भारत, ऑस्ट्रेलिया ने मोदी-मॉरिसन बैठक के बाद किये महत्वपूर्ण रक्षा समझौते !    कश्मीर में 2 ‘कार बम’ , तलाश के लिये बनाया विशेष दल !    वाशिंगटन में गांधी की प्रतिमा पर किया स्प्रे, भारत ने की शिकायत, अमेरिकी राजदूत ने मांगी माफी !    मोदी-मोरिसन आभासी शिखर सम्मेलन ‘समोसा-खिचड़ी’ डिप्लोमेसी !    श्रमिकों को पूरा मेहनताना देने में असमर्थ नियोक्ता कोर्ट में बैलेंस शीट करें पेश : केन्द्र !    राज्यसभा चुनाव से पहले हलचल शुरु, गुजरात में 2 कांग्रेस विधायकों का इस्तीफा !    विधानसभा कमेटियों पर सियासत हावी, नहीं बनी विशेषाधिकार हनन कमेटी !    चीन के प्राइमरी स्कूल में सुरक्षाकर्मी ने 40 छात्रों, शिक्षकों पर किया चाकू से हमला !    कठोर लॉकडाउन से जीडीपी गिरी औंधे मुंह, अर्थव्यवस्था तबाह !    ऑस्ट्रेलिया के साथ संबंध बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध : मोदी !    

लहरें › ›

खास खबर
परवरिश के अंधेरे

परवरिश के अंधेरे

संजय वर्मा तकनीक किस तरह समाजों को रच रही है और उसमें नए अंधेरे-उजाले भर रही है- कोरोना संक्रमण से पैदा हुए संकट ने इसे नए सिरे से पारिभाषित किया है। एक कामकाजी समाज के तौर पर देखें तो हमें यह स्वीकार करना होगा कि अगर इंटरनेट जैसा आविष्कार नहीं हुआ ...

Read More

व्रत-पर्व

व्रत-पर्व

18 मई : अपरा एकादशी व्रत, मेला भद्रकाली एकादशी (कपूरथला) पंजाब, जलक्रीड़ा एकादशी (उड़ीसा) 19 मई : बड़का मंगल व्रत, हनुमान पूजा (लखनऊ) 20 मई : प्रदोष व्रत, मास शिवरात्रि व्रत 21 मई : सावित्री चतुर्दशी, फलहारिणी कालिका पूजा (बंगाल), शबेकदर 22 मई : ज्येष्ठ अमावस, भावुका अमावस, शनैश्चर जयंती, वट सावित्री व्रत (अमावस ...

Read More

यहां वरदायक बन जाते हैं दंडनायक शनि

यहां वरदायक बन जाते हैं दंडनायक शनि

देशपाल सौरोत हरियाणा-उत्तर प्रदेश सीमा पर दिल्ली से लगभग 115 किमी की दूरी पर शनिदेव का एक विशेष धाम है। पलवल से करीब 55 किलोमीटर दूर उत्तर प्रदेश के कोसीकलां-नंदगांव के बीच स्थित कोकिलावन के बारे में मान्यता है कि यहां दर्शन व परिक्रमा करने से मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। ...

Read More

कोरोना से जंग में अलर्ट करेगा आरोग्य सेतु

कोरोना से जंग में अलर्ट करेगा आरोग्य सेतु

योगेश कुमार गोयल कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए 2 अप्रैल को भारत में नीति आयोग द्वारा ‘आरोग्य सेतु एप’ लांच किया गया है, जो यूज़र्स को यह बताने में मदद करता है कि उसके आसपास कोई कोरोना संक्रमित व्यक्ति तो नहीं है। ‘नेशनल इन्फॉरमेटिक्स सेंटर’ द्वारा विकसित यह एप 11 ...

Read More

दूरसंचार टैरिफ कार्ड पर हो स्पष्टता

दूरसंचार टैरिफ कार्ड पर हो स्पष्टता

पुष्पा गिरिमाजी भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने ‘टैरिफ ऑफर प्रकाशन में पारदर्शिता’ सबंधी एक परामर्श जारी किया है जिसमें उन्होंने सही टैरिफ प्लान चुनने और विभिन्न समाधानों की पेशकश के संबंध में उपभोक्ताओं द्वारा पेश की जा रही समस्याओं को स्वीकार किया है। कुछ समाधानों, जिनमें वेबसाइटों, मोबाइल एप आदि ...

Read More

ओ मां

ओ मां

आज मदर्स डे ललित गर्ग ‘मां!’ इस लघु शब्द में प्रेम की विराटता, समग्रता निहित है। मां धरती पर जीवन के विकास का आधार है। मां ने ही अपने हाथों से इस दुनिया का ताना-बाना बुना है। सभ्यता के विकास क्रम में आदिमकाल से लेकर आधुनिककाल तक इंसानों के आकार-प्रकार, रहन-सहन, सोच-विचार, ...

Read More

सदा संतान पर ही ध्यान

सदा संतान पर ही ध्यान

ओशो बच्चा मां के पास जो बढ़ता है गति से, उसका कारण है मां का ध्यान। वह चाहे दूर हो, चाहे वह दूसरे कमरे में हो, लेकिन ध्यान उसका बच्चे की तरफ लगा है। वह चाहे सैकड़ों मील दूर चली गई हो, वह हजार काम में उलझी हो, लेकिन भीतर उसके ...

Read More


  • परवरिश के अंधेरे
     Posted On May - 31 - 2020
    तकनीक किस तरह समाजों को रच रही है और उसमें नए अंधेरे-उजाले भर रही है- कोरोना संक्रमण से पैदा हुए....
  • बनी रहे यह मोहक तस्वीर
     Posted On May - 24 - 2020
    लॉकडाउन के दौरान सोशल मीडिया पर एक वीडियो खूब वायरल हुआ। जिसमें दो नदियों के संगम को साफ़ देखा जा....
  • ऐसी प्रीति करहु मन मेरे…
     Posted On May - 24 - 2020
    विश्व के आध्यात्मिक इतिहास में 1500 से 1700 ईस्वी को स्वर्णिम युग कहा जा सकता है। इस काल में दस....
  • कम न हों ईद की खुशियां
     Posted On May - 24 - 2020
    इस वर्ष की ईद-उल-फितर बाकी वर्षों से अलग है। इस ईद की नमाज ईदगाह और मस्जिद के बजाय लोग घरों....

गज़लें

Posted On January - 23 - 2011 Comments Off on गज़लें
....

समाज सेवी महात्मा

Posted On January - 23 - 2011 Comments Off on समाज सेवी महात्मा
बाल कहानी शुभम श्रीवास्तव पूरे शहर में महात्मा जी की चर्चा थी। दूर-दूर से लोग उनके दर्शन करने  आ रहे थे। शहर के कोतवाल ने भी सोचा कि चलकर इस चर्चित महात्मा के दर्शन किए जाएं। कोतवाल घोड़े पर सवार होकर, सज-धज कर अपने रौब में नगर की ओर बढ़ा। शहर कोतवाल  होने के नाते उसका स्वभाव शंकाशील बन गया था, साथ ही उसे अपने पद का घमंड भी था। उसकी आदत बन गयी थी कि छोटी-छोटी सी बात पर वह रौब दिखाता, लोगों 

विज्ञान के झरोखे से

Posted On January - 23 - 2011 Comments Off on विज्ञान के झरोखे से
बच्चो, विज्ञान से संबंधित कुछ रोचक प्रश्नोत्तर नीचे दिए जा रहे हैं जो तुम्हारे ज्ञान में वृद्धि करने में सहायक सिद्ध होंगे। 0 मूंगफली को पौष्टिकता की दृष्टि से उत्तम क्यों माना जाता है? – गरीबों का मेवा अथवा देशी काजू के नाम से पुकारी जाने वाली मूंगफली वास्तव में पौष्टिकता की दृष्टि से एक उत्तम खाद्य पदार्थ है। प्रति सौ ग्राम मूंगफली से साढ़े पांच सौ कैलोरी ऊर्जा प्राप्त होती 

तेनाली राम के किस्से

Posted On January - 23 - 2011 Comments Off on तेनाली राम के किस्से
उपहार में चूहे तेनाली राम के घर में चूहों की भारी-भरकम फौज जमा हो गयी। तेनाली की पत्नी इससे बड़ी परेशान थी। घर में चूहों के कारण खाने-पीने और ओढऩे-पहनने के सभी सामान खराब होने लगे। चूहों के काटने का नुकसान सहने के कारण तेनाली को बड़ा क्रोध आया। उसने चूहों को खत्म करने की सोची मगर बड़े उपाय करने पर भी चूहे काबू नहीं आए। किसी ने तेनाली को कहा कि बिल्ली चूहों की सबसे बड़ी शत्रु होती है। तेनाली 

वास्तु समाधान

Posted On January - 23 - 2011 Comments Off on वास्तु समाधान
पी. खुराना 0 मेरी जन्मतिथि 13.8.1983 व मेरी बहन की 6.7.1982 है। हमारा नौकरी और शादी का योग नहीं बन रहा है। कृपया बताएं कि कब तक योग बनेगा। -मुकेश रानी, सोनीपत मुकेश जी, आपकी शादी व नौकरी का योग अगस्त, 2011 तक बनता है तथा आपकी बहन की शादी व नौकरी का योग जून, 2011 से पहले बनता है। यदि यह समय निकल जाता है तो उसके पश्चात डेढ़ वर्ष तक शादी का योग नहीं है। इस समय के दौरान आप दोनों निम्र उपाय करें। घर को ऊर्जात्मक 

भारतीय संविधान और गणतंत्र का यथार्थ

Posted On January - 23 - 2011 Comments Off on भारतीय संविधान और गणतंत्र का यथार्थ
ज्ञानेन्द्र रावत आज हम अपने गणतंत्र की 61वीं जयंती मना रहे हैं। देश में संविधान को लागू हुए 6 दशक बीत चुके हैं। देखा जाये तो एक बड़े इतिहास वाले देश के लिए 61 वर्ष का समय कोई ज्यादा बड़ा नहीं है तो कम भी नहीं है। असलियत तो यह है कि इस दौरान संविधान में उल्लेखित उद्देश्यों-लक्ष्यों को पाने में हम पूरी तरह नाकाम रहे हैं क्योंकि लोकतंत्र को मजबूत और कारगर बनाने के लिए बनी संस्थाओं का लगातार 

सजग क्यों नहीं है युवा पीढ़ी!

Posted On January - 23 - 2011 Comments Off on सजग क्यों नहीं है युवा पीढ़ी!
भ्रष्टाचार और रिश्वतखोरी अभी हाल के सालों तक दुनिया में भारत की पहचान तीन प्रमुख वजहों से रही है—गरीबी, महात्मा गांधी और लोकतंत्र। अब इस त्रिस्तरीय पहचान में पहली वजह के साथ बदलाव हो रहा है। धीरे-धीरे भारत की गरीबी की छवि धुंधली हो रही है और उसकी जगह ले रहा है भ्रष्टाचार। जी हां, भारत दुनिया के सर्वाधिक भ्रष्ट देशों के बीच बहुत तेजी से शीर्ष पर पहुंचने को आमादा है। ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल 

गुंडों के बीच फंस गई मल्लिका

Posted On January - 23 - 2011 Comments Off on गुंडों के बीच फंस गई मल्लिका
एस. के. झा सलमान खान और सोनाक्षी सिन्हा स्टारर पिछले साल की सुपरहिट फिल्म ‘दबंग’ में मलायका अरोड़ा खान पर फिल्माए गए हिट आइटम नंबर ‘मुन्नी बदनाम हुई’ और उसके काउंटर में फिल्म ‘तीस मार खां’ में कैटरीना कैफ पर फिल्माए गए आइटम सांग ‘शीला की जवानी’ ने बॉलीवुड में आइटम नंबर्स का ट्रेंड दोबारा जीवित कर दिया है। यही वजह है कि ‘मुन्नी के बदनाम होने’ और ‘शीला के जवान होने’ 

कहां काम करते हैं आप : स्वर्ग में या नर्क में?

Posted On January - 16 - 2011 Comments Off on कहां काम करते हैं आप : स्वर्ग में या नर्क में?
नरेन्द्र कुमार फ्राइडे की शाम आते ही रुचिका के चेहरे पर उदासी छा जाती है। ऑफिस के कुलीग रुचिका के खराब मूड की वजह भी अच्छी तरह समझ जाते हैं लेकिन उन्हें यह भी मालूम होता है कि इस खराब मूड को सही करने का कोई उपाय नहीं है। रुचिका के ऑफिस के ज्यादातर कर्मचारी फ्राइडे को शाम होने तक बुझे-बुझे से नजर आने लगते हैं। इस उदासी की वजह भी कुछ चौंका देने वाली है। सभी इस बात को लेकर हर फ्राइडे 

महज एहसासभर ही नहीं है, अब कारोबार भी है मौसम!

Posted On January - 16 - 2011 Comments Off on महज एहसासभर ही नहीं है, अब कारोबार भी है मौसम!
लोकमित्र क्या  आप जानते हैं कांपता, ठिठुरता और हिमयुग की याद दिलाता यूरोप, कई देशों के पर्यटन उद्योग की बांछें खिला रहा है। जी, हां! यूरोप में भारी बर्फबारी की वजह से भारत, श्रीलंका जैसे अपेक्षाकृत कम ठंडे देशों के पर्यटन उद्योग की बांछें खिल गयी हैं। इससे इन देशों के पर्यटन उद्योग को दोहरा फायदा हुआ है। पहला तो यह कि बड़ी तादाद में ऐसे विदेशी सैलानी नये साल की छुट्टियां मनाने 

वास्तु समाधान

Posted On January - 16 - 2011 Comments Off on वास्तु समाधान
पी. खुराना मेरी जन्मतिथि 25.8.1962 है। 8 साल से मेरे ऊपर कोर्ट केस चल रहा है। कृपया बताएं कि इस केस का निपटारा कब तक होगा। -चौहान, अ, ब, स चौहान जी, आपका शुभ समय 27 मई, 2011 के बाद शुरू होगा। इस दौरान आप निम्ïन उपाय करें : एक छोटा-सा लोहे का तराजू मंदिर में दान करें। प्रत्येक शनिवार यह क्रिया करें। सोते समय सिर पूर्व की तरफ करके सोयें तथा केस से संबंधित कागजात वगैरा हरे रंग की फाइल में घर की उत्तर 

मुझे ‘धोबीघाट’ पर नाज है आमिर खान

Posted On January - 16 - 2011 Comments Off on मुझे ‘धोबीघाट’ पर नाज है आमिर खान
एक प्रोड्यूसर के तौर पर आमिर खान फिर व्यस्त हैं। जल्द ही उनकी फिल्म ‘धोबीघाट-मुंबई डायरीज’ रिलीज होने वाली है। वैसे आमिर इस फिल्म में एक अहम रोल में भी नजर आएंगे। यहां आमिर खान अपनी पत्नी किरण राव के निर्देशन में बनी इस फिल्म से जुड़ी कुछ खास बातों का खुलासा कर रहे हैं। विवाद की वजह से शाहरुख खान को ‘बिल्लू बारबर’ के टाइटल से बारबर शब्द हटाना पड़ा था। क्या बतौर निर्माता अपनी 

कुर्सी

Posted On January - 16 - 2011 Comments Off on कुर्सी
उहा रोटी, उहा दाल गोविंद राकेश इंसाफ, कानून, व$फादारी अते ईमानदारी-ए चार पावे हन जै कुर्सी ते बह के अंग्रेज पूरी दुनिया ते राज कर ग्ये। ऐझी कुर्सी ते बाहवण तों पहले बन्दें कूं बहुं तैयारियां करनियां पमदियां हन अते खुद पूरा पूरा जोर लावणा पौंदा हा जैंदेविच कहीं किस्म दी कुई सि$फारिश या रिजर्वेशन वास्ते झा कैना होंदी हई। असाडे बुजुर्ग डसेंदे हन कि इंसाफ विच अमीर तो ला के $फकीर तक सब 

अधूरी आज़ादी

Posted On January - 16 - 2011 Comments Off on अधूरी आज़ादी
गहरे पानी पैठ डा. ज्ञानचंद्र शर्मा चंडीगढ़ के गार्डन ऑफ पीस में बुद्ध की एक शालीन और भव्य प्रतिमा स्थापित की गई है। यह स्थान की संज्ञा और गरिमा के सर्वथा अनुरूप है। इससे वहां के परिवेश में एक जीवंतता आ गई है। यह जीवन्तता नगर के कुछ कार्बूजिये-अनुयाइयों को बहुत अखर रही है। उनके अनुसार यह कार्बूजिये के फरमान के विरुद्ध है। इससे उसकी आत्मा को कष्ट पहुंच रहा होगा। मर कर भी कार्बूजिये 

नेह का बंधन

Posted On January - 16 - 2011 Comments Off on नेह का बंधन
कहानी कृष्णलता यादव उम्र के आखिरी पड़ाव पर बैठा जगन उंगलियों पर गिनती कर रहा था। क्या अपनी विरासत का जायजा ले रहा था? अपने दोस्त-दुश्मनों की संख्या आंक रहा था? या अब तक किये कार्यों का ग्राफ देख रहा था। इनमें से कुछ भी उसकी गणना में शामिल नहीं था। वह गिन रहा था, अपने कुल की बहन-बेटियों की संख्या। भला क्यों? क्योंकि इनसे उसका आत्मीय रिश्ता था। उसकी गोद में खेलकर वे बड़ी हुईं, उंगली 

विज्ञान के झरोखे से

Posted On January - 16 - 2011 Comments Off on विज्ञान के झरोखे से
बच्चो, विज्ञान से संबंधित कुछ रोचक प्रश्नोत्तर नीचे दिये जा रहे हैं जो तुम्हारे ज्ञान में वृद्धि करने में सहायक सिद्ध होंगे। सप्ताह में सात दिन ही क्यों होते हैं? – विश्व के अधिकांश देशों में कालचक्र को सात-सात दिनों में बांटने की प्रथा रही है क्योंकि ब्रह्मांड में स्थित सात स्थूल सचल ग्रह हैं। भारत में सप्ताह के सात दिनों के नाम ग्रहों के नाम एवं उनके प्रभाव के आधार पर रखे गए