तेल का खेल !    घर जाने के लिए सड़कों पर उतरे डेढ़ लाख प्रवासी श्रमिक !    हरियाणा में विदेश से लौटे 11 हजार लोगों में से 200 ‘गायब’ !    2 मौत, 194 नये मामले !    रेल कोच को बनाया आइसोलेशन वार्ड !    लॉकडाउन पर भारी पलायन !    कोरोना से लड़ने को टाटा ने खोला खजाना, 1500 करोड़ दिया दान !    मौजूदा ब्रेक भारतीय खिलाड़ियों के लिये अच्छा विश्राम : शास्त्री !    कृषि को लॉकडाउन से दी छूट : केंद्र !    चीन ने पाकिस्तान भेजी चिकित्सा सहायता और राहत सामग्री !    

विचार › ›

खास खबर
पंजाब के ग्राम्य-जीवन का शब्दचित्र

पंजाब के ग्राम्य-जीवन का शब्दचित्र

पुस्तक समीक्षा मोहन मैत्रेय चर्चित अवतार सिंह बिलिंग रचित उपन्यास ‘खाली कुओं की कथा’ के संबंध में कथन है कि इस कृति में पंजाब के सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक उन परिवर्तनों की प्रस्तुति है जो क्षेत्र ने देखे-झेले हैं। वास्तव में यह रचना क्षेत्र के ग्रामीण जीवन का शब्द-चित्रण है। रचना के शीर्षक का ...

Read More

विविध आयामों की कविता

विविध आयामों की कविता

पुस्तक समीक्षा शशि सिंघल कवयित्री निधि ख़ाली ध्यानी मृगतृष्णा की काव्य कृति ‘रातें सूरज सी’ जीवन के विविध आयामों को दर्शाती हल्की-फुल्की कविताओं का जखीरा है। इस काव्य कृति की लगभग बयासी कविताएं ताजा हवा के झोंकों की तरह जीवन के हर मोड़ में झांकती नजर आती हैं। इनमें प्रेम है, रिश्ता ...

Read More

कामकाजी महिलाओं की जिजीविषा

कामकाजी महिलाओं की जिजीविषा

पुस्तक समीक्षा सुशील कुमार फुल्ल विद्वानों ने उपन्यास को जीवन की व्याख्या माना है। समाज की समस्याओं एवं विसंगतियों को आधार बनाकर पात्रों के माध्यम से कथावस्तु को बुनते हुए उसे किसी निष्कर्ष तक ले जाना उपन्यास की सफलता का पैमाना होता है। ‘नारी कभी न हारी’ वीना चौहान विरचित ऐसा ही ...

Read More

मूर्तिकला के एक युग का बोध

मूर्तिकला के एक युग का बोध

पुस्तक समीक्षा राजवंती मान मनुष्य प्रारम्भ से ही अपने ज्ञान-दर्शन और मान्यताओं को संरक्षित और संवाहित करने की चेष्टा करता रहा है। सभ्यता के विकास के साथ ही उसने मूर्तिकला और चित्रकला जैसी कठिन कलाएं विकसित की। सिन्धु सभ्यता के कला-नमूनों से पाटलिपुत्र की यक्षिणी तक, सांची से अजंता-एलोरा की गुफाओं ...

Read More

दलित विमर्श के अग्रदूत

दलित विमर्श के अग्रदूत

पुस्तक समीक्षा रमेश नैयर राष्ट्रीय राजनीति में दलित समाज के महत्व को रेखांकित करने में डॉ. भीमराव अंबेडकर के बाद कांशीराम का विशेष महत्व है। पंजाब के ग्रामीण क्षेत्र में राजनीति की वर्णमाला सीखने वाले कांशीराम ने राष्ट्रीय स्तर पर दलित वर्ग के जुझारू नेता के रूप में अपनी पहचान बनाई। उनको ...

Read More

विरासत से जुड़ने की अनूठी मुहिम

विरासत से जुड़ने की अनूठी मुहिम

हरियाणा सृजन यात्रा अरुण कुमार कैहरबा घुमक्कड़ी एक बेहतरीन शौक है। अनेक प्रकार की यात्राओं के जरिये यात्रियों ने समाज निर्माण व तथ्यों की खोज में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। साहित्य में यात्रा साहित्य की एक पूरी धारा है। हिन्दी साहित्य में राहुल सांकृत्यायन ने ‘घुमक्कड़ शास्त्र’ रच कर घुमक्कड़ी को प्रतिष्ठित ...

Read More

शैलेंद्र के गीतों में ज़िंदगी के फलसफे का यथार्थ

शैलेंद्र के गीतों में ज़िंदगी के फलसफे का यथार्थ

आलोक यात्री 21वीं सदी के दो दशक बीत जाने के बाद तमाम सुख-सुविधाओं से संपन्न इस दुनिया में ‘हाउस अरेस्ट’ की अवस्था में पहुंच चुके आम व्यक्ति के पास करने के लिए खास कुछ नहीं है। टीवी रिमोट और मोबाइल फोन के बटन या की-पैड भी इस एकाकीपन, ऊब, निरसता और ...

Read More


  • विरासत से जुड़ने की अनूठी मुहिम
     Posted On March - 29 - 2020
    घुमक्कड़ी एक बेहतरीन शौक है। अनेक प्रकार की यात्राओं के जरिये यात्रियों ने समाज निर्माण व तथ्यों की खोज में....
  • दलित विमर्श के अग्रदूत
     Posted On March - 29 - 2020
    राष्ट्रीय राजनीति में दलित समाज के महत्व को रेखांकित करने में डॉ. भीमराव अंबेडकर के बाद कांशीराम का विशेष महत्व....
  • मूर्तिकला के एक युग का बोध
     Posted On March - 29 - 2020
    मनुष्य प्रारम्भ से ही अपने ज्ञान-दर्शन और मान्यताओं को संरक्षित और संवाहित करने की चेष्टा करता रहा है। सभ्यता के....
  • कामकाजी महिलाओं की जिजीविषा
     Posted On March - 29 - 2020
    विद्वानों ने उपन्यास को जीवन की व्याख्या माना है। समाज की समस्याओं एवं विसंगतियों को आधार बनाकर पात्रों के माध्यम....

रसखान सरीखे गुणों की खान रमजान

Posted On March - 6 - 2020 Comments Off on रसखान सरीखे गुणों की खान रमजान
सुबह मंदिर का मान, शाम को अजान का ध्यान। गौ सेवा और संस्कृति का विद्वान, ऐसा अनूठा रमजान खान। मिली पद्मश्री तो गौ सेवा को श्रेय और अल्लाह का अहसान। गंगा-जमुनी संस्कृति की जीती-जागती मिसाल हैं रमजान खान ऊर्फ मुन्ना मास्टर। भजन गायकी से अपने परिवार पालने वाले मुन्ना मास्टर ने अपने बच्चों को संस्कृत पढ़वायी। ....

अंतर्विरोधों से दरकता शांति समझौता

Posted On March - 6 - 2020 Comments Off on अंतर्विरोधों से दरकता शांति समझौता
क्या इसे ‘हड़बड़ी का विवाह, कनपटी पर सिंदूर’ वाली कवायद कहें? तालिबान से शांति समझौता इतनी जल्दी धूल चाटने लगेगा, इसका पूर्वानुमान अमेरिकी खुफिया एजेंसियों को तो होना चाहिए था। ट्रंप अपने चुनावी क्षेत्र में एक बड़ी उपलब्धि के रूप में इसे गिनाना चाहते थे, अब यह प्रहसन का सबब बनेगा। ....

नशे का नश्तर

Posted On March - 6 - 2020 Comments Off on नशे का नश्तर
हरियाणा विधानसभा में बजट सत्र के आखिरी दिन नशे के मुद्दे पर हुए हंगामे से एक बात तो तय है कि हरियाणा में भी नशे का नश्तर घातक होता जा रहा है। कांग्रेस, इनेलो व जजपा विधायकों ने इस मुद्दे पर सरकार की जोरदार ढंग से घेराबंदी की। एक गिरफ्तार नशा तस्कर के साथ भाजपा नेताओं की फोटो सदन में दिखायी गई तो भाजपा ने ....

एकदा

Posted On March - 5 - 2020 Comments Off on एकदा
एक शिष्य ने ऋषि से पूछा, ‘हम ठीक मार्ग पर चल रहे है इस बात का हमें पता कैसे चलेगा?’ ऋषि ने कहा, ‘जीवन की गुणवत्ता में इज़ाफ़ा हो रहा हो तो समझना चाहिए की जीवनधारा ठीक पथ पर गतिमान है। जीवन दशा में सुधार हो रहा हो तो इसका अर्थ है कि यात्रा सही मार्ग पर हो रही है, ठीक मार्ग यानी सत्य पथ। ....

ज़िंदगी का कोई इलाज नहीं

Posted On March - 5 - 2020 Comments Off on ज़िंदगी का कोई इलाज नहीं
आज कबीर बहुत याद आ रहे हैं! उनकी एक पंक्ति रह-रह कर ज़ेहन में टंकार कर रही है— ....

बंजर होती जमीन को बचाने की चुनौती

Posted On March - 5 - 2020 Comments Off on बंजर होती जमीन को बचाने की चुनौती
जलवायु परिवर्तन से सूखे, जमीनी मिट्टी के तेजी से बिखरने, मिट्टी में कार्बन सोखने की क्षमता कम होने, खारापन बढ़ने, बेमौसम बारिश से बाढ़ आने, कम समय में ज्यादा बारिश आने और शुष्क भूमि पर निर्भर लोगों के लिए भोजन का संकट पैदा हो गया है। सबसे बड़ा संकट जमीन के दिनोंदिन बंजर होने का है। ....

आपकी राय

Posted On March - 5 - 2020 Comments Off on आपकी राय
4 मार्च के दैनिक ट्रिब्यून में राजकुमार सिंह के लेख ‘तरस नहीं खाते बस्तियां जलाने में’ शीर्षक सारी तस्वीर उकेरता है। दिल्ली के दंगे अपनी रहस्यमयी कहानी की परतें खुद ही खोल रहे हैं। अंग्रेज ‘बांटो और राज करो’ की दीक्षा राजनेताओं को विरासत में दे गए हैं। ऐसा प्रतीत होता है जैसे विपक्ष की हताशा का ज्वालामुखी फट पड़ा हो। ....

नये दौर में भारत-अमेरिकी रिश्ते

Posted On March - 5 - 2020 Comments Off on नये दौर में भारत-अमेरिकी रिश्ते
अमेरिकी राष्ट्रपति की 24-25 फरवरी को हुई भारत की राजकीय यात्रा की आधिकारिक घोषणा किए जाने से भी महीनों पहले ट्रंप ने टेक्सास प्रांत के ह्यूस्टन शहर में अनिवासी भारतीयों द्वारा आयोजित किए गए ‘हाउडी मोदी’ आयोजन में भाग लेते समय यह स्वाद चख लिया था कि भारत में राजनीतिक आयोजनों में किस बड़े स्तर पर भीड़ जुटा करती है। ....

कोरोना का रोना

Posted On March - 5 - 2020 Comments Off on कोरोना का रोना
यह चिंता की बात है कि देश में 28 व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित पाये गये हैं। बुधवार को खुद स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने यह जानकारी दी है। इन संक्रमित लोगों में 16 इटली के पर्यटक हैं और एक उनके साथ चल रहा भारतीय। वहीं इटली से लौटे दिल्ली के भारतीय नागरिक के संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी, जिसने नोयडा के स्कूली छात्रों को ....

एकदा

Posted On March - 4 - 2020 Comments Off on एकदा
बदलाव की सीख एक राजकुमार स्वभाव से बहुत ही दुष्ट व उद्दंड प्रवृत्ति का था। प्रजा के साथ राजा भी अपने बेटे की करतूत से परेशान था। एक दिन उस राज्य में गौतम बुद्ध धर्मोपदेश के लिए आए। राजा ने बुद्ध से राजकुमार को सुधारने का कोई उपाय पूछा। बुद्ध ने राजकुमार को अपने पास बुलाया और पास ही लगे पौधे से कुछ पत्तियां तोड़कर खाने को दीं। राजकुमार ने पत्तियां खाईं तो वे बहुत कड़वी थीं। अब उसके 

तरस नहीं खाते बस्तियां जलाने में

Posted On March - 4 - 2020 Comments Off on तरस नहीं खाते बस्तियां जलाने में
जिस दिल्ली की सत्ता पाने के लिए फरवरी के शुरू तक धरती पर स्वर्ग ही उतार लाने के सपने दिखाने की होड़ राजनीतिक दलों-नेताओं में लगी थी, उन सभी ने फरवरी के अंतिम सप्ताह में दिल्लीवासियों से पूरी तरह मुंह मोड़ लिया, जब दंगों का कहर बरपा। संविधान और समाज का भी, धर्मनिरपेक्ष चरित्र होने के बावजूद दंगे विश्व के इस सबसे बड़े लोकतंत्र के ....

सम्मान और हक के लिए बाकी लड़ाई

Posted On March - 4 - 2020 Comments Off on सम्मान और हक के लिए बाकी लड़ाई
विश्व के अन्य देशों की तरह भारत में भी आठ मार्च महिला दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत की महिलाओं को स्वतंत्रता के साथ ही हमारे संविधान में समानता का अधिकार दे दिया, पर अब हमारे देश में महिला दिवस आवश्यक औपचारिकता हो गया है। ....

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और पुश्तैनी हरकतें

Posted On March - 4 - 2020 Comments Off on आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और पुश्तैनी हरकतें
मुरारी जी अमेरिका से लौट कर क्या आए, उनके सिर पर अपने घर को भी ‘स्मार्ट होम’ बनाने की धुन सवार हो गई। उन्होंने अपने अमेरिकी मित्र को रिक्लाइनर पर पसरे हुए घर के बहुत से काम एक इलेक्ट्रोनिक डिवाइस ‘अलेक्सा’ से करवाते देखा था। ....

आपकी राय

Posted On March - 4 - 2020 Comments Off on आपकी राय
दिल्ली के दंगे देशवासियों के सामने कई सवाल खड़े कर रहे हैं। सरकार इस मामले में असफल रही है। सरकार को ऐसे तत्वों से सख्ती से निपटना चाहिए था लेकिन असफल रही। हिंसा की वारदातों में सभी नेताओं ने राजनीतिक रोटियां सेंकने की पूरी कोशिश की। ....

बदलावकारी फैसला

Posted On March - 4 - 2020 Comments Off on बदलावकारी फैसला
पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट द्वारा सुखना झील के कैचमेंट एरिया में मौजूद सभी व्यावसायिक व आवासीय निर्माण तीन माह के भीतर हटाने के निर्देश निश्चित रूप से प्राकृतिक विरासत के संरक्षण की दिशा में बदलावकारी कदम है। नि:संदेह सुखना लेक न केवल चंडीगढ़ की पहचान से जुड़ी है, बल्कि शहर की आबोहवा व तापमान को भी प्रभावित करती है। ....

आपकी राय

Posted On March - 3 - 2020 Comments Off on आपकी राय
2 मार्च के दैनिक ट्रिब्यून में ‘हरियाणा की हवा’ संपादकीय संसार के 30 प्रदूषित शहरों में 5 मेट्रोपॉलिटिन शहरों—गुरुग्राम, जींद, पलवल, फरीदाबाद तथा हिसार के शामिल होने पर सरकार की नींद उड़ाने वाला था। व्यवस्था शहरों को स्मार्ट तो नहीं बना सकती लेकिन बदले में प्रदूषित तथा ज़हरीला बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ रही। ....
Manav Mangal Smart School
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.