प्रवासी पक्षियों की नैसर्गिक यात्राएं !    सर्दी की गर्मागर्म सौगातें !    खाते-खाते दें सीख !    अनोखा जन्मदिन !    कल करे सो आज कर !    थोड़ा-सा बचपना कर लें !    बदतर नर्सिंग होने पर बहाना नहीं चलेगा !    सफाई से दिल का रिश्ता !    वर्तमान डगर और कर्म निरंतर !    व्रत-पर्व !    

लहरें › ›

खास खबर
प्रवासी पक्षियों की नैसर्गिक यात्राएं

प्रवासी पक्षियों की नैसर्गिक यात्राएं

रमेश चन्द्र त्रिपाठी अपनी रोज़मर्रा की जिंदगी से दूर कुछ दिन कहीं प्रवास पर जाकर सुकून के दिन बिताना किसे अच्छा नहीं लगता? बदलाव की यह नैसर्गिक आकांक्षा सिर्फ इनसानों में ही नहीं अपितु पक्षियों में भी पाई जाती है। तेज बारिश एवं कड़ी धूप में भी हजारों मील का सफर ...

Read More

सर्दी की गर्मागर्म सौगातें

सर्दी की गर्मागर्म सौगातें

दीप्ति अंगरीश सर्दियों में गर्मागर्म खाने का ही नहीं गर्म तासीर वाले खाने के भी बहुत फायदे हैं। इससे शरीर की इम्युनिटी बढ़ती है और रोग पास नहीं फटकते। घीया का हलवा सामग्री : 250 ताजा घीया, एक चम्मच घी, पाव चम्मच इलायची पाउडर, पाव कप नारियल बुरादा, पाव कप मेवे की कतरन, ...

Read More

खाते-खाते दें सीख

खाते-खाते दें सीख

सुभाष चंद्र क्या कर रहो हो बेटा? इस तरह से खाना नहीं खाते। पूरी कोशिश करो कि खाना खाते समय मुंह से आवाज नहीं के बराबर हो। ये गुड मैनर्स नहीं है। ठीक है मम्मी। आगे से ध्यान रखूंगा। संभव है मां-बेटा के बीच ऐसी बातचीत आपने भी सुनी हो। आपके घर ...

Read More

अनोखा जन्मदिन

अनोखा जन्मदिन

गोविंद भारद्वाज सघन वन में इस साल कड़ाके की सर्दी पड़ रही थी। किंग लायन अपने परिवार के साथ शाही गुफा में बड़े मजे से रह रहा था। उसके बड़े बेटे यानी कि सघन वन के युवराज लोनी का जन्मदिन भी आने वाला था। ऐसी ठंड को देखते हुए किंग लायन ...

Read More

कल करे सो आज कर

कल करे सो आज कर

देवेन्द्रराज सुथार पिछले साल डाक विभाग ने अखिल भारतीय पत्र लेखन प्रतियोगिता का आयोजन किया था। प्रतियोगिता के लिए पत्र भेजने की अंतिम तिथि एक महीने बाद की थी। सो, मैंने प्रतियोगिता के विज्ञापन की कतरन किताब के पन्नों के बीच में डालते हुए सोचा कि बाद में पत्र लिख दूंगा, ...

Read More

थोड़ा-सा बचपना कर लें

थोड़ा-सा बचपना कर लें

शिल्पा जैन सुराणा हंसता, खिलखिलाता, मुस्कुराता बचपन, कितना प्यारा लगता है। जब भी किसी बच्चे को खुलकर मुस्कुराते देखते हैं तो चेहरे पर अनायास ही एक मुस्कान आ जाती है और दिल में एक ख्याल भी, हम भी अगर बच्चे होते। तो क्यों नही थोड़ा बचपना भी कर लिया जाए, माना ...

Read More

बदतर नर्सिंग होने पर बहाना नहीं चलेगा

बदतर नर्सिंग होने पर बहाना नहीं चलेगा

पुष्पा गिरिमाजी मुकम्मल नर्सिंग सेवा उपलब्ध नहीं कराने के लिए क्या मैं एक अस्पताल को जिम्मेदार ठहरा सकता हूं। कैंसर पीड़ित मेरी पत्नी इलाज के लिए निजी अस्पताल में भर्ती थी। खराब नर्सिंग देखभाल के चलते उनमें कई और जटिलताएं आ गईं और अंतत: उनकी मौत हो गई। मेरी शिकायत के ...

Read More


  • विवाह से पहले यादगार लम्हे
     Posted On December - 8 - 2019
    शादी-ब्याह की जो राह रस्मों-रीतियों से होकर गुज़रती थी, उसमें कॉकटेल, मेहंदी नाइट, बैचलर पार्टियों के बाद प्री-वेडिंग शूट्स भी....
  • सफाई से दिल का रिश्ता
     Posted On December - 8 - 2019
    इन दिनों टेंशन,डिप्रेशन व एंग्जायटी जैसी मानसिक बीमारियां हर कोई को परेशान कर रही हैं। हम अक्सर झुंझलाहट, तनाव और....
  • बदतर नर्सिंग होने पर बहाना नहीं चलेगा
     Posted On December - 8 - 2019
    मुकम्मल नर्सिंग सेवा उपलब्ध नहीं कराने के लिए क्या मैं एक अस्पताल को जिम्मेदार ठहरा सकता हूं। कैंसर पीड़ित मेरी....
  • खाते-खाते दें सीख
     Posted On December - 8 - 2019
    क्या कर रहो हो बेटा? इस तरह से खाना नहीं खाते। पूरी कोशिश करो कि खाना खाते समय मुंह से....

जलता रावण हंसता रावण

Posted On October - 6 - 2019 Comments Off on जलता रावण हंसता रावण
एक मोटे अनुमान के अनुसार रामलीला किसी न किसी रूप में भारत भर में मनाई जाती है। दशहरा भी किसी न किसी रूप में पूरे भारत में मनाया जाता है और उत्तर पश्चिम एवं मध्य भारत के हर गांव, कस्बे, नगर, महानगर के हर गली मोहल्ले में लोग अपनी-अपनी ‘रामलीला’ करते हैं। ....

पड़ोसी के बच्चे से न करें तुलना

Posted On October - 6 - 2019 Comments Off on पड़ोसी के बच्चे से न करें तुलना
सौम्या आज सहमी-सहमी है अपने घर में। शाम को पिताजी भी घर आए। लेकिन, उनसे भी बात नहीं कर रही है। आखिर क्या हुआ उसे? पिता जी ने एक बार पूछा। कोई जवाब नहीं दिया सौम्या ने। ....

आत्मज्ञान हैं राम रावण अहंकार

Posted On October - 6 - 2019 Comments Off on आत्मज्ञान हैं राम रावण अहंकार
हम सभी राम, सीता और रावण की कहानियां सुनकर बड़े हुए हैं। श्रीराम, लक्ष्मण और सीता जी को निर्वासित कर दिया गया। फिर वन में रावण ने सीता का अपहरण कर लिया। इसके पश्चात राम की अपनी पत्नी की खोज में एक लंबी साहसिक यात्रा आरंभ हुई। राम का रावण के साथ भीषण युद्ध हुआ और राम को विजय मिली। इसी दिन हम दशहरे का ....

हेल्थ और सिक्योरिटी के इनोवेटिव रास्ते

Posted On October - 6 - 2019 Comments Off on हेल्थ और सिक्योरिटी के इनोवेटिव रास्ते
दिल की बीमारियां हमेशा खतरनाक होती हैं, इसलिए अब इनसे लड़ने के लिए भी टेक्नोलॉजी ने अपने कदम आगे बढ़ा दिए हैं जो भविष्य में होने वाले हार्ट अटैक की जानकारी दे रही है। थी-डी प्रिंटिंग हार्ट से ट्रांसप्लांट के लिए लगी कतार को कम करने की कोशिश जारी है। इतना ही नहीं, सर्च इंजन गूगल भी आंखों के जरिए हृदय रोगियों को पहले ही ....

सोने-चांदी से सजा दुर्ग्याणा मंदिर

Posted On October - 6 - 2019 Comments Off on सोने-चांदी से सजा दुर्ग्याणा मंदिर
अमृतसर में विश्व प्रसिद्ध स्वर्ण मंदिर और जलियांवाला बाग के साथ दुर्ग्याणा मंदिर पर्यटकों की प्राथमिकता होती है। खासकर अाश्विन मास के नवरात्र में। अमृतसर रेलवे स्टेशन के पास स्थित दुर्ग्याणा मंदिर मुख्य रूप से श्री लक्ष्मी नारायण को समर्पित है। इसे शीतला माता मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। स्वर्ण मंदिर की तरह ही यह एक विशाल सरोवर (जिसका क्षेत्रफल 160 ....

स्वाद में सेहत वाला तड़का

Posted On October - 6 - 2019 Comments Off on स्वाद में सेहत वाला तड़का
त्योहारों का मौसम है। ऐसे में मीठा तो हर घर में बनता है। खासकर जब हलवे की बात हो तो इसके अलग-अलग ज़ायके हमारे मुंह में पानी भर देते हैं। ....

बेहतर जीवन मूल्य

Posted On October - 6 - 2019 Comments Off on बेहतर जीवन मूल्य
शिष्टाचार हमारे जीवन में कितना महत्वपूर्ण है यह तो आप सभी जानते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि शिष्टाचार की नींव बच्चे में बचपन से ही रखनी चाहिए। अच्छे शिष्टाचार से बच्चे जीवन के बेहतर मूल्य और सिद्धांत को समझ सकेंगे। गुड मैनर्स या अच्छे शिष्टाचार का महत्व बच्चों के लिए और भी अधिक हो जाता है क्योंकि बच्चे कोमल मन के होने के ....

व्रत-पर्व

Posted On October - 6 - 2019 Comments Off on व्रत-पर्व
6 अक्तूबर- श्री दुर्गाष्टमी, महाष्टमी, अन्नपूर्णा परिक्रमा 7 अक्तूबर- महानवमी, नवरात्र समाप्त, सरस्वती विसर्जन, बौद्धावतार 8 अक्तूबर- विजयादशमी (दशहरा), अपराजिता पूजन आयुध/शस्त्रादि पूजन, माधवाचार्य जयंती, साईं बाबा पुण्यतिथि 9 अक्तूबर- पापांकुशा एकादशी व्रत, भरतमिलाप 10 अक्तूबर- पद्मनाभ द्वादशी 11 अक्तूबर : प्रदोष व्रत -सत्यव्रत बेंजवाल  

पाप का अंत

Posted On October - 6 - 2019 Comments Off on पाप का अंत
बाल कविता दस शीश का दशानन ना एक शीश बचा पाया। राम ने जीत लंका सत्य का परचम फहराया। झूठ कभी जीते ना सामने कभी सच्चाई के। दुष्ट ही सदैव झुके सामने यहां अच्छाई के। जब-जब भी पाप बढ़ा लिया ईश्वर ने अवतार। राम और कृष्ण हुए मिटा दुष्टों का अत्याचार। बच्चों तुम जीवन में भगवान राम सरीखे बनो। राह अपनी नित्य ही सच पर चलने वाली चुनो। फिर न कोई रावण इस धरती पर जिंदा रहे। फिर न दुनिया में कभी अत्याचारी 

देशभर में दशहरे के कई रूप

Posted On October - 6 - 2019 Comments Off on देशभर में दशहरे के कई रूप
दशहरा यानी विजयादशमी मनाया तो देशभर में जाता है, लेकिन इसे मनाए जाने के तौर-तरीकों में काफी भिन्नता है। कुल्लू का दशहरा देशभर में ही नहीं, बल्कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विशिष्ट पहचान बना चुका है। इसे देखने के लिए देश-विदेश से हजारों लोग कुल्लू पहुंचते हैं। कुल्लू के दशहरे में न तो रामलीलाएं होती हैं और न ही रावण का पुतला जलाया जाता है। ....

कन्या पूजन के साथ रक्षा का भी लें संकल्प

Posted On October - 6 - 2019 Comments Off on कन्या पूजन के साथ रक्षा का भी लें संकल्प
मदन गुप्ता सपाटू आज दुर्गा अष्टमी सुबह 10:55 बजे तक रहेगी। इसके बाद नवमी शुरू हो जाएगी, जो सोमवार दोपहर 12:38 बजे तक रहेगी। मां दुर्गा का अष्टम स्वरूप महागौरी का है। इसीलिए आठवें नवरात्र को दुर्गाष्टमी कहा जाता है। भगवती का सुंदर, सौम्य, मोहक स्वरूप महागौरी में विद्यमान है। गौर वर्ण के कारण ही माता को महागौरी कहा गया है। अष्टमी पर महागौरी की आराधना के लिए चौकी पर सफेद रेशमी कपड़ा बिछाकर 

नवरात्रि : आज की देवियां

Posted On September - 29 - 2019 Comments Off on नवरात्रि : आज की देवियां
पितृपक्ष के बाद, यानी कि अपने पुरखों की याद, उनका शोक, उसके बाद नौ दिनों का यह उत्सव हमारे समाज की उस परिपाटी को बताता है कि सुख-दुख इसी जीवन के हिस्से हैं। ....

शिकायतें छोड़ें, खुशी से नाता जोड़ें

Posted On September - 29 - 2019 Comments Off on शिकायतें छोड़ें, खुशी से नाता जोड़ें
कुछ लोगों की आदत होती हैै बात-बात पर शिकायत करना। हर बात में मीन-मेख, रोना-धोना, चिढ़ना, चिढ़ाना, आलोचना, कुढ़ना ही शामिल होता है। कई बार यह आदत शख्स को शक्की बना देती है। यही नहीं, हर समय अपना और दूसरों का खून जलाने वालों से निकलती नकरात्मक तरंगों से लोग दूरी बना लेते हैं। नतीजतन, अकेलापन और बीमारियां घेर लेती हैं। रिश्ता केवल समाज से ....

खे‍ल नहीं बच्चों की ‘परवरिश’

Posted On September - 29 - 2019 Comments Off on खे‍ल नहीं बच्चों की ‘परवरिश’
स्नेहा बहुत परेशान रहती है । उसका पांच साल का बेटा डुग्गू बहुत ही शरारती है । खेल - खेल में कई बार बेटे की शरारत स्नेहा पर भारी पड़ जाती है । तंग आकर बेटे को पीट देती है या फिर स्वयं पर आक्रोश करती है । वह बेटे की शरारत पर काबू पाने के हरसंभव प्रयास करती है , मगर विफल रहती है ....

अहिंसा की सीख

Posted On September - 29 - 2019 Comments Off on अहिंसा की सीख
स्कूल में गांधी जयंती के कार्यक्रमों की तैयारी चल रही थी। सभी बच्चे बड़े उत्साहित थे। 2 अक्टूबर वाले दिन सुबह प्रभात फेरी निकलनी थी। जिसमें गांधी जी और उनके अनुयायियों को दिखाया जाना था। साथ ही प्रभातफेरी के बाद गांधी जी के जीवन पर आधारित एक नाटिका का मंचन भी होना था। ....

हर एक पेड़ ज़रूरी होता है

Posted On September - 29 - 2019 Comments Off on हर एक पेड़ ज़रूरी होता है
आज हर ओर पर्यावरण संरक्षण की बात सुनता हूं। कई जगह पौधारोपण की खबरें देखता-पढ़ता हूं। हाल के दिनों में जन्मदिवस के अवसर पर पौधरोपण का संदेश खूब प्रचारित होता है। मगर, गांवों में तो पौधारोपण एक नैसर्गिक प्रक्रिया जैसी है। जिसे जब मन किया और सहूलियत हुई, उसने पौधा लगाया। आज याद आ रहा है सितंबर का वह महीना। इसी महीने में तो गांव ....
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.