योगेश को विश्व पैरा एथलेटिक्स में कांस्य !    20 दिन बाद भी मंत्री नहीं बना पाई गठबंधन सरकार : सुरजेवाला !    ब्रिक्स सम्मेलन में उठेगा आतंक का मुद्दा !    अमेरिका में पंजाबी युवक को मारी गोली, मौत !    राष्ट्रपति शासन लागू, विधानसभा निलंबित !    कश्मीर में रेल सेवाएं बहाल सड़कों पर दिखी मिनी बसें !    बीसीसीआई ने संविधान में बदलाव किया तो होगा कोर्ट का उपहास होगा !    बांग्लादेश ट्रेन हादसे में 16 लोगों की मौत !    विशेष अदालतों के गठन का करेंगे प्रयास !    बाबा नानक की भक्ति में सराबोर हुआ शहर !    

लहरें › ›

खास खबर
दुनिया के बेहतरीन म्यूजि़यम

दुनिया के बेहतरीन म्यूजि़यम

शिखर चंद जैन म्यूजियम हमें बीते ज़माने की कला, संस्कृति, इतिहास और विज्ञान की तरक्की के बारे में काफी कुछ बताते हैं। म्यूजियम की सैर सिर्फ मनोरंजन के लिहाज से नहीं बल्कि शिक्षा की दृष्टि से भी फायदेमंद होती है। लेकिन मुश्किल यह है कि म्यूजियम हर शहर में तो होते ...

Read More

पार्टी दे रहे हैं तो रहें सजग

पार्टी दे रहे हैं तो रहें सजग

सरोज गुप्ता आज का सामाजिक वातावरण ऐसा है कि किसी भी खुशी के अवसर पर पार्टी का आयोजन आवश्यक-सा हो गया है। बच्चे या बड़े, किसी का भी जन्मदिन हो, बच्चे का जन्म हो या फिर शादी की सालगिरह अथवा अन्य कोई सुअवसर, सभी अवसरों पर हम अपने मित्रों, पड़ोसियों तथा ...

Read More

चाय के साथ लें कुछ पौष्टिक

चाय के साथ लें कुछ पौष्टिक

स्वाति गुप्ता शाम की चाय के साथ अक्सर हम कुछ खाने को ढूंढते हैं। अगर वो हेल्दी और स्वादिष्ट दोनों हों तो बात ही बन जाती है। आज हम आपको बताएंगे मुरमुरे से बने व्यंजनों के बारे में जो खाने में बहुत ही स्वादिष्ट होते हैं और जल्दी से बन भी ...

Read More

बुरी संगत से बचना 

बुरी संगत से बचना 

हरिन्दर सिंह गोगना जीवन में कई मर्तबा नासमझी में ऐसी छोटी-छोटी घटनायें घट जाती हैं जो बड़ी सीख भी दे जाती हैं। ऐसी ही छोटी-सी घटना व सीख ने मेरे जीवन को डगमगाने से पहले ही संभाल लिया जो आज भी मेरे स्मरण में है। बचपन में पांचवीं कक्षा तक आते -आते ...

Read More

दस साल में क, ख, ग

दस साल में क, ख, ग

सीमा जब मैं अपना बचपन याद करती हूं तो स्कूल और पढ़ाई को लेकर बहुत अच्छी यादें सामने नहीं आती। हम तीन बहनें और एक भाई हैं। मैं सबसे छोटी हूं। पुराने दिन याद करती हूं तो आज से 30 साल पुरानी कई बातें तरोताज़ा हो जती हैं। हमारा परिवार बिहार ...

Read More

वैदिक गणित अंकों से सीखें खेलना

वैदिक गणित अंकों से सीखें खेलना

सुभाष चन्द्र वैदिक मैथ्स को उदाहरण के रूप में आप ऐसे समझें। 1 गुणे नौ 171 होता है। एकबारगी आपको यह गलत लगेगा। चौंकिए नहीं। हम समझाते हैं वैदिक गणित के आधार पर। आपको पता होना चाहिए कि वैदिक गणित में सिर्फ नौ तक का पहाड़ा ही याद करने की जरूरत ...

Read More

तकनीकी प्लेटफॉर्म्स ताकाझांकी नहीं

तकनीकी प्लेटफॉर्म्स ताकाझांकी नहीं

मोनिका शर्मा वर्चुअल दुनिया की फ्रेंडलिस्ट में रिश्तेदारों का होना यानी कि व्यक्तिगत जीवन में पहले से ही जुड़े लोगों को तकनीक के ज़रिये जुड़ाव का एक और माध्यम मिलना है। इसका सकारात्मक इस्तेमाल कीजिए। जान-पहचान के लोगों की हर अपडेट को सिर्फ इसलिए फ़ॉलो करना कि आप उनसे जुड़ीं सभी ...

Read More


हिन्दी -दुर्दशा देखी नहीं जाई!

Posted On September - 19 - 2010 Comments Off on हिन्दी -दुर्दशा देखी नहीं जाई!
डॉ. सुभाष चंद्र भारत बहुभाषी तथा बहुसांस्कृतिक देश है, जिसमें सैकड़ों भाषाओं और बोलियों को बोलने वाले लोग रहते हैं। शायद ही दुनिया के किसी देश में ऐसी भाषायी विविधता देखने को मिले, जिसमें एक से एक समृद्ध भाषाएं हों, जिनमें विपुल साहित्य हो और समस्त कार्य की क्षमता हो। लेकिन यह भी सही है कि शायद ही दुनिया में कोई देश ऐसा हो, जिसमें आज़ादी के 63 साल बाद भी राजकार्य में विदेशी भाषा का 

उहा रोटी, उहा दाल

Posted On September - 19 - 2010 Comments Off on उहा रोटी, उहा दाल
गोल्ड मैडल गोविन्द राकेश गोल्ड मैडल दी तमन्ना दिल विच रख के तकरीबन तेहत्तर मुल्कें दी सरकारें ने हामी तां भर डित्ती क्यूंकि हर मुल्क हर खेड विच गोल्ड मैडल दी चाह रखेदें। अते इडडे हिन्दुस्तान दी राजधानी दिल्ली उन्हां दे स्वागत वास्ते पूरी तरह तैयार वी हे। खिडाडिये देनां ते खेड-गांव बण के तैयार हे। सरकारी इमारतां ते रंग-रोगन करके हिक नवीं लुक डेवण दी कोशिश कीती गई हे। पुराणी बिल्डिंगे, 

जीव-जन्तुओं की अनोखी दुनिया

Posted On September - 19 - 2010 Comments Off on जीव-जन्तुओं की अनोखी दुनिया
डरपोक पक्षी ‘ईस्टर्न व्हिप बर्ड’ पूर्वी आस्ट्रेलिया के नमी वाले वर्षा वनों में पाया जाने वाला पक्षी ‘ईस्टर्न व्हिप बर्ड’ एक बेहद शर्मीला और डरपोक किस्म का पक्षी है। अपने इसी डरपोक स्वभाव की वजह से यह अक्सर छिपकर रहता है और इसीलिए यह बहुत कम दिखाई पड़ता है। खुद को मनुष्यों या अन्य प्राणियों की नजरों से छिपाए रखने के उद्देश्य से यह अक्सर घनी हरियाली की ओट में छिपा रहता है और अगर 

उत्तर भारत के वामन द्वादशी मेले

Posted On September - 19 - 2010 Comments Off on उत्तर भारत के वामन द्वादशी मेले
डा. नवरत्न कपूर महाभारत, श्रीमद्भगवत पुराण एवं वामन पुराण में उल्लिखित है कि भक्त प्रह्लाद का पोता और विरोचन का बेटा राजा बलि जितना महत्वाकांक्षी नरेश था उतना ही दानशील और अपनी बात का पक्का था। अपने राज्य क्षेत्र की सीमा बढ़ाने की लालसा में उसने देवराज इंद्र की राजधानी ‘अमरावती’ पर आक्रमण कर दिया। इंद्र देव राजा बलि की विशाल सेना देखकर भयभीत हुए और भाग कर अपने गुरु बृहस्पति 

गहरे पानी पैठ

Posted On September - 19 - 2010 Comments Off on गहरे पानी पैठ
....

दाग

Posted On September - 19 - 2010 Comments Off on दाग
बाल कहानी गोविन्द शर्मा यह अंग्रेजों के जमाने की बात है। उन दिनों हमारे देश में सैकड़ों छोटी-बड़ी रियासतें थीं। कुछ में राजा थे तो कुछ में नवाब। हर राजा या नवाब की सहायता के लिए एक दीवान भी होता था। यह दीवान प्रधानमंत्री भी कहलाता था। ज्यादातर दीवान अंग्रेजों के पिट्ठू होते  थे क्योंकि उन्हीं के द्वारा नियुक्त किये जाते थे। रियासत में राजा या नवाब से ज्यादा इन दीवानों की चलती 

विज्ञान के झरोखे से

Posted On September - 19 - 2010 Comments Off on विज्ञान के झरोखे से
घमंडीलाल अग्रवाल बच्चो, विज्ञान से संबंधित कुछ रोचक प्रश्नोत्तर नीचे दिए जा रहे हैं जो तुम्हारे ज्ञान में वृद्धि करने में सहायक सिद्ध होंगे। गर्म दूध में हल्दी मिलाकर पीना स्वास्थ्य के लिए लाभप्रद क्यों होता है? —गर्म दूध में हल्दी मिलाकर पीना स्वास्थ्य के लिए लाभप्रद होता है क्योंकि हल्दी जीवाणुनाशक है जिसमें कैंसररोधी तत्व पाए जाते हैं। शोधकर्ताओं के अनुसार हल्दी 

गजलें

Posted On September - 19 - 2010 Comments Off on गजलें
....

वास्तुसमाधान

Posted On September - 19 - 2010 Comments Off on वास्तुसमाधान
पी. खुराना मेरी जन्मतिथि 2.2.1973 है। मैं 10 वर्षों से सरकारी नौकरी के लिए कोशिश कर रहा हूं पर सफलता नहीं मिली। कृपया कोई उपाय बताएं। -सलिन्द्र सिंह, कुरुक्षेत्र — सलिन्द्र जी, नौकरी के लिए आपका शुभ समय दो साल पहले निकल चुका है, परन्तु चिंता न करें। मार्च 2011 के बाद शुभ समय शुरू होने वाला है। इस दौरान आप निम्न उपाय करें — सोते समय सिर उत्तर दिशा की ओर करके सोयें तथा पढऩे वाली किताबें दक्षिण-पूर्व 

बाल कविताएं

Posted On September - 19 - 2010 Comments Off on बाल कविताएं
पतंग वाला अब्दुल चाचा बनाते पतंग, सबमें भरते नई उमंग। पक्की है गर डोर तुम्हारी, पतंग उड़ेगी सबसे न्यारी। पीली, लाल और हरी गुलाबी, सफेद, काली और आंखों वाली। कितनी तरह की आई पतंगें, सबके दिलों में छाई उमंगें। हम भी पतंग उड़ाते हैं चाचा को सलाम बजाते हैं। — प्रद्युम्न भल्ला पुस्तक बोली बच्चों ने अब पुस्तक खोली, उसमें से कविता भी डोली। पाठ ने भी मुस्कान बिखेरी, गणित की भी बिछी 

फांस

Posted On September - 19 - 2010 Comments Off on फांस
कहानी वाजिदा तबस्सुम तार मिलते ही किसी भी हाल में फौरन पहुंच जाओ!’ शाजी की हालत खराब हो गयी। तार भेजने वाले का नाम अनवर था। निश्चय ही यह तार उसकी प्यारी बाजी नकहत के पति की ओर से था। उन्होंने कोई इशारा तक नहीं दिया था कि क्यों उसे फौरन पहुंच जाने के लिए कहा गया है, लेकिन उसका दिल रह-रह कर गवाही दे रहा था कि अवश्य ही बाजी की हालत नाज़ुक है—मेरे मुंह में खाक…वे मृत्यु-शय्या 

वास्तु समाधान

Posted On September - 12 - 2010 Comments Off on वास्तु समाधान
मेरी जन्मतिथि 11. 2.1973 है। मैंने इलेक्ट्रोनिक में डिप्लोमा किया है। मेरा कोई भी काम नहीं बन रहा है। विवाह में भी बाधा आ रही है। कृपया मार्गदर्शन करें। -दिलीप, लालड़ू – दलीप जी, आपका शुभ समय 27 दिसंबर 2010 से शुरू होने वाला है जोकि आने वाले पांच वर्ष तक चलेगा। इस समय के दौरान आपको कई अच्छे प्रस्ताव आएंगे। शादी के लिए भी व कामकाज के लिए भी। आप केवल ग्यारह पूर्णमासी किसी धार्मिक स्थान पर जाकर 

विज्ञान के झरोखे से

Posted On September - 12 - 2010 Comments Off on विज्ञान के झरोखे से
घमंडीलाल अग्रवाल बच्चो, विज्ञान से संबंधित कुछ रोचक प्रश्रोत्तर नीचे दिए जा रहे हैं जो तुम्हारे ज्ञान में वृद्धि करने में सहायक सिद्ध होंगे। खुली कार में बैठकर सफर करने वालों की श्रवण-शक्ति कम क्यों हो जाती है? —रफ्तार के शौकीन लोगों को खुली कारें अच्छी लगती हैं किंतु इनमें सफर करने से सुनने की क्षमता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। साथ ही साथ श्रवण-शक्ति भी कमज़ोर 

कविताएं

Posted On September - 12 - 2010 Comments Off on कविताएं
हिन्दी भारत-भारती तुलसी ने गा रामचरित किया तुझे पावन। अलख जगाई कबीर ने थाम तेरा दामन। सूर के सांवरे हेतु तू ही थी तुतलाई। मीरा की प्रेम-पीरा तुझ में भी समाई॥ भारतेंदु ने उन्नति का उत्स तुझ में पाया। ‘भारत-भारती’ का पद मैथिली ने दिलाया। ‘राम की शक्तिपूजा’ ने महाप्राण बनाया। ‘कामायनी’ ने तुझे शिखर पर बिठलाया॥ प्रेमचंद ने तेरे लिए खोले गद्य-द्वार। ‘चिंतामणि’ का विश्वमोहक 

बाल कविताएं

Posted On September - 12 - 2010 Comments Off on बाल कविताएं
हिन्दी हम सबके माथे की बिन्दी, अपनी प्यारी भाषा हिन्दी। यह भाषा इतनी है न्यारी, सबको लगती है बड़ी प्यारी। आ रहा है अब हिन्दी का जमाना, हिन्दी से फिर कैसा घबराना। चाहे जितनी भी भाषाएं सीखो, पर हिन्दी को कभी न भूलो। यह भाषा तो इतनी समृद्ध है, पढ़कर इसे आसमान को छू लो। आओ मिलकर हिन्दी अपनाएं, राष्ट्र-भाषा का गौरव बढ़ायें। -ममता जोशी शुद्ध पर्यावरण तारों का देखो टिमटिमाना, मुस्कुराकर 

संकट में गजराज

Posted On September - 12 - 2010 Comments Off on संकट में गजराज
ज्ञानेन्द्र रावत बीते दिनों केन्द्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश ने देश में युगों-युगों से धर्म एवं संस्कृति से बहुत नजदीकी रूप से जुड़े रहे गजराज यानी हाथी को राष्ट्रीय धरोहर प्राणी घोषित किया है। उन्होंने कहा है कि इसकी प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है। इसके संरक्षण हेतु बाघ संरक्षण प्राधिकरण की तर्ज पर गजराज संरक्षण प्राधिकरण बनाया जायेगा व विशेष टॉस्क फोर्स का गठन 
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.