बिहार में लू से अब तक 61 की मौत !    पंकज सांगवान की पार्थिव देह आज पहुंचने की उम्मीद !    टीचर का स्नेह भरा स्पर्श !    बाथरूम इस्तेमाल के तरीके !    मेरे पापा जी !    सुपरफूड सोया !    कार्यस्थल पर सुरक्षित माहौल !    काम का रैप ... !    पापा का प्यार !    कोने-कोने में टेक्नोलॉजी !    

लहरें › ›

खास खबर
टीचर का स्नेह भरा स्पर्श

टीचर का स्नेह भरा स्पर्श

सविता स्याल उम्र के इस पड़ाव पर, जब जीवन के खट्टे-मीठे अनुभव याद करती हूं तो नये विद्यालय में पहली कक्षा का प्रथम दिवस आज भी मेरे स्मृति पटल पर ऊभर आता है तथा मेरे चेहरे पर एक हल्की सी मुस्कुराहट दे जाता है । मुझे रात को ही मां ने ...

Read More

मेरे पापा जी

मेरे पापा जी

पापा जी मेरे पापा जी सबसे गहरा है नाता जी। बड़े लाड़ से हमको पालें हैं ये जीवन के रखवाले। कैसी भी हों हालात भले हर हाल में हमको संभाले। प्यार इनका ही लुभाता जी सबसे गहरा है नाता जी। मेहनत कर हमको पढ़ाते मंजिल तक सदा पहुंचाते। देकर अच्छे संस्कार हमें एक अच्छा इनसान बनाते। रखे छांव में बन छाता जी सबसे ...

Read More

कार्यस्थल पर सुरक्षित माहौल

कार्यस्थल पर सुरक्षित माहौल

मधु गोयल वैसे तो महिलाएं हर क्षेत्र में कामयाबी दर्ज करा रही हैं। बदलते वक्त के साथ उनकी भूमिकाएं भी बदली हैं। फिर भी काफी महिलाएं अपने अधिकारों के प्रति सचेत नहीं हैं। ज्यादा से ज्यादा महिलाएं सार्वजनिक क्षेत्रों में सक्रिय रूप से भाग ले पाएं इसके लिये वर्कप्लेस पर उनकी ...

Read More

सुपरफूड सोया

सुपरफूड सोया

सही मायनों में सुपरफूड है सोयाबीन। यह एक कंपलीट फूड है, जिसे हम दूध, दही और आटा के तौर पर अपने खान-पान में शामिल करते हैं। इसे दाल के रूप में पकाकर भी इसका भरपूर प्रोटीन प्राप्त किया जा सकता है। इतना ही नहीं सोयाबीन के बीज पीसकर इससे कुकिंग ...

Read More

काम का रैप ...

काम का रैप ...

दीप्ति अंगरीश परिवार की होम मिनिस्टर हैं तो काम में रैप करना आपको सभी सदस्यों को सिखाना होगा। आप चाहती हैं कि परिवार का हर सदस्य पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ में सफलता हासिल करे तो अपनाएं ये टिप्स... काम को आंकें परिवार को सिखाइए कि अपने पर्सनल व प्रोफेशनल काम को हर पहलू ...

Read More

कोने-कोने में टेक्नोलॉजी

कोने-कोने में टेक्नोलॉजी

कुमार गौरव अजीतेन्दु टेक्नोलॉजी के विस्तार ने न केवल इनसानों को हमेशा सहूलियत दी है बल्कि इससे उनकी आंतरिक क्षमताओं का भी विकास हुआ है। अगर आप किसी काम को मॉडर्न तरीके से करते हैं तो यह आपके समय के साथ चलने का परिचायक होता है। आज तकनीक ने घर के ...

Read More

जीवन को सम्बल देता प्यारा रिश्ता

जीवन को सम्बल देता प्यारा रिश्ता

रिश्ते/ फादर्स डे मोनिका शर्मा जिंदगी की अनगिनत उलझनों को जीते हुए पिता हमेशा संघर्षशील रहते हैं। रात-दिन तकलीफों का पहाड़ ढोते हैं। ताकी बच्चों के जीवन को सुकून और स्थायित्व मिल सके। भावी पीढ़ी की जिंदगी की बुनियाद को ठोस आधार देने के लिए अपना सुख- चैन भुला देते हैं। तेज़ी ...

Read More


  • आसां नहीं अब पेरेंटिंग
     Posted On June - 16 - 2019
    श्रुति एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में काम करती है। सवेरे आठ बजे घर से निकल कर रात के नौ बजे घर....
  • कबिरा सोई पीर है जो जाने पर पीर…
     Posted On June - 16 - 2019
    महापुरुष एवं संत महात्मा युग-द्रष्टा होते हैं, तो युग स्रष्टा भी। वास्तव में युगीन परिस्िथतियां ही किसी महापुरुष के इस....
  • टीचर का स्नेह भरा स्पर्श
     Posted On June - 16 - 2019
    सविता स्याल उम्र के इस पड़ाव पर, जब जीवन के खट्टे-मीठे अनुभव याद करती हूं तो नये विद्यालय में पहली कक्षा का प्रथम 
  • जीवन को सम्बल देता प्यारा रिश्ता
     Posted On June - 16 - 2019
    रिश्ते/ फादर्स डे मोनिका शर्मा जिंदगी की अनगिनत उलझनों को जीते हुए पिता हमेशा संघर्षशील रहते हैं। रात-दिन 

तो ये करें महिलाएं

Posted On April - 21 - 2019 Comments Off on तो ये करें महिलाएं
आईपीसी की धारा 294 व 509 के तहत किसी भी महिला को अभद्र इशारा करना, हरकत करना कानूनन अपराध है। अगर ऐसे हालात में कोई महिला पुलिस स्टेशन जाती है तो उसका बयान दर्ज किया जायेगा। अगर पुलिस शिकायत दर्ज न करे तो महिला अदालत या राष्ट्रीय महिला आयोग के पास शिकायत कर सकती है। ....

उत्कृष्ट बनें

Posted On April - 21 - 2019 Comments Off on उत्कृष्ट बनें
याद रखिए जिस तरह हम किसी की तस्वीर के लिए कैमरे का इस्तेमाल करते हैं, ठीक उसी तरह इंसान के शरीर में भी उसकी आंखें यह कैमरे का काम करती हैं। बस 2- 3 सेकेंड में ही इंप्रेशन तय हो जाता है । उसी से आपकी इमेज बनती है। ....

यहां सरस्वती को शापमुक्त करने आये थे महादेव

Posted On April - 21 - 2019 Comments Off on यहां सरस्वती को शापमुक्त करने आये थे महादेव
हरियाणा वैदिक काल से ही आर्य-संस्कृति का केंद्र रहा है। इसे यह गौरव देव-नदी के कारण ही प्राप्त हुआ। सरस्वती ही प्रदेश की हरीतिमा का कारक बनी। सरस्वती के तट पर ऋषि-मुनियों के आश्रमों का उल्लेख मिलता है। ....

‘वसंत’ का पर्व ईस्टर

Posted On April - 21 - 2019 Comments Off on ‘वसंत’ का पर्व ईस्टर
ईसाइयों के सबसे महत्वपूर्ण पर्वों में से एक है ईस्टर। यह हमेशा 22 मार्च से 25 अप्रैल के बीच किसी रविवार के दिन मनाया जाता है। वसंत ऋतु की पहली पूर्णमासी के बाद आने वाला पहला रविवार। शुरुआत में इस बात पर बड़ा विवाद था, क्योंकि ईस्टर का आरंभ यहूदी फसह पर्व से जुड़ा हुआ था, जो महीने के चौदहवें दिन मनाया जाता था। ....

जिहि प्रानी हउमै तजी करता रामु पछानि…

Posted On April - 21 - 2019 Comments Off on जिहि प्रानी हउमै तजी करता रामु पछानि…
गुरु तेग बहादुर जी की वाणी में जिंदगी के अनेक फलसफे हैं। जिंदगी के असल मकसद से दूर लोभ-मोह-अहंकार में फंसे लोगों को गुरु ने समझाया कि परमात्मा के भजन के बिना यह जीवन व्यर्थ बीत गया तो आखिर में पछतावा ही बचेगा। उन्होंने कहा- करणो हुतो सु ना कीओ परिओ लोभ कै फंध।। ....

प्रभु सुमिरन ही सबसे दुर्लभ

Posted On April - 21 - 2019 Comments Off on प्रभु सुमिरन ही सबसे दुर्लभ
गुरु अर्जुन देव जी महाराज का फरमान है कि मनुष्य जिस चीज को महान समझ लेता है, खास समझ लेता है, उसकी प्राप्ति की इच्छा उसके अंदर स्वाभाविक ही पैदा हो जाती है। मनुष्य की नजरों में जो चीज तुच्छ है, मामूली है, वह चीज अगर उसकी झोली में डालने की कोशिश भी करे, तो वो उसको फेंक देता है, कबूल नहीं करता। सवाल यह ....

संकट दूर करेंगे हनुमान

Posted On April - 14 - 2019 Comments Off on संकट दूर करेंगे हनुमान
हनुमान जयंती वर्ष में दो बार मनाई जाती है। चैत्र मास की पूर्णिमा को मनाई जाने वाली हनुमान जयंती इस बार 19 अप्रैल को है। माना जाता है कि इस दिन हनुमान जी का व्रत रखने, उनकी आराधना करने से संकट दूर होते हैं और सुख-शांति मिलती है। संकटमोचक, मंगलकारी हनुमान जी के साथ ही श्रीराम और सीता मैया की भी पूजा की जाती है। ....

व्रत-पर्व

Posted On April - 14 - 2019 Comments Off on व्रत-पर्व
14 अप्रैल- श्री दुर्गा नवमी, नवरात्र-समाप्त, वैशाख संक्रांति (15 मूहूर्ति), वैशाखी पर्व 15 अप्रैल- कामदा एकादशी व्रत (स्मार्त), शिलहेम्बा (मणिपुर), बगाह बिहु (असम)। 16 अप्रैल- कामदा एकादशी व्रत (वैष्णव), लक्ष्मीकान्त दोलोत्सव मदन द्वादशी, वामन द्वादशी। 17 अप्रैल- प्रदोष व्रत, श्री महावीर जयंती, श्री विष्णु दमनोत्सव। 18 अप्रैल- श्री शिव दमनोत्सव, श्री सत्यनारायण व्रत 19 अप्रैल- चैत्री पूर्णिमा (स्नानदानादि), 

भीतर उमंग, बाहर आनंद

Posted On April - 14 - 2019 Comments Off on भीतर उमंग, बाहर आनंद
आज चारों तरफ दुखी, चिंतित लोगों की भीड़ है। लोग शरीर से तो मौजूद हैं, पर आत्मा से नदारद हैं। प्राणवान, उत्सवपूर्ण और आनंदित जीवन जीने वाला व्यक्ति आज तलाशना मुश्किल है। दरअसल, जीवन का आनंद जीने वाले की दृष्टि में होता है। उमंग, आनंद और उत्सव न हो तो जीवन एक बोझ हो जाता है। जो इन सबका अनुभव कर ले, वही जान पाता ....

महावीर को जीवंत बनायें

Posted On April - 14 - 2019 Comments Off on महावीर को जीवंत बनायें
भगवान महावीर की जयंती मनाते हुए हमें महावीर बनने का संकल्प लेना होगा। उन्होंने जीवनभर अनगिनत संघर्ष झेले, कष्ट सहे, दुख में से सुख खोजा और गहन तप एवं साधना के बल पर सत्य तक पहुंचे, इसलिए वे हमारे लिए आदर्शों की ऊंची मीनार बन गये। उन्होंने समझ दी कि महानता कभी भौतिक पदार्थों, सुख-सुविधाओं, संकीर्ण सोच एवं स्वार्थी मनोवृत्ति से प्राप्त नहीं की जा ....

राम जनम के हेतु अनेका…

Posted On April - 14 - 2019 Comments Off on राम जनम के हेतु अनेका…
करोड़ों-करोड़ हिन्दुओं की आस्था के प्रतीक, आराध्य, रामायण के नायक और भगवान विष्णु के अंशावतार मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम के इस धरा पर अवतरित होने का आज पुण्य-पावन दिवस है। यथार्थ में दशरथ पुत्र राम भारतीय लोकजीवन में सर्वत्र, सर्वदा एवं प्रवाहमान ऊर्जा का नाम हैं। रामचरितमानस के रचयिता गोस्वामी तुलसीदास जी ने भगवान राम के धरती पर अवतरित होने के कारण को स्पष्ट किया ....

पेड़ चाहते होंगे

Posted On April - 14 - 2019 Comments Off on पेड़ चाहते होंगे
हम बच्चों के झूले खातिर टहनी सदा झुकाएं। खुद पीड़ा सहकर भी वे तो ....

कांस्य युग में लोमड़ियां पालता था मानव

Posted On April - 14 - 2019 Comments Off on कांस्य युग में लोमड़ियां पालता था मानव
बच्चों! मानव इतिहास की पढ़ाई में हमें विभिन्न युगों के बारे में बताया जाता है। जैसे कि पाषाण काल, कांस्य काल वगैरह-वगैरह। अब वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि तीसरी और दूसरी सहस्राब्दी ईसा पूर्व के बीच मनुष्य कुत्तों के अलावा लोमड़ियां भी पालता था। उन्होंने पाया कि उस समय इन जानवरों को भी वही आहार दिया जाता था जो मनुष्य खुद खाता था। ....

बच्चों की भी सुनें

Posted On April - 14 - 2019 Comments Off on बच्चों की भी सुनें
अपने आपको अभिव्यक्त करना प्राणी का स्वभाव है वहीं वाणी बहुत बड़ा वरदान है। वाणी के माध्यम से भावों की अभिव्यक्ति सरलता, सहजता से हो जाती है। चाहे कोई किसी भी आयु वर्ग से सम्बन्ध रखता हो, उसके पास व्यक्त करने के लिए बहुत कुछ होता है। जहां तक बच्चे की बात है उसका अनुभव सीमित होता है। सीमितता के बावजूद वह बहुत कुछ कहना, ....

बैसाखी की धूम

Posted On April - 14 - 2019 Comments Off on बैसाखी की धूम
नवीन अभी स्कूल पहुंचा ही था। वो स्कूल की सजावट को देख कर चौंक गया। स्कूल में चारों ओर गुब्बारे और पताके लगे हुए थे। स्कूल को बड़े ही सुंदर तरीके से सजाया गया था। मेन गेट पर दो गमले रखे थे। जिन पर आकर्षक फूल खिले हुए थे। वो सोच में पड़ गया। आखिर आज ऐसा क्या है, जो स्कूल को इतना सजाया गया ....

एक रिश्ता खुद से भी

Posted On April - 14 - 2019 Comments Off on एक रिश्ता खुद से भी
आपने अपने दोस्तों के साथ आउटिंग की योजना बनाई है। आप अच्छी तरह से तैयार होकर पहुंच गई हैं, पार्टी के बीच में आपकी शादीशुदा सहेली अपने घर कई बार फोन करके पता करती है कि सब कुछ ठीक तो है, उसका बच्चा रो तो नहीं रहा है। लेकिन आपको कुछ ऐसा नहीं करना होता है। यदि सब कुछ ठीक नहीं है तो उसे पार्टी ....
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.