इतिहास में पहली बार जम्मू में हुई अमरनाथ यात्रा की प्रथम पूजा !    आदेश कुमार गुप्ता ने संभाला दिल्ली भाजपा प्रदेश अध्यक्ष का पदभार !    सिर्फ बातों से देश आत्मनिर्भर नहीं बनता, आगे की आर्थिक नीति बताएं पीएम : कांग्रेस !    हाईकोर्ट ने दिये सैनिक फार्म इलाके में ‘अनधिकृत निर्माण’ की जांच के आदेश !    कांग्रेस ने खड़गे को कर्नाटक से राज्यसभा उम्मीदवार किया घोषित !    तबादले के बाद धूमधाम से विदाई जलूस निकालने वाला दरोगा निलंबित, जांच के आदेश !    महंगी गाड़ी का लालच, 18 वर्षीय बेटे की शादी 25 साल की तलाकशुदा से कराने को तैयार हुआ पिता! !    पोस्ट शेयर करके बुरी फंसी अभिनेत्री सारा अली !    क्या कोविड-19 मरीजों से ‘आयुष्मान भारत’ की दर से पैसा लेंगे निजी अस्पताल : सुप्रीमकोर्ट !    अमेरिका में जन्मे अपने बच्चों के लिए वीजा मांग कर रहे एच-1बी धारक भारतीय! !    

लहरें › ›

खास खबर
परवरिश के अंधेरे

परवरिश के अंधेरे

संजय वर्मा तकनीक किस तरह समाजों को रच रही है और उसमें नए अंधेरे-उजाले भर रही है- कोरोना संक्रमण से पैदा हुए संकट ने इसे नए सिरे से पारिभाषित किया है। एक कामकाजी समाज के तौर पर देखें तो हमें यह स्वीकार करना होगा कि अगर इंटरनेट जैसा आविष्कार नहीं हुआ ...

Read More

व्रत-पर्व

व्रत-पर्व

18 मई : अपरा एकादशी व्रत, मेला भद्रकाली एकादशी (कपूरथला) पंजाब, जलक्रीड़ा एकादशी (उड़ीसा) 19 मई : बड़का मंगल व्रत, हनुमान पूजा (लखनऊ) 20 मई : प्रदोष व्रत, मास शिवरात्रि व्रत 21 मई : सावित्री चतुर्दशी, फलहारिणी कालिका पूजा (बंगाल), शबेकदर 22 मई : ज्येष्ठ अमावस, भावुका अमावस, शनैश्चर जयंती, वट सावित्री व्रत (अमावस ...

Read More

यहां वरदायक बन जाते हैं दंडनायक शनि

यहां वरदायक बन जाते हैं दंडनायक शनि

देशपाल सौरोत हरियाणा-उत्तर प्रदेश सीमा पर दिल्ली से लगभग 115 किमी की दूरी पर शनिदेव का एक विशेष धाम है। पलवल से करीब 55 किलोमीटर दूर उत्तर प्रदेश के कोसीकलां-नंदगांव के बीच स्थित कोकिलावन के बारे में मान्यता है कि यहां दर्शन व परिक्रमा करने से मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। ...

Read More

कोरोना से जंग में अलर्ट करेगा आरोग्य सेतु

कोरोना से जंग में अलर्ट करेगा आरोग्य सेतु

योगेश कुमार गोयल कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए 2 अप्रैल को भारत में नीति आयोग द्वारा ‘आरोग्य सेतु एप’ लांच किया गया है, जो यूज़र्स को यह बताने में मदद करता है कि उसके आसपास कोई कोरोना संक्रमित व्यक्ति तो नहीं है। ‘नेशनल इन्फॉरमेटिक्स सेंटर’ द्वारा विकसित यह एप 11 ...

Read More

दूरसंचार टैरिफ कार्ड पर हो स्पष्टता

दूरसंचार टैरिफ कार्ड पर हो स्पष्टता

पुष्पा गिरिमाजी भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने ‘टैरिफ ऑफर प्रकाशन में पारदर्शिता’ सबंधी एक परामर्श जारी किया है जिसमें उन्होंने सही टैरिफ प्लान चुनने और विभिन्न समाधानों की पेशकश के संबंध में उपभोक्ताओं द्वारा पेश की जा रही समस्याओं को स्वीकार किया है। कुछ समाधानों, जिनमें वेबसाइटों, मोबाइल एप आदि ...

Read More

ओ मां

ओ मां

आज मदर्स डे ललित गर्ग ‘मां!’ इस लघु शब्द में प्रेम की विराटता, समग्रता निहित है। मां धरती पर जीवन के विकास का आधार है। मां ने ही अपने हाथों से इस दुनिया का ताना-बाना बुना है। सभ्यता के विकास क्रम में आदिमकाल से लेकर आधुनिककाल तक इंसानों के आकार-प्रकार, रहन-सहन, सोच-विचार, ...

Read More

सदा संतान पर ही ध्यान

सदा संतान पर ही ध्यान

ओशो बच्चा मां के पास जो बढ़ता है गति से, उसका कारण है मां का ध्यान। वह चाहे दूर हो, चाहे वह दूसरे कमरे में हो, लेकिन ध्यान उसका बच्चे की तरफ लगा है। वह चाहे सैकड़ों मील दूर चली गई हो, वह हजार काम में उलझी हो, लेकिन भीतर उसके ...

Read More


  • परवरिश के अंधेरे
     Posted On May - 31 - 2020
    तकनीक किस तरह समाजों को रच रही है और उसमें नए अंधेरे-उजाले भर रही है- कोरोना संक्रमण से पैदा हुए....
  • बनी रहे यह मोहक तस्वीर
     Posted On May - 24 - 2020
    लॉकडाउन के दौरान सोशल मीडिया पर एक वीडियो खूब वायरल हुआ। जिसमें दो नदियों के संगम को साफ़ देखा जा....
  • ऐसी प्रीति करहु मन मेरे…
     Posted On May - 24 - 2020
    विश्व के आध्यात्मिक इतिहास में 1500 से 1700 ईस्वी को स्वर्णिम युग कहा जा सकता है। इस काल में दस....
  • कम न हों ईद की खुशियां
     Posted On May - 24 - 2020
    इस वर्ष की ईद-उल-फितर बाकी वर्षों से अलग है। इस ईद की नमाज ईदगाह और मस्जिद के बजाय लोग घरों....

रंगों के धागों में बंधा हिंदुस्तान

Posted On March - 20 - 2011 Comments Off on रंगों के धागों में बंधा हिंदुस्तान
कैलाश सिंह भारत को कई चीजें जोड़ती हैं। हमारे धार्मिक विश्वास, आस्थाएं और होली जैसे त्योहार भी। होली वाकई उन गिने चुने त्योहारों में एक है जिसका चरित्र अखिल भारतीय है। नाम कुछ भी हो, तरीका कुछ भी हो लेकिन पूरे भारत में होली का मकसद एक ही है उमंग, उल्लास और मस्ती। वाकई होली एक ऐसा त्योहार है जो समूचे हिंदुस्तान को जोड़ता है। चाहे उत्तर हो या दक्षिण। पूरब हो या पश्चिम। होली हिंदुस्तान 

मस्त झूमते पेड़ों के संग गये महकते रंग

Posted On March - 20 - 2011 Comments Off on मस्त झूमते पेड़ों के संग गये महकते रंग
राजकिशन नैन देसज पेड़ लगाने और उनसे रंग बनाने की कला हम भूलते जा रहे हैं। होली के मौके पर टेसू के फूलों को पानी में भिगोकर पीला रंग बनाना भी हमने छोड़ दिया है। टेसू की तरह कोई डेढ़ सौ पेड़-पौधे और हैं, जिनसे हमारे बड़े रंग बनाते आए हैं। कुछ पेड़ों के फूलों से रंग बनता है, जबकि बहुत से पौधों की जड़, तने और शाखाओं से रंग प्राप्त होता है। रंग भरे बीजों वाले भी कुछ पौधे देखने 

अभिनेत्रियों के नखरों से भरी होली

Posted On March - 20 - 2011 Comments Off on अभिनेत्रियों के नखरों से भरी होली
गोपा सी होली यानी रंगों का पर्व। अोर रंग होंगे तो जाहिर है आपके चेहरे की रंगत बदरंग होगी। मगर इस त्योहार में कुछ ऐसी मस्ती छिपी होती है कि लोग खुशी से अपना चेहरा रंगों से सराबोर करना पसंद करते हैं। सच भी है आम जिंदगी में यह एक ऐसा त्योहार है, जब लोग सारे अहम को ताक पर रखकर रंगीन होना पसंद करते है। मगर हमारे रुपहले परदे की तारिकाएं इस मस्ती को भी अपने अंदाज से मनाना पसंद करती हैं। इस 

उहा रोटी, उहा दाल

Posted On March - 20 - 2011 Comments Off on उहा रोटी, उहा दाल
होली मुबारक ! गोविन्द राकेश उवें तां हिन्दुस्तान विच थई तरक्की की गाहल या तां 26 जनवरी कूं कीती वेंदी हे या 15 अगस्त कू। लेकिन अज न तां गणतंत्र दिवस हे अते न ही आजादी डिहाड़ा। ऐझे मौके ते तरक्की दी गाहल कुझ बेतुकी तां कैनी लगदी? लेकिन कैना। सईं। अज सब जायज हे, क्यूंकि अज होली हे। तुसां मर्जी जिथां वेठे होवो, मौसम विच बदलाव तुसां महसूस पे करेंदे होसो, मौसम खुल ग्ये, सर्दी तकरीबन रुकसत 

खून का रंग

Posted On March - 20 - 2011 Comments Off on खून का रंग
बाल कहानी संदीप कपूर विकेश आज बहुत खुश था। होली के रूप में उसे रवि से अपना बदला लेने का अवसर जो मिल गया था। रवि ने एक बार विकेश की कक्षा में शरारतें करने पर शिकायत मुख्याध्यापक से कर दी थी और उन्होंने विकेश को खूब फटकारा था। तब से विकेश इस ताक में था कि रवि को सबक कैसे सिखाया जाये। उसने अपनी जेब में रखी हरे रंग की शीशी को थपथपाया जिसमें उसने घातक अम्ल मिला रखा था। ‘इस रंग को जब मैं 

आओ होली खेलें

Posted On March - 20 - 2011 Comments Off on आओ होली खेलें
गहरे पानी पैठ डा. ज्ञानचंद्र शर्मा जाड़े की जकडऩ से  मुक्त हो जैसे ही प्रकृति ने अंगड़ाई ली, सारी सृष्टि में एक उन्माद सा छा गया। उसकी छटा के रंग चारों ओर बिखर गये। वृक्षों पर लाल-हरी पत्तियों ने आंखें खोल लीं, आम बौरा गये, कमल खिल उठे, अशोक प्रकृति बाला के पदाघात से पुष्पित हो गये, नव मल्लिका की हंसी फूट पड़ी। लगता है पुष्पधन्वा एक बार फिर भगवान शंकर का ध्यान भंग करने के लिए अपनी समस्त 

वास्तु समाधान

Posted On March - 20 - 2011 Comments Off on वास्तु समाधान
पी. खुराना मेरी जन्म तिथि 13 अगस्त, 1961 है। मेरे घर के दो दरवाजे हैं, एक उत्तर की ओर दूसरा पूर्व की ओर। बच्चों की ओर से मन अशांत रहता है। कृपया समाधान बताएं। -अ ब स आपके मुख्य द्वार की दोनों दिशाएं शुभ हैं परन्तु कोशिश करें कि आप अपने पूर्व दिशा वाला मुख्य द्वार अधिक इस्तेमाल करें। घर की उत्तर-पूर्वी  कोने में कूड़ा-कर्कट या फालतू का सामान न रखें। बच्चों का विस्तर इस प्रकार लगायें  

रात गुजर गई

Posted On March - 20 - 2011 Comments Off on रात गुजर गई
कहानी रोशन वर्मा ‘रौशन’ सुबह से ही आकाश को अपने आगोश में समेट लेने के लिए बादल संघर्ष कर रहे थे। खुली खिड़की से हवा के झोंके टकरा कर जोर-आजमा रहे थे। मोहित सब बातों से अंजान, लिखने में कुछ ऐसे व्यस्त था कि वह भूल ही गया, कब दिन बीता, कब शाम ढली। शाम का स्वागत करने को अंधेरा, कुछ ही देर में ऐसे उसके कागजों पे लिखी इबारत पर छा जाने को था जैसे सागर के विशाल सीने में कोर्ई पत्थर अपना अस्तित्व 

प्रकृति भी होली खेलती है

Posted On March - 20 - 2011 Comments Off on प्रकृति भी होली खेलती है
बच्चों के संग प्रकृति भी होली खेलती है। फागुन में वसंत आ जाता है। सरसों के पीले, अलसी के नीले, पलाश के लाल और मटर के गुलाबी फूलों से ऋतुराज वसंत की मधुश्री और माधव श्री नाम की परियां वनबागों के बीच आकर होली खेलती हैं। होली रंगों का त्योहार है। कवि मलिक मुहम्मद जायसी कहते हैं। प्रकृति दुल्हन नया शृंगार करती है: वह सीस को फैलाकर लाल सिंदूर लगाती है। नवल सिंगार प्रकृति हि कीन्हा। सीस पसार 

तेनाली राम के किस्से

Posted On March - 20 - 2011 Comments Off on तेनाली राम के किस्से
छाया का पुरस्कार एक बार पड़ोसी देश का दूत राजा कृष्णदेव से मिलने आया। उसने अपने देश के राजा के तोहफे कृष्ण देव को देकर दोस्ती को और मजबूत करने की विनय की। राजा कृष्णदेव ने भी ढेरों तोहफे दूत को उनके राजा के लिए दिए। जब दूत जाने लगा तो कृष्णदेव ने कहा-दूत! हम तुम्हें भी कुछ पुरस्कार देना चाहते हैं। बोलो तुम हीरे, जवाहरात, सोना-चांदी, क्या चाहते हो? ‘महाराज। मुझे ऐसा पुरस्कार दें जो सुख-दुख 

जल-संकट के समाधान हेतु सोच में बदलाव ज़रूरी

Posted On March - 17 - 2011 Comments Off on जल-संकट के समाधान हेतु सोच में बदलाव ज़रूरी
ज्ञानेन्द्र रावत परंपरा की अनदेखी जल की समस्या अकेले हमारे देश की ही नहीं समूची दुनिया की है। हमारे देश में अनियंत्रित-अनियोजित विकास, वनों की अंधाधुंध कटान, बढ़ती आबादी, बढ़ता प्रदूषण और कंक्रीट के जंगलों का बेतहाशा बढ़ता क्षेत्रफल जल-संकट को और बढ़ाने में अहम भूमिका निभा रहा है। यही वजह है कि गांवों की बात तो दीगर है, नगरीय क्षेत्रों तक में स्थानीय निकाय अपने निवासियों को पीने 

खून की प्यासी सड़कें

Posted On March - 13 - 2011 Comments Off on खून की प्यासी सड़कें
वीना सुखीजा ये आंकड़े दहशत से भरने के लिए काफी हैं। ये आंकड़े यह बताने के लिए काफी हैं कि हमारी सड़कें किस कदर खून की प्यासी हैं। यह आंकड़े बताते हैं कि जिस रफ्तार से हिंदुस्तान के शहरों में वाहनों की वृद्धि हो रही है, उसी रफ्तार से सड़क दुर्घटनाओं में भी इजाफा हो रहा है। यह आंकड़े बताते हैं कि रोड पर चलना हमारे यहां कितना दहशतनाक होता जा रहा है। यह आंकड़े बताते हैं कि यह हमारी सड़कें 

पुलिस को क्यों नहीं मिलता लोगों का सहयोग

Posted On March - 13 - 2011 Comments Off on पुलिस को क्यों नहीं मिलता लोगों का सहयोग
मीरा राय भीड़ भरे बाजारों, रेलवे स्टेशनों, बस अड्डों, पार्कों तथा सार्वजनिक मूत्रालयों में अपराध और आतंकवाद के विरुद्ध चेतावनी देते व इनके विरुद्ध लड़ाई में शामिल होने का आह्वान करते दर्जनों पोस्टरों, विज्ञापनों और नारों को शहरों की दीवारों पर देखा जा सकता है। लेकिन फिर भी देखा जाता है कि आतंकवाद के विरुद्ध लड़ाई में सुरक्षा एवं खुफिया एजेंसियों को आम लोगों से वह मदद नहीं मिल 

अटल बिहारी वाजपेयी के चरित्र में अंजन

Posted On March - 13 - 2011 Comments Off on अटल बिहारी वाजपेयी के चरित्र में अंजन
शांतिस्वरूप त्रिपाठी ‘मिस्टर वागले’ के रूप में मशहूर कलाकार अंजन श्रीवास्तव इन दिनों निर्देशक बबलू शेषाद्रि की नई फिल्म ‘डेमोक्रेसी’ में एक राजनेता का किरदार निभा रहे हैं, जिन्हें देखकर हर कोई यही चर्चा कर रहा है कि इस फिल्म में अंजन श्रीवास्तव, भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का चरित्र निभा रहे हैं। यूं तो अंजन श्रीवास्तव इस बात को खुलकर स्वीकार नहीं 

उहा रोटी, उहा दाल

Posted On March - 13 - 2011 Comments Off on उहा रोटी, उहा दाल
नंबर वन हरियाणा गोविन्द राकेश कोठे ते चढ़ के विलाशक, बहुं फख्र नाल आज आख्या वञे कि पूरे मुल्क विच असाडा प्रदेश हरियाणा नंबर वन हे तां असाडा सीना त्रै गज चौड़ा थी वेंदे। हरियाणा जैकूं वणयें हाली चालीह साल ही थ्येन, अज दुनिया दे नक्शे उते उभरदा प्रदेश अपणी मेहनत दे सिर ते तरक्की करेंदे होऐ इथां दे वासिये दी हिक अलग ही पहचान करवेंदे। हरियाणा दी पहचान न सिर्फ दूध-दही दे खाणे नाल वणदी 

वास्तु समाधान

Posted On March - 13 - 2011 Comments Off on वास्तु समाधान
पी. खुराना मेरी बेटी की जन्मतिथि 18.6.1976 है। सरकारी नौकरी में कार्यरत है, बावजूद इसके शादी नहीं हो पा रही है। कृपया बताएं कि शादी का योग कब तक बनता है। -पंकज, भिवानी —पंकज जी, आप चिंता न करें,  बेटी का शुभ समय 27 जुलाई, 2011 के बाद है। इस समय के दौरान, शादी का योग अवश्य है। उपाय के तौर पर जब भी कोई रिश्ता करने के लिए आए तो बेटी को नवीन वस्त्र धारण करवाएं तथा शादी की बात सोमवार को करें। इसके