10 अंक का ही रहेगा मोबाइल नंबर, 11 की कोई योजना नहीं : ट्राई !    महाराष्ट्र, गुजरात के समुद्री तट से 3 जून को टकरा सकता है चक्रवात, अलर्ट जारी !    मन्नार की खाड़ी में मिली रंग बदलने वाली दुर्लभ मछली! !    भारत के साथ सीमा गतिरोध : नेपाल सरकार ने संसद में पेश किया संविधान संशोधन विधेयक !    किसी विपक्षी नेता को कोविड अस्पताल जाना पड़ता तो व्यवस्थाओं पर न उठाते सवाल : योगी !    ऑस्ट्रेलियाई पीएम मॉरिसन ने किया ट‍्वीट...मोदी के साथ समोसे खाना चाहूंगा! !    जानवरों में एंथ्रेक्स वायरस : कॉर्बेट टाइगर रिजर्व ने जारी किया अलर्ट !    आईसीएसई के परीक्षार्थियों को भी सेंटर बदलने की अनुमति !    पीओके में सभी शिविर, लांच पैड आतंकियों से भरे : ले.जन. राजू !    सेना ने पूर्वी लद्दाख में टकराव के कथित वीडियो को किया खारिज !    

लहरें › ›

खास खबर
परवरिश के अंधेरे

परवरिश के अंधेरे

संजय वर्मा तकनीक किस तरह समाजों को रच रही है और उसमें नए अंधेरे-उजाले भर रही है- कोरोना संक्रमण से पैदा हुए संकट ने इसे नए सिरे से पारिभाषित किया है। एक कामकाजी समाज के तौर पर देखें तो हमें यह स्वीकार करना होगा कि अगर इंटरनेट जैसा आविष्कार नहीं हुआ ...

Read More

व्रत-पर्व

व्रत-पर्व

18 मई : अपरा एकादशी व्रत, मेला भद्रकाली एकादशी (कपूरथला) पंजाब, जलक्रीड़ा एकादशी (उड़ीसा) 19 मई : बड़का मंगल व्रत, हनुमान पूजा (लखनऊ) 20 मई : प्रदोष व्रत, मास शिवरात्रि व्रत 21 मई : सावित्री चतुर्दशी, फलहारिणी कालिका पूजा (बंगाल), शबेकदर 22 मई : ज्येष्ठ अमावस, भावुका अमावस, शनैश्चर जयंती, वट सावित्री व्रत (अमावस ...

Read More

यहां वरदायक बन जाते हैं दंडनायक शनि

यहां वरदायक बन जाते हैं दंडनायक शनि

देशपाल सौरोत हरियाणा-उत्तर प्रदेश सीमा पर दिल्ली से लगभग 115 किमी की दूरी पर शनिदेव का एक विशेष धाम है। पलवल से करीब 55 किलोमीटर दूर उत्तर प्रदेश के कोसीकलां-नंदगांव के बीच स्थित कोकिलावन के बारे में मान्यता है कि यहां दर्शन व परिक्रमा करने से मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। ...

Read More

कोरोना से जंग में अलर्ट करेगा आरोग्य सेतु

कोरोना से जंग में अलर्ट करेगा आरोग्य सेतु

योगेश कुमार गोयल कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए 2 अप्रैल को भारत में नीति आयोग द्वारा ‘आरोग्य सेतु एप’ लांच किया गया है, जो यूज़र्स को यह बताने में मदद करता है कि उसके आसपास कोई कोरोना संक्रमित व्यक्ति तो नहीं है। ‘नेशनल इन्फॉरमेटिक्स सेंटर’ द्वारा विकसित यह एप 11 ...

Read More

दूरसंचार टैरिफ कार्ड पर हो स्पष्टता

दूरसंचार टैरिफ कार्ड पर हो स्पष्टता

पुष्पा गिरिमाजी भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने ‘टैरिफ ऑफर प्रकाशन में पारदर्शिता’ सबंधी एक परामर्श जारी किया है जिसमें उन्होंने सही टैरिफ प्लान चुनने और विभिन्न समाधानों की पेशकश के संबंध में उपभोक्ताओं द्वारा पेश की जा रही समस्याओं को स्वीकार किया है। कुछ समाधानों, जिनमें वेबसाइटों, मोबाइल एप आदि ...

Read More

ओ मां

ओ मां

आज मदर्स डे ललित गर्ग ‘मां!’ इस लघु शब्द में प्रेम की विराटता, समग्रता निहित है। मां धरती पर जीवन के विकास का आधार है। मां ने ही अपने हाथों से इस दुनिया का ताना-बाना बुना है। सभ्यता के विकास क्रम में आदिमकाल से लेकर आधुनिककाल तक इंसानों के आकार-प्रकार, रहन-सहन, सोच-विचार, ...

Read More

सदा संतान पर ही ध्यान

सदा संतान पर ही ध्यान

ओशो बच्चा मां के पास जो बढ़ता है गति से, उसका कारण है मां का ध्यान। वह चाहे दूर हो, चाहे वह दूसरे कमरे में हो, लेकिन ध्यान उसका बच्चे की तरफ लगा है। वह चाहे सैकड़ों मील दूर चली गई हो, वह हजार काम में उलझी हो, लेकिन भीतर उसके ...

Read More


  • परवरिश के अंधेरे
     Posted On May - 31 - 2020
    तकनीक किस तरह समाजों को रच रही है और उसमें नए अंधेरे-उजाले भर रही है- कोरोना संक्रमण से पैदा हुए....
  • बनी रहे यह मोहक तस्वीर
     Posted On May - 24 - 2020
    लॉकडाउन के दौरान सोशल मीडिया पर एक वीडियो खूब वायरल हुआ। जिसमें दो नदियों के संगम को साफ़ देखा जा....
  • ऐसी प्रीति करहु मन मेरे…
     Posted On May - 24 - 2020
    विश्व के आध्यात्मिक इतिहास में 1500 से 1700 ईस्वी को स्वर्णिम युग कहा जा सकता है। इस काल में दस....
  • कम न हों ईद की खुशियां
     Posted On May - 24 - 2020
    इस वर्ष की ईद-उल-फितर बाकी वर्षों से अलग है। इस ईद की नमाज ईदगाह और मस्जिद के बजाय लोग घरों....

तेनाली राम के किस्से

Posted On June - 19 - 2011 Comments Off on तेनाली राम के किस्से
दानवीर तेनाली तेनालीराम की बुद्धि चातुर्य की चारों ओर प्रशंसा होती थी। बुद्धि के बल पर ही उसने ढेरों दौलत भी बना ली थी। राजा कृष्ण देव ने तेनाली को कहा कि वो भी कुछ दान करेगा तो मरने के बाद उसे स्वर्ग प्राप्त होगा। राजा की बात मानकर तेनाली ने एक छोटा मगर बहुत सुन्दर घर दान में देने की भावना से बनवाया। घर के द्वार पर उसने लिखवा दिया-‘यह घर उसी ब्राह्मण को दान में दिया जाएगा जो हर हाल में 

विज्ञान के झरोखे से

Posted On June - 19 - 2011 Comments Off on विज्ञान के झरोखे से
बच्चो, विज्ञान से संबंधित कुछ रोचक प्रश्नोत्तर नीचे दिए जा रहे हैं जो तुम्हारे ज्ञान में वृद्धि करने में सहायक सिद्ध होंगे। सूती वस्त्र लाभप्रद क्यों होते हैं? —मौसम के अनुसार वस्त्रों का चयन ज़रूरी माना गया है। गर्मियों में  सूती वस्त्र पहनने लाभप्रद होते हैं। ये शरीर को आराम प्रदान करते हैं । सिंथेटिक कपड़ों की भांति इनसे दुर्गन्ध नहीं आती। ग्रीष्म ऋतु में लौकी का सेवन 

हरिया का बेटा

Posted On June - 19 - 2011 Comments Off on हरिया का बेटा
बाल कहानी साबिर हुसैन महेन्द्र खामोशी से कक्षा में घुसा और अपनी कोने वाली सीट पर जाकर बैठ गया। ‘अब तो रिक्शेवाले डी.एम. साहब बनेंगे।’ उसे देखते ही श्याम ने तेज स्वर में कहा और उसी के साथ पूरी कक्षा के लड़के हंस पड़े। महेन्द्र सिर झुकाये बैठा रहा। उसे लग रहा था कि पूरी कक्षा के लड़कों की आंखें उसी को देख रही हैं। महेन्द्र के पिता फुटपाथ पर  बैठकर सब्जी बेचा करते थे। पिछले दिनों  

डरावनी हो चली है डिजिटल डिपेंडेंसी

Posted On June - 19 - 2011 Comments Off on डरावनी हो चली है डिजिटल डिपेंडेंसी
लोकमित्र कहां तक और किन-किन समस्याओं को आप गिना सकते हैं। सच तो यह है कि आज कंप्यूटर और इंटरनेट के बिना हम सक्रिय जिंदगी का एक कदम भी आगे नहीं बढ़ा सकते। अगर इंटरनेट चल न रहा हो तो हमारे देश-दुनिया से तमाम सम्बंध पलक झपकते ही टूट जाते हैं। लाखों, करोड़ों नहीं बल्कि अरबों, खरबों का कारोबार ठप्प पड़ जाता है। हद तो यह है कि अगर कंप्यूटर सिस्टम फेल हो गया तो आज की तारीख में युद्ध भी जहां 

महंगाई की मारी, चवन्नी बेचारी

Posted On June - 12 - 2011 Comments Off on महंगाई की मारी, चवन्नी बेचारी
राजा दिल मांगे चवन्नी उछाल के चल परे हट चवन्नी छाप वीना सुखीजा अब इस तरह के जुमले कभी नहीं सुनायी पड़ेंगे। हो सकता है  दशकों बाद जब कभी फिल्म ‘खून-पसीने’ का यह आशा भोंसले द्वारा गाया गया सुपर डुपर हिट गाना बजे तो नई पीढिय़ां इसका संदर्भ ही न समझ सकें। वैसे भी इस समय नौजवान हुई पीढ़ी चवन्नी का महत्व नहीं जानती। क्योंकि न तो उसने चवन्नी का कभी पर्चेजिंग जलवा देखा है और न ही पॉकेट मनी के 

स्टार नहीं कलाकार बनना है : जावेद

Posted On June - 12 - 2011 Comments Off on स्टार नहीं कलाकार बनना है : जावेद
निकिता त्रिपाठीजाफरी बालीवुड में जावेद जाफरी की अपनी एक अलग पहचान है। लोग उन्हें हास्य कलाकार ही मानते हैं जबकि वह हास्य से इतर भूमिकाएं निभाकर कई बार साबित कर चुके हंै कि वह एक संपूर्ण व परिपूर्ण कलाकार हैं। उनके अंदर किसी भी तरह के चुनौतीपूर्ण किरदार को निभाने की अद्भुत क्षमता है, पर फिल्मकार उन्हें सिर्फ हास्य किरदारों में ही पेश करते हैं। पिछले पंद्रह वर्षों से वह सोनी टीवी पर 

विज्ञान के झरोखे से

Posted On June - 12 - 2011 Comments Off on विज्ञान के झरोखे से
बच्चो, विज्ञान से संबंधित कुछ रोचक प्रश्नोत्तर नीचे दिये जा रहे हैं, जो तुम्हारे ज्ञान में वृद्धि करने में सहायक सिद्ध होंगे। कभी-कभी हमारे हाथ या पैर में झिनझिनी क्यों होती है? – दरअसल, हमारी नसों पर किसी कारणवश जब कोई दबाव पड़ जाता है तो झिनझिनी होना स्वाभाविक है। जब हम अधिक समय तक एक ही मुद्रा में बैठे अथवा हाथ-पैर मोड़े रखते हैं तो झिनझिनी पैदा होती है। दबाव वाले स्थान के आगे 

तेनाली राम के किस्से

Posted On June - 12 - 2011 Comments Off on तेनाली राम के किस्से
तेनाली और राज पुरोहित बात  उस समय की है जब तेनाली अपने गांव में ही रहता था और विजयनगर के राजा कृष्णदेव की सेवा में नहीं था। उसने  यह बात तो सुन  रखी थी कि कृष्णदेव गुणीजनों  की बड़ी इज्जत करता है। उन्हें बड़े-बड़े कीमती पुरस्कार और राजदबार में नौकरी भी देता है। तेनाली था तो बड़ा बुद्धिमान मगर राजदरबार में जाने का अवसर या कोई सिफारिश उसके पास नहीं थी। संयोगवश एक बार राजा कृष्णदेव  के राज 

क ख ग जितना आसान

Posted On June - 12 - 2011 Comments Off on क ख ग जितना आसान
बाल कहानी रणवीर सिंह सेठी खैराती लाल की कबाड़ी की दुकान थी। वह अपने पालतू बंदर के साथ दुकान में ही रहता था। वहां तरह-तरह का पुराना सामान भरा था, लेकिन चीजें इतनी अस्त-व्यस्त पड़ी थीं कि समय पर न मिल पाती थीं। एक दिन एक महिला दुकान पर आई। उसे एक पुराने झूले की जरूरत थी। खैराती लाल ने झूले की बहुत तलाश की। बंदर जंबो ने भी उछल-कूद कर पूरी दुकान छान मारी पर दुकान में होते हुए भी झूला न मिला। 

वास्तु समाधान

Posted On June - 12 - 2011 Comments Off on वास्तु समाधान
पी. खुराना मेरी जन्मतिथि 6-11-1977 है व मेरी पत्नी की 20-5-1979 है। हमारा छोटी-छोटी बातों पर झगड़ा होता रहता है। हमने लव मैरिज की है। कृपया कोई समाधान बताएं। -सुशील, अ ब स -सुशील जी, आपके पारिवारिक कलह का कारण वास्तु दोष हो सकता है। आप  दोनों की कुण्डलियों के अध्ययन से ज्ञात हुआ है कि दिसंबर, 2011 तक का समय आपके लिए भारी है। इस समय को यदि आप दोनों सहजतापूर्वक निपटा सके तो आनेवाला समय आपके लिए 

प्राचीन वस्तुओं के नाम पर ठगी का कारोबार

Posted On June - 12 - 2011 Comments Off on प्राचीन वस्तुओं के नाम पर ठगी का कारोबार
निर्मल रानी ठगों द्वारा आम लोगों की जेब से पैसे निकलवाने के तरह-तरह के हथकंडे अपनाए जाते हैं। कभी कोई ठग ज़मीन में दबे सोने व चांदी के प्राचीन सिक्के या अशर$फी सस्ते दामों में बेचे जाने के नाम पर किसी व्यक्ति को ठग लेता है तो कभी नोट दुगने करने की लालच में कोई व्यक्ति ठगी का शिकार हो जाता है।  ऐसे ही लोग आजकल अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मोबाईल $फोन के माध्यम से चल रही ठगी का शिकार हो जाते हैं 

फिर पिछड़ा भारत

Posted On June - 12 - 2011 Comments Off on फिर पिछड़ा भारत
गहरे पानी पैठ डा. ज्ञानचंद्र शर्मा अमेरिकी पत्रिका ‘टाइम’ ने सत्ता का दुरुपयोग कर धन अर्जित करने वाले संसार के शीर्ष दस राजनेताओं की सूची प्रकाशित की है उसमें भारत के पूर्व दूर संचार मंत्री ए. राजा का नाम दूसरे स्थान पर है। संतोष की बात है उन्होंने लीबिया के कर्नल गद्दाफी और इटली के प्रधानमंत्री सिल्वियो बर्लुस्कोवी को इस दौड़ में काफी पीछे छोड़ा है। परन्तु खेद है वह अमेरिका 

उहा रोटी, उहा दाल

Posted On June - 12 - 2011 Comments Off on उहा रोटी, उहा दाल
चैनलम् शरणम् गच्छामी ओबामा अते ओसामा विच क्या फर्क हे? कनमोझी अते कलमाडी दी आपस विच क्या कुई सांझ हे? ए. राजा (2जी स्पेक्ट्रम वाले) अते महाराजा ए (अमरेंद्र सिंह) विच फर्क डसो? डस्सो कि ममोती औरत दा ना हे कि मर्द दा? आदि कुझ इहो जे सवाल हिन जैदा आपां कूं पता बिलकुल ही कैना लगे हा अगर आपणे कोल टीवी न होवे हा। कल्हे टीवी दा क्या करेसो अगर हूंदे उते कुई प्रोग्राम कैनी अमदा। टीवी उते प्रोग्राम तां 

सिमटती दूरियां

Posted On June - 12 - 2011 Comments Off on सिमटती दूरियां
कहानी युधिष्ठिर लाल कक्कड़ ट्रेन में भीड़ अवश्य थी मगर इतनी नहीं कि कोशिश करने पर भी बैठने के लिए स्थान न मिले। डिब्बे में चढ़कर मैंने एक न•ार इधर-उधर डाली। सामने ही एक बर्थ पर बेहद गंदे किस्म के चार-पांच स्त्री-पुरुष और दो-तीन बच्चे किसी तरह बमुश्किल बैठे हुए थे। स्पष्ट ही  वहां बैठने की कोशिश करना बेकार था। वैसे भी उस गंदे और फटेहाल परिवार के पास बैठने की इच्छा नहीं हो रही थी। 

समाज सेवा के खेल का काला सच

Posted On June - 5 - 2011 Comments Off on समाज सेवा के खेल का काला सच
....

उहा रोटी, उहा दाल

Posted On June - 5 - 2011 Comments Off on उहा रोटी, उहा दाल
समाजवाद गोविंद राकेश पिछली सदी विच आपां टिंड-फोड़ी दा जोर ला डित्ता कि दुनिया विच खासकर इंडिया विच समाजवाद आवे। तकरीबन अधी सदी तां मुल्क कूं आजाद करवेंदे लंघ गई। अंग्रेजे दा राज आपां कंू पसंद कैना हा। क्यूंकि ओ भारत दे समाजवाद आनण विच सब तो वडडा रोड़ा हन। गांधीजी ने अपणे नवें हथियार अहिंसा नाल मुल्क कूं आजाद तां भावें करवा गिधा लेकिन ऐझी कीमत वी अदा कीती जेहड़ी कुई सोच वी न सगदा