हथीन 10 बांग्लादेशी मिलने से हड़कंप !    सीबीएसई : 11वीं में अब ‘अप्लाइड मैथ्स’ का भी विकल्प !    बीएस-4 मानें कोर्ट का आदेश : केंद्र !    बिना सब्सिडी गैस सिलेंडर 61.5 रुपये सस्ता !    चीन ने लक्षण मुक्त मामलों का किया खुलासा !    महामारी के 10 हॉटस्पॉट !    अभिनेता एंड्रियू जैक की कोरोना से मौत !    जम्मू-कश्मीर : समूह-4 तक की नौकरियां होंगी आरक्षित !    विप्रो व अजीम प्रेमजी फाउंडेशन देंगे 1125 करोड़ !    यूबीआई और ओबीसी का पीएनबी में विलय !    

लहरें › ›

खास खबर
नवरात्र का स्वादिष्ट आहार

नवरात्र का स्वादिष्ट आहार

रसोई शिल्पा जैन नवरात्र चल रहे हैं और भूख लगने पर अधिकतर लोगों के पास सिर्फ फल ही विकल्प रह जाते हैं पर ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। आप चाहे तो नवरात्र के व्रत में भी इन चटपटी डिशेज़ का मज़ा ले सकते हैं। ऐसी ही कुछ रेसिपी हम आपसे शेयर कर ...

Read More

तेल का खेल

तेल का खेल

अभिषेक कुमार सिंह पाताल फोड़कर निकाले जाने वाले तेल की कीमतें एक ही दिन में 30 फीसदी लुढ़ककर रसातल में पहुंच जाएं, तो ऐसा खाड़ी युद्ध के बाद बीते 30 साल में एक बार भी नहीं हुआ था। लेकिन नौ मार्च 2020 को जब एशियाई बाज़ारों में कारोबार शुरू हुआ तो ...

Read More

बाल कविता

बाल कविता

मिट्टी कूल फ्रिज मनसुख भाई ने कर डाला, अजब अनूठा काम। मिट्टी कूल फ्रिज बनाया, सस्ते उसके दाम। पानी के संग ताज़े रखता, फल मिट्टी के अंदर। सब्जी दूध दही मलाई, खीरे और चुकन्दर। पर्यावरण रहे सुरक्षित, ठंडा घर का कोना। पीछे छूटे पांच सितारे, ना बिजली का रोना। नई कहानी शीतल पानी, रखिए साफ सफाई। चाक चलाने वालों के, रहबर मनसुख भाई।। नरेन्द्र सिंह नीहार ऋतु चक्र सुनकर ...

Read More

पानी कुछ कहता है...

पानी कुछ कहता है...

विश्व जल दिवस सुरेश कुमार मिश्रा मैं पानी हूं। हर जिंदगी की कहानी हूं। किसी का अफसाना तो किसी का तराना हूं। आपके शरीर में 70 प्रतिशत का मालिक हूं। मैं हर जगह हूं। पाताल से लेकर अंबर तक, सूक्ष्म से लेकर स्थूल तक, हर कण में बसा हूं। हवा में भाप, ...

Read More

गर्मी के लाजवाब ड्रिंक्स

गर्मी के लाजवाब ड्रिंक्स

शिल्पा जैन सुराणा जब भी घर में छोटी-मोटी पार्टी होती है तो हम मेहमानों को कोल्ड ड्रिंक्स या फिर चाय-कॉफ़ी परोसते हैं, पर क्या आप जानते हैं कि महंगे होटलों में बिकने वाले ये ड्रिंक्स आप आसानी से घर में बना सकती हैं और इन ड्रिंक्स के ज़रिये अपनी पार्टी की ...

Read More

बेटी की सहेली बनें, उसकी सहेलियों की नहीं

बेटी की सहेली बनें, उसकी सहेलियों की नहीं

पेरेंटिंग शिखर चंद जैन कृतिका बहुत उदास थी। आज उसकी 16 वर्षीय बेटी मुस्कान ने उसके साथ फिर से बेअदबी की। कृतिका तो मुस्कान की सहेलियों के साथ हंसी-मजाक कर रही थी। न तो कोई टोका टाकी की और न ही कुछ गलत कहा। लेकिन जैसे ही मुस्कान की सहेलियां गईं, वह ...

Read More

पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाले बुके

पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाले बुके

उपभोक्ता अधिकार पुष्पा गिरिमाजी मुझे फूलों से प्यार है और खास मौकों पर अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को बुके देना पसंद है। हाल ही में मेरे व्हाट्सएप पर अनेक ऐसे मैसेज आए, जिनमें कहा गया कि बुके पर्यावरण के अनुकूल नहीं होते हैं और इन्हें किसी को भी देने से परहेज करना ...

Read More


  • तेल का खेल
     Posted On March - 29 - 2020
    पाताल फोड़कर निकाले जाने वाले तेल की कीमतें एक ही दिन में 30 फीसदी लुढ़ककर रसातल में पहुंच जाएं, तो....
  • नवरात्र का स्वादिष्ट आहार
     Posted On March - 29 - 2020
    नवरात्र चल रहे हैं और भूख लगने पर अधिकतर लोगों के पास सिर्फ फल ही विकल्प रह जाते हैं पर....
  • गर्मी के लाजवाब ड्रिंक्स
     Posted On March - 22 - 2020
    जब भी घर में छोटी-मोटी पार्टी होती है तो हम मेहमानों को कोल्ड ड्रिंक्स या फिर चाय-कॉफ़ी परोसते हैं, पर....
  • पानी कुछ कहता है…
     Posted On March - 22 - 2020
    मैं पानी हूं। हर जिंदगी की कहानी हूं। किसी का अफसाना तो किसी का तराना हूं। आपके शरीर में 70....

बाल कविताएं

Posted On March - 24 - 2010 Comments Off on बाल कविताएं
अप्रैल फूल अप्रैल फूल के दिन, बंदर के आया मन में। गधे को बनाता हूं फूल, वही मूर्ख है वन में। गधे को दिया न्यौता, कहा, ‘आज घर आना। दावत दे रहा हूं सबको, पकवान बने हैं ना ना।’ सुनकर गधा गदगद हुआ, मुंह से टपकी लार। पहना कोट, बांधी टाई, खूब किया शिंगार। तय समय पर पहुंच गया, वह बंदर के घर। देखा जब सिर चकराया, ताला था द्वार पर। शर्मसार सा हुआ गधा, मुंह में बुदबुदाया। ‘आज तो है अप्रैल फूल, बंदर 

‘सिरसा जिला में लगेंगे 40 करोड़ की लागत से दो ‘वाटर ट्रीटमेंट प्लांट’

Posted On March - 22 - 2010 Comments Off on ‘सिरसा जिला में लगेंगे 40 करोड़ की लागत से दो ‘वाटर ट्रीटमेंट प्लांट’
गांव केलनियां में 60 लाख की लागत से खेल स्टेडियम की घोषणा सिरसा, 21 मार्च (निस)। सिरसा शहर से 5 किलोमीटर दूर केलनियां गांव में 25 करोड़ रुपए की लागत से जर्मन तकनीक पर आधारित ‘वाटर ट्रीटमैंट प्लांट’ लगाया जाएगा। इसके अतिरिक्त शहर के निकटवर्ती गांव बेगू में भी 15 करोड़ रुपए की लागत से एक अन्य ‘वाटर ट्रीटमैंट प्लांट’ की स्थापना की जाएगी। इन दोनों प्लांटों की राज्य सरकार द्वारा स्वीकृति 

राम नवमी

Posted On March - 21 - 2010 Comments Off on राम नवमी
राम नवमी पावन पर्व मनाएं, श्रीराम, रघुवर का चरित अपनाएं। राम महान, महान रामचरित, जैसे जल से पवित्र गंगा सरित। हरित धरा ज्यों सावन के आये, राम नवमी पावन पर्व मनाएं। कैकई, सुमित्रा जी के प्यारे, आंखों के तारे कौशल्या के बताएं। रामायण के सभी पात्र-चरित्र, संस्कृति में हैं अमर-पवित्र। सर्वत्र सब उनके गुण गाएं, राम नवमी पावन पर्व मनाएं। शिक्षादायक यह पर्व प्यारा, रवि, शशि ज्यों करे उजियारा। तारा, 

तीन बातें

Posted On March - 21 - 2010 Comments Off on तीन बातें
भीलपुर नामक एक छोटा-सा गांव था। यह गांव चारों तरफ पहाडिय़ों से घिरा हुआ था अत: इतना विकसित नहीं था। लोगों को अपनी दैनिक आवश्यकताओं की वस्तुएं लाने के  लिए भी आस-पड़ोस के कस्बों में जाना पड़ता था। वहां लगने वाली पैंठ (स्थानीय बाजार) से वे रोजमर्रा की वस्तुएं ले आते। वहां एक जुलाहा अपनी पत्नी के साथ रहता था। उनकी कोई संतान नहीं थी। वे बहुत गरीब थे। अत्यधिक मेहनत करने के बाद ही वे दो वक्त की 

शहीद भगतसिंह

Posted On March - 21 - 2010 Comments Off on शहीद भगतसिंह
भगतसिंह का मकसद था गुलामी को दूर करना, सीखा नहीं था उसने कभी जुल्म के आगे डरना। जलियांवाला वृतांत के बाद मन में थी बड़ी नफरत, अंग्रेज सरकार को ललकारा उसने की बगावत। लाला जी की मौत देखकर भगत ने ली कसम, जब तक न सांडर्स को मारे नहीं लेगा वह दम। इरादे को दिया अंजाम भगतसिंह ने आखिरकार, इंकलाब के नारे लगाता वहीं तना रहा सरदार। भगत, सुखदेव, राजगुरु तीनों को फांसी लटकाया, इनकी कुरबानी ने अंत में देश 

कविताएं

Posted On March - 21 - 2010 Comments Off on कविताएं
एक शबनमी सुबह नभ से टपककर आ गई एक और सुबह एक सुबह शबनमी फैल गई अफवाह सी गंध… हर श्रृंगार की सब जगह। शिशिर का कातर करुण स्वर उड़ा इधर उधर हलद पांखियों संग सूरज बरसाने लगा बस्ती में जागृति का रंग। झील शांत है- पर बोल रही कितने अनकहे बोल पवन पूछ रही पीपल के पत्तों से स्पंदन का मोल। धूप की चिरैया मुंडेर पर उड़ आई किरनों ने विदा किया ठिठुरन को-कहती ‘गुडबाईÓ चमचम पीतल के कुंभ लिए घूम रही 

वास्तुसमाधान

Posted On March - 21 - 2010 Comments Off on वास्तुसमाधान
मैं पिछले काफी समय से अपने व्यवसाय के बारे में सोच रहा हूं, परन्तु कुछ समझ नहीं आ रहा है। कृपया आप ही कोई सुझाव दें, जन्मतिथि 1.12.1980 है? -जिंदल, अ ब स — जिंदल जी, जन्मकुंडली के मुताबिक आपके लिए खुशबू से संबंधित कार्य जैसे कॉस्मेटिक, फूलों का व्यवसाय या अन्य कार्य शुभ हैं। अपने व्यवसाय का नाम किसी देवी के नाम से रखें। शुभ फल देगा। बैठने के स्थान पर लक्ष्मी, गणेश की मूर्ति  अवश्य रखें तथा रोजाना 

गहरे पानी पैठ

Posted On March - 21 - 2010 Comments Off on गहरे पानी पैठ
डा. ज्ञानचंद्र शर्मा राम कथा सुंदर करतारी तीन दिन बाद राम नवमी को रामचरित मानस की जयंती है। सम्वत् 1631 को अयोध्या में इसका प्रथम प्रकाश हुआ था। राम कथा युगों से लोकमानस में बसी हुई है। नाना पुराण निगम-आगम आदि में इसका वर्णन मिलता है। इसमें कुछ और अपनी ओर से मिलाकर गोस्वामी तुलसीदास ने अपने अंत:करण के सुख के लिए जन भाषा में प्रस्तुत किया है। नाना पुराण निगमागम सम्मत यद्रामायणे 

गजलें

Posted On March - 13 - 2010 Comments Off on गजलें
चांद हो चांदनी हो और क्या हो मेरे लिए, प्यास बुझा जाती है जैसे घटा हो मेरे लिए। दर्द से सींचा जिसे धड़कन से संवारा है जिसे, ऐसे माहौल में उगता हुआ बूटा हो मेरे लिए। तुम तो बस तुम हो, नहीं तुम सा कोई जहां में, सारे जहां को समेटकर दिल बना लिया है मेरे लिये। तुम्हारे होने से बहार, न होने से पतझर है, तुम ही मेरी उम्मीद, मेरी वफा का सिला मेरे लिये। कैसे उड़े आजाद परिंदा, अपनी परवा लेकर, तुम हो आकाश 

नव संवत्

Posted On March - 13 - 2010 Comments Off on नव संवत्
नव संवत् सड़सठ है आया, चैत्र शुक्ल प्रतिपदा का दिन मन भाया। चारों तरफ फसलें पकी, सरसों, गेहूं की बाली झुकी, रुकी सर्द हवा ने बसंत मनाया, नव संवत् सड़सठ है आया। बजट सत्र, परीक्षा की घड़ी, वित्त, चित्त की चिंता बड़ी, पड़ी शांत फाग, नवरात्र नियराया, नव संवत् सड़सठ है आया। मौसम सुहाना सुहानी बयार, बढऩे लगता सृष्टिï में प्यार। चार दिन की चांदनी ज्यों सुख छाया, नव संवत् सड़सठ है आया। मलमास वैशाख 

मत सो

Posted On March - 13 - 2010 Comments Off on मत सो
अक्कड़-बक्कड़ बम्बे बो, सुबह हो गई, अब मत सो। लो प्रभु का नाम, तुम पहले, सबको फिर प्रणाम कह लें। दांतुन मंजन, कर लें पेस्ट, समय करें नजारा भी वेस्ट। शुद्ध जल से करें स्नान, फिर करें प्रभु का ध्यान। करें नाश्ता बड़े भाव से, जाएं स्कूल में बड़े चाव से। —डा. अनिल ‘सवेरा’  

सगाई

Posted On March - 13 - 2010 Comments Off on सगाई
बीहड़ वन में राजकुंवर की हो रही आज सगाई, सारी प्रजा झूम रही है दे रही उन्हें बधाई। होना था इस अवसर पर एक सुखद ऐलान, जंगलवासी उत्सुक बैठे थे खोले अपने कान। नियत समय पर आए राजा सहित अपने परिवार, सारी भीड़ खड़ी होकर के करने लगी जय-जयकार। एक कौड़ी भी तिलक न लेंगे बोले हंसकर वनराज, अच्छी सुघड़ बहू मिली है करेगी निज गृह काज। नेक सलाह मानो सब मेरी सुन लो प्यारे भाई, दहेज रूपी इस दानव की कर दो आज 

तारों को कैसे मापा जाता है?

Posted On March - 13 - 2010 Comments Off on तारों को कैसे मापा जाता है?
”दीदी, पृथ्वी के जो सबसे करीब तारा है वह भी साढ़े चार लाइट-ईयर्स या प्रकाशवर्ष की दूरी पर है। एक प्रकाश वर्ष लगभग 6,000,000,000,000 मील का होता है। अब अगर तारे इतनी दूरी पर हैं तो हम यह कैसे माप सकते हैं कि वह कितने बड़े हैं, वह किस चीज के बने हैं, वगैरह-वगैरह।’ ”एक समय था जब खगोलशास्त्रियों के पास केवल एक ही यंत्र था- टेलिस्कोप। आज उनके पास विशेष यंत्र मौजूद हंै जिनकी मदद से तारों की गति, चमक, रंग, 

विज्ञान के झरोखे से

Posted On March - 13 - 2010 Comments Off on विज्ञान के झरोखे से
बच्चो, विज्ञान से संबंधित कुछ रोचक प्रश्नोत्तर नीचे दिए जा रहे हैं जो तुम्हारे ज्ञान में वृद्धि करने में सहायक होंगे। 0 आइसक्रीम का सेवन हानिकारक क्यों है? —आïइसक्रीम का सेवन हानिकारक होता है। इसमें प्रयुक्त रासायनिक तत्व स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह रहते हैं। आइसक्रीम में तीस प्रतिशत बिना उबला तथा बिना छना पानी, छह प्रतिशत चर्बी और सात-आठ प्रतिशत शक्कर होती है। इसके अतिरिक्त 

जीव-जन्तुओं की अनोखी दुनिया

Posted On March - 13 - 2010 Comments Off on जीव-जन्तुओं की अनोखी दुनिया
– योगेश कुमार गोयल प्रकृति का बल्ब ‘जुगनू’ आसमान के तारों की भांति हमारे आसपास टिमटिमाते जुगनुओं को ‘प्रकृति का बल्ब’ भी कहा जा सकता है। दक्षिण अमेरिका के हरे-भरे जंगलों में जब जुगनू किसी वृक्ष पर अपने विशाल समूह के साथ आराम करते हैं तो दूर से देखने पर ऐसा लगता है मानो किसी ने उस वृक्ष पर हजारों-लाखों बल्ब जलाकर लटका दिए हों। जुगनू यूं तो हर जगह मिल जाते हैं लेकिन 
Manav Mangal Smart School