सिल्वर स्क्रीन !    हेलो हाॅलीवुड !    साहित्यिक सिनेमा से मोहभंग !    एक्यूट इंसेफेलाइिटस सिंड्रोम से बच्चों को बचाएं !    चैनल चर्चा !    बेदम न कर दे दमा !    दिल को दुरुस्त रखेंगे ये योग !    कंट्रोवर्सी !    दुबला पतला रहना पसंद !    हिंदी फीचर फिल्म : फर्ज़ !    

लहरें › ›

खास खबर
आज़ादी का संघर्ष

आज़ादी का संघर्ष

ललित शौर्य कमल पांचवीं कक्षा में पढ़ता था। हर साल वह पन्द्रह अगस्त के कार्यक्रमों में बड़े उत्साह के साथ भाग लेता था। लेकिन उसको एक बात समझ में नहीं आती थी कि आखिर हर साल पंद्रह अगस्त क्यों मनाया जाता है। हर साल स्वतंत्रता दिवस मनाने से क्या लाभ है। ...

Read More

डंडे का कमाल

डंडे का कमाल

राजपाल सिंह गुलिया अतीत में झांकता हूं तो स्मृतिपटल पर न जाने कितनी ही तस्वीरें उभरने लगती हैं। स्कूल का वह दिन याद आ जाता है। एक दिन मास्टरजी ने सुबह की प्रार्थना सभा के बाद कड़क आवाज़ में कहा, ‘कच्ची पहली वाले सभी बच्चे खड़े हो जाएं, जिनका नाम नहीं ...

Read More

बात करने की कला

बात करने की कला

मोनिका अग्रवाल दरअसल, बात कह देना ही काफी नहीं होता। बात को ठीक प्रकार से कहना एक कला है। कहने का अभिप्राय है कि जितनी भी बात की जाए वह अर्थपूर्ण हो। पुरानी कहावत है कि निरर्थक बात से ज्यादा अच्छी अर्थपूर्ण चुप्पी है। बेसिर-पैर की बातें सिर्फ हंसी का पात्र ...

Read More

महिलाओं की गिरफ्तारी पर क्या हैं नियम

महिलाओं की गिरफ्तारी पर क्या हैं नियम

मधु गोयल कानून में महिलाओं को बहुत से अधिकार दिये हैं, जिनके बारे में उन्हें ज्यादा जानकारी नहीं है। ज़रूरी है कि महिलाएं जानें कि उन्हें कौन से कानूनी अधिकार मिले हैं ताकि वह अपने साथ हुए अत्याचार के खिलाफ आवाज़ उठा सकें। किसी भी महिला की गिरफ्तारी के नियम और ...

Read More

इतिहास के आईने से  प्रतिबंधित साहित्य

इतिहास के आईने से प्रतिबंधित साहित्य

राजवंती मान मुझको कौमी दर्द का बीमार रहने दीजिये। मुल्क की खातिर मुझे बेजार रहने दीजिये॥ (प्रतिबंधित लाहौर की फांसी’ उर्फ भगतसिंह का तराना, एन.एल.ए. ‘बमलट’, 1931, बनारस सिटी) अंग्रेजों के भारत में काबिज़ होते ही प्राच्य ज्ञान, संस्कृति और मूल्यों पर पाश्चात्य असर दृष्टिगोचर होने लगा। सभ्यताओं के बीच की खाई से जागरूक ...

Read More

आज से मार्गी होंगे बृहस्पति, सभी रािशयों पर असर

आज से मार्गी होंगे बृहस्पति, सभी रािशयों पर असर

मदन गुप्ता सपाटू ज्योतिष के अनुसार हमारे सौरमंडल में जब भी कोई बड़ा ग्रह राशि परिवर्तन करता है, वह वक्री या मार्गी होता है, उदय अथवा अस्त होता है या उसकी गति बदलती है, तो धरती के अलावा मानव जीवन पर विशेष प्रभाव पड़ते हैं। ज्योतिष में बृहस्पति ग्रह का महत्व ...

Read More

लोहागर्ल जहां पानी में गल गयी थी भीम की गदा

लोहागर्ल जहां पानी में गल गयी थी भीम की गदा

सुनील दीक्षित हरियाणा के साथ लगते राजस्थान में कई धार्मिक और ऐतिहासिक स्थान हैं, जहां श्रद्धालुओं व पर्यटकों का 12 माह आना-जाना लगा रहता है। ऐसा ही एक स्थान है लोहागर्ल। अब ‘लुहागरजी’ के नाम से प्रसिद्ध यह धार्मिक रमणीक स्थान झुंझुनू से 30 किलोमीटर की दूरी पर नवलगढ़ तहसील में ...

Read More


पापा का प्यार

Posted On June - 16 - 2019 Comments Off on पापा का प्यार
ललित शौर्य मोनू बड़ा शरारती लड़का था। हर समय कुछ न कुछ धमाल करता रहता। घर, स्कूल हर जगह उसकी शैतानी के खूब चर्चे थे। सभी उसको समझा कर थक चुके थे। पापा मोनू को उसकी शरारतों पर डांट लगाते थे। इसीलिए वो हमेशा पापा से नाराज रहता। उसे मम्मी ही सबसे प्यारी लगती। पापा से नाराजगी इतनी ज्यादा रहती कि वो जानबूझ कर उनका कहा नहीं मानता। पापा कभी पानी का गिलास मांग लें तो वो वहां से उठकर कहीं और 

कोने-कोने में टेक्नोलॉजी

Posted On June - 16 - 2019 Comments Off on कोने-कोने में टेक्नोलॉजी
कुमार गौरव अजीतेन्दु टेक्नोलॉजी के विस्तार ने न केवल इनसानों को हमेशा सहूलियत दी है बल्कि इससे उनकी आंतरिक क्षमताओं का भी विकास हुआ है। अगर आप किसी काम को मॉडर्न तरीके से करते हैं तो यह आपके समय के साथ चलने का परिचायक होता है। आज तकनीक ने घर के कोने-कोने में अपनी उपस्थिति दर्ज करानी शुरू कर दी है। आओ बताते हैं तुम्हें ऐसी ही कुछ इनोवेटिव टेक्नीक्स के बारे में। स्मार्ट टॉयलेट सीट आज 

जीवन को सम्बल देता प्यारा रिश्ता

Posted On June - 16 - 2019 Comments Off on जीवन को सम्बल देता प्यारा रिश्ता
रिश्ते/ फादर्स डे मोनिका शर्मा जिंदगी की अनगिनत उलझनों को जीते हुए पिता हमेशा संघर्षशील रहते हैं। रात-दिन तकलीफों का पहाड़ ढोते हैं। ताकी बच्चों के जीवन को सुकून और स्थायित्व मिल सके। भावी पीढ़ी की जिंदगी की बुनियाद को ठोस आधार देने के लिए अपना सुख- चैन भुला देते हैं। तेज़ी से दौड़ती जिंदगी में संतुलन साधकर बच्चों के जीवन को दिशा देने का काम करते हैं। पिता के मन के जज़्बात 

आसां नहीं अब पेरेंटिंग

Posted On June - 16 - 2019 Comments Off on आसां नहीं अब पेरेंटिंग
श्रुति एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में काम करती है। सवेरे आठ बजे घर से निकल कर रात के नौ बजे घर पहुंचती है। घर में उसने सीसीटीवी लगवा रखा है। मोबाइल से देखती रहती है कि उसका दो साल का बच्चा ठीक तो है। जब बच्चा बीमार पड़ जाता है और छुट्टी लेने की नौबत आती है तो भारी मुश्किल का सामना करना पड़ता है क्योंकि ....

व्रत-पर्व

Posted On June - 16 - 2019 Comments Off on व्रत-पर्व
16 जून : वट सावित्री व्रत, श्री सत्यनारायण व्रत 17 जून : ज्येष्ठ पूर्णिमा, संत कबीर जयंती (621वीं) 18 जून : आषाढ़ कृष्ण पक्ष प्रारंभ, गुरु हरगोविन्द सिंह जयंती 19 जून : ऋषभनाथ जयंती 20 जून : श्री गणेश चतुर्थी व्रत 21 जून : सायन दक्षिणायन प्रारंभ, वर्षा ऋतु शुरू, अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 22 जून : शक आषाढ़ प्रारंभ -सत्यव्रत बेंजवाल  

शनि को मंगल बदलेगा घर

Posted On June - 16 - 2019 Comments Off on शनि को मंगल बदलेगा घर
ऊर्जा, शक्ति एवं पराक्रम का कारक ग्रह मंगल राशि बदलने जा रहा है। यह 22 जून (शनिवार) को रात 11:21 बजे अपनी नीच राशि कर्क में प्रवेश करेगा और 9 अगस्त की सुबह तक इसी में रहेगा। ज्योतिष के अनुसार मंगल का यह राशि परिवर्तन कई तरह से प्रभाव डालेगा। विभिन्न राशियों पर इसका असर पड़ेगा। ....

जयंती देवी अपनी भक्त के साथ आयी थी मां की डोली

Posted On June - 16 - 2019 Comments Off on जयंती देवी अपनी भक्त के साथ आयी थी मां की डोली
चंडीगढ़ से करीब 10 किलोमीटर की दूरी पर मोहाली के गांव जयंती माजरी में स्थित है माता जयंती देवी का प्राचीन मंदिर। जयंती माजरी गांव पहाड़ की तराई में बसा है। इसके पास ही जयंती राव नाम की एक मौसमी धारा बहती है। करीब 100 सीढ़ियां चढ़कर इस मंदिर तक पहुंचा जा सकता है। ....

कबिरा सोई पीर है जो जाने पर पीर…

Posted On June - 16 - 2019 Comments Off on कबिरा सोई पीर है जो जाने पर पीर…
महापुरुष एवं संत महात्मा युग-द्रष्टा होते हैं, तो युग स्रष्टा भी। वास्तव में युगीन परिस्िथतियां ही किसी महापुरुष के इस धरा पर आगमन का कारण बनती हैं। महात्मा कबीर के समय मुगल शासकों के अत्याचारों से पीड़ित हिन्दू समाज कई वर्गों-समूहों में विखंडित हो गया था। ....

खुशियों का परिवार

Posted On June - 9 - 2019 Comments Off on खुशियों का परिवार
जहां तकनीक ने बहुत कुछ दिया है, वहीं बहुत कुछ छीन भी लिया है। याद करें परिवार में नानी, दादी, चाची, बुुआ का लाड़-प्यार। तकनीक बिछड़ों को जोड़ रही है, लेकिन असल भावनाओं से दूर कर रही है। साथ रहते हुए भी हम एक-दूसरे से अंजान हैं। जानते हैं, इन दूरियों को पाटने के कुछ कारगर गुर। ....

स्नान-दान का महापर्व गंगा दशहरा

Posted On June - 9 - 2019 Comments Off on स्नान-दान का महापर्व गंगा दशहरा
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार राजा भगीरथ ने अपने पूर्वजों के उद्धार के लिए पतित-पावनी मां गंगा के पृथ्वी लोक पर अवतरण हेतु घोर तपस्या की। कई वर्ष बीतने के पश्चात मां गंगा भगीरथ की तपस्या से प्रसन्न हो गयीं। फलस्वरूप भगवान शिव की जटाओं में अधिष्ठित होकर मां गंगा अपने भक्त की पुकार पर स्वर्ग लोक से पृथ्वी लोक पर अवतरित हो गयीं। ....

हर सांस पर ध्यान

Posted On June - 9 - 2019 Comments Off on हर सांस पर ध्यान
हमारे शरीर में चलने वाली सांस, एक यांत्रिक प्रक्रिया है, जो लगातार बिना रुके चलती है। यह बहुत आश्चर्यजनक है कि अधिकतर लोग इसके बारे में जागरूक हुए बिना ही जीते रहते हैं। लेकिन, एक बार जब आप सांस के बारे में जागरूक हो जाते हैं, तो यह एक अद‍्भुत प्रक्रिया बन जाती है। इसमें कोई आश्चर्य नहीं है कि आज 'सांस को देखना' संभवतः ....

सम्मान और सहयोग का रिश्ता

Posted On June - 9 - 2019 Comments Off on सम्मान और सहयोग का रिश्ता
शारीरिक अक्षमता से जूझ रहे लोगों को सहानुभूति नहीं चाहिए। जरूरत पड़ने पर बस थोड़ा सहयोग कीजिये। आपका ऐसा व्यवहार उन्हें कमतर नहीं बल्कि बराबरी महसूस करवाता है। वे खुद को अलग-थलग नहीं बल्कि आपसे, अपने माहौल से जुड़ा हुआ पाते हैं। यूं भी किसी इंसान का मूल्यांकन उसकी शारीरिक क्षमता से नहीं, बल्कि उसकी सोच और काबिलियत से होनी चाहिए। ....

लंका से कश्मीर आयी मां क्षीर भवानी

Posted On June - 9 - 2019 Comments Off on लंका से कश्मीर आयी मां क्षीर भवानी
श्रीनगर से 27 किलोमीटर दूर तुलमुल्ला गांव में स्थित क्षीर भवानी मंदिर कश्मीर के प्रमुख धार्मिक स्थलों में से एक है। मां क्षीर भवानी व दुर्गा को समर्पित इस मंदिर के चारों ओर चिनार के पेड़ और जलधाराएं हैं, जो इस स्थान की सुंदरता में चार चांद लगाते नज़र आते हैं। महाराग्य देवी, रग्न्या देवी, रजनी देवी, रग्न्या भगवती इस मंदिर के अन्य प्रचलित नाम ....

व्रत-पर्व

Posted On June - 9 - 2019 Comments Off on व्रत-पर्व
9 जून : भानु सप्तमी पर्व 10 जून : श्री दुर्गाष्टमी, धूमावती जयंती, मेला क्षीर-भवानी (कश्मीर) 11 जून : बड़का मंगल हनुमान पूजा (लखनऊ) 12 जून : श्री गंगा दशहरा पर्व (हरिद्वार), श्री रामेश्वर प्रतिष्ठा दिवस 13 जून : निर्जला एकादशी व्रत 14 जून : प्रदोष व्रत, वटसावित्री व्रतारंभ 15 जून : आषाढ़ संक्रांति (30 मुहूर्ति)                                               -सत्यव्रत 

बच्चों का लंच बॉक्स

Posted On June - 9 - 2019 Comments Off on बच्चों का लंच बॉक्स
आप हर सुबह बच्चे का लंच बॉक्स बड़ी मेहनत से तैयार करती हैं, लेकिन वे उसे जस का तस वापस ले आते हैं। अगर आप भी बच्चों के इस रवैये से हैं तो उनके टिफिन बॉक्स को थोड़ा हटकर पैक करें। ....

बाल कविता

Posted On June - 9 - 2019 Comments Off on बाल कविता
सूरज दादा सूरज दादा, सूरज दादा आज करो इक हमसे वादा। नरमी थोड़ा दिखलाओ ना, आग ज़रा कम बरसाओ ना। जल उठा है धरती का बदन, मुरझा गया है खिलता चमन। सताती है ये धूप ज्यादा, सूरज दादा, सूरज दादा। सूख गये सब ताल तलैया, पसीने में तर बहन-भैया। सूने सारे खेत-खलिहान, ठाली बैठें हैं सब किसान। बदलो ज़रा अब तो इरादा, सूरज दादा, सूरज दादा। सुन लो अब बच्चों की पुकार, बरसाओं बूंदों की फुहार। भेजो बादलों