चंडीगढ़ के स्कूलों में छुट्टियां 7 जून तक, जून के अंत में बड़ी कक्षाएं शुरू करने की तैयारी! !    पश्चिम बंगाल में 1 जून से खुलेंगे धार्मिक स्थल, 10 से ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने पर पाबंदी !    एम्स में 11 और स्वास्थ्यकर्मी कोरोना से संक्रमित! !    सोनू सूद की दरियादिली, केरल में फंसी 177 लड़कियों को विशेष विमान से भेजा घर !    कोविड-19 : सेना के रिटायर्ड डॉक्टर समेत 38,000 चिकित्सक उतरेंगे फील्ड में !    वाराणसी में 5 किशोरों की गंगा में डूबने से मौत !    सैफुद्दीन सोज की नजरबंदी के खिलाफ उनकी पत्नी ने दायर की याचिका !    भाजपा विधायकों की बैठक ने दी अटकलों को हवा, येदियुरप्पा ने आपात बैठक बुलाने की खबरें की खारिज !    लॉकडाउन पर अमित शाह ने की मोदी से मुलाकात, कुछ और छूट के साथ बढ़ सकती है अवधि !    जम्मू-श्रीनगर हाइवे पर गैस सिलेंडर लेकर जा रहे ट्रक में आग, धमाकों से क्षेत्र दहला !    

विचार › ›

खास खबर
चीनी महत्वाकांक्षा पर वैश्विक गुस्से की चोट

चीनी महत्वाकांक्षा पर वैश्विक गुस्से की चोट

पिछले कुछ हफ्तों से चीन इस तरह का व्यवहार करने लगा है मानो कोरोना की मार से अमेरिका और उसके यूरोपीय सहयोगी देशों के पस्त पड़ने के बाद उसके विश्व की एकमात्र और निर्विरोध महाशक्ति बनने की राह स्वयंमेव प्रशस्त हो गयी है। हालांकि, कोरोना वायरस की मार सबसे पहले ...

Read More

अकाल की पृष्ठभूमि तैयार करते घुसपैठिये

अकाल की पृष्ठभूमि तैयार करते घुसपैठिये

एन.के. सोमानी कोरोना संक्रमण के बीच राजस्थान सहित देश के कई राज्यों में टिड्डियाें ने आतंक मचा रखा है। फसलनाशक यह कीट विभिन्न जिलों से होता हुआ राजधानी जयपुर तक में घुस आया है। इससे पहले जनवरी माह में भी टिड्डियों ने बड़ी संख्या में देश के कई राज्यों में सरसों, ...

Read More

ऋण नहीं, संरक्षण दें छोटे उद्योगों को

ऋण नहीं, संरक्षण दें छोटे उद्योगों को

भरत झुनझुनवाला लॉकडाउन से पूरी अर्थव्यवस्था चौपट हो गई है लेकिन छोटे उद्योगों को विशेष नुकसान हुआ है। सरकार ने छोटे उद्योगों को मदद करने के लिए 3 लाख करोड़ रुपये की विशाल राशि उन्हें दिए जाने वाले ऋण की गारंटी के रूप में देने का एेलान किया है। इस पैकेज ...

Read More

कोरोना काल में कारोबार कन्फ्यूजन

उलटवांसी आलोक पुराणिक कोरोना ने बहुत से धंधों की सूरत बदल दी है। सूरत क्या धंधे ही बदल गये हैं। लिपस्टिक का कारोबार भीषण मंदी में जाने वाला है, जब मुंह पर मास्क ही लगाना है, तो लिपस्टिक पर काहे खर्च किया जाये। लिपस्टिक के शेड्स पर क्यों माथापच्ची की जाये, सारा ...

Read More

एक बार फिर पारदर्शिता को लेकर सवाल

एक बार फिर पारदर्शिता को लेकर सवाल

कॉलेजियम व्यवस्था अनूप भटनागर देश की शीर्ष अदालत से हाल ही में सेवानिवृत्त हुए न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता ने न्यायाधीशों के नामों का चयन करने और उनकी सिफारिश करने वाली उच्चतम न्यायालय के कॉलेजियम की कार्यशैली पर की गयी टिप्पणी से एक बार फिर यही संकेत दिया है कि मौजूदा कॉलेजियम व्यवस्था में ...

Read More

हमले से हलकान

हमले से हलकान

टिड्डियां चट कर गईं कई राज्यों की फसलें कोरोना संकट से जूझ रहे देश में पाकिस्तान के रास्ते आईं करोड़ों टिड्डियों ने राजस्थान व मध्यप्रदेश में किसानों की फसलों को तबाह करने के बाद उ.प्र. में हमला बोल दिया है। सोमवार तक आगरा पहुंचने की आशंका से ब्रज क्षेत्र में बड़े ...

Read More

पाक की नापाक हरकत

पाक की नापाक हरकत

जन संसद जवाब देना जरूरी ऐसा प्रतीत होता है कि पाकिस्तान आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा है और कश्मीर के स्थानीय लोगों को भड़काने का काम कर रहा है। वह अपनी इन हरकतों से बाज नहीं आ रहा। आखिर कब तक ऐसे आतंकवादियों के दम पर लड़ता रहेगा। पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब ...

Read More


  • भारत विरोध के नेपाली राजनीतिक समीकरण
     Posted On May - 29 - 2020
    नेपाली मंत्रिपरिषद ने देश का जो नया नक्शा जारी किया है, उसका संसद द्वारा दो-तिहाई मतों से अनुमोदन अनिवार्य है।....
  • चौबीस कैरेट का खरा सोना निकले सोनू
     Posted On May - 29 - 2020
    भारतीय फिल्मों में सोनू सूद की पहचान एक आकर्षक डील-डौल वाले खलनायक के रूप में होती है। कोई गॉडफादर न....
  •  Posted On May - 29 - 2020
    लॉकडाउन जब से चालू हुआ है, मैंने घर में खाना खाना बंद कर दिया है। जब भूख लगती है, फेसबुक....
  •  Posted On May - 29 - 2020
    लद्दाख में भारत-चीन वास्तविक नियंत्रण रेखा पर पिछले कुछ दिनों से चीनी सैनिकों की घुसपैठ हो रही है। जाहिर है....

पाक का नापाक चेहरा

Posted On October - 21 - 2010 Comments Off on पाक का नापाक चेहरा
पाकिस्तानी मूल के अमेरिकी नागरिक डेविड कोलमेन  हेडली  के खुलासे ने एक बार फिर मुंबई हमलों में पाकिस्तान की संलिप्तता को बेनकाब कर दिया है। मुंबई हमलों में अपनी भूमिका के लिए गिरफ्तार और फिलहाल शिकागो जेल में बंद हेडली ने भारतीय जांचकर्ता दल को बताया था कि मुंबई पर 26 नवंबर, 2008 को हुए दिल दहला देने वाले आतंकी हमलों में पाकिस्तान की बदनाम खुफिया सैन्य एजेंसी आईएसआई की स्पष्ट भूमिका 

जहर फांकने की मजबूरी

Posted On October - 21 - 2010 Comments Off on जहर फांकने की मजबूरी
भारत में तंबाकू सेवन की बढ़ती प्रवृत्ति का खुलासा करने वाली ग्लोबल एडल्ट्स टोबेको सर्वे की रिपोर्ट के आंकड़े भयावह हैं। यह जानते-बूझते हुए कि तंबाकू सेवन मौत से दोस्ती सरीखा है, इसका उपयोग लगातार बढ़ता जा रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री गुलाम नबी आजाद द्वारा जारी रिपोर्ट में समस्त भारत में तंबाकू सेवन की बढ़ती खतरनाक प्रवृत्ति का विस्तारपूर्वक उल्लेख किया गया है। रिपोर्ट 

सैन्य तानाशाही के शिकंजे में लोकतंत्र

Posted On October - 21 - 2010 Comments Off on सैन्य तानाशाही के शिकंजे में लोकतंत्र
डॉ. गौरीशंकर राजहंस म्यांमार चुनाव आगामी 7 नवम्बर को म्यांमार (बर्मा) में आम चुनाव होने वाला है। यह चुनाव 2008 के संविधान के तहत होगा जिसमें 25 प्रतिशत सांसद सैनिक शासकों द्वारा नामांकित होंगे। शेष 75 प्रतिशत सांसद राजनीतिक दलों के होंगे जो आम जनता द्वारा निर्वाचित होंगे। परन्तु 2008 के संविधान में यह प्रावधान है कि उस राजनीतिक दल को मान्यता नहीं दी जाएगी जिसका एक भी सदस्य जेल 

सार्वजनिक आयोजन पर हावी होती अपसंस्कृति

Posted On October - 21 - 2010 Comments Off on सार्वजनिक आयोजन पर हावी होती अपसंस्कृति
वीरेन्द्र्र जैन आस्था का बाजारीकरण भारत सांस्कृतिक अतिक्रमण का शिकार हो गया है। यह अतिक्रमण न केवल पश्चिमी संस्कृति की ओर से हुआ है अपितु देश के दूसरे क्षेत्रों की संस्कृति का भी हुआ है। उनकी अपनी राम-लीलाएं, रासलीलाएं, और भागवत-कथा आदि की परम्पराएं हाशिये पर धकेल दी गयी हैं और गणेश, दुर्गा की झांकियों व गरबा नृत्य के आयोजनों के द्वारा महाराष्ट्र, बंगाल और गुजरात की संस्कृति 

फिर भी जिन्दा है रावण!

Posted On October - 21 - 2010 Comments Off on फिर भी जिन्दा है रावण!
श्याम नारायण रंगा सागर में गागर विजयादशमी का त्योहार पूरे भारत में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। असत्य पर सत्य की जीत का प्रतीक, अमर्यादित शक्तियों पर मर्यादित शक्ति का प्रतीक इस त्योहार को हर साल बड़े उत्साह व उमंग के साथ मनाया जाता है। इस दिन रावण, मेघनाद, कुंभकर्ण के पुतलों का दहन कर तालियां बजाई जाती हैं और अगले दिन भारतभर के समाचार पत्र रावण के मरने, रावण का दंभ खत्म 

आपके पत्र

Posted On October - 21 - 2010 Comments Off on आपके पत्र
आस्था और विश्वास अनिता होलानी, नयी दिल्ली नश्वर संसार में मनुष्य की इच्छाएं असीम हैं। पहले इच्छा करना, कामना, मन्नत और फिर इच्छापूर्ति होने पर गद्ïगद् मन से न्योछावर करना मनुष्य का स्वभाव है। अपनी योग्यताओं पर भरोसा होने के बावजूद मनुष्य को आश्वासन और आशीर्वाद की कामना रहती है। ऐसे में अदृश्य ईश्वर से बेहतर और कौन हो सकता है। वैष्णो देवी मंदिर तक पहुंचने के लिए श्रद्धालुओं को  

लोकपाल की दिशा में

Posted On October - 20 - 2010 Comments Off on लोकपाल की दिशा में
लंबे अरसे बाद लोकपाल का सपना साकार होने की उम्मीद जगी है। मनमोहन सिंह सरकार अंतत: लोकपाल विधेयक का ऐसा मसौदा तैयार करने में सफल हो गयी लगती है जिस पर सर्वसम्मति हो सकती है। उम्मीद के मुताबिक अगर इस विधेयक को संसद की मंजूरी मिल गयी तो फिर राज्यों के लोकायुक्त की तर्ज पर केंद्र में भी लोकपाल का सपना साकार हो जायेगा। भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। हमारी सरकारें लोकतंात्रिक सोच, 

दुनिया ने स्वीकारा भारत का वजूद

Posted On October - 20 - 2010 Comments Off on दुनिया ने स्वीकारा भारत का वजूद
....

दिल्ली में भारत-उदय

Posted On October - 20 - 2010 Comments Off on दिल्ली में भारत-उदय
राजकुमा सिं नती से 14 अक्तूबर तक दिल्ली में हुआ भारत-उदय पूरी दुनिया ने देखा। नापाक पड़ोसी की शह पर पलते आतंकवादियों की धमकियों को धता बताते हुए 60 से 70 हजार तक दर्शक उद्घाटन और समापन समारोह में जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में जुटे तो खेल के मैदानों में भारतीय खिलाडिय़ों का कौशल देखकर भी दुनिया दंग रह गयी। अभी तक हमारे सत्ताधीश ही यह बताते थे कि दुनिया में भारत का 

अलकायदा के खतरनाक मंसूबे

Posted On October - 20 - 2010 Comments Off on अलकायदा के खतरनाक मंसूबे
अलकायदा के खिलाफ अमेरिका की तमाम कारगुजारियों के बावजूद इस संगठन का और मजबूत होकर उभरना विश्व-शांति के लिए बहुत बड़ी चुनौती बन गया है। अफगानिस्तान और इराक में नाटो सहयोगियों के साथ मिलकर चलाये गए अभियान के बावजूद अमेरिका अलकायदा के सूत्रधार ओसामा बिन लादेन और उसके दाहिने हाथ आयमान अल जवाहिरी का सुराग तक नहीं लगा पाया। हालिया रिपोर्ट बताती है कि अलकायदा के ये सूत्रधार गुफाओं में 

दबंगई के इस दौर में!

Posted On October - 20 - 2010 Comments Off on दबंगई के इस दौर में!
अंशुमाली रस्तोगी आप कामयाब हैं अगर दबंग हैं क्योंकि यह दौर दबंगई का है। हमें यह साफ नजर आ रहा है कि सहजता हमारे बीच से धीरे-धीरे गायब होती जा रही है। जो सहज हैं वे ‘हाशिए’ पर हैं। समय ने सब बदलकर रख दिया है। जिस एंग्री यंग मैन की छवि किसी जमाने में केवल फिल्मों में ही दमदार लगा करती थी, वही गुस्सैल चरित्र अब हमारे निजी जीवन और व्यवहार में उतरने लगा है। अब यहां असहमति के लिए कहीं 

आपके पत्र

Posted On October - 20 - 2010 Comments Off on आपके पत्र
नागरिकता पूनम कश्यप, नरवाना विश्व शतरंज के शीर्ष खिलाड़ी विश्वनाथन आनंद की नागरिकता को लेकर पैदा हुआ विवाद दुर्भाग्यपूर्ण और शर्मनाक है। हैदराबाद विश्वविद्यालय ने पिछले वर्ष आनंद को मानद डाक्टरेट की उपाधि देने का फैलया किया था। आनंद ज्यादातर समय स्पेन में रहे हैं क्योंकि वहां उन्हें खेल की तैयारी करने और मुकाबलों के लिए दूसरे देशों में आने-जाने के लिए आसानी होती है। यह मान 

बिहार में चुनावी बयानबाजी

Posted On October - 19 - 2010 Comments Off on बिहार में चुनावी बयानबाजी
चुनाव प्रक्रिया को लोकतंत्र की प्राणवायु माना जाता है, लेकिन बिहार में विधानसभा चुनावों के दौरान कमोबेश सभी राजनीतिक दलों का आचरण लोकतंत्र का मखौल उड़ाने वाला और मतदाताओं के साथ छलावा ही है। कल तक एक-दूसरे के विरुद्ध राजनीति करने वाले अब गलबहियां कर रहे हैं तो कल तक गलबहियां करने वाले अब एक-दूसरे को पानी पी-पी कर कोस रहे हैं। इस चुनावी खेल में धर्मनिरपेक्ष और सांप्रदायिक का फर्क 

पाक सरकार व अदालत का टकराव

Posted On October - 19 - 2010 Comments Off on पाक सरकार व अदालत का टकराव
यूं तो पाकिस्तान में सरकार व शीर्ष अदालत में टकराव की पुरानी परंपरा रही है लेकिन हालिया घटनाक्रम से राजनीतिक अस्थिरता की आशंकाएं बलवती हुई हैं। टीवी चैनलों में प्रसारित अपुष्टï खबरों में बताया गया कि मुशर्रफ शासन के दौरान बर्खास्त सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश समेत 64 जजों की बहाली के लिए जारी की गई अधिसूचना को सरकार वापस ले रही है। इस खबर पर सुप्रीम कोर्ट ने तत्काल प्रतिक्रिया 

अमेरिका की जरूरत बन रहा है भारत

Posted On October - 19 - 2010 Comments Off on अमेरिका की जरूरत बन रहा है भारत
डॉ वेदप्रताप वैदिक ओबामा की यात्रा अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की भारत-यात्रा का महत्व असाधारण है। यों तो पिछले 60 साल में लगभग आधा दर्जन अमेरिकी राष्ट्रपति भारत आ चुके हैं, लेकिन ओबामा का आना उनसे थोड़ा अलग है। पहली बात तो यही कि बुश और क्लिंटन अपनी पहली पारी में भारत नहीं आए। दूसरी में आए, लेकिन ओबामा अपनी पहली पारी में ही आ रहे हैं और पहली पारी के ही पहले हिस्से में आ रहे हैं। 

ऐसे तो दूर न हो पाएगी गरीबी

Posted On October - 19 - 2010 Comments Off on ऐसे तो दूर न हो पाएगी गरीबी
डॉ. भरत झुनझुनवाला निर्धनता के मानक सरकार के अथक प्रयासों के बावजूद देश में गरीबी दूर होने का नाम नहीं ले रही है। गरीब को सस्ता अनाज, रोजगार गारंटी, मुफ्त इलाज आदि सुविधाएं उपलब्ध हैं। गरीब के जीवनस्तर में इस सहायता से सुधार अवश्य हुआ है परन्तु मूल गरीबी दूर नहीं हो रही है। जो आज गरीब है वह दस वर्ष बाद भी गरीब ही बना रहता है। कारण यह कि सरकारी नीतियों ने व्यक्ति के लिए गरीब बने रहना 
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.