4 करोड़ की लागत से 16 जगह लगेंगे सीसीटीवी कैमरे !    इमीग्रेशन कंपनी में मिला महिला संचालक का शव !    हरियाणा में आर्गेनिक खेती की तैयारी, किसानों को देंगे प्रशिक्षण !    हरियाणा पुलिस में जल्द होगी जवानों की भर्ती : विज !    ट्रैवल एजेंट को 2 साल की कैद !    मनाली में होमगार्ड जवान पर कातिलाना हमला !    अंतरराज्यीय चोर गिरोह का सदस्य काबू !    एक दोषी की पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई 17 को !    रूस के एकमात्र विमानवाहक पोत में आग !    पूर्वोत्तर के हिंसक प्रदर्शनों पर लोकसभा में हंगामा !    

विचार › ›

खास खबर
कसक जो बन गई सफलता की प्रेरणा

कसक जो बन गई सफलता की प्रेरणा

अरुण नैथानी बालमन में यह गहरी टीस थी कि क्यों मेरे पिता जज साहब की जी-हजूरी में दिनभर हाजिरी भरते हैं। हमारे सर्वेंट क्वार्टर में गरीबी का डेरा क्यों है? जज साहब के घर आने-जाने वाली वीआईपी बिरादरी की रौनक क्यों रहती है? क्या चपरासी होना अभिशाप है? जज साहब की ...

Read More

कर्नाटक के उपचुनाव नतीजों से उठे सवाल

कर्नाटक के उपचुनाव नतीजों से उठे सवाल

कर्नाटक में हुए 15 विधानसभा उपचुनावों में से 12 में सत्तारूढ़ भाजपा की जीत का निष्कर्ष यही निकाला गया है कि किसी तरह सदन में बहुमत का जुगाड़ कर बनायी और बचायी गयी बीएस येदियुरप्पा सरकार अब निष्कंटक चल पायेगी, पर इसके दूरगामी संकेत बहुत गहरे हैं, जो कुछ गंभीर ...

Read More

हादसों से निपटने का नजरिया बदलें

हादसों से निपटने का नजरिया बदलें

अवधेश कुमार अग्निशमन एवं आपदा प्रबंधन की उच्चतम व्यवस्था के रहते हुए यदि राजधानी दिल्ली के अग्निकांड में लोगों की जिन्दगी बचाना संभव न हुआ तो समझा जा सकता है कि स्थिति कितनी भयावह रही होगी। जिन लोगों ने अनाज मंडी के उस दुर्भाग्यशाली स्थान को देखा है, वे बता सकते ...

Read More

खुदकुशी समाज की साझी विफलता का प्रतीक

खुदकुशी समाज की साझी विफलता का प्रतीक

जैसे ही मुझे फातिमा लतीफ द्वारा खुदकुशी करने की खबर लगी, मुझे लगा मानो मेरा अपना शरीर जख्मी हुआ है। चूंकि बतौर एक अध्यापक मैं उस लड़की जैसे अंतर्मन वाले हजारों विद्यार्थियों से बावस्ता रहा हूं, इसलिए मुझे इस घटना से एक संभावना का आसामयिक दुखद अंत होने जैसा महसूस ...

Read More

मानसिक रोगों का बढ़ता दायरा चिंताजनक

मानसिक रोगों का बढ़ता दायरा चिंताजनक

अनूप भटनागर हैदराबाद, उन्नाव और त्रिपुरा में युवतियों से सामूहिक बलात्कार के बाद उन्हें जिन्दा जलाकर मार डालने की घटनाओं को लेकर समूचा देश उद्वेलित है। हैदराबाद कांड के आरोपियों के पुलिस मुठभेड़ में मारे जाने के बाद लोगों में खुशी, उन्नाव कांड के आरोपियों को सरेआम फांसी देने की मांग ...

Read More

बढ़ती क्रय शक्ति दूर करेगी आर्थिक सुस्ती

बढ़ती क्रय शक्ति दूर करेगी आर्थिक सुस्ती

सरकार के सभी प्रयासों के बावजूद अर्थव्यवस्था की विकास दर लगातार गिरती ही जा रही है। विकास दर गिरने का मूल कारण यह है कि बाजार में मांग नहीं है। यदि बाजार में मांग होती है तो उद्यमी येन केन प्रकारेण पूंजी एकत्रित कर फैक्टरी लगाकर माल बनाकर उसे बेच ...

Read More

कैसे मिले स्वच्छ पेयजल

कैसे मिले स्वच्छ पेयजल

जन संसद सचेत रहें देश के अनेक इलाकों का जल संकट यदि एक ओर समाज की तकलीफों का प्रतिबिम्ब है तो दूसरी ओर सरकारी प्रयासों की दिशा एवं दशा की हकीकत को बयान करता है। समाज के लिए आंकड़ों के स्थान पर हकीकत का महत्व अधिक है। आंकड़े बताते हैं कि धरती ...

Read More


  • कर्नाटक के उपचुनाव नतीजों से उठे सवाल
     Posted On December - 13 - 2019
    कर्नाटक में हुए 15 विधानसभा उपचुनावों में से 12 में सत्तारूढ़ भाजपा की जीत का निष्कर्ष यही निकाला गया है....
  •  Posted On December - 13 - 2019
    11 दिसंबर के दैनिक ट्रिब्यून का संपादकीय ‘जानलेवा आबोहवा’ सीमा को पार करते हुए विनाशकारी वायु प्रदूषण को लेकर चेतावनी....
  • कसक जो बन गई सफलता की प्रेरणा
     Posted On December - 13 - 2019
    बालमन में यह गहरी टीस थी कि क्यों मेरे पिता जज साहब की जी-हजूरी में दिनभर हाजिरी भरते हैं। हमारे....
  •  Posted On December - 13 - 2019
    इस खबर ने चौंकाया भी और सोचने पर विवश भी किया कि जल्लाद नहीं होने से फांसी की सजा पर....

चीनी सत्ता के खिलाफ बुलंद होते सुर

Posted On December - 7 - 2019 Comments Off on चीनी सत्ता के खिलाफ बुलंद होते सुर
हालांकि हांगकांग स्पेशल एडमिनिस्ट्रेटिव रीजन (एचकेएसएआर) की प्रशासनिक व्यवस्था में हाल ही में 18 जिला परिषदों की 452 सीटों का लोकतांत्रिक महत्व इस द्वीप के प्रशासनिक ढांचे में सबसे निचले पायदान पर है। इनको मिली शक्तियां भी अत्यंत सीमित हैं, फिर भी 24 नवम्बर को 452 जिला परिषदों के चुनाव परिणामों को काफी महत्वपूर्ण दृष्टि से देखा जा रहा है। ....

पुलिसिया न्याय

Posted On December - 7 - 2019 Comments Off on पुलिसिया न्याय
हैदराबाद में युवा महिला चिकित्सक के साथ सामूहिक दुराचार और जलाकर नृशंस हत्या करने के आरोपियों के पुलिस एनकांउटर में मारे जाने की घटना ने देश को उद्वेलित किया है। जहां कुछ लोग अपराध की गंभीरता को देखते हुए पुलिस की कार्रवाई को जायज ठहरा रहे हैं, वहीं कुछ लोग इसे अपराध के बदले अपराध की संज्ञा दे रहे हैं। ....

एकदा

Posted On December - 6 - 2019 Comments Off on एकदा
एक आलिम ने एक बुढ़िया को चरख़ा चलाते देखा तो पूछा-मां सारी उम्र चरख़ा ही चलाती रही या खुदा को भी पहचाना। बुढ़िया ने जवाब दिया-बेटा सब कुछ इसी चरख़े में ही देख लिया। आलिम ने पूछा-अच्छा मां ये तो बताओ ख़ुदा मौजूद है कि नहीं? उसने कहा-हां, ख़ुदा दिन-रात हर वक़्त मौजूद है। इसकी दलील क्या है? आलिम ने पूछा-बुढ़िया ने कहा ....

ढलती उम्र में पुरस्कार की कसक

Posted On December - 6 - 2019 Comments Off on ढलती उम्र में पुरस्कार की कसक
हमारे यहां पुरस्कारों का भविष्य अत्यन्त उज्ज्वल है। पुरस्कारों को लेने के लिए कोई मना नहीं करता। बस देने वाला चाहिए-लेने वाले कतार लगाये खड़े हैं। सही भी है, काम करेगा तो प्रोत्साहन भी चाहेगा। जरा-सा काम किया और ला पुरस्कार! स्थिति यह हो गयी है कि पुरस्कार कम पड़ गये हैं तथा लेने वाले ज्यादा हो गये हैं। अब तो लगने यह भी लगा ....

चांद के आर-पार पारखी नजर

Posted On December - 6 - 2019 Comments Off on चांद के आर-पार पारखी नजर
किसी लक्ष्य को पाने में जुनून किस हद तक कामयाबी दे सकता है, भारत के एक अनाम युवक के रातों-रात हीरो बनने में उसकी बानगी नजर आती है। भारत के महत्वाकांक्षी चंद्रयान मिशन-2 के हाथों अंतिम क्षणों में फिसली सफलता ने हर भारतीय को व्यथित किया। मगर चेन्नई के शनमुग सुब्रह्मण्यम ने क्रैश हुए विक्रम लैंडर के मलबे को तलाशने का बीड़ा उठाया। ....

आपकी राय

Posted On December - 6 - 2019 Comments Off on आपकी राय
प्राकृतिक संसाधनों का दोहन मनुष्य अपने लालच के वशीभूत अधिक से अधिक कर रहा है। परिणामस्वरूप प्रकृति कभी तूफान, कभी अतिवृष्टि, कभी सुनामी, कभी मौसम असंतुलित करके बार-बार चेतावनी दे रही है। वहीं सभी देशों के राष्ट्राध्यक्षों द्वारा असंतुलन को ठीक करने हेतु कई बार वैश्विक जलवायु सम्मेलन आयोजित हो चुके हैं। ....

आलोचना को धैर्य-ध्यान से सुने सरकार

Posted On December - 6 - 2019 Comments Off on आलोचना को धैर्य-ध्यान से सुने सरकार
डेनमार्क के एक लेखक ने लिखी थी यह कहानी। लगभग दो सौ साल पहले की बात है। कहानी का शीर्षक है राजा के नये कपड़े। कथानक कुछ इस तरह है कि दो जुलाहे राजा को अनोखे कपड़े बनाकर देने का वादा करते हैं। जुलाहों के अनुसार इन कपड़ों की विशेषता यह है कि ये सिर्फ उन्हें ही दिखेंगे जो या तो अपने पद के काबिल ....

नागरिकता विधेयक

Posted On December - 6 - 2019 Comments Off on नागरिकता विधेयक
देश की केंद्रीय कैबिनेट द्वारा नागरिकता संशोधन विधेयक को मंजूरी दिये जाने पर विरोध के स्वर उभरना स्वाभाविक है। राजनीतिक दलों से पहले पूर्वोत्तर भारत में इसका मुखर विरोध होता रहा है। खासकर असम, जहां का सामाजिक-सांस्कृतिक ताना-बाना पहले ही विदेशी घुसपैठियों के चलते चरमराया हुआ है। ....

आपकी राय

Posted On December - 5 - 2019 Comments Off on आपकी राय
पंजाब की अमरेंद्र सरकार अपना खजाना खाली होने का ढिंढोरा पीट रही है। पिछले कुछ महीनों से विधवाओं, वृद्धों व विकलांगों आदि को सरकार की तरफ से मिलने वाली पेंशन राशि भी नहीं मिली। ....

आयकर राहत से दूर होगी आर्थिक सुस्ती

Posted On December - 5 - 2019 Comments Off on आयकर राहत से दूर होगी आर्थिक सुस्ती
हाल ही में राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) ने कहा है कि वित्त वर्ष 2019-20 की दूसरी तिमाही यानी जुलाई से सितम्बर, 2019 में विकास दर फिसलते हुए 4.5 फीसदी पर जा पहुंची है, जो पिछले साढ़े छह साल का सबसे निचला स्तर है। अर्थ विशेषज्ञों का कहना है कि उपभोक्ता मांग बुरी तरह डगमगा जाने के कारण उद्योग-कारोबार में भारी गिरावट आ गई है। ....

सरकारें और समाज जिम्मेदारी निभायें

Posted On December - 5 - 2019 Comments Off on सरकारें और समाज जिम्मेदारी निभायें
बीते दिनों वैश्विक तापमान में बढ़ोतरी के खिलाफ नए सिरे से कदम उठाने और विश्व नेताओं पर दबाव बनाने के लिए यूरोप में लाखों लोग सड़क पर उतरे। कारण वर्तमान में हरेक व्यक्ति की चिंता यही है कि साल-दर-साल गर्मी तो इतनी बढ़ती जा रही है, बारिश भी हो रही है लेकिन इसमें कमी नहीं हो रही है। ....

बदलती हवा का रुख भांपने वाले खिलाड़ी

Posted On December - 5 - 2019 Comments Off on बदलती हवा का रुख भांपने वाले खिलाड़ी
व्हाट्सएप का एक फायदा तो है कि कभी-कभी ऐसे किस्से पढ़ने को मिलते हैं कि हंसते-हंसते पेट में बल पड़ने लगते हैं या दिमाग में झनझनाहट होने लगती है। ....

एकदा

Posted On December - 5 - 2019 Comments Off on एकदा
ऊंची सोच की उड़ान दीपावली का दिन था। एक छोटा मुस्लिम बालक भी हिन्दुओं का यह पर्व मनाना चाहता था, परन्तु वह बहुत गरीब था। चूंकि अखबार बेचकर वो बेचारा अपनी पढ़ाई का खर्च जुटाता था और दो पैसे की मदद अपने गरीब बाप की भी किया करता था, अतः उसके पास पर्याप्त पैसों की कमी थी। संयोगवश उस दिन उसने अखबार बेचकर अन्य दिनों की अपेक्षा पांच पैसे ज्यादा कमाये। पांच पैसे लेकर वह पटाखे वाले के पास 

शिक्षा से खिलवाड़

Posted On December - 5 - 2019 Comments Off on शिक्षा से खिलवाड़
यह सवाल तर्क से परे है कि हरियाणा में योग्य शिक्षकों की मौजूदगी तथा स्कूलों में शिक्षकों की जरूरत के बावजूद स्कूल शिक्षकों के एक-तिहाई पद खाली क्यों हैं। नि:संदेह यह अक्षम्य अपराध ही है कि प्रशिक्षित युवक रोजगार के लिये दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं। उनकी प्रतिभा का उपयोग नहीं हो पा रहा है। उनकी काम करने की ऊर्जा से भरपूर उम्र हताशा ....

आपकी राय

Posted On December - 4 - 2019 Comments Off on आपकी राय
प्रसिद्ध कारोबारी राहुल बजाज ने जो बयान दिया है, उसे केंद्र सरकार को सकारात्मक रूप से लेना चाहिए। पिछले कुछ समय से सत्तापक्ष से किसी भी घटना पर सवाल पूछने पर उन्हें देशद्रोही करार दिया जाता है। कड़वी सच्चाई तो यह भी है कि आज मीडिया सत्तापक्ष से सख्त सवाल करना ही भूल गया है। ....

एकदा

Posted On December - 4 - 2019 Comments Off on एकदा
महेन्द्रनाथ सरकार कलकत्ता के एक बहुत प्रसिद्ध और धनी डॉक्टर थे। एक बार वे सुप्रसिद्ध संत रामकृष्ण परमहंस से मिलने गए। उस समय परमहंस जी बगीचे में टहल रहे थे। वे इतने सीधे और सादगी से भरे थे कि डॉ. सरकार ने उन्हें माली समझा। सरकार ने आवाज लगाकर कहा—ऐ माली! थोड़े से फूल तो लाकर दे। परमहंस जी को भेंट करने हैं। परमहंस जी ....
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.