भगौड़े को पकड़ने गयी पुलिस पर हमला, 3 कर्मी घायल !    एटीएम को गैस कटर से काट उड़ाये 12.61 लाख !    कुल्लू में चरस के साथ 2 गिरफ्तार !    बारहवीं की छात्रा ने घर में लगाया फंदा !    नेपाल को 56 अरब नेपाली रुपये की मदद देगा चीन !    इस बार अब तक कम जली पराली !    पीएम की भतीजी का पर्स चुरा सोनीपत छिप गया, गिरफ्तार !    फरसा पड़ा महंगा, जयहिंद को आयोग का नोटिस !    महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में प्रचार करेंगी मायावती !    ‘गांधीजी ने आत्महत्या कैसे की?’ !    

विचार › ›

खास खबर
जन संसद

जन संसद

प्याज संकट के सबक स्थाई समाधान हो देश में प्याज की मांग बारह माह रहती है। लेकिन बारिश के कारण फसल नष्ट हो जाने से अचानक प्याज की कीमतें आसमान छूने लग जाती हैं। ऐसी स्थिति होने पर तत्काल प्याज के निर्यात पर रोक लगाने, कीमतों पर अंकुश लगाने व इसके भंडारण ...

Read More

दूसरी धरती की तलाश के लिए जद्दोजहद

दूसरी धरती की तलाश के लिए जद्दोजहद

भौतिकी का नोबेल अभिषेक कुमार सिंह इस साल के लिए भौतिकी में नोबेल पुरस्कार हासिल करने वाले तीनों साइंटिस्टों कनाडाई मूल के अमेरिकी जेम्स पीबल्स और स्विट‍्ज़रलैंड के माइकल मेयर व डिडियर क्वेलोज की खोजें, असल में इस कायनात में इंसानियत की जगह की खोज पर केंद्रित हैं। जहां पीबल्स एक ओर ...

Read More

बाढ़ झेल सकने वाली फसल की खोज

बाढ़ झेल सकने वाली फसल की खोज

बाढ़ और अतिवृष्टि से फसलें बर्बाद हो जाती हैं। प्रमुख फसलों में सिर्फ धान की ही फसल बाढ़ को झेल पाती है। लेकिन एक नई रिसर्च से यह स्थिति बदल सकती है। यह दुनिया के लिए एक अच्छी खबर है कि जहां कई जगह वर्षा की अवधि और तीव्रता में ...

Read More

फिर भी दोस्ती

फिर भी दोस्ती

मतभेदों के बावजूद साथ चलने की कवायद आखिरकार वुहान से शुरू हुआ अनौपचारिक वार्ताओं का सिलसिला तमिलनाडु के महाबलीपुरम तक सौहार्दपूर्ण वातावरण में पहुंचा। भारत ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की आवभगत में कोई कमी नहीं रखी। यह जानते हुए भी कि हाल ही में इमरान खान की चीन यात्रा के ...

Read More

कानूनी तौर पर सिर्फ एक लाख सुरक्षित

कानूनी तौर पर सिर्फ एक लाख सुरक्षित

अर्थमंत्र आलोक पुराणिक बाजार में निवेश के कई मौके उपलब्ध हैं। पर देखने की बात यह है कि किसी को भी अपना सारा निवेश किसी एक माध्यम या किसी एक योजना में नहीं डालना चाहिए। जैसे बैंकों में पैसा लगाना बहुत लोकप्रिय माध्यम है। ऐसा आमतौर पर माना जाता है कि बैंक ...

Read More

साहसिक आर्थिक सुधारों का वक्त

साहसिक आर्थिक सुधारों का वक्त

हाल ही में 10 अक्तूबर को अंतर्राष्ट्रीय क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडिज ने वर्ष 2019-20 के लिए भारत की विकास दर का अनुमान 6.20 से घटाकर 5.80 फीसदी कर दिया है। इसके पहले 4 अक्तूबर को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने वर्ष 2019-20 के लिए विकास दर का अनुमान 6.9 फीसदी ...

Read More

निजीकरण की ओर

निजीकरण की ओर

गुणवत्ता हो मगर यात्री हितों की न हो अनदेखी लगता है लंबे अर्से से प्रतीक्षित रेलवे के निजीकरण की तरफ केंद्र सरकार ने कदम बढ़ा दिये हैं। लखनऊ से दिल्ली के बीच निजी प्रबंधन वाली तेजस ट्रेन की शुरुआत को इसी कड़ी के रूप में देखा जा रहा है, जिससे ...

Read More


  • बाढ़ झेल सकने वाली फसल की खोज
     Posted On October - 14 - 2019
    बाढ़ और अतिवृष्टि से फसलें बर्बाद हो जाती हैं। प्रमुख फसलों में सिर्फ धान की ही फसल बाढ़ को झेल....
  • दूसरी धरती की तलाश के लिए जद्दोजहद
     Posted On October - 14 - 2019
    इस साल के लिए भौतिकी में नोबेल पुरस्कार हासिल करने वाले तीनों साइंटिस्टों कनाडाई मूल के अमेरिकी जेम्स पीबल्स और....
  •  Posted On October - 14 - 2019
    देश साल में चार महीने सूखे की चपेट में रहता है तो चार महीने बाढ़ में डूबता है। हर बर्ष....
  • जन संसद
     Posted On October - 14 - 2019
    देश में प्याज की मांग बारह माह रहती है। लेकिन बारिश के कारण फसल नष्ट हो जाने से अचानक प्याज....

मानवीय संवेदनाओं की दास्तान

Posted On April - 18 - 2010 Comments Off on मानवीय संवेदनाओं की दास्तान
अनिल कुमार अपने पहले उपन्यास ‘अभी शेष है’ की भूमिका में डॉ. महीप सिंह ने उपन्यास त्रयी लिखने की इच्छा प्रकट की थी। उसी कड़ी में यह उनका दूसरा उपन्यास है। यह ‘अभी शेष है’ का विस्तार भी है और अपने आप में एक स्वतंत्र भी। पिछले उपन्यास में 1975 के आपातकाल की घोषणा तक को लिया गया था। इस उपन्यास की सीमा 1975 से 1990 तक है। यह वह समय था जब पंजाब का उग्रवाद अपने चरम पर था। आपरेशन ब्लू स्टार, प्रधानमंत्री 

जीवन-मूल्यों की तड़प की कविता

Posted On April - 18 - 2010 Comments Off on जीवन-मूल्यों की तड़प की कविता
तरसेम गुजराल पूंजी का मुनाफाखोर होना उसका धर्म है। उसका कर्म और व्यवहार भावनात्मक आवेग से बिल्कुल अलग और क्रूर होता है। उसके लिए एक पेंटिंग, एक पुस्तक, गीतों की एक कैसेट सभी कुछ तिजारत के सामान से ज्यादा कुछ नहीं। चित्रकार, लेखक, संगीतकार या गायक भी पूंजी धर्म में यदि लाभकारी है तभी सम्मान के हकदार हैं। संस्कृति के प्रसार, लोक चेतना या लोगों की पवित्र भावनाओं का पूंजी को कोई ध्यान 

रिवायती और जदीद शायरी का अद्ïभुत संगम

Posted On April - 18 - 2010 Comments Off on रिवायती और जदीद शायरी का अद्ïभुत संगम
राजेंद्र चांद फक्रो-फन के ऐतबार से मुकम्मिल शायर जनाब ईश्वर दत्त ‘अंजुम’ (सुप्रसिद्ध शायर राजेंद्रनाथ ‘रहबर’ के बड़े भाई) का ताजा संग्रह है ‘भीगी पलकें’ जिसमें उनकी 74 गज़लें और चंद. कत्आत शामिल हैं। अंजुम साहिब के कलाम की पुख्तगी उस्ताद शायरों की  फेहरिस्त में उनका नाम काफी ऊंची जगह पर दर्ज करवाती है। हालांकि उनके कलाम में जगह-जगह फारसी के क्लिष्ट शब्दों का प्रयोग मिलता 

कसमसाया भाईचारा!

Posted On April - 18 - 2010 Comments Off on कसमसाया भाईचारा!
खरी खोटी रणबीर हरियाणा में खेती के आने के समय से पहले पशुपालन ही जीवन का आधार रहा बताते हैं। उस वक्त गांव के दबंग लोगों के पास 100 से भी अधिक पशु हुआ करते थे। और ऐसे लोगों की संख्या 10-15 या ज्यादा हुई तो 20 की होती थी। बाकी ज्यादातर लोगों के पास 2-4 पशु ही होते थे। कई के पास नहीं भी होते थे पशु। आहिस्ता आहिस्ता खेती का प्रचलन बढऩे लगा और इस पर निर्भरता बढऩे लगी। इसी दौर से चली आ रही है एक भाईचारे 

जनता को मिले निगमीकरण का लाभ

Posted On April - 17 - 2010 Comments Off on जनता को मिले निगमीकरण का लाभ
आखिरकार लंबी जद्दोजहद के बाद पंजाब सरकार ने साहसिक फैसला लेते हुए पंजाब बिजली बोर्ड को भंग करके विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड व विद्युत सम्प्रेषण निगम लिमिटेड का गठन करके नयी शुरुआत कर दी है। मंत्रिमंडल ने जब यह फैसला लिया तो राज्य के 68 हज़ार विद्युत कर्मी हड़ताल पर थे। हालांकि, सरकार कह रही है कि कर्मचारियों की छंटनी नहीं होगी और उनकी सेवा-शर्तों में कोई परिवर्तन नहीं किया जाएगा, बावजूद 

‘संपूर्ण औरत’ को रखनी होगी अपनी लाज

Posted On April - 17 - 2010 Comments Off on ‘संपूर्ण औरत’ को रखनी होगी अपनी लाज
आधी दुनिया डा. रेणुका नैयर जब हम शिशु दुग्ध संबंधी विषय पर विचार करते हैं तो हमारे सामने एक झटके से उस उपभोक्ता समाज का विकृत और कुत्सित चेहरा सामने आ जाता है जिसे बनाने के पीछे हमारी यही सरकार लगी हुई है। यह उपभोक्ता समाज विज्ञापनों का समाज है। बड़े-बड़े उद्योगों के लिए अच्छे-बुरे हर तरीके से मुनाफा जुटाने का समाज है और इसके चलते मनुष्य को इतनी त्रासदियों का शिकार बनना पड़ रहा 

विषय : कैसे हो शिक्षा के मौलिक अधिकार का क्रियान्वयन?

Posted On April - 17 - 2010 Comments Off on विषय : कैसे हो शिक्षा के मौलिक अधिकार का क्रियान्वयन?
जनमंच उत्तरदायित्व की कमी प्रौढ़ शिक्षा और सर्वशिक्षा अभियान का जो हाल हुआ उसकी कमजोरियां हम सबके सामने हैं। अब हमारी गिद्ध-दृष्टि ‘शिक्षा के मौलिक अधिकार’ पर मंडराने लगी है। कहां है वह प्रौढ़ समाज जिसे साक्षर किया गया? सर्वशिक्षा अभियान के बच्चे विद्यालयों में मिलें न मिलें, गलियों, बाजारों में कूड़ा-कर्कट  बीनते जरूर मिल जाएंगे। किसी भी अभियान के क्रियान्वयन हेतु न तो पहले 

जनमंचश्रीमुख से

Posted On April - 17 - 2010 Comments Off on जनमंचश्रीमुख से
ओबामा कानूनी स्थिति से अवगत हैं। हम हेडली से पूछताछ करेंगे। – प्रधानमंत्री, डॉ. मनमोहन सिंह, वाशिंगटन में सत्ता पक्ष में कई लोग ‘अद्र्ध माओवादी’ हैं, इसलिए नक्सलवाद से लडऩे में सरकार और कांग्रेस विभाजित नज़र आ रही हैं। – भाजपा के वरिष्ठï नेता यशवंत सिन्हा, लोकसभा में आपको (गडकरी) वाणी में संयम की बहुत ज़रूरत है जिससे आपकी छवि अनर्गल बोलने वाले सतही और अक्षम नेता की नहीं 

दमन से नहीं, मन जीतकर जीतें ये लड़ाई

Posted On April - 17 - 2010 Comments Off on दमन से नहीं, मन जीतकर जीतें ये लड़ाई
बाल की खाल खुशवंत सिंह नक्सलवादियों के हमले में 74 अद्र्धसैनिक बलों के निर्मम संहार ने हर भारतीय को विचलित करके हमारे अंतर्मन को झकझोर दिया। इस  दुखद घटना ने दिवा स्वप्न देखने वाले शासकों को बता दिया कि देश में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। दंतेवाड़ा कांड में हमारी तमाम शिथिलताएं उजागर हुई हैं। इन तमाम सवालों के जवाब छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री तथा उनके प्रशासन को चलाने वाले लोगों 

ओबामा की मीठी गोली

Posted On April - 16 - 2010 Comments Off on ओबामा की मीठी गोली
खबरों की खबर गुरमीत सिंह अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा अपनी वाक्ïपटुता के लिए राष्ट्रपति बनने से पहले ही मशहूर हो चुके थे। अपने भाषणों के दम पर ही तो शायद शांति का नोबल पुरस्कार तक ले गए हैं जबकि अभी उनके खाते में विश्वशांति के नाम पर कोई ठोस उपलब्धि दर्ज नहीं है। ओबामा के राष्ट्रपति बनने के बाद भारत में भी काफी उत्साह देखा गया था। वॉशिंगटन में ओबामा द्वारा बुलाए गए परमाणु 

परमाणु सुरक्षा की सार्थक पहल

Posted On April - 16 - 2010 Comments Off on परमाणु सुरक्षा की सार्थक पहल
दुनिया को परमाणु आतंकवाद के खतरे से मुक्त कराने के लिए वाशिंगटन में संपन्न परमाणु सुरक्षा शिखर सम्मेलन भले ही किसी ठोस नतीजे पर न पहुंचा हो लेकिन परमाणु सुरक्षा के लिए चार साल की समय-सुरक्षा तय करना विश्व जनमत में एक विश्वास ज़रूर जगाता है। इस सम्मेलन की उपलब्धि यह भी है कि द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद पहली बार 47 राष्टï्रों के मुखिया किसी मुद्दे पर विचार-विमर्श के लिए एकजुट हुए। हालांकि, 

शिक्षा मंदिरों में हिंसा का डेरा!

Posted On April - 16 - 2010 Comments Off on शिक्षा मंदिरों में हिंसा का डेरा!
विश्वविद्यालयों, कालेजों व अन्य शिक्षण संस्थानों में शिक्षा के साथ-साथ यदि विद्यार्थियों को छात्र संगठनों के मंच से अपने अधिकारों व समस्याओं के लिए सक्रिय होने का अवसर मिलता है तो इसे स्वागतयोग्य ही कहा जाएगा। परंतु यदि शिक्षा के मंदिरों में संगठनात्मक गतिविधियों की आड़ में आपसी गुटबाजी, बदले की भावना और वैर-वैमनस्य घर करने लगें तो ऐसे मंदिरों को अपराधियों के अड्डïे नहीं तो और कया 

डॉ. पान्डा : हार्ट सर्जरी का बेताज बादशाह

Posted On April - 16 - 2010 Comments Off on डॉ. पान्डा : हार्ट सर्जरी का बेताज बादशाह
चर्चित व्यक्ति वीरेन्द्र सिंह हृदय रोगियों के लिये मसीहा के रूप में विख्यात डॉ. रमाकांत पान्डा को अपने  कुशल हाथों से अब तक 10 हजार से भी अधिक ‘बाईपास’, 800 ‘रेडो बाईपास’ का सफल आपरेशन  करने का सौभाग्य प्राप्त हो चुका है। विलक्षण प्रतिभा के स्वामी डॉ. रमाकांत को भारत के अत्यधिक गौरवशाली राष्ट्रीय सम्मान ‘पद्म भूषण’ से भी नवाजा जा चुका है। विश्व के  सर्वाधिक कुशल ‘हार्ट 

कैसे हो प्राकृतिक आपदाओं से बचाव?

Posted On April - 16 - 2010 Comments Off on कैसे हो प्राकृतिक आपदाओं से बचाव?
ग्लोबल वार्मिंग के साथ-साथ हमारी पृथ्वी भूकंप जैसे महाविनाश से भी प्राय:जूझती रहती है। प्रत्येक वर्ष दुनिया के किसी न किसी कोने से भूकंप की घटनाओं के दो-तीन समाचार अवश्य मिल जाते हैं। पिछले दिनों चीन समेत कई देशों में भूकंप आए हैं। गत 13 जनवरी को उत्तर अमेरिकी महाद्वीप के कैरेबियाई देश हेती की राजधानी पोर्ट आफ प्रिंस में 7.3 क्षमता का भयानक भूकंप आया था। इस भूकंप के परिणामस्वरूप पूरा 

आपके पत्र

Posted On April - 16 - 2010 Comments Off on आपके पत्र
खाप का खौफ जगदीप सिंह, कुरुक्षेत्र हरियाणा की खाप पंचायतें  आजकल नये-नये फैसलों के कारण सुर्खियों में हैं। अब इन्होंने एक नयी मुहिम छेड़ी है हिन्दू मैरिज एक्ट में संशोधन की। वे इसे और पुख्ता करना चाहते हैं ताकि इन पंचायतों में प्रभुत्ववादी वर्ग का ही प्रतिनिधित्व ज्यादा होता रहे। यदि संविधान यह नहीं कहता कि आप एक ही गोत्र में शादी नहीं कर सकते तो वह यह भी कहां कहता है कि आप एक 

इंदिरा गांधी पर हमला करने वाले का पुलिस रिमांड

Posted On April - 16 - 2010 Comments Off on इंदिरा गांधी पर हमला करने वाले का पुलिस रिमांड
नयी दिल्ली, 15 अप्रैल (यून्यु)। प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी की हत्या के प्रयास में कल गिरफ्तार किए गए व्यक्ति राम बुलचंद लालवाणी का आज 24 अप्रैल तक  के लिए पुलिस रिमांड दे दिया गया। रिमांड का आदेश महानगरीय मजिस्ट्रेट श्री वीपी गुप्ता, जिनके समक्ष आज दोपहर बाद लालवाणी को पेश किया गया, ने दिया। पुलिस ने उसका रिमांड 28 अप्रैल तक के लिए मांगा था ताकि यह पता लगाया जा सके कि क्या उसकी कोई 
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.