चुनाव आयोग की हिदायतों का असर : खट्टर सरकार ने बदले 14 शहरों के एसडीएम !    अस्पताल में भ्रूण लिंग जांच का भंडाफोड़ !    यमुना का सीना चीर नदी के बीचोंबीच हो रहा अवैध खनन !    जाकिर हुसैन समेत 4 हस्तियों को संगीत नाटक अकादमी फेलोशिप !    स्टोक्स को मिल सकती है ‘नाइटहुड’ की उपाधि !    ब्रिटेन में पहली बार 2 आदिवासी नृत्य !    मानहानि का मुकदमा जीते गेल !    शिमला में असुरक्षित भवनों का निरीक्षण शुरू !    पीओके में बाढ़ का कहर, 28 की मौत !    कांग्रेस ने लोकसभा से किया वाकआउट !    

फीचर › ›

खास खबर
धीरे-धीरे रे मना...

धीरे-धीरे रे मना...

साई वैद्यनाथन भले देर से हों, प्रभु के प्यारों के काम होते जरूर हैं। इसलिए भगवान के काम करते समय, धैर्य होना अत्यंत महत्वपूर्ण है। संत कबीर ने भी कहा है- धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय, माली सींचे सौ घड़ा, ऋतु आए फल होय। साल 1893 में शिकागो में धर्म ...

Read More

कालका जी इतिहास और आस्था का संगम

कालका जी इतिहास और आस्था का संगम

तीर्थाटन अमिताभ स. मंदिर के नाम पर समूचे इलाके के नामकरण होने की मिसालें दिल्ली में एक-दो ही हैं। पहली है झंडेवालान, जिसका नाम झंडेवाला मंदिर से पड़ा है। दूसरी है कालका जी। मां दुर्गा के एक रूप काली माता का मंदिर ‘कालका जी’ पांडवों के समय का माना जाता है। बताते ...

Read More

चौमासा 12 से, मंगल कार्यों को विराम

चौमासा 12 से, मंगल कार्यों को विराम

भगवान विष्णु का विश्राम मदन गुप्ता सपाटू आषाढ़ शुक्ल पक्ष की एकादशी बेहद खास है। देवशयनी कहलाने वाली यह एकादशी इस बार 12 जुलाई को है। पुराणों में कहा गया है कि इस एकादशी की रात भगवान विष्णु क्षीरसागर व पाताल में 4 माह के विश्राम के लिए चले जाते हैं। ...

Read More

मायने रखता है मन का सरिता हो जाना

मायने रखता है मन का सरिता हो जाना

कृष्णलता यादव निरन्तर प्रवाहशीलता का नाम है– सरिता। किसी के लिए मात्र पानी का भंडार तो अन्य के लिए जीवन का आधार, ममत्व, वात्सल्य और त्याग की जीवनदायी त्रिवेणी-सी। इस भाव के वशीभूत सरिता जल में स्नान, उसके तट पर दान, पूजन-अर्चन, अर्पण-तर्पण व आचमन में मानव मन को पुण्यार्जन का ...

Read More

बजट उम्मीदों को मंदी की चुनौती

बजट उम्मीदों को मंदी की चुनौती

आलोक पुराणिक केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण 5 जुलाई को वित्त वर्ष 2019-20 के लिए पूर्ण बजट पेश करेंगी। फरवरी में तत्कालीन वित्त मंत्री पीयूष गोयल 2019-20 के लिए अंतरिम बजट पेश कर चुके हैं, अब नये सिरे से बजट के गुणा-गणित तय होंगे। इस साल एक जून से 27 जून के ...

Read More

सोशल मीडिया जरा बचके

सोशल मीडिया जरा बचके

रेशू वर्मा कुछ समय पहले सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें एक महिला उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को शादी का प्रस्ताव भेजने की बात कर रही थी। इस वीडियो को एक स्वतंत्र पत्रकार प्रशांत कनौजिया ने अपने ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट करते हुए योगी आदित्यनाथ का ...

Read More


भीतर भी एक परिवार

Posted On February - 25 - 2019 Comments Off on भीतर भी एक परिवार
मनुष्य की बनावट परमात्मा ने कुछ इस तरह से की है कि इसकी कुछ दुनिया बाहर की है, कुछ अंदर की। जैसे शरीर के अंदर की पवन का बाहर की पवन के साथ संबंध जुड़ा हुआ है, शरीर के अंदर पड़े हुए पानी का बाहर के पानी के साथ संबंध जुड़ा है, शरीर की मिट्टी का बाहर की मिट्टी से संबंध है। ....

‘टेंशन’ में भाई साहब

Posted On February - 22 - 2019 Comments Off on ‘टेंशन’ में भाई साहब
इनेलो वाले ‘भाई साहब’ आजकल ‘टेंशन’ में नजर आ रहे हैं। जिन्हें भाई साहब ने बच्चा समझा था, वे बड़ा ‘गच्चा’ दे गए। विधायकों की संख्या भी घट रही है। ऊपर से भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के हिसार दौरे ने बेचैनी और बढ़ा दी है। बुधवार को बजट सत्र शुरू हुआ तो भाई साहब बार-बार विधायकों पर नजर डालते दिखे। ....

‘माननीयों’ का मर्ज

Posted On February - 22 - 2019 Comments Off on ‘माननीयों’ का मर्ज
हरियाणा को सेहतमंद और तंदरुस्ती वाले प्रदेशों में गिना जाता है, लेकिन उसी हरियाणा के लोग ‘माननीय’ विधायक बनने के बाद ‘बीमार’ हो रहे हैं। विधायक ही नहीं, उनके जीवनसाथी भी बीमार रहे हैं। ‘बीमारी’ भी ऐसी कि लगभग हर माह उन्हें हजारों रुपये की दवा खानी पड़ रही है। ....

व्रत-पर्व

Posted On February - 18 - 2019 Comments Off on व्रत-पर्व
19 फरवरी- माघ पूर्णिमा, माघ स्नान समाप्त, श्री गुरु रविदास जयंती, श्री सत्यनारायण व्रत, श्री ललिता जयन्ती, सोनकुण्ड मेला। ....

अनूठे प्रयोगों के साधक स्वामी रामकृष्ण परमहंस

Posted On February - 18 - 2019 Comments Off on अनूठे प्रयोगों के साधक स्वामी रामकृष्ण परमहंस
स्वामी विवेकानंद ने कहा है, ‘श्री रामकृष्ण क्या हैं, वे कितने पूर्व अवतारों के जमे हुए भाव राज्य के अधिराज्य हैं, इस बात को प्राणप्रण से तपस्या करके भी मैं रत्तीभर न समझ सका।’ वास्तव में स्वामी विवेकानंद का कथन बिल्कुल सही है। स्वामी रामकृष्ण परमहंस का जीवन अनोखी साधनाओं का अमूल्य, अद्भुत कोष है। ....

मोर पंख भरे खुशियों के रंग

Posted On February - 18 - 2019 Comments Off on मोर पंख भरे खुशियों के रंग
श्रीकृष्ण, कार्तिकेय, मां सरस्वती और मां लक्ष्मी- सभी को मोर व इसके पंख किसी न किसी रूप में प्रिय हैं। पौराणिक काल में महर्षियों ने मोरपंख की कलम बनाकर ग्रंथ लिखे। वहीं, बौद्ध दर्शन में, मोर ज्ञान का प्रतिनिधित्व करता है। वास्तु और ज्योतिष शास्त्र में मोर पंखों काे बेहद शुभ माना गया है। ....

रविदास जन्म के कारणे होत न कोऊ नीच…

Posted On February - 18 - 2019 Comments Off on रविदास जन्म के कारणे होत न कोऊ नीच…
गुरु रविदास की वाणी में परमात्मा से मिलने की आतुरता, कर्तव्य-परायणता, प्रेम और सत्य आदि मानव मूल्यों की प्रतिष्ठा को प्रमुख स्थान प्राप्त है। संत शब्द का प्रयोग प्राय: बुद्धिमान, सज्जन, परोपकारी एवं सदाचारी व्यक्ति के लिए किया जाता है। ‘संत’ शब्द ‘सत‍्’ शब्द का ही एक अन्यतम रूप है, जिसके अनुसार संत सत्य के प्रति पूर्ण आस्था रखते हैं। ....

बड़े चौधरी के बोल

Posted On February - 15 - 2019 Comments Off on बड़े चौधरी के बोल
इनेलो वाले बड़े चौधरी साहब यानी ओमप्रकाश चौटाला पार्टी और परिवार में बिखराव से हो रहे राजनीतिक नुकसान को कम करने की तमाम कोशिशें कर रहे हैं। अपने छोटे बेटे अभय चौटाला को मजबूत करने के लिए तिहाड़ से फरलो पर आते ही पूरे प्रदेश का दौरा कर रहे हैं। यही नहीं, इशारों-इशारों में अपने बड़े बेटे अजय चौटाला व उनके बेटों दुष्यंत व दिग्विजय चौटाला पर भी निशाना साध रहे हैं। बताने वालों का कहना है 

जानलेवा जाम

Posted On February - 15 - 2019 Comments Off on जानलेवा जाम
सुरा प्रेम में भारत का दर्जा दुनिया के अन्य कई देशों से बहुत ऊपर है। विश्व में हमारा खुशहाली सूचकांक गिर रहा है तो शराब की खपत के मामले में तेजी से आगे बढ़ रहा है। 2005 से 2016 के बीच यह खपत दोगुनी हो चुकी है। मनोवैज्ञानिक विश्लेषण बताता है कि आनंद-प्रमोद के व्यसन का रूप ले लेने से व्यक्ति को मानसिक तनाव, असंतोष ....

धर्म वाक्य

Posted On February - 13 - 2019 Comments Off on धर्म वाक्य
दुष्टों के मन, वचन एवं कर्म में और-और भाव होते हैं, परन्तु सज्जनों के मन, वचन एवं कर्म तीनों में एक ही भाव रहता है। ....

ईश्वर वहां भी, जहां सोचा नहीं

Posted On February - 13 - 2019 Comments Off on ईश्वर वहां भी, जहां सोचा नहीं
ईश्वर को सर्वव्यापी कहा गया है। तो फिर उन्हें ऐसी-ऐसी जगहों पर भी मिलना चाहिए, जहां इंसान उन्हें पाने की उम्मीद भी न करता हो। आइए देखें कि हमारे महाकाव्यों में इस बारे में क्या लिखा है... ....

सजा हो घर ऐसा, पति-पत्नी के प्यार जैसा

Posted On February - 13 - 2019 Comments Off on सजा हो घर ऐसा, पति-पत्नी के प्यार जैसा
एक-दूसरे के प्रति आदर, विश्वास और प्रेम। पति-पत्नी के मधुर रिश्ते का ये अाधार हैं। इनके साथ यदि घर और खासकर बेडरूम का वास्तु सही हो, तो आपसी प्यार लगातार बढ़ता है। ....

मुस्कान से बांटें खुशियां

Posted On February - 13 - 2019 Comments Off on मुस्कान से बांटें खुशियां
वर्तमान समस्याएं गंभीर चिंता का विषय हैं। यह ज्ारूरी है कि हम समस्याओं का कारण जानें और फिर उनका निदान करें। परंतु यह समझ लें कि परिवर्तन एक व्यक्ति से ही शुरू होता है। जब एक व्यक्ति सुधरता है, तो पूरे परिवार को¨ उसका लाभ मिलता है, पूरा समाज समृद्धð होता है। सबसे पहले हमें स्वयं को¨ सुधारने का प्रयास करना चाहिये। जब हम सुधरते ....

मिड्ढा की किस्मत

Posted On February - 8 - 2019 Comments Off on मिड्ढा की किस्मत
राजनीति में किस्मत हो तो जींद के नवनिर्वाचित विधायक कृष्ण मिड्ढा जैसी। छोटे मिड्ढा ने जींद का उपचुनाव क्या जीता, पूरी भाजपा उन्हें गोद में उठाए हुए है। 2014 में विधानसभा चुनाव जीतने वाले 47 विधायकों में से मंत्रियों को छोड़कर कम ही ऐसे विधायक होंगे, जिन्हें पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात का मौका मिला हो। ....

सरकार का सियासी कदम

Posted On February - 8 - 2019 Comments Off on सरकार का सियासी कदम
पूर्वोत्तर राज्यों और बंगाल के लिए नागरिकता संशोधन विधेयक एक बड़ा राजनीतिक-सामाजिक मुद्दा बन गया है। भाजपा को इस विधेयक में अपना बड़ा सियासी फायदा दिखाई दे रहा है, जबकि राजनीतिक पर्यवेक्षक केंद्र सरकार की इस पहल को पूरी तरह संविधान की मूल भावना और चरित्र के विरुद्ध ठहरा रहे हैं। ....

नागरिकता संशोधन विधेयक : बिल पर बवाल

Posted On February - 8 - 2019 Comments Off on नागरिकता संशोधन विधेयक : बिल पर बवाल
असम और त्रिपुरा सहित पूर्वोत्तर के कई राज्यों में गैरकानूनी तरीके से आये बांग्लादेशी घुसपैठियों की समस्या कई दशकों से राजनीतिक मुद्दा रही है। इन राज्यों में अवैध तरीके से रहने वाले इन विदेशी घुसपैठियों को पहचान कर बाहर निकालने की मांग भी होती रही है, क्योंकि स्थानीय लोगों का आरोप है कि इनकी बड़ी संख्या की वजह से यहां के जातीय समीकरण बिगड़ गये ....
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.