सरकार ने 38,900 करोड़ रुपये से लड़ाकू विमानों, मिसाइल सिस्टम की खरीद को दी मंजूरी !    मोदी ने पुतिन से की बात, द्विपक्षीय मुद्दों पर हुई चर्चा !    मुंबई हवाईअड्डा घोटाला : सीबीआई के मुंबई, हैदराबाद में जीवीके समूह के कार्यालयों में छापे !    इस वर्ष राज्यों को कलशों में भरकर भेजा जाएगा गंगाजल! !    आकाशीय बिजली गिरने से 5 की मौत, 12 झुलसे !    नीट, जेईई को लेकर स्थिति की समीक्षा करेगी कमेटी !    मोबाइल फोन से चीनी ऐप डिलीट करो, मुफ्त मास्क लो! !    हमने चीन पर किया ‘डिजिटल स्ट्राइक’ : रविशंकर प्रसाद !    कांवड़ यात्रा के लिए हरिद्वार पहुंचे तो 14 दिन के लिए खुद के खर्च पर होंगे क्वारंटीन‍! !    1948 में लगातार 5 पारियों में शतक का अनोखा रिकार्ड अब भी सर एवर्टन के नाम! !    

विचार › ›

खास खबर
दुश्मन पर अचूक निशाने वाला ब्रह्मास्त्र

दुश्मन पर अचूक निशाने वाला ब्रह्मास्त्र

एस-400 रक्षा प्रणाली योगेश कुमार गोयल द्वितीय विश्वयुद्ध में जर्मनी पर सोवियत संघ की जीत की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर सैन्य परेड में शामिल होने के लिए तीन दिवसीय दौरे पर मॉस्को गए रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने रूसी उपप्रधानमंत्री यूरी बोरिसोव से हुई द्विपक्षीय रक्षा संबंधों पर चर्चा के बाद उम्मीद ...

Read More

चीन का भारत विरोधी कारोबारी चक्रव्यूह

चीन का भारत विरोधी कारोबारी चक्रव्यूह

पुष्परंजन पहली जुलाई, 2020 से बांग्लादेशी उद्योग जगत में बहार आई है, जो चीन के बाज़ार में अपना माल एक्सपोर्ट करते हैं। 8 हज़ार 256 ऐसे प्रोडक्ट हैं, जिनके निर्यात पर कोई कर चीन को नहीं देना है। यह कुल निर्यात का 97 प्रतिशत है। इससे बांग्लादेश में गारमेंट, फ्रोज़न फूड, ...

Read More

हिंदी का हाल

हिंदी का हाल

यूपी में आठ लाख छात्र मातृभाषा में फेल यह खबर परेशान करती है कि देश के खांटी हिंदी भाषी राज्य उत्तर प्रदेश में हाई स्कूल व इंटरमीडियट के आठ लाख छात्र मातृभाषा हिंदी की परीक्षा में फेल हो गये हैं। हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा के नारों के बीच यह स्थिति बताती है ...

Read More

जीएसटी राजस्व बढ़ाने को प्रोत्साहन जरूरी

जीएसटी राजस्व बढ़ाने को प्रोत्साहन जरूरी

  भरत झुनझुनवाला केंद्र सरकार ने राज्यों को आश्वासन दिया था कि अगले पांच वर्षों में जीएसटी के राजस्व में जो भी कमी होगी उसकी भरपाई केन्द्र सरकार करेगी। उस समय अनुमान लगाया गया था कि जीएसटी में प्रति वर्ष 14 प्रतिशत की वृद्धि होगी। लेकिन जीएसटी की वसूली पिछले दो वर्षों ...

Read More

प्राथमिकता हो जनता के प्रति जवाबदेही

प्राथमिकता हो जनता के प्रति जवाबदेही

अंतर्राष्ट्रीय संसदीय दिवस सूरज मोहन झा संसद ही देश के लोगों की आवाज का प्रतिनिधित्व करती है। संसद सदन में चर्चा के बाद कानून को पारित करती है और कानूनों और नीतियों को लागू करने के लिए बजट का आवंटन भी करती है। संसद ही सरकार को जनता के प्रति जवाबदेह भी ...

Read More

पहुंच में हो इलाज

पहुंच में हो इलाज

निजी क्षेत्र सहयोग कर जिम्मेदारी निभाये हैदराबाद के एक निजी अस्पताल की वह घटना विचलित करती है, जिसमें मरणासन्न युवक ने अपने पिता को भेजे वीडियो मैसेज में बताया ‘अस्पताल में मेरे बार-बार कहने के बावजूद वेंटिलेटर हटा दिया गया है, मुझे तीन घंटे से आक्सीजन नहीं मिली है। मैं जा ...

Read More

अब की बार मेहनतकशों की ‘काम वापसी’

अब की बार मेहनतकशों की ‘काम वापसी’

आज मशहूर लेखक राजेंद्र राव जी से बात हुई। करीब महीनेभर पहले भी हुई थी। विषय था—मजदूरों की वापसी। तब उन्होंने कहा था कि सारी गाड़ियां भरकर जा रही हैं। मजदूर वापस जा रहे हैं। वे गांवों की तरफ आए थे, लेकिन जल्दी ही उन्हें पता चल गया कि यहां ...

Read More


आपकी राय

Posted On June - 6 - 2020 Comments Off on आपकी राय
संपादकीय ‘सत्ता नहीं जनता सर्वोपरि’ पढ़ा। जनता का सर्वोपरि होना इस बात पर निर्भर करता है कि शासक ओबामा है या ट्रम्प। कोरोना और रंगभेद दोनों मामलों को संभालने में ट्रम्प असफल रहे और अब इसे छिपाने के लिए बेतुकी बयानबाज़ी कर रहे हैं। ....

सिनेमा में मध्यवर्गीय जीवन का कुशल चितेरा

Posted On June - 6 - 2020 Comments Off on सिनेमा में मध्यवर्गीय जीवन का कुशल चितेरा
सुनील मिश्र बासु चटर्जी के बारे में इस समय इस पीढ़ी के सामने बात करने के लिए बहुत सारे उदाहरणों में जाना पड़ेगा। उम्र और अस्‍वस्‍थता, फिर सिनेमा की आज जो चाल है उसके अनुरूप उनका सिनेमा नहीं था लेकिन आज का सिनेमा कहीं न कहीं एक-दो उदाहरणों में उनके सिनेमा से प्रेरित या शिक्षित जरूर हो सकता है। बासु दा का सक्रिय फिल्‍म कार्यकाल 2010 तक का रहा है। आखिरी की फिल्‍में रिलीज न हो 

बांके ने चुनी बंकर की राह

Posted On June - 6 - 2020 Comments Off on बांके ने चुनी बंकर की राह
ट्रंप साहब चीन से लड़ते-लड़ते अपनों से ही लड़ बैठे। उन्हें लगा था कि चीन से लड़ेंगे तो अपनों के करीब आएंगे। यह ठीक है कि वे मोदीजी के मित्र हैं और उनसे मुत्तासिर भी बहुत हैं। इतने कि उन्हें जेंटलमैन मानते हैं। लेकिन हम तो भाई उन्हें धाकड़ मानते हैं। ....

एकदा

Posted On June - 6 - 2020 Comments Off on एकदा
एक सूफी फकीर मस्जिद में बैठकर अल्लाह से अपनी लौ में लीन थे। चारों तरफ प्रकाश फैला था। तभी अचानक झरोखे से एक पक्षी अन्दर आ गया। वह कुछ देर तक तो अन्दर इधर-उधर होता रहा। फिर बाहर निकलने की कोशिश करने लगा। कभी वह इस कोने से निकलने की कोशिश करता तो कभी उस कोने से। ....

एकदा

Posted On June - 5 - 2020 Comments Off on एकदा
एक बार एक संत सुंदर हरे-भरे उपवन में अपने शिष्यों को जीवन दर्शन समझा रहे थे। बड़ी ही सरस चर्चा चल रही थी। संत ने सबको एक काम सौंप दिया। ....

आपकी राय

Posted On June - 5 - 2020 Comments Off on आपकी राय
एक जून को दैनिक ट्रिब्यून में संपादकीय पृष्ठ पर विश्वनाथ सचदेव के ‘एक विवशता, गर्व करें या शर्म’ लेख श्रमिकों के पलायन का सटीक विश्लेषण था। ....

ज़िंदगी में हरदम तूफान का उफान

Posted On June - 5 - 2020 Comments Off on ज़िंदगी में हरदम तूफान का उफान
कोरोना की आंधी कम थी हमारे हौसलों को चुनौती देने के लिए, जो अब जान-जान पर नये-नये तूफान चले आ रहे हैं। अभी अम्फान के निशान पूरी तरह मिटे भी नहीं थे कि निसर्ग झूमता हुआ चला आया। ....

अंधेरे से जूझते दूर तलक चली ज्योति

Posted On June - 5 - 2020 Comments Off on अंधेरे से जूझते दूर तलक चली ज्योति
आज हर तरफ बिहार के दरभंगा जनपद के गांव सिरहुल्ली की ज्योति का नाम हर जुबान पर है। गुरुग्राम से अपने बीमार पिता को साइकिल पर बैठाकर बारह सौ किलोमीटर दरभंगा तक ले जाने वाली इस तेरह साल की दुबली-पतली लड़की ज्योति ने किया ही ऐसा कमाल है। ....

भयावह संकट की आहट महसूस कीजिए

Posted On June - 5 - 2020 Comments Off on भयावह संकट की आहट महसूस कीजिए
आज विश्व पर्यावरण दिवस है। इस अवसर पर प्रकृति और पर्यावरण से की गई छेड़छाड़ की चर्चा इसलिए भी आवश्यक है कि इसके कारण समूचा विश्व ग्लोबल वार्मिंग की भीषण समस्या से जूझ रहा है। ....

आपदाओं का दौर

Posted On June - 5 - 2020 Comments Off on आपदाओं का दौर
यह कहना जल्दबाजी होगी कि कोरोना संकट प्राकृतिक रौद्र है या जैविक लैब से निकली मनुष्य की महत्वाकांक्षाओं का हश्र। लेकिन इतना तय है कि इस संकट ने हमें कुदरत से सामंजस्य बनाकर प्राकृतिक जीवन जीने का संदेश दिया है। ....

सत्ता नहीं, जनता सर्वोपरि

Posted On June - 4 - 2020 Comments Off on सत्ता नहीं, जनता सर्वोपरि
चुनाव की दहलीज पर खड़ा अमेरिका इन दिनों आमजन के गुस्से की लपटों से घिरा है। अपने अजीबोगरीब बयानों के लिए सुर्खियों में रहने वाले राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर विवादित बयान देकर ‘गुस्से की आग’ को और हवा दे दी। ....

बदले हालात में नयी सोच बदलेगी तस्वीर

Posted On June - 4 - 2020 Comments Off on बदले हालात में नयी सोच बदलेगी तस्वीर
उद्योगों को पुनः अपने पैरों पर खड़ा होने में लंबा अरसा लगने वाला है। एक तरफ उत्पादन के लिए मजदूरों की कमी, दूसरी तरफ ग्राहक नदारद। मजदूर यदि आ भी जाएं तो नयी उत्पादन व्यवस्था को अपनाने के लिए इंतजार करना होगा। दरअसल, जो उत्पादन एवं सेवाएं ग्राहकों की जरूरतें थीं, उनके मायने एवं आवश्यकताएं बदल चुकी हैं। ....

आपकी राय

Posted On June - 4 - 2020 Comments Off on आपकी राय
29 मई के दैनिक ट्रिब्यून संपादकीय में ‘खुली किताब के बंधन’ कोरोना वायरस के परिणामस्वरूप शिक्षण संस्थाओं के बंद होने व ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली के माध्यम से विद्यार्थियों द्वारा घर बैठे परीक्षा देने का विश्लेषण करने वाला रहा। अध्यापक शिष्यों को सिखाने-समझाने के लिए विषयगत तरीके इस्तेमाल करते हैं। ....

फरमानों की विसंगतियों के यक्ष प्रश्न

Posted On June - 4 - 2020 Comments Off on फरमानों की विसंगतियों के यक्ष प्रश्न
पहली खबर थी कि हरियाणा की बसों में टिकट केवल ऑनलाइन बिकेंगे। फिर रेलवे के संदर्भ में खबर थी कि अब स्टेशन पर टिकट आरक्षण शुरू कर दिया है। क्या रेलवे की ऑफलाइन टिकट बिक्री से कोरोना नहीं फैलता पर बस की भौतिक टिकट बिक्री से फैलता है? इस अंतर का कोई औचित्य समझ में आता है। ....

कोरोना काल के श्वेत-स्याह सच

Posted On June - 4 - 2020 Comments Off on कोरोना काल के श्वेत-स्याह सच
संतों ने जीवन को बुलबुला, मिट्टी का भांड, नरक, क्षणभंगुर आदि न जाने क्या-क्या उपमाएं दी हैं। ज़िंदगी चाहे कहर है या ज़हर है पर यह तय है कि कोरोना ने सबको ज़िंदगी का पाठ पढ़ा दिया है। दुनिया मान गयी है कि जीवन सबसे ज्यादा मूल्यवान है। ....

एकदा

Posted On June - 4 - 2020 Comments Off on एकदा
जलालुद्दीन रूमी एक सूफी फकीर हुए। जब वह युवा थे तो खुदा से कहा मुझे इतनी ताकत दे कि दुनिया को बदल दूं। खुदा ने कोई जवाब नहीं दिया। फिर समय बीता। रूमी ने कहा खुदा इतनी ताकत दे कि मैं अपने बच्चों को बदल सकूं। फिर कोई जवाब नहीं मिला। ....
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.