भगौड़े को पकड़ने गयी पुलिस पर हमला, 3 कर्मी घायल !    एटीएम को गैस कटर से काट उड़ाये 12.61 लाख !    कुल्लू में चरस के साथ 2 गिरफ्तार !    बारहवीं की छात्रा ने घर में लगाया फंदा !    नेपाल को 56 अरब नेपाली रुपये की मदद देगा चीन !    इस बार अब तक कम जली पराली !    पीएम की भतीजी का पर्स चुरा सोनीपत छिप गया, गिरफ्तार !    फरसा पड़ा महंगा, जयहिंद को आयोग का नोटिस !    महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में प्रचार करेंगी मायावती !    ‘गांधीजी ने आत्महत्या कैसे की?’ !    

लहरें › ›

खास खबर
पाप का अंत

पाप का अंत

बाल कविता दस शीश का दशानन ना एक शीश बचा पाया। राम ने जीत लंका सत्य का परचम फहराया। झूठ कभी जीते ना सामने कभी सच्चाई के। दुष्ट ही सदैव झुके सामने यहां अच्छाई के। जब-जब भी पाप बढ़ा लिया ईश्वर ने अवतार। राम और कृष्ण हुए मिटा दुष्टों का अत्याचार। बच्चों तुम जीवन में भगवान राम सरीखे बनो। राह अपनी नित्य ही सच पर चलने ...

Read More

स्वाद में सेहत वाला तड़का

स्वाद में सेहत वाला तड़का

दीप्ति त्योहारों का मौसम है। ऐसे में मीठा तो हर घर में बनता है। खासकर जब हलवे की बात हो तो इसके अलग-अलग ज़ायके हमारे मुंह में पानी भर देते हैं। घीया (लौकी) का हलवा सामग्री - लोकी-तीन कप (ग्रेटैड), मिल्क पाउडर-आधा कप, इलायची पाउडर - एक छोटा चम्मच, चीनी- दो बडे़ चम्मच, ...

Read More

हेल्थ और सिक्योरिटी के इनोवेटिव रास्ते

हेल्थ और सिक्योरिटी के इनोवेटिव रास्ते

कुमार गौरव अजीतेन्दु दिल की बीमारियां हमेशा खतरनाक होती हैं, इसलिए अब इनसे लड़ने के लिए भी टेक्नोलॉजी ने अपने कदम आगे बढ़ा दिए हैं जो भविष्य में होने वाले हार्ट अटैक की जानकारी दे रही है। थी-डी प्रिंटिंग हार्ट से ट्रांसप्लांट के लिए लगी कतार को कम करने की कोशिश ...

Read More

नानी से बचत की सीख

नानी से बचत की सीख

याद रही जो सीख विकास बिश्नोई जब मैं स्कूल में पढ़ा करता था तो लगभग हर तीन से चार महीने के बाद मैं और भाई मां के साथ नानी के पास जाया करते थे। नानी हमें बहुत प्यार करती थी। वहां जाते ही हम खूब खेलते थे और हर रोज शाम को ...

Read More

अविस्मरणीय यादें

अविस्मरणीय यादें

स्कूल में पहला दिन शोभा गोयल जीवन की अविस्मरणीय यादों में एक होती है स्कूल में पहले दिन की याद। उस जमाने में 5-6 साल के बच्चे को प्रथम कक्षा में एडमिशन मिलता था। पहले दिन मेरी मम्मी मुझे स्कूल छोड़ कर चली गयी। पहला दिन और अजनबी स्कूल में अजनबी बच्चे। ...

Read More

पड़ोसी के बच्चे से न करें तुलना

पड़ोसी के बच्चे से न करें तुलना

पेरेंटिंग सुभाष चन्द्र सौम्या आज सहमी-सहमी है अपने घर में। शाम को पिताजी भी घर आए। लेकिन, उनसे भी बात नहीं कर रही है। आखिर क्या हुआ उसे? पिता जी ने एक बार पूछा। कोई जवाब नहीं दिया सौम्या ने। खाने की टेबल पर भी गुमसुम। वैसे, गुमसुम रहना सौम्या की आदत नहीं। ...

Read More

मतभेद हों, मनभेद नहीं

मतभेद हों, मनभेद नहीं

रिश्ते मोनिका शर्मा रिश्तों में टकराव की स्थिति जब बनती है तो मतभेद हो ही जाते हैं। फिर चाहे वह सहकर्मी से हों, किसी रिश्तेदार से या परिवार से, मतभेद को समझदारी से सुलझाना ज़रूरी है। ऐसा नहीं किया तो पुरानी बातें कब गांठ बनकर मनभेद में बदल जाएं, पता ही नहीं ...

Read More


दाग

Posted On September - 19 - 2010 Comments Off on दाग
बाल कहानी गोविन्द शर्मा यह अंग्रेजों के जमाने की बात है। उन दिनों हमारे देश में सैकड़ों छोटी-बड़ी रियासतें थीं। कुछ में राजा थे तो कुछ में नवाब। हर राजा या नवाब की सहायता के लिए एक दीवान भी होता था। यह दीवान प्रधानमंत्री भी कहलाता था। ज्यादातर दीवान अंग्रेजों के पिट्ठू होते  थे क्योंकि उन्हीं के द्वारा नियुक्त किये जाते थे। रियासत में राजा या नवाब से ज्यादा इन दीवानों की चलती 

विज्ञान के झरोखे से

Posted On September - 19 - 2010 Comments Off on विज्ञान के झरोखे से
घमंडीलाल अग्रवाल बच्चो, विज्ञान से संबंधित कुछ रोचक प्रश्नोत्तर नीचे दिए जा रहे हैं जो तुम्हारे ज्ञान में वृद्धि करने में सहायक सिद्ध होंगे। गर्म दूध में हल्दी मिलाकर पीना स्वास्थ्य के लिए लाभप्रद क्यों होता है? —गर्म दूध में हल्दी मिलाकर पीना स्वास्थ्य के लिए लाभप्रद होता है क्योंकि हल्दी जीवाणुनाशक है जिसमें कैंसररोधी तत्व पाए जाते हैं। शोधकर्ताओं के अनुसार हल्दी 

गजलें

Posted On September - 19 - 2010 Comments Off on गजलें
....

वास्तुसमाधान

Posted On September - 19 - 2010 Comments Off on वास्तुसमाधान
पी. खुराना मेरी जन्मतिथि 2.2.1973 है। मैं 10 वर्षों से सरकारी नौकरी के लिए कोशिश कर रहा हूं पर सफलता नहीं मिली। कृपया कोई उपाय बताएं। -सलिन्द्र सिंह, कुरुक्षेत्र — सलिन्द्र जी, नौकरी के लिए आपका शुभ समय दो साल पहले निकल चुका है, परन्तु चिंता न करें। मार्च 2011 के बाद शुभ समय शुरू होने वाला है। इस दौरान आप निम्न उपाय करें — सोते समय सिर उत्तर दिशा की ओर करके सोयें तथा पढऩे वाली किताबें दक्षिण-पूर्व 

बाल कविताएं

Posted On September - 19 - 2010 Comments Off on बाल कविताएं
पतंग वाला अब्दुल चाचा बनाते पतंग, सबमें भरते नई उमंग। पक्की है गर डोर तुम्हारी, पतंग उड़ेगी सबसे न्यारी। पीली, लाल और हरी गुलाबी, सफेद, काली और आंखों वाली। कितनी तरह की आई पतंगें, सबके दिलों में छाई उमंगें। हम भी पतंग उड़ाते हैं चाचा को सलाम बजाते हैं। — प्रद्युम्न भल्ला पुस्तक बोली बच्चों ने अब पुस्तक खोली, उसमें से कविता भी डोली। पाठ ने भी मुस्कान बिखेरी, गणित की भी बिछी 

फांस

Posted On September - 19 - 2010 Comments Off on फांस
कहानी वाजिदा तबस्सुम तार मिलते ही किसी भी हाल में फौरन पहुंच जाओ!’ शाजी की हालत खराब हो गयी। तार भेजने वाले का नाम अनवर था। निश्चय ही यह तार उसकी प्यारी बाजी नकहत के पति की ओर से था। उन्होंने कोई इशारा तक नहीं दिया था कि क्यों उसे फौरन पहुंच जाने के लिए कहा गया है, लेकिन उसका दिल रह-रह कर गवाही दे रहा था कि अवश्य ही बाजी की हालत नाज़ुक है—मेरे मुंह में खाक…वे मृत्यु-शय्या 

वास्तु समाधान

Posted On September - 12 - 2010 Comments Off on वास्तु समाधान
मेरी जन्मतिथि 11. 2.1973 है। मैंने इलेक्ट्रोनिक में डिप्लोमा किया है। मेरा कोई भी काम नहीं बन रहा है। विवाह में भी बाधा आ रही है। कृपया मार्गदर्शन करें। -दिलीप, लालड़ू – दलीप जी, आपका शुभ समय 27 दिसंबर 2010 से शुरू होने वाला है जोकि आने वाले पांच वर्ष तक चलेगा। इस समय के दौरान आपको कई अच्छे प्रस्ताव आएंगे। शादी के लिए भी व कामकाज के लिए भी। आप केवल ग्यारह पूर्णमासी किसी धार्मिक स्थान पर जाकर 

विज्ञान के झरोखे से

Posted On September - 12 - 2010 Comments Off on विज्ञान के झरोखे से
घमंडीलाल अग्रवाल बच्चो, विज्ञान से संबंधित कुछ रोचक प्रश्रोत्तर नीचे दिए जा रहे हैं जो तुम्हारे ज्ञान में वृद्धि करने में सहायक सिद्ध होंगे। खुली कार में बैठकर सफर करने वालों की श्रवण-शक्ति कम क्यों हो जाती है? —रफ्तार के शौकीन लोगों को खुली कारें अच्छी लगती हैं किंतु इनमें सफर करने से सुनने की क्षमता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। साथ ही साथ श्रवण-शक्ति भी कमज़ोर 

कविताएं

Posted On September - 12 - 2010 Comments Off on कविताएं
हिन्दी भारत-भारती तुलसी ने गा रामचरित किया तुझे पावन। अलख जगाई कबीर ने थाम तेरा दामन। सूर के सांवरे हेतु तू ही थी तुतलाई। मीरा की प्रेम-पीरा तुझ में भी समाई॥ भारतेंदु ने उन्नति का उत्स तुझ में पाया। ‘भारत-भारती’ का पद मैथिली ने दिलाया। ‘राम की शक्तिपूजा’ ने महाप्राण बनाया। ‘कामायनी’ ने तुझे शिखर पर बिठलाया॥ प्रेमचंद ने तेरे लिए खोले गद्य-द्वार। ‘चिंतामणि’ का विश्वमोहक 

बाल कविताएं

Posted On September - 12 - 2010 Comments Off on बाल कविताएं
हिन्दी हम सबके माथे की बिन्दी, अपनी प्यारी भाषा हिन्दी। यह भाषा इतनी है न्यारी, सबको लगती है बड़ी प्यारी। आ रहा है अब हिन्दी का जमाना, हिन्दी से फिर कैसा घबराना। चाहे जितनी भी भाषाएं सीखो, पर हिन्दी को कभी न भूलो। यह भाषा तो इतनी समृद्ध है, पढ़कर इसे आसमान को छू लो। आओ मिलकर हिन्दी अपनाएं, राष्ट्र-भाषा का गौरव बढ़ायें। -ममता जोशी शुद्ध पर्यावरण तारों का देखो टिमटिमाना, मुस्कुराकर 

संकट में गजराज

Posted On September - 12 - 2010 Comments Off on संकट में गजराज
ज्ञानेन्द्र रावत बीते दिनों केन्द्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश ने देश में युगों-युगों से धर्म एवं संस्कृति से बहुत नजदीकी रूप से जुड़े रहे गजराज यानी हाथी को राष्ट्रीय धरोहर प्राणी घोषित किया है। उन्होंने कहा है कि इसकी प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है। इसके संरक्षण हेतु बाघ संरक्षण प्राधिकरण की तर्ज पर गजराज संरक्षण प्राधिकरण बनाया जायेगा व विशेष टॉस्क फोर्स का गठन 

निज भाषा उन्नति अहै…

Posted On September - 12 - 2010 Comments Off on निज भाषा उन्नति अहै…
डा. ज्ञानचंद्र शर्मा हिन्दी भाषा को अपने वर्तमान स्वरूप तक पहुंचने के लिए एक लंबी संघर्षपूर्ण यात्रा तय करनी पड़ी है। इसका प्रथम प्रस्फुटन सिद्धनाथों की वाणी में हुआ। राजस्थान के चारण भाटों ने इसे एक और आयाम दिया। इधर भाषा की एक अन्य धारा भी प्रवाहित हो रही थी जिसे हिन्दुई, हिन्दवी, हिन्दी जैसी संज्ञाए दी गईं। भाषा के लिए हिन्दी शब्द का प्रयोग यहां पहली बार हुआ। इसका पहला कवि 

गलती और सजा

Posted On September - 12 - 2010 Comments Off on गलती और सजा
बाल कहानी वैद्यनाथ झा कुसुमपुर में ब्रह्मदेव नामक एक ब्राह्मïण रहता था। वह बहुत विद्वान था। उसके ज्ञान की चर्चा दूर-दूर तक थी मगर वह बहुत गरीब भी था। बड़ी मुश्किल से उसका परिवार अपना पेट भर पाता था। उसके एक ही बेटा था- प्रभाकर। प्रभाकर वैसे तो दिमाग का तेज था मगर पढ़ाई-लिखाई में उसका मन नहीं लगता था। पिता ने समझाया भी- ‘बेटा, तुम्हारी बुद्धि तो तेज है मगर विद्या तो लगन और अभ्यास 

जीव-जन्तुओं की अनोखी दुनिया

Posted On September - 12 - 2010 Comments Off on जीव-जन्तुओं की अनोखी दुनिया
पानी के बाहर भी रह सकती है ‘मडस्किपर’मछली – योगेश कुमार गोयल ‘मछली जल की रानी है, जीवन उसका पानी है, हाथ लगाओ डर जाएगी, बाहर निकालो मर जाएगीÓ, यह कविता बच्चों के मुख से आपने अवश्य सुनी होगी। दरअसल पानी से बाहर मछली के जीवित रहने की कल्पना भी नहीं की जा सकती किन्तु प्रशान्त महासागर में पाई जाने वाली ‘मडस्किपर’नामक प्रजाति की मछलियां इस मामले में अपवाद हैं। हालांकि पानी 

पथरीली पगडंडियों में यादों के राजहंस

Posted On September - 12 - 2010 Comments Off on पथरीली पगडंडियों में यादों के राजहंस
नवल किशोरी 28 फरवरी, 2007 की शाम थी। मैं और मेरा मित्र शर्मा कसौली के पहाड़ों की संगत करके लौट रहे थे। कभी धीमी तो कभी तेज गति से बारिश हो रही थी। हवा भी वर्षा की तरह कभी तेज और कभी मंद थी। कभी-कभी बिजली भी कौंध जाती थी। मंद गति में चल रही अपनी गाड़ी में मैं और शर्मा जिंदगी के अतीत की मस्त बातें कर रहे थे। हवा और पत्तों के मिलाप से एक अजीब-सा संगीत फूटने लगा। संगीत के साथ झूमते पहाड़ी पेड़, 

नयनतारा दीदी के जवाब

Posted On September - 12 - 2010 Comments Off on नयनतारा दीदी के जवाब
क्या है  बैचलर डिग्री ”दीदी, मेरे दोस्त के बड़े भाई को बैचलर डिग्री मिली है। लेकिन मेरी समझ में नहीं आया कि यह बैचलर डिग्री क्या है?’ ”जो छात्र कॉलेज या विश्वविद्यालय से स्नातक होते हैं उन्हें बैचलर डिग्री मिलती है। इसका सम्बंध कुंवारे होने से नहीं। डिग्री के साथ बैचलर का शब्द किस तरह जुड़ गया, यह किसी को सही नहीं मालूम है। अगर छात्र सांस्कृतिक विषयों, जिन्हें आमतौर से कला कहते 
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.