तेल का खेल !    घर जाने के लिए सड़कों पर उतरे डेढ़ लाख प्रवासी श्रमिक !    हरियाणा में विदेश से लौटे 11 हजार लोगों में से 200 ‘गायब’ !    2 मौत, 194 नये मामले !    रेल कोच को बनाया आइसोलेशन वार्ड !    लॉकडाउन पर भारी पलायन !    कोरोना से लड़ने को टाटा ने खोला खजाना, 1500 करोड़ दिया दान !    मौजूदा ब्रेक भारतीय खिलाड़ियों के लिये अच्छा विश्राम : शास्त्री !    कृषि को लॉकडाउन से दी छूट : केंद्र !    चीन ने पाकिस्तान भेजी चिकित्सा सहायता और राहत सामग्री !    

विचार › ›

खास खबर
पंजाब के ग्राम्य-जीवन का शब्दचित्र

पंजाब के ग्राम्य-जीवन का शब्दचित्र

पुस्तक समीक्षा मोहन मैत्रेय चर्चित अवतार सिंह बिलिंग रचित उपन्यास ‘खाली कुओं की कथा’ के संबंध में कथन है कि इस कृति में पंजाब के सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक उन परिवर्तनों की प्रस्तुति है जो क्षेत्र ने देखे-झेले हैं। वास्तव में यह रचना क्षेत्र के ग्रामीण जीवन का शब्द-चित्रण है। रचना के शीर्षक का ...

Read More

विविध आयामों की कविता

विविध आयामों की कविता

पुस्तक समीक्षा शशि सिंघल कवयित्री निधि ख़ाली ध्यानी मृगतृष्णा की काव्य कृति ‘रातें सूरज सी’ जीवन के विविध आयामों को दर्शाती हल्की-फुल्की कविताओं का जखीरा है। इस काव्य कृति की लगभग बयासी कविताएं ताजा हवा के झोंकों की तरह जीवन के हर मोड़ में झांकती नजर आती हैं। इनमें प्रेम है, रिश्ता ...

Read More

कामकाजी महिलाओं की जिजीविषा

कामकाजी महिलाओं की जिजीविषा

पुस्तक समीक्षा सुशील कुमार फुल्ल विद्वानों ने उपन्यास को जीवन की व्याख्या माना है। समाज की समस्याओं एवं विसंगतियों को आधार बनाकर पात्रों के माध्यम से कथावस्तु को बुनते हुए उसे किसी निष्कर्ष तक ले जाना उपन्यास की सफलता का पैमाना होता है। ‘नारी कभी न हारी’ वीना चौहान विरचित ऐसा ही ...

Read More

मूर्तिकला के एक युग का बोध

मूर्तिकला के एक युग का बोध

पुस्तक समीक्षा राजवंती मान मनुष्य प्रारम्भ से ही अपने ज्ञान-दर्शन और मान्यताओं को संरक्षित और संवाहित करने की चेष्टा करता रहा है। सभ्यता के विकास के साथ ही उसने मूर्तिकला और चित्रकला जैसी कठिन कलाएं विकसित की। सिन्धु सभ्यता के कला-नमूनों से पाटलिपुत्र की यक्षिणी तक, सांची से अजंता-एलोरा की गुफाओं ...

Read More

दलित विमर्श के अग्रदूत

दलित विमर्श के अग्रदूत

पुस्तक समीक्षा रमेश नैयर राष्ट्रीय राजनीति में दलित समाज के महत्व को रेखांकित करने में डॉ. भीमराव अंबेडकर के बाद कांशीराम का विशेष महत्व है। पंजाब के ग्रामीण क्षेत्र में राजनीति की वर्णमाला सीखने वाले कांशीराम ने राष्ट्रीय स्तर पर दलित वर्ग के जुझारू नेता के रूप में अपनी पहचान बनाई। उनको ...

Read More

विरासत से जुड़ने की अनूठी मुहिम

विरासत से जुड़ने की अनूठी मुहिम

हरियाणा सृजन यात्रा अरुण कुमार कैहरबा घुमक्कड़ी एक बेहतरीन शौक है। अनेक प्रकार की यात्राओं के जरिये यात्रियों ने समाज निर्माण व तथ्यों की खोज में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। साहित्य में यात्रा साहित्य की एक पूरी धारा है। हिन्दी साहित्य में राहुल सांकृत्यायन ने ‘घुमक्कड़ शास्त्र’ रच कर घुमक्कड़ी को प्रतिष्ठित ...

Read More

शैलेंद्र के गीतों में ज़िंदगी के फलसफे का यथार्थ

शैलेंद्र के गीतों में ज़िंदगी के फलसफे का यथार्थ

आलोक यात्री 21वीं सदी के दो दशक बीत जाने के बाद तमाम सुख-सुविधाओं से संपन्न इस दुनिया में ‘हाउस अरेस्ट’ की अवस्था में पहुंच चुके आम व्यक्ति के पास करने के लिए खास कुछ नहीं है। टीवी रिमोट और मोबाइल फोन के बटन या की-पैड भी इस एकाकीपन, ऊब, निरसता और ...

Read More


  • विरासत से जुड़ने की अनूठी मुहिम
     Posted On March - 29 - 2020
    घुमक्कड़ी एक बेहतरीन शौक है। अनेक प्रकार की यात्राओं के जरिये यात्रियों ने समाज निर्माण व तथ्यों की खोज में....
  • दलित विमर्श के अग्रदूत
     Posted On March - 29 - 2020
    राष्ट्रीय राजनीति में दलित समाज के महत्व को रेखांकित करने में डॉ. भीमराव अंबेडकर के बाद कांशीराम का विशेष महत्व....
  • मूर्तिकला के एक युग का बोध
     Posted On March - 29 - 2020
    मनुष्य प्रारम्भ से ही अपने ज्ञान-दर्शन और मान्यताओं को संरक्षित और संवाहित करने की चेष्टा करता रहा है। सभ्यता के....
  • कामकाजी महिलाओं की जिजीविषा
     Posted On March - 29 - 2020
    विद्वानों ने उपन्यास को जीवन की व्याख्या माना है। समाज की समस्याओं एवं विसंगतियों को आधार बनाकर पात्रों के माध्यम....

आपकी राय

Posted On March - 18 - 2020 Comments Off on आपकी राय
16 मार्च के संपादकीय, ‘मुसीबत से मुनाफा’ में दैनिक ट्रिब्यून ने उचित आकलन किया है कि समाज व सरकार के तमाम विभाग मिलकर ही इस वायरस को महामारी बनने से रोक सकते हैं। ....

कोरोना के करंट से बैठा जाये दिल

Posted On March - 18 - 2020 Comments Off on कोरोना के करंट से बैठा जाये दिल
आखिर वही हुआ न जिसका ‘डर’ था! कोरोना वायरस के कहर ने दलाल पथ पर बमचक मचा ही दी। लुढ़क-लुढ़ककर सेंसेक्स ने निवेशकों के करोड़ों रुपये स्वाहा कर दिए। वैसे, अपना सेंसेक्स ठीक-ठाक ही चल रहा था। बीच-बीच में जरा-बहुत झटके आ जाते थे तो खुद को संभाल लेता था। लेकिन कोरोना का करंट तो एक ही दिन में विकट झटका दे गया। ....

घर का आंगन सूना है उसके बिना

Posted On March - 18 - 2020 Comments Off on घर का आंगन सूना है उसके बिना
मानवीय जीवन की करीबी गौरैया अपने अस्तित्व के संकट से जूझ रही है। हमारी बदलती जीवनशैली से उनके रहने की जगह नष्ट हो गई है, जिसने गौरैया को हमसे दूर करने में अहम भूमिका निभाई है। ....

लोकपाल : सौ दिन चले अढ़ाई कोस

Posted On March - 18 - 2020 Comments Off on लोकपाल : सौ दिन चले अढ़ाई कोस
लोकपाल बनाना भारत की सिविल सोसायटी के लिए एक बड़ी उपलब्धि माना गया था। सत्ता में कोई भी दल रहा हो, लेकिन शायद ही किसी अन्य संस्था को अपने गठन की राह में राजनीतिक प्रतिष्ठानों की ओर से इतनी कड़ी रुकावटों का सामना करना पड़ा होगा, जितना लोकपाल पद सर्जन करने के दौरान हुआ है। ....

कानूनी आधार का प्रश्न

Posted On March - 18 - 2020 Comments Off on कानूनी आधार का प्रश्न
बीते दिसंबर में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हुई हिंसा व आगजनी में शामिल लोगों के फोटो व पते वाले होर्डिंग्स चौराहों पर लगाने का विवाद इलाहाबाद हाईकोर्ट होता हुआ सुप्रीम कोर्ट तक जा पहुंचा है। ....

एकदा

Posted On March - 17 - 2020 Comments Off on एकदा
एक दिन मोहम्मद साहब के पास एक हट्टा-कट्टा मगर भूख से व्याकुल व फटेहाल भिखारी आया। उसने मोहम्मद साहब से कुछ दान देने की गुजारिश की। पहले तो मोहम्मद साहब को उस पर क्रोध आया। वह सोचने लगे इतना हट्टा-कट्टा है फिर भी भीख मांगकर पेट भरने में विश्वास रखता है जो कि गलत है। भीख अच्छे-खासे इंसान को पंगु बना देती है। ....

बाज़ार की तिकड़मों से बेजार आदमी

Posted On March - 17 - 2020 Comments Off on बाज़ार की तिकड़मों से बेजार आदमी
हरियाणा की सुपर बैट्समैन शेफाली वर्मा ने खेल के मैदान में शानदार प्रदर्शन किया है। उनके खेल की बदौलत पेप्सी ने उन्हें अपना ब्रांड एंबेसडर बनाया है। पेप्सी की बदौलत ही परफारमेंस और क्रिकेट की परफारमेंस आ रही होती, तो पेप्सी बेचने वाले डीलरों के बच्चे सुपर क्रिकेटिंग स्टार होते। पेप्सी से ही टाप क्रिकेटर बन रहे होते। ....

जनसंख्या नियंत्रण पर बढ़ती सहमति

Posted On March - 17 - 2020 Comments Off on जनसंख्या नियंत्रण पर बढ़ती सहमति
ऐसा लगता है कि विपक्ष धीरे-धीरे केन्द्र सरकार पर ‘दो संतान’ की नीति अपनाने के लिये दबाव डालने की रणनीति पर काम कर रहा है। इसका संकेत शिव सेना के सासंद द्वारा राज्यसभा में दो संतान की नीति बनाने के लिये निजी विधेयक पेश किये जाने के बाद कांग्रेस के सांसद और विधिवेत्ता डॉ. अभिषेक मनु सिंघवी की इस दिशा में पहल से मिलता है। ....

आपकी राय

Posted On March - 17 - 2020 Comments Off on आपकी राय
हाल ही में महाराष्ट्र में मुस्लिम समुदाय को आरक्षण देने की बात चली। इससे पहले भी आंध्र प्रदेश और उतर प्रदेश की सरकारों ने आरक्षण दिलवाने का प्रयास किया, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इस पर रोक लगा दी। कोर्ट ने कहा कि धार्मिक आधार पर आरक्षण नहीं दिया जा सकता। यदि संपूर्ण मुस्लिम समुदाय को आरक्षण देना संवैधानिक न हो तो ....

पहाड़ी राज्यों का विकास सेवा क्षेत्र में संभव

Posted On March - 17 - 2020 Comments Off on पहाड़ी राज्यों का विकास सेवा क्षेत्र में संभव
अर्थव्यवस्था के तीन प्रमुख क्षेत्र होते हैं : कृषि, मैन्युफैक्चरिंग एवं सेवा। मैन्युफैक्चरिंग में कागज़, सीमेंट, कार इत्यादि का उत्पादन आता है जो कि भौतिक वस्तुएं हैं। सेवा क्षेत्र में होटल, संगीत, यातायात, स्वास्थ्य सेवाएं, शिक्षा, बैंक आदि आते हैं, जिनमें किसी माल का उत्पादन नहीं होता लेकिन उपभोक्ता किसी सेवा की खपत करता है। ....

अलगाव में बचाव

Posted On March - 17 - 2020 Comments Off on अलगाव में बचाव
भारत जैसे सघन व बड़ी आबादी वाले देश में सीमित संसाधनों के चलते कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने में सामाजिक अलगाव ही प्रभावी उपाय नजर आता है। यहां तक कि दुनिया में सबसे बड़ी आबादी वाला देश और कोरोना वायरस के स्रोत चीन ने सख्ती से इस नीति का पालन किया और उसके नतीजे सामने आये। ....

जन संसद

Posted On March - 16 - 2020 Comments Off on जन संसद
हरियाणा की भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार का पहला बजट कृषि, शिक्षा, स्वास्थ्य को प्राथमिकता देने वाला है। निःसंदेह दिल्ली विधानसभा चुनावों में आम आदमी पार्टी की जीत ने इन मुद्दों में अहम भूमिका निभाई तथा दिल्ली विधानसभा चुनाव परिणाम का असर इस बजट पर दिखाई देता है। ....

एकदा

Posted On March - 16 - 2020 Comments Off on एकदा
एंड्रयू कार्नेगी अमेरिका में स्टील बनाने वाली कंपनी के मालिक थे। एक दिन उनके पास एक व्यक्ति आया और उनसे पूछा कि आप लोगों से किस तरह से पेश आते हैं? एंड्रयू कार्नेगी ने जवाब दिया कि लोगों से पेश आना सोने की खुदाई करने के तरीके जैसा ही है। ....

दिल मिले के अपने

Posted On March - 16 - 2020 Comments Off on दिल मिले के अपने
हां बात सिर्फ़ अपनों की। जो मेरे अपने हैं... अब आप कहेंगे ये अपने कहीं आपके रिश्तेदार तो नहीं? रिश्तेदार कहें तो रिश्ता मेरा उन सभी से है, जिन्हें दिल मानता है अपना। किसी भी रिश्ते पर बात करने से पहले मैं बात करूंगी मेरे पिता की। मैं अपने माता-पिता, भाई बहनों के साथ एक खूबसूरत शहर पिलानी में रहती थी। ....

आत्म-मूल्यांकन में उत्कृष्ट अंकन से सफलता

Posted On March - 16 - 2020 Comments Off on आत्म-मूल्यांकन में उत्कृष्ट अंकन से सफलता
हर सफल व्यक्ति को देखकर जीवन में असफलता का मुंह देखने वाला व्यक्ति स्वयं को कमजोर, अक्षम व कुछ-कुछ अयोग्य तथा अपात्र भी आंकने लगता है। उसे लगता है कि प्रारब्ध ने; ईश्वर ने; परिस्थितियों ने और माहौल ने उसे कमजोर ही पैदा किया है। ....

खोये सांस्कृतिक उजालों की तलाश

Posted On March - 16 - 2020 Comments Off on खोये सांस्कृतिक उजालों की तलाश
भारतीय संस्कृति पर गर्व करने वालों की आज भी कमी नहीं। इसे स्वीकार करके इससे प्राप्त आदर्शों, मूल्यों और सिद्धांतों को अंगीकार करने के संदेश देने वाले आज भी देश के मार्गदर्शक और मनीषी कहलाते हैं। आज भी राष्ट्र की एक सौ पैंतीस करोड़ जनता भारत के नवनिर्माण का संकल्प हर पल दुहराती है। ....
Manav Mangal Smart School
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.