सिल्वर स्क्रीन !    हेलो हाॅलीवुड !    साहित्यिक सिनेमा से मोहभंग !    एक्यूट इंसेफेलाइिटस सिंड्रोम से बच्चों को बचाएं !    चैनल चर्चा !    बेदम न कर दे दमा !    दिल को दुरुस्त रखेंगे ये योग !    कंट्रोवर्सी !    दुबला पतला रहना पसंद !    हिंदी फीचर फिल्म : फर्ज़ !    

लहरें › ›

खास खबर
आज़ादी का संघर्ष

आज़ादी का संघर्ष

ललित शौर्य कमल पांचवीं कक्षा में पढ़ता था। हर साल वह पन्द्रह अगस्त के कार्यक्रमों में बड़े उत्साह के साथ भाग लेता था। लेकिन उसको एक बात समझ में नहीं आती थी कि आखिर हर साल पंद्रह अगस्त क्यों मनाया जाता है। हर साल स्वतंत्रता दिवस मनाने से क्या लाभ है। ...

Read More

डंडे का कमाल

डंडे का कमाल

राजपाल सिंह गुलिया अतीत में झांकता हूं तो स्मृतिपटल पर न जाने कितनी ही तस्वीरें उभरने लगती हैं। स्कूल का वह दिन याद आ जाता है। एक दिन मास्टरजी ने सुबह की प्रार्थना सभा के बाद कड़क आवाज़ में कहा, ‘कच्ची पहली वाले सभी बच्चे खड़े हो जाएं, जिनका नाम नहीं ...

Read More

बात करने की कला

बात करने की कला

मोनिका अग्रवाल दरअसल, बात कह देना ही काफी नहीं होता। बात को ठीक प्रकार से कहना एक कला है। कहने का अभिप्राय है कि जितनी भी बात की जाए वह अर्थपूर्ण हो। पुरानी कहावत है कि निरर्थक बात से ज्यादा अच्छी अर्थपूर्ण चुप्पी है। बेसिर-पैर की बातें सिर्फ हंसी का पात्र ...

Read More

महिलाओं की गिरफ्तारी पर क्या हैं नियम

महिलाओं की गिरफ्तारी पर क्या हैं नियम

मधु गोयल कानून में महिलाओं को बहुत से अधिकार दिये हैं, जिनके बारे में उन्हें ज्यादा जानकारी नहीं है। ज़रूरी है कि महिलाएं जानें कि उन्हें कौन से कानूनी अधिकार मिले हैं ताकि वह अपने साथ हुए अत्याचार के खिलाफ आवाज़ उठा सकें। किसी भी महिला की गिरफ्तारी के नियम और ...

Read More

इतिहास के आईने से  प्रतिबंधित साहित्य

इतिहास के आईने से प्रतिबंधित साहित्य

राजवंती मान मुझको कौमी दर्द का बीमार रहने दीजिये। मुल्क की खातिर मुझे बेजार रहने दीजिये॥ (प्रतिबंधित लाहौर की फांसी’ उर्फ भगतसिंह का तराना, एन.एल.ए. ‘बमलट’, 1931, बनारस सिटी) अंग्रेजों के भारत में काबिज़ होते ही प्राच्य ज्ञान, संस्कृति और मूल्यों पर पाश्चात्य असर दृष्टिगोचर होने लगा। सभ्यताओं के बीच की खाई से जागरूक ...

Read More

आज से मार्गी होंगे बृहस्पति, सभी रािशयों पर असर

आज से मार्गी होंगे बृहस्पति, सभी रािशयों पर असर

मदन गुप्ता सपाटू ज्योतिष के अनुसार हमारे सौरमंडल में जब भी कोई बड़ा ग्रह राशि परिवर्तन करता है, वह वक्री या मार्गी होता है, उदय अथवा अस्त होता है या उसकी गति बदलती है, तो धरती के अलावा मानव जीवन पर विशेष प्रभाव पड़ते हैं। ज्योतिष में बृहस्पति ग्रह का महत्व ...

Read More

लोहागर्ल जहां पानी में गल गयी थी भीम की गदा

लोहागर्ल जहां पानी में गल गयी थी भीम की गदा

सुनील दीक्षित हरियाणा के साथ लगते राजस्थान में कई धार्मिक और ऐतिहासिक स्थान हैं, जहां श्रद्धालुओं व पर्यटकों का 12 माह आना-जाना लगा रहता है। ऐसा ही एक स्थान है लोहागर्ल। अब ‘लुहागरजी’ के नाम से प्रसिद्ध यह धार्मिक रमणीक स्थान झुंझुनू से 30 किलोमीटर की दूरी पर नवलगढ़ तहसील में ...

Read More


स्त्री-धन का अधिकार

Posted On June - 23 - 2019 Comments Off on स्त्री-धन का अधिकार
ज्यादातर महिलाएं अपनी आर्थिक ज़रूरतों के लिये पति पर निर्भर होती हैं, ऐसे में उन्हें उन कानूनी प्रावधानों की जानकारी भी नहीं होती, जो उन्हें आर्थिक तंगी से बचाने के लिये हैं। स्त्रीधन के बारे में कुछ जानकारियां हैं जो हर महिला के लिये महत्वपूर्ण है। ....

मिट्टी में सोना

Posted On June - 23 - 2019 Comments Off on मिट्टी में सोना
गोविंद भारद्वाज लखनपुर गांव में एक कुम्हार रहता था। उसका नाम था ज्ञानू। ज्ञानू बड़ा आलसी आदमी था। पिताजी के मरने के बाद उसने अपना पुश्तैनी काम छोड़ दिया। ज्ञानू की पत्नी उससे फिर से काम शुरू करने के लिए बार-बार कहती तो वह जवाब देता कि, ‘इस मिट्टी के धन्धे में क्या रखा है। मेरे पिताजी मिट्टी में ही जीये और मिट्टी में ही मर गये। मैं नहीं चाहता कि मेरा जीवन भी गरीबी में ही निकले। मैं 

दलिये का स्वाद

Posted On June - 23 - 2019 Comments Off on दलिये का स्वाद
स्कूल में पहला दिन भी एक नये संसार में प्रवेश से कम नहीं होता है। जिधर भी दृष्टि जाती है, हम नया-नया देखते, समझते और सीखते हैं। किन्तु स्कूल में प्रवेश से पहले ‘स्कूल’ शब्द मेरे लिए नया नहीं था। पिताजी प्राथमिक स्कूल में शिक्षक थे। हररोज सुबह तैयार होकर घर से जाते थे, तो सुनती थी कि पिताजी स्कूल जा रहे हैं। आते थे, ....

बाल कविता

Posted On June - 23 - 2019 Comments Off on बाल कविता
बचो धूप से सूरज हो गया लाल, धूप भी जलाए रोज। ठंडी चीजें अच्छी लगें, कपड़े भी लगते बोझ। पानी की न रहे कमी, ऐसा प्रयास करना। गर्म हवा लगते ही, लू लग जाएगी वरना। कपड़े हों हल्के सूती, खाना भूख से कम। छाता रखना साथ में, गर्मी का निकले दम। धूप से घर में आकर, तुरंत न पीना पानी। बैठकर एसी के सामने, न दिखाना नादानी। तरल पदार्थ लेते रहना, खाना भी न हो भारी। टोपी चश्मा रहे साथ में, तो पास न आए बीमारी। मुकेश 

हाइपरसोनिक विमान से दुनिया और भी पास

Posted On June - 23 - 2019 Comments Off on हाइपरसोनिक विमान से दुनिया और भी पास
बूम एयरोस्पेस और एरियन सुपरसोनिक जैसी एयरक्राफ्ट मैन्युफेक्चरर कंपनियां, जहां 2020 के मध्य तक सुपरसोनिक प्लेन बाजार में उतारने की तैयारी में हैं, वहीं अब इससे एक कदम आगे बढ़ते हुए हाइपरसोनिक एयरक्राफ्ट पर भी काम शुरू हो चुका है। ....

जैविक कृषि : खेतों में खरा सोना

Posted On June - 23 - 2019 Comments Off on जैविक कृषि : खेतों में खरा सोना
अशोक सिंह ऑर्गेनिक खेती या जैविक कृषि के आधार पर विश्व में भारत की विशिष्ट स्थिति है। एक अनुमान के मुताबिक 181 देशों में जैविक खेती का प्रचलन है। इनमें लगभग 29 लाख जैविक उत्पादक और बड़ी संख्या में जैविक प्रसंस्करणकर्ता और निर्यातक भी शामिल हैं। हालांकि, आज भी जैविक खेती का दायरा कुल वैश्विक कृषि क्षेत्रफल का मात्र 0.4 प्रतिशत बैठता है। आने वाले समय में जैविक खेती के फलने-फूलने की अपार 

शादी में देरी तो घर पर डालें नजर

Posted On June - 23 - 2019 Comments Off on शादी में देरी तो घर पर डालें नजर
मदन गुप्ता सपाटू कभी कुंडली नहीं मिलती। कभी अच्छा रिश्ता नहीं मिलता। तो कभी बात बनते-बनते रह जाती है। किसी न किसी कारण से शादी में देरी होती जाती है। ऐसी स्थिति हो तो अन्य कारणों के साथ घर के वास्तु पर भी गौर करना चाहिये। वास्तु दोष के कारण शादी में विलंब न हो, इसके लिए इन बातों का ध्यान रखें- 0 जिस युवक या युवती की शादी में अड़चन आ रही हो, उसे घर के नैऋत्य कोण यानी दक्षिण-पश्चिम 

खोलें मन की खिड़की

Posted On June - 23 - 2019 Comments Off on खोलें मन की खिड़की
ओशो शैलेन्द्र शिष्यत्व प्रेम जैसा है। प्रेम का भी बड़ा रूप। प्रेम सीखा नहीं जा सकता, होता है तो होता है, नहीं होता है तो नहीं होता। जोर-जबरदस्ती से कोशिश नहीं की जा सकती। किसी भी दबाव में किया गया प्रेम अभिनय होता है, वास्तविक प्रेम नहीं। प्रेम हवा के ताज़े झोंके की भांति है। खिड़की से झोंका आया तो आया, नहीं आया तो नहीं आया। यही उसकी महिमा है। प्रेम ही अपने विराट रूप में शिष्यत्व का, 

नारियल के बेमिसाल व्यंजन

Posted On June - 23 - 2019 Comments Off on नारियल के बेमिसाल व्यंजन
रसोई दीप्ति अंगरीश कोकोनट सलाद सामग्री : ताजा नारियल एक कप, अरहर की दाल आधा कप, प्याज, खीरा, टमाटर, शिमला मिर्च एक कप (मिली-जुली), राई, हल्दी आधा-आधा छोटा चम्मच, करी पत्ते 8-10, हरी मिर्च एक छोटा चम्मच, इमली का पल्प दो बड़े चम्मच, हरा धनिया दो बड़े चम्मच, नारियल का तेल एक छोटा चम्मच, नमक स्वादानुसार। विधि : अरहर की दाल को धोकर साफ करें। अब पानी में नमक व हल्दी मिलाकर दाल को 

गुरु पर कुर्बान किया घर बना गुरुद्वारा रकाब गंज

Posted On June - 23 - 2019 Comments Off on गुरु पर कुर्बान किया घर बना गुरुद्वारा रकाब गंज
अमिताभ स. पुरानी और नयी दिल्ली के दो प्राचीन गुरुद्वारों का इतिहास सिख पंथ के नौवें गुरु श्री गुरु तेग बहादुर से जुड़ा है। एक है पुरानी दिल्ली का शीश गंज गुरुद्वारा और दूसरा नयी दिल्ली का रकाब गंज गुरुद्वारा। चांदनी चौक के बीचोबीच शीश गंज गुरुद्वारा श्री गुरु तेग बहादुर की शहीदी की गाथा बयान करता है। मुगल बादशाह औरंगजेब के अत्याचारों से धर्म की रक्षा के लिए गुरु तेग बहादुर जी 

टीचर का स्नेह भरा स्पर्श

Posted On June - 16 - 2019 Comments Off on टीचर का स्नेह भरा स्पर्श
सविता स्याल उम्र के इस पड़ाव पर, जब जीवन के खट्टे-मीठे अनुभव याद करती हूं तो नये विद्यालय में पहली कक्षा का प्रथम दिवस आज भी मेरे स्मृति पटल पर ऊभर आता है तथा मेरे चेहरे पर एक हल्की सी मुस्कुराहट दे जाता है । मुझे रात को ही मां ने सुबह जल्दी उठने का निर्देश दे डाला और मैं शायद आधी नींद में थी तभी मुझे नहला धुला कर घुटनों तक लम्बी युनिफॉर्म पहना दी गयी । मेरे तेल से चुपड़े बालों में लाल 

बाथरूम इस्तेमाल के तरीके

Posted On June - 16 - 2019 Comments Off on बाथरूम इस्तेमाल के तरीके
मोनिका अग्रवाल आज हम बात करेंगे वॉशरूम शिष्टाचार की। ज़रा सोच कर देखें आप कहीं पब्लिक टॉयलेट के अंदर हैं और काफी समय बाद बाहर निकलते हैं। बाहर इंतज़ार करने वाला और कोई नहीं आपका अपना ही निकलता है, तो आपको कैसा लगेगा? कितनी शर्मिंदगी महसूस होगी। इसलिए कुछ बातों का हमें वाशरूम शिष्टाचार में जरूर ध्यान रखना चाहिए। 0 जब आप कोई सा भी सार्वजनिक टॉयलेट इस्तेमाल करें चाहे आप महिला 

मेरे पापा जी

Posted On June - 16 - 2019 Comments Off on मेरे पापा जी
पापा जी मेरे पापा जी सबसे गहरा है नाता जी। बड़े लाड़ से हमको पालें हैं ये जीवन के रखवाले। कैसी भी हों हालात भले हर हाल में हमको संभाले। प्यार इनका ही लुभाता जी सबसे गहरा है नाता जी। मेहनत कर हमको पढ़ाते मंजिल तक सदा पहुंचाते। देकर अच्छे संस्कार हमें एक अच्छा इनसान बनाते। रखे छांव में बन छाता जी सबसे गहरा है नाता जी। चाव हमारे करते पूरे नहीं कभी गुस्से में घूरे। काम हमेशा ही निबटाते छोड़ें 

सुपरफूड सोया

Posted On June - 16 - 2019 Comments Off on सुपरफूड सोया
सही मायनों में सुपरफूड है सोयाबीन। यह एक कंपलीट फूड है, जिसे हम दूध, दही और आटा के तौर पर अपने खान-पान में शामिल करते हैं। इसे दाल के रूप में पकाकर भी इसका भरपूर प्रोटीन प्राप्त किया जा सकता है। इतना ही नहीं सोयाबीन के बीज पीसकर इससे कुकिंग ऑयल बनाया जाता है। हम उत्तराखंड के उन दिनों को कैसे भूल सकते हैं जब हमारे बचपन में सोयाबीन को लोहे की कड़ाही में चटकाया जाता था और इसे हम बड़े चाव से 

कार्यस्थल पर सुरक्षित माहौल

Posted On June - 16 - 2019 Comments Off on कार्यस्थल पर सुरक्षित माहौल
मधु गोयल वैसे तो महिलाएं हर क्षेत्र में कामयाबी दर्ज करा रही हैं। बदलते वक्त के साथ उनकी भूमिकाएं भी बदली हैं। फिर भी काफी महिलाएं अपने अधिकारों के प्रति सचेत नहीं हैं। ज्यादा से ज्यादा महिलाएं सार्वजनिक क्षेत्रों में सक्रिय रूप से भाग ले पाएं इसके लिये वर्कप्लेस पर उनकी सुरक्षा विशेष रूप से ज़रूरी है। इसी को ध्यान में रखते हुए सेक्सुअल ह्रासमेंट ऑफ वीमेन एक्ट वर्कप्लेस (प्रिवेंशन, 

काम का रैप …

Posted On June - 16 - 2019 Comments Off on काम का रैप …
दीप्ति अंगरीश परिवार की होम मिनिस्टर हैं तो काम में रैप करना आपको सभी सदस्यों को सिखाना होगा। आप चाहती हैं कि परिवार का हर सदस्य पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ में सफलता हासिल करे तो अपनाएं ये टिप्स… काम को आंकें परिवार को सिखाइए कि अपने पर्सनल व प्रोफेशनल काम को हर पहलू से आंके। यानी कौन-सा ज़रूरी है और कौन-सा बहुत ज्यादा आवश्यक या कौन-सा कम ज़रूरी। काम की डेडलाइन का ध्यान रखें। काम