4 करोड़ की लागत से 16 जगह लगेंगे सीसीटीवी कैमरे !    इमीग्रेशन कंपनी में मिला महिला संचालक का शव !    हरियाणा में आर्गेनिक खेती की तैयारी, किसानों को देंगे प्रशिक्षण !    हरियाणा पुलिस में जल्द होगी जवानों की भर्ती : विज !    ट्रैवल एजेंट को 2 साल की कैद !    मनाली में होमगार्ड जवान पर कातिलाना हमला !    अंतरराज्यीय चोर गिरोह का सदस्य काबू !    एक दोषी की पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई 17 को !    रूस के एकमात्र विमानवाहक पोत में आग !    पूर्वोत्तर के हिंसक प्रदर्शनों पर लोकसभा में हंगामा !    

विचार › ›

खास खबर
कसक जो बन गई सफलता की प्रेरणा

कसक जो बन गई सफलता की प्रेरणा

अरुण नैथानी बालमन में यह गहरी टीस थी कि क्यों मेरे पिता जज साहब की जी-हजूरी में दिनभर हाजिरी भरते हैं। हमारे सर्वेंट क्वार्टर में गरीबी का डेरा क्यों है? जज साहब के घर आने-जाने वाली वीआईपी बिरादरी की रौनक क्यों रहती है? क्या चपरासी होना अभिशाप है? जज साहब की ...

Read More

कर्नाटक के उपचुनाव नतीजों से उठे सवाल

कर्नाटक के उपचुनाव नतीजों से उठे सवाल

कर्नाटक में हुए 15 विधानसभा उपचुनावों में से 12 में सत्तारूढ़ भाजपा की जीत का निष्कर्ष यही निकाला गया है कि किसी तरह सदन में बहुमत का जुगाड़ कर बनायी और बचायी गयी बीएस येदियुरप्पा सरकार अब निष्कंटक चल पायेगी, पर इसके दूरगामी संकेत बहुत गहरे हैं, जो कुछ गंभीर ...

Read More

हादसों से निपटने का नजरिया बदलें

हादसों से निपटने का नजरिया बदलें

अवधेश कुमार अग्निशमन एवं आपदा प्रबंधन की उच्चतम व्यवस्था के रहते हुए यदि राजधानी दिल्ली के अग्निकांड में लोगों की जिन्दगी बचाना संभव न हुआ तो समझा जा सकता है कि स्थिति कितनी भयावह रही होगी। जिन लोगों ने अनाज मंडी के उस दुर्भाग्यशाली स्थान को देखा है, वे बता सकते ...

Read More

खुदकुशी समाज की साझी विफलता का प्रतीक

खुदकुशी समाज की साझी विफलता का प्रतीक

जैसे ही मुझे फातिमा लतीफ द्वारा खुदकुशी करने की खबर लगी, मुझे लगा मानो मेरा अपना शरीर जख्मी हुआ है। चूंकि बतौर एक अध्यापक मैं उस लड़की जैसे अंतर्मन वाले हजारों विद्यार्थियों से बावस्ता रहा हूं, इसलिए मुझे इस घटना से एक संभावना का आसामयिक दुखद अंत होने जैसा महसूस ...

Read More

मानसिक रोगों का बढ़ता दायरा चिंताजनक

मानसिक रोगों का बढ़ता दायरा चिंताजनक

अनूप भटनागर हैदराबाद, उन्नाव और त्रिपुरा में युवतियों से सामूहिक बलात्कार के बाद उन्हें जिन्दा जलाकर मार डालने की घटनाओं को लेकर समूचा देश उद्वेलित है। हैदराबाद कांड के आरोपियों के पुलिस मुठभेड़ में मारे जाने के बाद लोगों में खुशी, उन्नाव कांड के आरोपियों को सरेआम फांसी देने की मांग ...

Read More

बढ़ती क्रय शक्ति दूर करेगी आर्थिक सुस्ती

बढ़ती क्रय शक्ति दूर करेगी आर्थिक सुस्ती

सरकार के सभी प्रयासों के बावजूद अर्थव्यवस्था की विकास दर लगातार गिरती ही जा रही है। विकास दर गिरने का मूल कारण यह है कि बाजार में मांग नहीं है। यदि बाजार में मांग होती है तो उद्यमी येन केन प्रकारेण पूंजी एकत्रित कर फैक्टरी लगाकर माल बनाकर उसे बेच ...

Read More

कैसे मिले स्वच्छ पेयजल

कैसे मिले स्वच्छ पेयजल

जन संसद सचेत रहें देश के अनेक इलाकों का जल संकट यदि एक ओर समाज की तकलीफों का प्रतिबिम्ब है तो दूसरी ओर सरकारी प्रयासों की दिशा एवं दशा की हकीकत को बयान करता है। समाज के लिए आंकड़ों के स्थान पर हकीकत का महत्व अधिक है। आंकड़े बताते हैं कि धरती ...

Read More


  • कर्नाटक के उपचुनाव नतीजों से उठे सवाल
     Posted On December - 13 - 2019
    कर्नाटक में हुए 15 विधानसभा उपचुनावों में से 12 में सत्तारूढ़ भाजपा की जीत का निष्कर्ष यही निकाला गया है....
  •  Posted On December - 13 - 2019
    11 दिसंबर के दैनिक ट्रिब्यून का संपादकीय ‘जानलेवा आबोहवा’ सीमा को पार करते हुए विनाशकारी वायु प्रदूषण को लेकर चेतावनी....
  • कसक जो बन गई सफलता की प्रेरणा
     Posted On December - 13 - 2019
    बालमन में यह गहरी टीस थी कि क्यों मेरे पिता जज साहब की जी-हजूरी में दिनभर हाजिरी भरते हैं। हमारे....
  •  Posted On December - 13 - 2019
    इस खबर ने चौंकाया भी और सोचने पर विवश भी किया कि जल्लाद नहीं होने से फांसी की सजा पर....

वार्ता के मार्ग से हटे अवरोधक

Posted On June - 16 - 2010 Comments Off on वार्ता के मार्ग से हटे अवरोधक
इसे केंद्र की धमकी के आगे झुकना समझा जाए या फिर नागा नेताओं की परेशान लोगों के प्रति संवेदनशीलता, फिलहाल तो आंदोलनकारी नागा नेताओं ने 64 दिन से जारी आर्थिक नाकाबंदी को अस्थायी रूप में स्थगित करने का फैसला ले ही लिया है। नागा गुटों ने अपनी मांगों को लेकर नेशनल हाइवे-39 (इम्फाल-दीमापुर) तथा नेशनल हाइवे-53 (इम्फाल-सिल्चर)पर दो महीने से अधिक अवधि से पूरी तरह आर्थिक बंद लगा रखा था। मणिपुर 

बड़ों की बचकानी राजनीति

Posted On June - 16 - 2010 Comments Off on बड़ों की बचकानी राजनीति
राजकुमार सिंह दरअसल विवाद भारतीय जनता पार्टी का पीछा छोड़ते नहीं दिखते। माना कि विवादों से इस दक्षिणपंथी पार्टी का रिश्ता बड़ा पुराना है, पर नयी पीढ़ी को नेतृत्व के नाम पर नितिन गडकरी को कमान सौंपे जाने के बाद से विवादों की मानो झड़ी ही लग गयी है। झारखंड में फजीहत के बाद पड़ोसी राज्य बिहार में विधानसभा चुनावों से पहले नये जोश-खरोश के मकसद से राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक 

ऐसे तो नहीं मज़बूत होगी आंतरिक सुरक्षा

Posted On June - 16 - 2010 Comments Off on ऐसे तो नहीं मज़बूत होगी आंतरिक सुरक्षा
कृष्ण प्रताप सिंह नक्सलवाद नक्सलियों के विरुद्ध सेना और हवाई हमलों की बात करते-करते गृहमंत्री पी$ चिदम्बरम ने देश की आन्तरिक सुरक्षा की बदहाली को लेकर जिस तरह हाथ खड़े कर दिये हैं, वह पर्याप्त रूप से चिंतनीय है। गृहमंत्री की मानें तो चाक-चौबंद आन्तरिक सुरक्षा में एकमात्र बाधा पुलिस बलों की कमी है। एक लाख की आबादी पर महज 160 पुलिस जवानों की उपलब्धता है और उनके कोई 3 लाख पद 

रोते उपभोक्ताओं को खुशखबरी!

Posted On June - 16 - 2010 Comments Off on रोते उपभोक्ताओं को खुशखबरी!
अशोक गौतम सागर में गागर वह रेहड़ा सजाए गला सुखाए जा रहा था, ‘ई-सब्जी ले लो! ई-बैंगन ले लो! ई-चीनी ले लो! ई-आटा ले लो!! ई-कपड़ा ले लो! ई-पानी ले लो!! ई -मकान ले लो! ई-रोटी ले लो ओ…’ चार फुट के रेहड़े पर इतना कुछ! ठेले पर मॉल!! पहले तो सोचा कि गर्मी में बंदा पागल हो गया होगा। वैसे भी इस देश में बंदे को पागल होने में कौन सी देर लगती है? चार पैसे हाथ आते हैं तो मेरे जैसा बंदा गधे की तरह मुहल्ले 

आपके पत्र

Posted On June - 16 - 2010 Comments Off on आपके पत्र
वंशवाद अजय कुमार, रेवाड़ी राहुल गांधी की युवा बिग्रेड यूथ कांग्रेस के हरियाणा में चुनाव सम्पन्न हो गए। यूथ कांग्रेस के चुनावों में युवा वर्ग ने बढ़चढ़कर हिस्सा लेकर अपनी राजनीतिक भूमिका तलाशने की कोशिश की है। राहुल गांधी का हाथ पकड़कर राजनीति में आने का सपना संजो रहा युवा वर्ग इन चुनावों को लेकर खासा उत्साहित भी देखा गया। किंतु भारतीय राजनीति की विडम्बना यही रही है कि आम नागरिक 

भाजपा-जदयू वाक्-युद्ध

Posted On June - 15 - 2010 Comments Off on भाजपा-जदयू वाक्-युद्ध
भारतीय जनता पार्टी और जनता दल यूनाइटेड के रिश्तों में अचानक आयी खटास इसी बात का संकेतक है कि लोकतंत्र में रहते हुए भी हमारे राजनीतिक दल और नेता परस्पर व्यवहार में भी कितने असहिष्णु हैं तथा गठबंधन राजनीति करते हुए भी गठबंधन धर्म के मर्म से दूर हैं। बिहार में नीतिश कुमार के नेतृत्व में जनता दल यूनाइटेड और भाजपा की सरकार है। इसी साल के अंत में वहां विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। 

जानलेवा यूरेनियम

Posted On June - 15 - 2010 Comments Off on जानलेवा यूरेनियम
जर्मनी की एक प्रतिष्ठिïत लैब द्वारा जारी जांच रिपोर्ट में मालवा क्षेत्र के असामान्य बच्चों में खतरनाक स्तर तक प्राणघातक यूरेनियम की उपस्थिति बेहद चिंताजनक बात है। कुल नमूनों में 80 फीसदी से अधिक में सामान्य से अधिक यूरेनियम का पाया जाना हालात की भयावहता को दर्शाता है। दुर्भाग्य की बात यह है कि दूषित पेयजल से जानलेवा बीमारियां फैलने और यूरेनियम की अधिकता की खबरें आने के बावजूद 

श्रीलंका की मदद आंख मूंदकर नहीं

Posted On June - 15 - 2010 Comments Off on श्रीलंका की मदद आंख मूंदकर नहीं
डॉ वेदप्रताप वैदिक श्रीलंका समझौते श्रीलंका के राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे की भारत-यात्रा इस दृष्टि से असाधारण थी कि पिछले तीन वर्षों में जितने भी श्रीलंकाई राष्ट्रपति भारत आए, उनकी यात्रा पर तमिल-सिंहली तनाव के काले बादल छाए रहे। अविश्वास की गहरी खाई दोनों राष्ट्रों के बीच खिंची रही। यह पहली बार है कि श्रीलंका में से लिट्टे का आतंकवाद खत्म हुआ और श्रीलंका के राष्ट्रपति 

अमीर को महंगी बिजली, गरीब को मुफ्त

Posted On June - 15 - 2010 Comments Off on अमीर को महंगी बिजली, गरीब को मुफ्त
डा. भरत झुनझुनवाला बिजली संकट गर्मी आने के साथ-साथ चारों ओर बिजली का संकट बढऩे लगा है। राज्यों के बिजली बोर्डों पर भी वित्तीय संकट गहराने लगा है। इन्हें महंगी बिजली खरीदकर सस्ती बेचनी पड़ रही है। सरकार द्वारा इस समस्या का हल बिजली के उत्पादन में वृद्धि के माध्यम से खोजा जा रहा है। विद्युत मंत्रालय थर्मल, जल विद्युत एवं परमाणु ऊर्जा का उत्पादन बढ़ाने में लगा हुआ है। बिजली 

हार स्वीकार है

Posted On June - 15 - 2010 Comments Off on हार स्वीकार है
अशोक खन्ना सागर में गागर आस्था के केन्द्र और खेल के मैदान मनुष्य के तनाव को घटाने के लिए बनाए गए थे ।  वर्तमान में यह सुकून का नहीं तनाव का सबब बन गए हैं। धर्म और खेलों में तिजारत घुस आयी  है।  विश्वभर में  इन दोनों क्षेत्रों में खरबों का कारोबार होता है। करोड़ों लोगों को इनसे प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से चुपड़ी खाने को मिल रही है ।  सट्टेबाजी और मैच-फिक्ंिसग के इस दौर में यकीन 

आपके पत्र

Posted On June - 15 - 2010 Comments Off on आपके पत्र
रक्षक बने भक्षक अनीता ठाकुर, जालंधर चंडीगढ़ पुलिस के सब-इंस्पेक्टर चरणजीत सिंह ने संगरूर निवासी कुलदीप सिंह को उसकी कार लौटाने के एवज में दस हजार रुपये रिश्वत मांगी। चरणजीत सिंह के खिलाफ जब तक पुख्ता सबूत नहीं मिल जाते तब तक उसे गिरफ्तार नहीं किया जा सकता। उधर हरियाणा के पूर्व डीजीपी एसपीएस राठौर द्वारा रुचिका के साथ छेड़छाड़ का मामला सामने आया, परंतु राठौर के खिलाफ कोई कठोर 

नक्सलियों के विरुद्ध सेना की भूमिका

Posted On June - 14 - 2010 Comments Off on नक्सलियों के विरुद्ध सेना की भूमिका
माओवादी हिंसा के विरुद्ध सेना के उपयोग के मुद्दे पर केंद्रीय मंत्रिमंडल की सुरक्षा संबंधी मामलों की समिति का किसी फैसले पर न पहुंच पाना इस मुद्दे की संवेदनशीलता व जटिलता तथा केंद्र सरकार के दिग्भ्रम, दोनों का ही प्रमाण है। माओवादियों का प्रभाव क्षेत्र और दुस्साहस किस हद तक बढ़ गया है, यह किसी से छिपा नहीं है। देश के लगभग एक-तिहाई जिले अब इस नक्सली उन्माद की चपेट में हैं। इन जिलों के 

राष्ट्र की कीमत पर स्वार्थ की राजनीति

Posted On June - 14 - 2010 Comments Off on राष्ट्र की कीमत पर स्वार्थ की राजनीति
खबरों के आगे-पीछे विश्वनाथ सचदेव भारतीय राजनीति की पतन-गाथा के बहुत-से नायकों (पढि़ए खलनायकों) में से एक का नाम है शिबू सोरेन— झारखंड मुक्ति मोर्चे के नेता, जिन्होंने झारखंड के निर्माण में  संभवत: सबसे अधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभायी थी। यह एक विडम्बना ही है कि झारखंड क्षेत्र का यह आदिवासी नेता अकसर $गलत कारणों से ही चर्चा में आया है। पहली बार जब सोरेन राष्ट्रीय पटल में चर्चा में 

टोटल लॉस होने पर पूरी बीमा राशि मिलेगी

Posted On June - 14 - 2010 Comments Off on टोटल लॉस होने पर पूरी बीमा राशि मिलेगी
अशोक श्रीश्रीमाल कानून कचहरी राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग ने नेशनल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड बनाम शेषराव एम्बाडास (पुनरीक्षण याचिका संख्या 2855/2004) के मामले में यह निर्धारित किया कि एक बार जब बीमा कंपनी ने किसी वाहन का बीमा करते समय उसकी कोई कीमत निश्चित कर दी है तो फिर पालिसी अवधि के दौरान वह टोटल लॉस के आधार पर उससे आधा मुआवजा नहीं दे सकती। बीमा कंपनी की याचिका खारिज कर 

रिटायर न होने के नियम

Posted On June - 14 - 2010 Comments Off on रिटायर न होने के नियम
सहीराम बात की बात वैसे नौकरियों से रिटायर होने के नियम होते हैं, वैसे ही राजनीति से रिटायर न होने के भी नियम होते हैं। जैसे अपने यहां प्रधानमंत्रियों को छह साल सरकार चलाने के बाद यह कहना ही होता है कि न टायर्ड, न रिटायर्ड। छह साल पहले अपनी सरकार के छह साल पूरे होने पर अटलजी ने भी यही कहा था और अब छह साल बाद अपनी सरकार के छह साल पूरे होने पर मनमोहनसिंहजी ने भी यही कहा है। जैसे 

आपके पत्र

Posted On June - 14 - 2010 Comments Off on आपके पत्र
बच्चों को संस्कार दें नीरज, करेड़ा खुर्द, यमुनानगर जनगणना कार्य करने का अवसर मुझे प्राप्त हुआ। व्यक्तिगत संपर्क बढऩे के साथ-साथ नई-नई जानकारियां भी मिलीं। कैसी विडम्बना है कि ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चों को अपने दादा-दादी/नाना-नानी का नाम तक मालूम नहीं। हैरानगी तो तब हुई जब अभिभावक भी अपने-अपने सास-ससुर के नाम स्पष्टï करने में असमर्थ दिखाई दिए। आखिर कैसे संस्कारों द्वारा हम 
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.