सिल्वर स्क्रीन !    हेलो हाॅलीवुड !    साहित्यिक सिनेमा से मोहभंग !    एक्यूट इंसेफेलाइिटस सिंड्रोम से बच्चों को बचाएं !    चैनल चर्चा !    बेदम न कर दे दमा !    दिल को दुरुस्त रखेंगे ये योग !    कंट्रोवर्सी !    दुबला पतला रहना पसंद !    हिंदी फीचर फिल्म : फर्ज़ !    

विचार › ›

खास खबर
बड़ी छतरी तले दीर्घकालीन सुरक्षा

बड़ी छतरी तले दीर्घकालीन सुरक्षा

आलोक पुराणिक निवेश का माहौल इन दिनों तरह-तरह की अनिश्चितताओं से भरा हुआ है। किसी न किसी वजह से शेयर बाजारों में विकट उथलपुथल है। चीन-अमेरिका का व्यापार युद्ध नये आयाम ले रहा है। ग्लोबल बाजार में तरह-तरह के नकारात्मक समाचार तैर रहे हैं। चीन मंदी की ओर है। भारत में ...

Read More

नेतृत्व की विकल्पहीनता से जूझती कांग्रेस

नेतृत्व की विकल्पहीनता से जूझती कांग्रेस

शायद यह कांग्रेस के इतिहास में पहली बार हुआ होगा कि कांग्रेस कार्यकारिणी समिति की बैठक सवेरे से आधी रात के बाद तक चलती रही हो और परिणाम के नाम पर ढाक के तीन पात वाली बात ही सिद्ध हो। राहुल गांधी का पार्टी के अध्यक्ष पद से हटने के ...

Read More

सुनहरे सफ़र की गगनभेदी सफलताएं

सुनहरे सफ़र की गगनभेदी सफलताएं

इसरो के 50 साल शशांक द्विवेदी इस बार का स्वतंत्रता दिवस कई मायनों में खास है क्योंकि इसरो इस बार अपनी स्थापना के 50 साल पूरे कर रहा है। 15 अगस्त 1969 को ही भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की स्थापना हुई थी। इन 50 सालों में इसरो ने कई उतार-चढ़ाव ...

Read More

समग्र विकास में बाधक विषमता की खाई

समग्र विकास में बाधक विषमता की खाई

दरअसल राजकुमार सिंह आज भारत 73वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। पराधीनता से स्वाधीनता हासिल करने का दिन हर्षोल्लास से मनाया ही जाना चाहिए। बेशक आजादी का वास्तविक अर्थ और महत्व वही समझ सकता है, जिसने गुलामी का दंश झेला हो। आजाद भारत का सफर भी कम शानदार नहीं रहा है। आखिर ...

Read More

आजादी की जिम्मेदारी

आजादी की जिम्मेदारी

जवाबदेही से ही समृद्ध लोकतांत्रिक विरासत ‘स्वतंत्रता’ शब्द मात्र शाब्दिक बोध मात्र नहीं है, इस शब्द के गहरे निहितार्थ हैं। संघर्ष, बलिदान व त्याग की सदियों से चली अकथ कहानियों का मर्म निहित है स्वतंत्रता दिवस में। तमाम ज्ञात व अज्ञात स्वतंत्रता सेनानियों ने इस दिन के लिये जो यातनाएं सही, ...

Read More

समस्या का स्थायी समाधान तलाशें

समस्या का स्थायी समाधान तलाशें

रोहित कौशिक इस समय देश के अनेक हिस्से बाढ़ से जूझ रहे हैं। महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक और गुजरात में स्थिति भयावह है। मध्य प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार और असम में भी बाढ़ ने कहर बरपाया है। विभिन्न सूत्रों से बाढ़ प्रभावित लोगों के भिन्न-भिन्न आंकड़े आ रहे हैं। हालांकि बाढ़ से प्रभावित ...

Read More

युद्ध की आर्थिकी नहीं झेल पाएगा पाक

युद्ध की आर्थिकी नहीं झेल पाएगा पाक

हाल ही में 11 अगस्त को पाकिस्तान ब्यूरो ऑफ स्टैटिस्टिक्स द्वारा जारी महंगाई के आंकड़ों के अनुसार पाकिस्तान में महंगाई छलांगें लगाकर बढ़ रही है। जुलाई 2019 में पाकिस्तान में महंगाई दर 10.34 फीसदी रही जो कि पिछले साल जुलाई 2018 में 5.86 फीसदी थी। पुलवामा आतंकी हमले के बाद ...

Read More


  • नेतृत्व की विकल्पहीनता से जूझती कांग्रेस
     Posted On August - 17 - 2019
    शायद यह कांग्रेस के इतिहास में पहली बार हुआ होगा कि कांग्रेस कार्यकारिणी समिति की बैठक सवेरे से आधी रात....
  •  Posted On August - 17 - 2019
    12 अगस्त के दैनिक ट्रिब्यून में ‘कामकाजी संस्कृति में जगह तलाशती औरत’ लेख में सुरेश सेठ ने यह बताने की....
  • बड़ी छतरी तले दीर्घकालीन सुरक्षा
     Posted On August - 17 - 2019
    निवेश का माहौल इन दिनों तरह-तरह की अनिश्चितताओं से भरा हुआ है। किसी न किसी वजह से शेयर बाजारों में....
  •  Posted On August - 17 - 2019
    लगता है जी कि देश की खुशी को किसी की नजर लग गयी है। कुछ लोगों को लगता है कि....

एकदा

Posted On August - 10 - 2019 Comments Off on एकदा
एक बार शिष्यों ने गुरु से प्रश्न किया कि प्रकृति देवतुल्य कैसे है? प्रश्न सुनकर गुरु बोले-हम सूर्य, चंद्रमा, नदी तथा वृक्षों में देवता के दर्शन इसलिए करते हैं क्योंकि इन सभी का स्वभाव प्राणी मात्र को हमेशा देना ही होता है और जो कभी भी लेने की इच्छा नहीं रखता वह देवता की श्रेणी में ही आता है। इसलिए सूर्य, चंद्रमा, नदी तथा वृक्षों ....

आपकी राय

Posted On August - 10 - 2019 Comments Off on आपकी राय
जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35 ए के हटने की बात करें तो यह काफी बड़ी उपलब्धि है। इस अनुच्छेद के हटने के बाद सारा देश एकता के सूत्र में बंध गया है। साथ ही केंद्र सरकार की तरफ से दी जाने वाली सुविधाएं ही नहीं, बल्कि संवैधानिक कार्यप्रणाली के तौर पर भी अब जम्मू-कश्मीर पूरी तरह भारत में है। लोगों के लिए वहां जाकर ....

धरती के स्वर्ग में प्लॉट की आस

Posted On August - 10 - 2019 Comments Off on धरती के स्वर्ग में प्लॉट की आस
अपनी जेब टटोल लीजिए जनाब। आपको कश्मीर में एक प्लॉट जुगाड़ऩा है। देश में जो माहौल है, उससे तो ऐसा ही लग रहा है कि धारा 370 इसीलिए हटी है कि आप कश्मीर में एक प्लॉट का जुगाड़ बिठा लें। तो जनाब जब देश में सत्तर साल बाद ऐसे अच्छे दिन आ गए हैं तो फिर उन फुकरों की क्या बात करनी, जो कश्मीरी लड़कियों ....

बाघ बचाने की एक कामयाब पहल

Posted On August - 10 - 2019 Comments Off on बाघ बचाने की एक कामयाब पहल
प्राणी जगत में बिल्ली प्रजाति के जंतुओं में सबसे करिश्माई नस्ल की उपाधि ‘चार बड़ी बिल्लियों’ ने अर्जित की है, जिनमें सिंह, बाघ, तेंदुआ और चीता आते हैं। किसी एक देश में यह चारों एक ही कालखंड में शायद ही कभी मौजूद थे। अपनी उत्पत्ति के मूल स्थान पर जैसे-जैसे इनकी संख्या बढ़ती गई और वहां उपलब्ध शिकार का हिस्सा कम पड़ता गया, वैसे-वैसे ये ....

जनतांत्रिक मर्यादाएं न भूलें हर्षोन्माद में

Posted On August - 10 - 2019 Comments Off on जनतांत्रिक मर्यादाएं न भूलें हर्षोन्माद में
यह महज़ संयोग हो सकता है कि जिस दिन संसद में धारा 370 को निरस्त करने का प्रस्ताव पारित हुआ, उसी दिन शाम को स्वाधीनता दिवस के उपलक्ष्य में संसद भवन पर की गयी रोशनी की जगमगाहट भी प्रारंभ हुई। निस्संदेह इस जगमगाहट में वह खुशी झलक रही थी, जो विवादग्रस्त धारा 370 की समाप्ति का स्वाभाविक परिणाम थी। ....

सर्जरी के बाद मरहम

Posted On August - 10 - 2019 Comments Off on सर्जरी के बाद मरहम
संसद में जम्मू-कश्मीर से धारा 370 को हटाने और राज्य पुनर्गठन विधेयक पारित होने के बाद से ही तय माना जा रहा था कि प्रधानमंत्री देशवासियों, खासकर जम्मू-कश्मीर व लद्दाख के लोगों से मन की बात कहेंगे। उन्हें इस बात का गहरे तक अहसास था कि सात दशक तक कश्मीर की सत्ता पर काबिज नेताओं तथा विशेष दर्जे से लाभान्वित लोग जरूर जनमानस को बरगलाने ....

आपकी राय

Posted On August - 9 - 2019 Comments Off on आपकी राय
हरियाणा ही नहीं, समस्त भारत एवं विदेशों में भी लोग सुषमा स्वराज के अकस्मात निधन से स्तब्ध हैं। विश्वास ही नहीं हो पा रहा कि वह अब इस दुनिया में नहीं रहीं, परन्तु ईश्वर की नियति के आगे सबको नतमस्तक होना पड़ता है। ....

एकदा

Posted On August - 9 - 2019 Comments Off on एकदा
राजा महापिंगल अपने बुरे स्वभाव के लिए अपनी रानियों, कर्मचारियों और प्रजा के बीच बहुत ही कुख्यात था। कुछ समय बाद वृद्ध हो चले राजा का निधन हो गया और युवराज ने राज्य की कमान संभाली। नगर का हर प्राणी प्रसन्न था कि एक पापी का अंत हो गया और युवराज के रूप में एक धर्मपरायण और कर्मशील राजा मिला है। ....

बीमारी के सिवाय भी दर्द जमाने के

Posted On August - 9 - 2019 Comments Off on बीमारी के सिवाय भी दर्द जमाने के
बीमार तो मैं भी हुआ था, वह भी घनघोर रूप से। सरकारी अस्पताल में दिखाया तो डॉक्टर ने कमीशन के कैप्सूल दिये, जिससे मेरे स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा और हारकर मुझे एक प्राइवेट अस्पताल की शरण में जाना पड़ा। वहां का डॉक्टर बहुत भला था, डेढ़ इंच मुस्कान उसके होंठों पर स्थायी रूप से चिपकी हुई थी। उसकी उसी मुस्कान से मेरा आर्थिक कत्ल ....

एक ही तकरीर में नामदार हुए नामग्याल

Posted On August - 9 - 2019 Comments Off on एक ही तकरीर में नामदार हुए नामग्याल
देशकाल-परिस्थिति में अनुकूल प्रतिभा का उभार व्यक्ति को रातोंरात कैसे सुर्खियों का सरताज बना देता है, इसकी मिसाल हैं लद्दाख के युवा सांसद जामयांग सेरिंग नामग्याल। ....

मोदी के कश्मीर दांव से चित पाक

Posted On August - 9 - 2019 Comments Off on मोदी के कश्मीर दांव से चित पाक
पाकिस्तान सरकार इस समय पूरे दबाव में है। अनुच्छेद 370 निरस्त करने और जम्मू-कश्मीर, लदाख को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बदलने की कल्पना पाकिस्तान ने नहीं की थी। इसे सूंघने में पाक इंटेलीजेंस पूरी तरह से विफल रहा है। ....

पाकिस्तान की बौखलाहट

Posted On August - 9 - 2019 Comments Off on पाकिस्तान की बौखलाहट
भारत द्वारा जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटाने और दो केंद्र शासित प्रदेश बनाये जाने से पाकिस्तान को काठ मार गया लगता है। दरअसल, घटनाक्रम इतना गोपनीय रहा कि उसकी खुफिया एजेंसियों तक को भनक नहीं लगी। दशकों से जनता को कश्मीर मुद्दे पर उद्वेलित करने के कारण पाक हुक्मरानों व सेना पर लोगों का भारी दबाव है। ....

आपकी राय

Posted On August - 8 - 2019 Comments Off on आपकी राय
5 अगस्त के दैनिक ट्रिब्यून का संपादकीय ‘अर्थव्यवस्था की फिसलन’ भारतीय अर्थव्यवस्था को मंदी द्वारा घेरे जाने का संकेत देने वाला था। विश्व बैंक द्वारा अपने मूल्यांकन में भारतीय अर्थव्यवस्था को छठे के बदले सातवें स्थान पर आने की बात को सरकार को गंभीरता से लेना चाहिए। भारतीय अर्थव्यवस्था में एनपीए के कारण बैंकों की स्थिति अच्छी नहीं है। विदेशी निवेश में भी कमी आई ....

एकदा

Posted On August - 8 - 2019 Comments Off on एकदा
एक अस्पताल के कमरे में दो बुजुर्ग भर्ती थे। एक उठकर बैठ सकता था परंतु दूसरा उठ नहीं सकता था। जो उठ सकता था, उसके पास एक खिड़की थी। वह दूसरे बुजुर्ग जो उठ नहीं सकता, को बाहर के दृश्य का वर्णन करता। दूसरा बुजुर्ग आंखें बन्द करके अपने बिस्तर पर पड़ा उन दृश्यों का आनन्द लेता रहता। ....

अब धारा नहीं बहेगी

Posted On August - 8 - 2019 Comments Off on अब धारा नहीं बहेगी
कुछ खबरें हैं जो हवा में तैर जाती हैं और पल भर में जन-जन तक पहुंचती हैं। जम्मू-कश्मीर में पिछले कुछ दिनों से जो तैयारी चल रही थी, वह जमीं से लेकर हवाओं तक में कई तरह के सवाल-संदेह और अटकलें पैदा कर रही थी। हर जुबान पर था कि कुछ होने जा रहा है। आखिर में इतना बड़ा हुआ जो कइयों का कद छोटा ....

अदालती फैसले अब जनता की भाषा में

Posted On August - 8 - 2019 Comments Off on अदालती फैसले अब जनता की भाषा में
सर्वोच्च न्यायालय ने जुलाई 2019 में एक ऐतिहासिक कार्य किया। सर्वोच्च न्यायालय की वेबसाइट पर अब निर्णय 9 भारतीय भाषाओं में उपलब्ध हैं। 1950 से 2019 तक, अर्थात लगभग 70 वर्षों तक, सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय केवल एक ही भाषा में जनता को उपलब्ध थे और वह भी अंग्रेजी में। इस ऐतिहासिक कदम ने सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दिए गए सभी निर्णयों को आम जनता तक ....
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.