किश्तवाड़ में वाहन खाई में गिरा, 4 की मौत !    जंगल की आग में झुलसे 13 दमकलकर्मी !    काबुल में कार बम विस्फोट, 7 की मौत !    केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री के वाहन पर पथराव !    न्यूजीलैंड में इच्छामृत्यु बिल पास, अब रायशुमारी !    निमोनिया से भारत में हर घंटे हुई 14 से अधिक बच्चों की मौत !    नीता अंबानी दुनिया के सबसे बड़े कला संग्रहालय बोर्ड में शामिल !    अयोग्यता रहेगी बरकरार लेकिन लड़ सकेंगे चुनाव !    हांगकांग में लगातार तीसरे दिन अराजकता का माहौल !    हिमाचल में 15 को भारी बारिश और बर्फबारी का अलर्ट !    

फीचर › ›

खास खबर
घर आ जा परदेसी...

घर आ जा परदेसी...

विवेक शर्मा उत्तर प्रदेश से अलग होकर ‘अपना उत्तराखंड’ का नारा बुलंद करने वाले यहां के लोगों को विकास के नाम पर विस्थापन मिला है। पर्यावरण और क्षेत्रीय लोगों की चिंता किनारे रखकर चल रहीं विद्युत परियोजनाओं ने हजारों लोगों को विस्थापित कर दिया है और हजारों एकड़ खेती योग्य भूमि ...

Read More

सांसों पर काला साया

सांसों पर काला साया

अभिषेक कुमार सिंह सर्दियों की आहट के साथ उत्तर भारत में जहरीली धुंध लौट आई है। दिल्ली-एनसीआर में तो हालात सबसे ज्यादा खराब हैं। एयर क्वॉलिटी इंडेक्स (एक्यूआई) के पैमाने पर इस इलाके के शहरों (दिल्ली, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद और गुरुग्राम) में हवा की सेहत सबसे खराब आंकड़े यानी 500 ...

Read More

प्याज का राज

प्याज का राज

50000 टन प्याज का बफर स्टाक था सरकार के पास। उसमें से 15000 टन का इस्तेमाल वह कर चुकी है 35000 टन का स्टाक अभी और है सरकार के पास। इसका इस्तेमाल करके प्याज के भाव कम किये जा सकते हैं आलोक पुराणिक जून 2019 में प्याज के रिटेल भाव दिल्ली में ...

Read More


  • घर आ जा परदेसी…
     Posted On November - 11 - 2019
    उत्तर प्रदेश से अलग होकर ‘अपना उत्तराखंड’ का नारा बुलंद करने वाले यहां के लोगों को विकास के नाम पर....
  • सांसों पर काला साया
     Posted On November - 4 - 2019
    सर्दियों की आहट के साथ उत्तर भारत में जहरीली धुंध लौट आई है। दिल्ली-एनसीआर में तो हालात सबसे ज्यादा खराब....
  • प्याज का राज
     Posted On September - 30 - 2019
    जून 2019 में प्याज के रिटेल भाव दिल्ली में 26 रुपये किलो थे, जो सितंबर 2019 में बढ़कर 60 रुपये....
  • फिर सोनिया गांधी
     Posted On August - 12 - 2019
    कांग्रेस को फिर सोनिया गांधी की शरण लेनी पड़ी है। राहुल गांधी के ‘रणछोड़ जी’ बनने के बाद संकट में....

मुस्कान से बांटें खुशियां

Posted On February - 13 - 2019 Comments Off on मुस्कान से बांटें खुशियां
वर्तमान समस्याएं गंभीर चिंता का विषय हैं। यह ज्ारूरी है कि हम समस्याओं का कारण जानें और फिर उनका निदान करें। परंतु यह समझ लें कि परिवर्तन एक व्यक्ति से ही शुरू होता है। जब एक व्यक्ति सुधरता है, तो पूरे परिवार को¨ उसका लाभ मिलता है, पूरा समाज समृद्धð होता है। सबसे पहले हमें स्वयं को¨ सुधारने का प्रयास करना चाहिये। जब हम सुधरते ....

मिड्ढा की किस्मत

Posted On February - 8 - 2019 Comments Off on मिड्ढा की किस्मत
राजनीति में किस्मत हो तो जींद के नवनिर्वाचित विधायक कृष्ण मिड्ढा जैसी। छोटे मिड्ढा ने जींद का उपचुनाव क्या जीता, पूरी भाजपा उन्हें गोद में उठाए हुए है। 2014 में विधानसभा चुनाव जीतने वाले 47 विधायकों में से मंत्रियों को छोड़कर कम ही ऐसे विधायक होंगे, जिन्हें पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात का मौका मिला हो। ....

सरकार का सियासी कदम

Posted On February - 8 - 2019 Comments Off on सरकार का सियासी कदम
पूर्वोत्तर राज्यों और बंगाल के लिए नागरिकता संशोधन विधेयक एक बड़ा राजनीतिक-सामाजिक मुद्दा बन गया है। भाजपा को इस विधेयक में अपना बड़ा सियासी फायदा दिखाई दे रहा है, जबकि राजनीतिक पर्यवेक्षक केंद्र सरकार की इस पहल को पूरी तरह संविधान की मूल भावना और चरित्र के विरुद्ध ठहरा रहे हैं। ....

नागरिकता संशोधन विधेयक : बिल पर बवाल

Posted On February - 8 - 2019 Comments Off on नागरिकता संशोधन विधेयक : बिल पर बवाल
असम और त्रिपुरा सहित पूर्वोत्तर के कई राज्यों में गैरकानूनी तरीके से आये बांग्लादेशी घुसपैठियों की समस्या कई दशकों से राजनीतिक मुद्दा रही है। इन राज्यों में अवैध तरीके से रहने वाले इन विदेशी घुसपैठियों को पहचान कर बाहर निकालने की मांग भी होती रही है, क्योंकि स्थानीय लोगों का आरोप है कि इनकी बड़ी संख्या की वजह से यहां के जातीय समीकरण बिगड़ गये ....

जीवन का संदेश देता ऋतुराज

Posted On February - 4 - 2019 Comments Off on जीवन का संदेश देता ऋतुराज
वसंत कोमल भी है और कठोर भी। वसंत में फूलों के चटख रंगों का सम्मोहन है, तो पकी फसलों की परिपक्वता भी। कभी धूप से न हटने का आग्रह है, तो कभी धूप से बचने की बेचैनी। यही है वसंत का वास्तविक जादू, जिससे कोई बचाव नहीं। कोई करना भी नहीं चाहता बचाव। ....

अबूझ मुहूर्त है वसंत पंचमी

Posted On February - 4 - 2019 Comments Off on अबूझ मुहूर्त है वसंत पंचमी
‘वसंत पंचमी’ वैदिककालीन पर्व है। माघ महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी काे मनाया जाने वाला यह उल्लासमय पर्व समाज के विविध वर्गों में विविध रूपों में मनाया जाता है। विद्यार्थियों और शिक्षा प्रेमियों के लिए यह ‘सरस्वती पूजा’ का महान पर्व है। इसे ‘श्री पंचमी’ और ‘सरस्वती पंचमी’ भी कहा गया है। ....

व्रत-पर्व

Posted On February - 4 - 2019 Comments Off on व्रत-पर्व
4 फरवरी- माघ (मौनी) अमावस, सोमवती अमावस, मेला अर्ध कुम्भी पर्व (प्रयागराज), तीर्थस्थान महात्म्य, महोदय योग (सुबह 7.58 से सूर्यास्त तक)। त्रिवेणी अमावस। 5 फरवरी- गुप्त नवरात्र प्रारंभ 6 फरवरी- बाबा श्री लाल दयाल जयंती (ध्यानपुर) पंजाब। 7 फरवरी- जमादि उल्सानी (मुस्लिम) माह शुरू 8 फरवरी- गौरी तृतीया (गोंतरी) व्रत, श्री गणेश तिल चतुर्थी, वरद‍् (कुन्द) चतुर्थी। 9 फरवरी- वसंत-पंचमी (सरस्वती पूजन), श्री पंचमी, 

रामभक्त का अनूठा तीर्थ पंचमुखी हनुमान मंदिर

Posted On February - 4 - 2019 Comments Off on रामभक्त का अनूठा तीर्थ पंचमुखी हनुमान मंदिर
यमुनानगर जिला मुख्यालय से करीब 15 किलोमीटर दूर स्थित है श्री प्राचीन पंचमुखी हनुमान मंदिर, ढाका बसातियांवाला। इस मंदिर में हनुमान जी का अनोखा रूप दिखता है। यहां स्थापित प्रतिमा के चार दिशाओं में चार मुख हैं और पांचवां मुख आकाश की तरफ है। ....

स्नान-दान और मौन का दिन

Posted On February - 4 - 2019 Comments Off on स्नान-दान और मौन का दिन
आज माघ महीने की अमावस्या है। हिन्दू धर्म में बेहद खास माने जाने वाले इस दिन को मौनी अमावस्या भी कहा जाता है। मौनी अमावस्या के साथ-साथ सोमवती अमावस्या का संयोग बन रहा है। इसके अलावा इस दिन महोदय योग भी है। मान्यता है कि इस योग में गंगा स्नान और दान-पुण्य करने से राहु, केतु, शनि से संबंधित कष्टों से मुक्ति मिलती है। इस ....

राजनीति में फलता-फूलता परिवारवाद

Posted On February - 1 - 2019 Comments Off on राजनीति में फलता-फूलता परिवारवाद
परिवारवाद के खिलाफ पहले जो तीखे सुर सुनाई देते थे, अब प्रियंका गांधी के राजनीति में प्रवेश करने पर नहीं सुनाई दिए। कारण साफ है कि आज कश्मीर से कन्या कुमारी तक लगभग ज्यादातर दलों व सभी राज्यों में परिवारवाद गहरी जड़ें जमा चुका है। अभी वामदल ही इससे अछूते हैैं। ....

प्रियंका की परीक्षा

Posted On February - 1 - 2019 Comments Off on प्रियंका की परीक्षा
वे इंदिरा गांधी की तरह दिखती हैं। उनका चेहरा-मोहरा इंदिरा गांधी से काफी मिलता-जुलता है। बालों का स्टाइल भी लगभग वैसा ही है। आमतौर पर आधुनिक परिधान में रहने वाली प्रियंका वाड्रा को सामाजिक व राजनीतिक कार्यक्रमों में साड़ी में देखा जाता है। ....

व्रत-पर्व

Posted On January - 28 - 2019 Comments Off on व्रत-पर्व
28 जनवरी- अष्टका श्राद्ध, लाला लाजपतराय जयंती। 30 जनवरी- गांधी स्मृति दिवस, शहीद दिवस। 31 जनवरी- षट‍्तिला एकादशी 1 फरवरी- तिल द्वादशी 2 फरवरी- शनि प्रदोष व्रत, मास शिवरात्रि व्रत, मेरु त्रयोदशी। -सत्यव्रत बेंजवाल  

यहां माता पार्वती और महादेव के हैं अलग-अलग मंदिर

Posted On January - 28 - 2019 Comments Off on यहां माता पार्वती और महादेव के हैं अलग-अलग मंदिर
यमुनानगर के कलेसर गांव में यमुना नदी के पश्चिमी तट पर स्थित है पौराणिक श्री कालेश्वर महादेव मठ। यहां भगवान शंकर और मां पार्वती के अलग-अलग मंदिर हैं। पूरे देश में ऐसे तीर्थ बहुत कम हैं, जहां एक ही जगह पर मां पार्वती और शंकर जी के अलग-अलग मंदिर हों। दोनों ही मंदिरों में शिवलिंग हैं। ....

मृत्यु से अमरता की ओर…

Posted On January - 28 - 2019 Comments Off on मृत्यु से अमरता की ओर…
इन दिनों प्रयागराज में अर्धकुंभ मेला चल रहा है। मनुष्यों का यह सबसे बड़ा जमाव जुड़ा है देवताओं और राक्षसों द्वारा क्षीरसागर के मंथन से। अमरता प्राप्त करने के निरंतर प्रयासों का यह भी एक हिस्सा था। ....

घर में कछुआ करता है कमाल

Posted On January - 28 - 2019 Comments Off on घर में कछुआ करता है कमाल
घर में कछुआ रखना शुभ माना जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, समुद्र मंथन के लिए भगवान विष्णु ने कच्छप अवतार लेकर मंद्रांचल पर्वत को अपने कवच पर थामा था। कहा जाता है कि जहां कछुआ होता है, वहां लक्ष्मी का आगमन होता है। फेंगशुई में भी कछुआ रखना बेहद शुभ माना गया है। इससे घर और ऑफिस में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बना रहता ....

धन्य हैं वे जो खुद को खोजते हैं…

Posted On January - 28 - 2019 Comments Off on धन्य हैं वे जो खुद को खोजते हैं…
अध्यात्म की राह पर चलने में कई बाधाएं आती हैं। ये बाधाएं हमें भटकाती हैं। धर्म से दूर करती हैं। ऐसी ही एक बाधा है कि हम अपने लक्ष्य को ही पहचान नहीं पाते। उसे बहुत दूर समझते हैं। जबकि, हम खुद ही खुद के लक्ष्य हैं। ओशो का एक वचन है- ‘धन्य हैं वे जो स्वयं को खोजते, स्वयं को पाते और स्वयं ही ....
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.