंट्रीसाइड कमीशन’ ने अपनी एक बड़ी रिपोर्ट में ‘जन सरोकारों के मूल्यों से संचालित चौथी कृषि क्रांति’ करने का आह्वान किया है। ....

गफलत के ट्रंप

Posted On July - 24 - 2019 Comments Off on गफलत के ट्रंप
पाक प्रधानमंत्री इमरान खान की अमेरिका यात्रा के दौरान राष्ट्रपति ट्रंप द्वारा कश्मीर पर बातचीत के लिये भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा मध्यस्थता के आग्रह संबंधी बयान से वे खुद विवादों में फंस गये हैं। अब अमेरिकी विदेश मंत्रालय द्वारा इस मामले पर सफाई दी जा रही है, जिसके चलते ट्रंप की विश्वसनीयता को ही आंच आई है। ....