32 देशों के 239 वैज्ञानिकों ने कहा-हवा में भी है कोरोना! !    श्रीनगर में लगा आधा ‘दरबार’, इस बार जम्मू में भी खुला नागरिक सचिवालय! !    कुवैत में 'अप्रवासी कोटा बिल' पर मुहर, 8 लाख भारतीयों पर लटकी वापसी की तलवार !    मुम्बई, ठाणे में भारी बारिश !    हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे पर ढाई लाख का इनाम, पूरे यूपी में लगेंगे पोस्टर !    एलएसी विवाद : पीछे हटीं चीन और भारत की सेनाएं, डोभाल ने की चीनी विदेश मंत्री से बात! !    अवैध संबंध : पत्नी ने अपने प्रेमी से करवायी पति की हत्या! !    कोरोना : भारत ने रूस को पीछे छोड़ा, कुल केस 7 लाख के करीब !    भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने साधा राहुल गांधी पर निशाना !    राहुल का कटाक्ष : हारवर्ड के अध्ययन का विषय होंगी कोविड, जीएसटी, नोटबंदी की विफलताएं !    

लहरें › ›

खास खबर
प्रभु से मिलाप का मार्ग प्रेम और श्रद्धा

प्रभु से मिलाप का मार्ग प्रेम और श्रद्धा

संत राजिन्दर सिंह जी महाराज प्रभु के प्रति प्रेम और श्रद्धा एक शब्दहीन अवस्था है। यह ऐसा अनुभव है जो आत्मा के स्तर पर ही किया जाता है। प्रभु के प्रति प्रेम और श्रद्धा, हमारी आत्मा के प्रभु से मिलाप का मार्ग है। जरूरत है इसे विकसित करने की। इसके लिए ...

Read More

झिरकेश्वर महादेव अरावली की गोद में पांडवकालीन तपोभूमि

झिरकेश्वर महादेव अरावली की गोद में पांडवकालीन तपोभूमि

देशपाल सौरोत प्राचीन झीरी वाला शिव मंदिर का अनूठा इतिहास है। हरियाणा-राजस्थान बार्डर पर फिरोजपुर झिरका में प्राकृतिक सौंदर्य से परिपूर्ण अरावली की वादियों की गोद में है यह मंदिर। मान्यता है कि पांडवों ने अज्ञातवास के दौरान इस रमणीक स्थल पर पूजा-अर्चना कर शिवलिंग की स्थापना की थी। तभी से ...

Read More

बांस का आशियाना

बांस का आशियाना

पर्यावरण को लेकर जताई जा रही चिंताओं में कंक्रीट के जंगलों का तेजी से बढ़ना और हरियाली का उजड़ना शामिल है। विशेषज्ञ कहते हैं कि निर्माण कार्य में अगर बांस का इस्तेमाल बढ़ाया जाये तो इसके दोहरे फायदे हैं। बांस तेजी से बढ़ता है और इसे काटने में कोई कानूनी ...

Read More

धर्म-अध्यात्म का योग

धर्म-अध्यात्म का योग

घनश्याम बादल योग, धर्म और अध्यात्म को अक्सर अलग-अलग माना जाता है। योग का संबंध भौतिक शरीर को पुष्ट करने अथवा शारीरिक व्याधियों के उपचार तक सीमित मान लिया जाता है। वहीं, धर्म को प्राय: किसी विशेष पद्धति से पूजा-पाठ अथवा कर्मकांड मान लिया गया है और अध्यात्म को दूसरे लोक ...

Read More

6 वक्री ग्रहों के बीच आज दुर्लभ सूर्य ग्रहण

6 वक्री ग्रहों के बीच आज दुर्लभ सूर्य ग्रहण

मदन गुप्ता सपाटू ज्योतिष के अनुसार आज का सूर्य ग्रहण दुर्लभ है। यह ग्रहण मिथुन राशि में लग रहा। इस दौरान 6 ग्रह- बुध, बृहस्पति, शुक्र, शनि, राहु और केतु वक्री रहेंगे। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यह स्थिति शुभ नहीं मानी जा रही। इसके अलावा अशुभ गण्डयोग, पूर्णकाल सर्पयोग, षडाष्टक योग ...

Read More

ज़िंदगी हैरान हूं मैं...

ज़िंदगी हैरान हूं मैं...

चकाचौंध भरी फिल्मी दुनिया को बाहर से देखने पर तो लगता है कि यहां सबकुछ ‘शानदार’ है, लेकिन छन-छनकर आई जानकारियों और सुशांत सिंह राजपूत सरीखे कई कलाकारों के खुद को खत्म कर लेने की भयावह खबरों से ‘हकीकत’ कुछ और ही लगती है। अवसाद भयानक बीमारी के रूप में ...

Read More

कोरोना से जंग विज्ञापनों से मत होइये गुमराह

कोरोना से जंग विज्ञापनों से मत होइये गुमराह

उपभोक्ता अधिकार पुष्पा गिरिमाजी हाल के दिनों में मैंने कुछ ऐसे विज्ञापन देखे हैं हो जो उपभोक्ताओं को खतरनाक कोरोनावायरस से बचाने का वादा करते हैं। उनमें से ज्यादातर में उनके आयुर्वेदिक या हर्बल होने का दावा किया जाता है और लोग उन्हें इस विश्वास के साथ खरीद रहे हैं कि ये ...

Read More


  • कानूनी शिकंजे में कृषि
     Posted On July - 5 - 2020
    संविधान में संशोधनों के जरिए केंद्र सरकार खेती के विषय में भी अतिक्रमण जारी रखे हुए है। संवैधानिक रूप से....
  • गुरु पूर्णिमा
     Posted On July - 5 - 2020
    गुरु दीक्षा देते हैं। दीक्षा केवल किसी विषय को लेकर कोई सूचना नहीं है, बल्कि यह सजगता और बुद्धिमत्ता की....
  • गुरु बिन ज्ञान न उपजै…
     Posted On July - 5 - 2020
    व्यक्ति में यदि ‘ईश्वर’ को जानने की तीव्र इच्छा है, तो उसे ‘सद‍्गुरु’ आश्रय में जाना होता है। गुरु का....
  • संतुलन ही शिव का संदेश
     Posted On July - 5 - 2020
    ऋतुओं के देश भारत में हर ऋतु मनुष्य में एक नयी ऊर्जा का निर्माण करती है। लेकिन, सावन का महीना....

जिसका गीत जुबान पर चढ़ेगा, वो कवि याद रहेगा : नीरज

Posted On April - 17 - 2011 Comments Off on जिसका गीत जुबान पर चढ़ेगा, वो कवि याद रहेगा : नीरज
बीसवीं शताब्दी के सर्वाधिक लोकप्रिय कवि माने जाने वाले गोपाल दास नीरज ने हिंदी साहित्य को कालजयी रचनाएं दी हैं। यंू तो उन्होंने गीत, गज़ल, दोहे, मुक्तक, गद्यगीत से लेकर हाइकु तक साहित्य लिखा है, लेकिन दिल को छूने वाले उनके फिल्मी गीत आज भी भारतीयों की जुबान पर हैं। राष्ट्रीय नागरिक सम्मान पद्मभूषण समेत अनेक राष्ट्रीय पुरस्कार उनकी प्रतिष्ठा की बानगी पेश करते हैं। यह बात अलग है कि वे 

जेनेटिक कोड क्या होते हैं?

Posted On April - 17 - 2011 Comments Off on जेनेटिक कोड क्या होते हैं?
क्वेश्चन क्लब नयनतारा दीदी के जवाब ”दीदी, मैंने सुना है बच्चों में मां-बाप के गुण होते हैं?’ ”तुमने सही सुना है। प्रजनन के माध्यम से मां-बाप के विशेष गुण उनकी संतानों में विशेष प्रोटीन संरचनाओं द्वारा सुनिश्चित किये जाते हैं। हालांकि माता-पिता, विभिन्न गुण निर्धारित करने वाले इन प्रोटीनों को संतानों में नहीं भेजते। लेकिन उनके द्वारा प्रदत्त डीएनए का कूट संदेश या कोड जो 

तीन मीनार

Posted On April - 17 - 2011 Comments Off on तीन मीनार
....

जिसका मुझे है इंतजार….

Posted On April - 17 - 2011 Comments Off on जिसका मुझे है इंतजार….
.अपने करिअर की कछुआ चाल से आप खुश हैं? ‘विवाह’ की शर्मिली दुल्हन अमृता राव ने एक बार फिर राजश्री प्रोडक्शन की फिल्म ‘लव यू… मि. कलाकार’ में अपनी अदाकारी दिखाई है। हालांकि बॉलीवुड में अमृता का कॅरिअर धीमी गति के समाचारों की तरह आगे बढ़ रहा है, लेकिन अमृता को लगता है, इससे कोई शिकायत नहीं हैइंडस्ट्री में बिना गॉडफादर के मैंने अपनी जगह बनाई है। मैं खुद को बहुत भाग्यशाली समझती 

तेनाली राम के किस्से

Posted On April - 17 - 2011 Comments Off on तेनाली राम के किस्से
घोड़े की कीमत एक बार तेनाली बहुत तीव्र ज्वर से पीडि़त हो गया। उसने दरबार से भी छुट्टी ले ली। जब राजगुरु और राजवैद्य को यह पता चला तो दोनों तेनाली के आवास पर पहुंचे। राजवैद्य ने तेनाली का निरीक्षण किया और उसे औषधियां देकर वहां से चले गये। राजगुरु ने कहा— तेनाली इन औषधियों से तुम ठीक नहीं होगे। तुम कुछ पूजा-पाठ करो तभी कल्याण होगा। इस पर केवल दो सौ स्वर्ण मुद्राएं खर्च होंगी।’ तेनाली 

उहा रोटी, उहा दाल

Posted On April - 17 - 2011 Comments Off on उहा रोटी, उहा दाल
....

चाटुकारिता का प्रताप

Posted On April - 17 - 2011 Comments Off on चाटुकारिता का प्रताप
गहरे पानी पैठ डा. ज्ञानचंद्र शर्मा खुशामद बड़े आदमियों की बड़ी कमजोरी है। उनकी इच्छा रहती है कि कोई उनका गुणगान करता रहे, उनको बड़ा कहे ही नहीं, बड़ा माने भी। वे यदि किसी मंदिर में पचास रुपये का पत्थर लगवायेंगे तो उस पर यह लिखवाने के लिए कि  यह पत्थर अमुक दानवीर ने अपनी पूज्य माता जी के स्मृति में लगवाया। हर ऐसा काम करने के बाद वे अपेक्षा करेंगे कि लोग उनकी वाहवाही करें। शायद वे बिहारी 

कैसी कैसी बेगमें

Posted On April - 10 - 2011 Comments Off on कैसी कैसी बेगमें
कृष्ण प्रताप सिंह अवध के नवाबों का इतिहास उनकी बेगमों के बगैर पूरा नहीं होता। इसलिए कि जिस, अपनी तरह की अनूठी, तहजीब के कंधों पर उनकी पालकी ढोई जाती थी, उसमें बेगमें कहीं ज्यादा आन-बान व शान से मौजूद हैं। इस कदर कि उनसे जुड़े अनेक रोचक व रोमांचक और अच्छे व बुरे प्रसंग आज भी लोगों की जुबान पर रहते हैं। उनकी बेरहम तुनुकमिजाजी के लिए कोई उनको वानरों व चोरों के साथ अवध के तीन दुष्टों 

आशाओं- आशंकाओं के मध्य क्रोधी संवत्सर का आगमन

Posted On April - 10 - 2011 Comments Off on आशाओं- आशंकाओं के मध्य क्रोधी संवत्सर का आगमन
सत्यव्रत बेंजवाल भारतीय गौरवमयी सभ्यता एवं संस्कृति में संवत्सर का विशेष महत्व है। ब्रह्मा जी द्वारा चतुर्युगों की व्यवस्था तथा सृष्टिï का शुभारंभ भी चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को किया गया तथा  ‘सतयुग’ का आरंभ भी इसी दिन हुआ माना जाता है। 4 अप्रैल, सोमवार को चैत्र शुक्ल प्रतिपदा विक्रमी संवत् 2068 को  ‘क्रोधी’ नामक संवत्सर प्रारंभ हो चुका है, नूतन संवत्सर में व्रत, अनुष्ठïान, 

उहा रोटी, उहा दाल

Posted On April - 10 - 2011 Comments Off on उहा रोटी, उहा दाल
परिवारदास गोबिंद राकेश आदमी दी हिक टब्बर नाल राहवण दी कहानी शायद बहु पुराणी कैनी। ज्यूं ज्यूं टब्बर वध्या ग्या, कबीले दा जन्म थ्या। कबीले दा सब तो ताकतवर आदमी कबीले दा सरदार बण ग्या। कबीले दे सरदार दा आखण मनणा हर बंदे दा फर्ज बण ग्या। कुझ कबीलिए ने मिलके हिक राजा बणये अते ओ राज्य दा मुखी राजा वण ग्या। राजे दा आखण राजा दा कानून होदा हा अते कानून दी पालना करना हर शक्स दा फर्ज। राजा 

पीले पत्ते

Posted On April - 10 - 2011 Comments Off on पीले पत्ते
....

अनोखा न्याय

Posted On April - 10 - 2011 Comments Off on अनोखा न्याय
राम, श्याम, शंकर और गणेश चारों दोस्त थे। चारों अनपढ़ और गरीब थे। उन चारों में से किसी के पास भी अपना खेत नहीं था। इसलिए वे दूसरों के खेत में मेहनत-मजदूरी कर किसी प्रकार अपना गुजारा करते थे। एक दिन चारों दोस्तों ने साझी खेती करने का फैसला किया और गांव के जमींदार से एक खेत किराए पर लेकर उसमें फसल बो दी। जब फसल पककर तैयार हो गई तो चारों ने मिलकर उसे काटकर खलिहान में ऊंची-ऊंची ढेरियां बना लीं। 

गहरे पानी पैठ

Posted On April - 10 - 2011 Comments Off on गहरे पानी पैठ
....

वास्तु समाधान पी. खुराना

Posted On April - 10 - 2011 Comments Off on वास्तु समाधान पी. खुराना
मेरे बेटे की जन्मतिथि 14. 9.1995 है। उसका पढऩे में मन नहीं लगता, कृपया कोई समाधान बताएं। वह +1 के बाद एनडीए का फार्म भरना चाहता है, क्या उसके लिए यह उचित रहेगा।                                            -अबस बेटे की कुण्डली में एनडीए का योग कम बनता है। आप उसे कंप्यूटर डिजाइनिंग में डाल दें तो ज्यादा लाभकारी रहेगा। इसके लिए उसे विदेश में भी मौका मिल सकता है। एक प्रयोग त्राटक क्रिया का रोजाना करवायें (जलती 

तेनाली राम के किस्से

Posted On April - 10 - 2011 Comments Off on तेनाली राम के किस्से
सती का स्वांग राजा कृष्णदेव के राजपुरोहित तेनाली से बड़ी ईष्र्या रखते थे। एक बार वे दरबार से कुछ माह की छुट्टियां लेकर दूसरे नगर गए। वहां उन्होंने कुशल बहुरूपिए से भेष बदलने की कला सीखी। जब वे बहुत पारंगत हो गए तो पुन: विजयनगर पहुंचे। राजदरबार में पहुंचकर अपनी कला-प्रदर्शन की आज्ञा मांगी। राजा ने आज्ञा दे दी मगर बहुरूपिए बने राजपुरोहित ने कहा, ‘महाराज!  मेरी कला में यदि कुछ 

विज्ञान के झरोखेसे

Posted On April - 10 - 2011 Comments Off on विज्ञान के झरोखेसे
बच्चो, विज्ञान से संबंधित कुछ रोचक प्रश्नोत्तर नीचे दिए जा रहे हैं जो तुम्हारे ज्ञान में वृद्धि करने में सहायक सिद्ध होंगे। बरगद तुम्हें निरोग क्यों रखता है? -बरगद के वृक्ष के लगभग सभी भाग (जटा, पत्ते, छाल, कोंपल आदि) औषधीय रूप से बहुत उपयोग होते हैं। यह शीतल, रुग्ण, भारी, मीठा, कसैला, स्तंभक एवं कफ तथा पित्त दोषों को दूर करने वाला होता है। बुखार, दाद, उल्टी, बेहोशी, तीव्र प्यास जैसे रोगों के 
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.