तेल का खेल !    घर जाने के लिए सड़कों पर उतरे डेढ़ लाख प्रवासी श्रमिक !    हरियाणा में विदेश से लौटे 11 हजार लोगों में से 200 ‘गायब’ !    2 मौत, 194 नये मामले !    रेल कोच को बनाया आइसोलेशन वार्ड !    लॉकडाउन पर भारी पलायन !    कोरोना से लड़ने को टाटा ने खोला खजाना, 1500 करोड़ दिया दान !    मौजूदा ब्रेक भारतीय खिलाड़ियों के लिये अच्छा विश्राम : शास्त्री !    कृषि को लॉकडाउन से दी छूट : केंद्र !    चीन ने पाकिस्तान भेजी चिकित्सा सहायता और राहत सामग्री !    

विचार › ›

खास खबर
पंजाब के ग्राम्य-जीवन का शब्दचित्र

पंजाब के ग्राम्य-जीवन का शब्दचित्र

पुस्तक समीक्षा मोहन मैत्रेय चर्चित अवतार सिंह बिलिंग रचित उपन्यास ‘खाली कुओं की कथा’ के संबंध में कथन है कि इस कृति में पंजाब के सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक उन परिवर्तनों की प्रस्तुति है जो क्षेत्र ने देखे-झेले हैं। वास्तव में यह रचना क्षेत्र के ग्रामीण जीवन का शब्द-चित्रण है। रचना के शीर्षक का ...

Read More

विविध आयामों की कविता

विविध आयामों की कविता

पुस्तक समीक्षा शशि सिंघल कवयित्री निधि ख़ाली ध्यानी मृगतृष्णा की काव्य कृति ‘रातें सूरज सी’ जीवन के विविध आयामों को दर्शाती हल्की-फुल्की कविताओं का जखीरा है। इस काव्य कृति की लगभग बयासी कविताएं ताजा हवा के झोंकों की तरह जीवन के हर मोड़ में झांकती नजर आती हैं। इनमें प्रेम है, रिश्ता ...

Read More

कामकाजी महिलाओं की जिजीविषा

कामकाजी महिलाओं की जिजीविषा

पुस्तक समीक्षा सुशील कुमार फुल्ल विद्वानों ने उपन्यास को जीवन की व्याख्या माना है। समाज की समस्याओं एवं विसंगतियों को आधार बनाकर पात्रों के माध्यम से कथावस्तु को बुनते हुए उसे किसी निष्कर्ष तक ले जाना उपन्यास की सफलता का पैमाना होता है। ‘नारी कभी न हारी’ वीना चौहान विरचित ऐसा ही ...

Read More

मूर्तिकला के एक युग का बोध

मूर्तिकला के एक युग का बोध

पुस्तक समीक्षा राजवंती मान मनुष्य प्रारम्भ से ही अपने ज्ञान-दर्शन और मान्यताओं को संरक्षित और संवाहित करने की चेष्टा करता रहा है। सभ्यता के विकास के साथ ही उसने मूर्तिकला और चित्रकला जैसी कठिन कलाएं विकसित की। सिन्धु सभ्यता के कला-नमूनों से पाटलिपुत्र की यक्षिणी तक, सांची से अजंता-एलोरा की गुफाओं ...

Read More

दलित विमर्श के अग्रदूत

दलित विमर्श के अग्रदूत

पुस्तक समीक्षा रमेश नैयर राष्ट्रीय राजनीति में दलित समाज के महत्व को रेखांकित करने में डॉ. भीमराव अंबेडकर के बाद कांशीराम का विशेष महत्व है। पंजाब के ग्रामीण क्षेत्र में राजनीति की वर्णमाला सीखने वाले कांशीराम ने राष्ट्रीय स्तर पर दलित वर्ग के जुझारू नेता के रूप में अपनी पहचान बनाई। उनको ...

Read More

विरासत से जुड़ने की अनूठी मुहिम

विरासत से जुड़ने की अनूठी मुहिम

हरियाणा सृजन यात्रा अरुण कुमार कैहरबा घुमक्कड़ी एक बेहतरीन शौक है। अनेक प्रकार की यात्राओं के जरिये यात्रियों ने समाज निर्माण व तथ्यों की खोज में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। साहित्य में यात्रा साहित्य की एक पूरी धारा है। हिन्दी साहित्य में राहुल सांकृत्यायन ने ‘घुमक्कड़ शास्त्र’ रच कर घुमक्कड़ी को प्रतिष्ठित ...

Read More

शैलेंद्र के गीतों में ज़िंदगी के फलसफे का यथार्थ

शैलेंद्र के गीतों में ज़िंदगी के फलसफे का यथार्थ

आलोक यात्री 21वीं सदी के दो दशक बीत जाने के बाद तमाम सुख-सुविधाओं से संपन्न इस दुनिया में ‘हाउस अरेस्ट’ की अवस्था में पहुंच चुके आम व्यक्ति के पास करने के लिए खास कुछ नहीं है। टीवी रिमोट और मोबाइल फोन के बटन या की-पैड भी इस एकाकीपन, ऊब, निरसता और ...

Read More


  • विरासत से जुड़ने की अनूठी मुहिम
     Posted On March - 29 - 2020
    घुमक्कड़ी एक बेहतरीन शौक है। अनेक प्रकार की यात्राओं के जरिये यात्रियों ने समाज निर्माण व तथ्यों की खोज में....
  • दलित विमर्श के अग्रदूत
     Posted On March - 29 - 2020
    राष्ट्रीय राजनीति में दलित समाज के महत्व को रेखांकित करने में डॉ. भीमराव अंबेडकर के बाद कांशीराम का विशेष महत्व....
  • मूर्तिकला के एक युग का बोध
     Posted On March - 29 - 2020
    मनुष्य प्रारम्भ से ही अपने ज्ञान-दर्शन और मान्यताओं को संरक्षित और संवाहित करने की चेष्टा करता रहा है। सभ्यता के....
  • कामकाजी महिलाओं की जिजीविषा
     Posted On March - 29 - 2020
    विद्वानों ने उपन्यास को जीवन की व्याख्या माना है। समाज की समस्याओं एवं विसंगतियों को आधार बनाकर पात्रों के माध्यम....

मुसीबत से मुनाफा

Posted On March - 16 - 2020 Comments Off on मुसीबत से मुनाफा
हर इनसान से उम्मीद होती है कि मुश्किल में फंसे व्यक्ति की मदद की जाये। मुसीबत में इनसान दूसरे इनसान के काम आये। मगर विडंबना है कि कोरोना की महामारी के भय में जी रहे लोगों को उलटे उस्तरे से मूंडने को तत्पर लोग भी हमारे समाज का हिस्सा हैं। ....

इश्क मिज़ाजी से इश्क हक़ीकी का सफर

Posted On March - 15 - 2020 Comments Off on इश्क मिज़ाजी से इश्क हक़ीकी का सफर
अंग्रेजी राज में डिप्टी कलक्टर जैसे प्रशासनिक पद पर रहे जनाब श्रीधर प्रसाद निगम ‘नाशाद’ कानपुरी के ग़ज़ल संग्रह ‘सुरूर-ए-सरमदी’ का देवनागरी में लिप्यांतरण हाल ही में प्रकाशित हुआ है। मूल रूप से यह ग़ज़ल संग्रह उर्दू में 1970 में छपा था परंतु उनके पुत्र श्याम मुरारी निगम ने इसे देवनागरी लिपि (हिंदी) में प्रकाशित किया है। ....

कुदरतपरस्त चरवाहों का अद‍्भुत संसार

Posted On March - 15 - 2020 Comments Off on कुदरतपरस्त चरवाहों का अद‍्भुत संसार
पेशे से तंत्रिका तंत्र चिकित्सक और फितरत से फाकामस्त सैलानी अजय सोडानी ने अपने हालिया यात्रा-वृत्तांत ‘इरिणा लोक’ में गुजरात स्थित कच्छ के रन की आदिम संस्कृति के कुछ अनचीन्हे पहलुओं एवं वहां के कुदरतपरस्त बाशिंदों की स्वाश्रित व स्वच्छंद दुनिया की जो विरल झांकियां प्रस्तुत की हैं, वे आश्वस्त करती हैं कि प्रकृति की गोद में बसे गंवई-गांव की बची-खुची धरोहरों की प्रासंगिकता ....

सबसे बड़ा रुपैया

Posted On March - 15 - 2020 Comments Off on सबसे बड़ा रुपैया
उस परिवार में विमुद्रीकरण ने उन कहावतों को साकार कर दिया कि ‘बेटा नम्बरी, तो बाप दस नम्बरी।’ अथवा चोर का माल चंडाल खाय, मूंजी हाथ मलता रह जाय। या पुत्र पिता न भैया, सबसे बड़ा रुपैया। नोटबंदी से पहले, कमाऊ विभाग वाले पुत्र से पिता ने दो-चार बार कहा था, ‘बेटे इन दिनों मैं आर्थिक तंगी से जूझ रहा हूं, तेरे पास तो पैसे ....

गुडमॉर्निंग आर.ए.सी.

Posted On March - 15 - 2020 Comments Off on गुडमॉर्निंग आर.ए.सी.
तीन साल हुए जब शालिनी से पहली मुलाकात हुई थी। सांवला रंग, भरा हुआ शरीर, आंखों पर गोल फ्रेम का मोटा चश्मा। जींस और टी शर्ट में वह कुछ अधिक मोटी भी लग रही थी। कर्नाटक सम्पर्क क्रांति की एस-5 बोगी की बर्थ नम्बर 23 के सहयात्री थे हम। दोनों का ही आर.ए.सी. टिकट था जो कन्फर्म नहीं हुआ था। हैदराबाद आने के बाद यह ....

आपकी राय

Posted On March - 14 - 2020 Comments Off on आपकी राय
महम कस्बे के उत्तरी छोर पर बना खेल स्टेडियम इस क्षेत्र के युवाओं का एकमात्र सहारा है। इस स्टेडियम में लगाए गए पौधे अब पेड़ बनते दिखाई दे रहे हैं। लेकिन इन पौधों पर लगाए गए ट्री-गार्ड आज तक नहीं हटाए गए हैं। ....

एकदा

Posted On March - 14 - 2020 Comments Off on एकदा
जुनैद नामक एक फकीर ने एक दिन नाई की दुकान पर जाकर नाई से कहा—खुदा के वास्ते मेरी हजामत बना दे। हजामत बना रहे आदमी को नाई ने कहा—क्षमा करना भाई, मैं खुदा का काम पहले कर लूं, बाद में मैं आपकी हजामत बनाऊंगा। सारा काम छोड़कर नाई ने फकीर की हजामत पहले बना दी। ....

रंग में पड़ी भंग करे दंग

Posted On March - 14 - 2020 Comments Off on रंग में पड़ी भंग करे दंग
होली के रंग में अगर थोड़ी-सी भंग पड़ जाए तो कहते हैं जनाब कि रंग जम जाता है, लेकिन अगर उसमें थोड़ा-सा भी भंग पड़ जाए तो सारा रंग समझो उड़ ही जाता है, वैसे ही जैसे आजकल कांग्रेस की हवाइयां उड़ी हुई हैं मध्यप्रदेश को लेकर। खैर, जहां तक भंग की बात है, यह थोड़ी सी, थोड़े से का भी फर्क है और पड़ने-पड़ने ....

विशुद्ध जुआ है बिटक्वाइन में निवेश

Posted On March - 14 - 2020 Comments Off on विशुद्ध जुआ है बिटक्वाइन में निवेश
क्रिप्टोकरेंसी से जुड़े एक मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 4 मार्च, 2020 को 180 पेजों का एक विस्तृत फैसला दिया है। इसमें रिजर्व बैंक द्वारा अप्रैल, 2018 में जारी उस आदेश को रद्द कर दिया गया, जिसमें रिजर्व बैंक के दायरे में आने वाली संस्थाओं बैंक आदि को बिटक्वाइन जैसी आभासी मुद्राओं के लेन-देन से दूर रहने की ताकीद की गयी थी। ....

कोरोना के विरुद्ध खुली सीमाओं की चुनौती

Posted On March - 14 - 2020 Comments Off on कोरोना के विरुद्ध खुली सीमाओं की चुनौती
कोरोना वायरस को लेकर सरकार की समय पर चौकसी और सरोकार सराहने योग्य है। गुरुवार को इस विषय पर संसद में हुई चर्चा से लगा कि विपक्ष भी इसे लेकर संज़ीदा है। सरकार का फोकस वायु मार्ग से आने वाले यात्रियों पर लगातार है। मगर, जो बातें उपेक्षित हुई जा रही हैं, वह है हमारी खुली सीमाएं। ....

ढेर हुए शेयर

Posted On March - 14 - 2020 Comments Off on ढेर हुए शेयर
कोरोना वायरस से आतंकित दुनिया में ठप पड़ी आर्थिक गतिविधियों से आशंकित शेयर बाजारों में गिरावट अपेक्षित थी, मगर भारतीय शेयर बाजारों में ऐसी रिकॉर्ड गिरावट आएगी, इसका अनुमान नहीं था। ऐसा नहीं है कि यह गिरावट सिर्फ भारतीय बाजारों में ही हुई, यह ट्रेंड विश्वव्यापी है। ....

एकदा

Posted On March - 13 - 2020 Comments Off on एकदा
अंतर्मन की तार्किकता राजा प्रेमवर्धन गुप्त ने एक सुंदर महल बनाया और महल के मुख्यद्वार पर एक गणित का एक सूत्र लिखवा कर घोषणा की कि जो भी सूत्र को हल करके द्वार खोलेगा, मैं उसे अपना उत्तराधिकारी घोषित कर दूंगा। राज्य के बड़े-बड़े गणितज्ञ आये और सूत्र देखकर लौट गए। आखिरी दिन तीन व्यक्ति आये और कहने लगे हम इस सूत्र को हल कर देंगे। दो व्यक्ति तो दूसरे राज्य के बड़े गणितज्ञ थे, वे अपने साथ 

फर्ज में कोताही से दरकता भरोसा

Posted On March - 13 - 2020 Comments Off on फर्ज में कोताही से दरकता भरोसा
उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हाल ही में बुरी तरह चरमराई कानून-व्यवस्था के घटनाक्रम ने हमारी राजनीतिक एवं प्रशासनिक कार्यप्रणाली में खामियों के अनेक तथ्यों को उजागर किया है। हिंसा की यह स्थिति रातोंरात नहीं बनी थी, लेकिन शाहीन बाग में चला नागरिकता संशोधन कानून आंदोलन और दिल्ली विधानसभा चुनाव में प्रचार से इसके लिए धीरे-धीरे माहौल तैयार होता गया था। ....

कभी मैला ढोया, अब पद्मश्री सम्मान

Posted On March - 13 - 2020 Comments Off on कभी मैला ढोया, अब पद्मश्री सम्मान
कथित सभ्य समाज को स्वच्छ बनाने की जद्दोजहद के बाद बहिष्कृत जीवन की टीस क्या होती है, मुलकराज आनंद का उपन्यास ‘अनटचेबल’ उसकी टीस बखूबी बयां करता है। ....

तेरी जेब पर लगी सरकारी नज़र

Posted On March - 13 - 2020 Comments Off on तेरी जेब पर लगी सरकारी नज़र
दुनिया पानी है। आनी-जानी है। गीता का सार है प्राणी, जो आज तेरा है, कल किसी और का था और कल किसी और का होगा। इसलिए शोक मत कर। सुबह कमा और शाम को खा। ....

आपकी राय

Posted On March - 13 - 2020 Comments Off on आपकी राय
ज्योतिरादित्य सिंधिया का लगभग 18 महीनों तक मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ से चले आ रहे मतभेदों व विवादों का पटाक्षेप हो गया। कमलनाथ मंत्रिमंडल से 6 कैबिनेट मंत्री सहित 22 विधायकों ने इस्तीफा दिया, यह कोई सामान्य घटनाक्रम नहीं है। ....
Manav Mangal Smart School
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.