सनी देओल, करिश्मा ने रेलवे कोर्ट के फैसले को दी चुनौती !    मेट्रो की तारीफ पर अमिताभ के खिलाफ प्रदर्शन !    तेजस में रक्षा मंत्री की पहली उड़ान, 2 मिनट खुद उड़ाया !    अयोध्या पर चुप रहें बयान बहादुर !    पीएम के प्रति ‘अपमानजनक' शब्द राजद्रोह नहीं !    अस्त्र मिसाइल के 5 सफल परीक्षण !    एनडीआरएफ में अब महिलाएं भी !    जेल में न कुर्सी मिली, न तकिया ; कम हुआ वजन !    दिल्ली में नहीं चलीं टैक्सी, ऑटो रिक्शा !    सीएम पद के लिए चेहरा पेश नहीं करेगी कांग्रेस: कैप्टन यादव !    

फोकस › ›

खास खबर
मंदी पर महाभारत

मंदी पर महाभारत

आलोक पुराणिक मंदी है या नहीं? यह सवाल है तो आर्थिक लेकिन यह विकट राजनीतिक भी है। सरकार और उसके प्रवक्ता चाहते हैं कि इसे मंदी नहीं सुस्ती मान लिया जाये और कुल मिलाकर ऐसा मसला माना जाये, जो कुछ दिनों में ठीक हो जायेगा। दूसरी तरफ, कांग्रेस समेत तमाम विपक्षी ...

Read More

ट्रैफिक रूल्स की रेड लाइट

ट्रैफिक रूल्स की रेड लाइट

अभिषेक कुमार सिंह मुमकिन है कि कई लोगों के लिए नियम-कानून तोड़ना शान की बात हो। रसूखदार, ऊंचे संपर्कों वाले और जेब में नोटों की गड्डी लेकर चलने वालों के लिए कानून को ठेंगा दिखाना कभी मुश्किल नहीं रहा, लेकिन पहली सितंबर, 2019 से देश में लागू संशोधित नये मोटर वाहन ...

Read More

कुदरती खेती कमाल की

कुदरती खेती कमाल की

राजकिशन नैन कुदरत ने महामूल्यवान संपदा के रूप में जो चीजें हमें उपहार में दी हैं, उनमें धरती यानी माटी की महिमा सबसे ज्यादा है। धरणी धन से परिपूर्ण है, इसीलिए बड़ों ने इसे वसुंधरा कहा है। मेरी मां सवेरे खाट छोड़ते ही सबसे पहले तीन बार धरती को मैया कहकर ...

Read More

बार-बार बाढ़

बार-बार बाढ़

हरीश लखेड़ा देश का एक तिहाई से ज्यादा भू-भाग इस मानसून में बारिश के कहर से बेहाल रहा है। जुलाई और अगस्त के दौरान उत्तर से दक्षिण और पूर्व से पश्चिम तक कोई न कोई भू-भाग जल में डूबा रहा है। केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र, गुजरात, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, असम, ...

Read More

दलबदल से राजबल

दलबदल से राजबल

हरीश लखेड़ा विश्व की सबसे बड़ी सियासी पार्टी होने का दावा करने वाली भारतीय जनता पार्टी का कुनबा लगातार बढ़ रहा है। यह इसलिए कि भाजपा विभिन्न राज्यों में विपक्षी दलों के नेताओं को बड़ी संख्या में अपने में शामिल कराने के अभियान में जुटी है। एक ओर पार्टी अपनी सदस्यता ...

Read More

फिर सोनिया गांधी

फिर सोनिया गांधी

हरीश लखेड़ा कांग्रेस को फिर सोनिया गांधी की शरण लेनी पड़ी है। राहुल गांधी के ‘रणछोड़ जी’ बनने के बाद संकट में आई कांग्रेस के सामने सोनिया से बेहतर कोई विकल्प भी नहीं था। इसलिए राहुल के कांग्रेस का अगला अध्यक्ष नेहरू-गांधी परिवार से बाहर के व्यक्ति को बनाने के बयान ...

Read More

आजादी का अहसास

आजादी का अहसास

अनूप भटनागर हिन्दू समाज में व्याप्त सती प्रथा, देवदासी प्रथा और बाल विवाह जैसी कुरीतियों पर अंकुश लगाने के लिये कानून बनाने के बाद देश की संसद ने मुस्लिम समाज के सुन्नी समुदाय के एक वर्ग में प्रचलित एक बार में तीन तलाक देने की कुप्रथा को अब दंडनीय अपराध बनाकर ...

Read More


  • मंदी पर महाभारत
     Posted On September - 16 - 2019
    मंदी है या नहीं? यह सवाल है तो आर्थिक लेकिन यह विकट राजनीतिक भी है। सरकार और उसके प्रवक्ता चाहते....
  • ट्रैफिक रूल्स की रेड लाइट
     Posted On September - 9 - 2019
    मुमकिन है कि कई लोगों के लिए नियम-कानून तोड़ना शान की बात हो। रसूखदार, ऊंचे संपर्कों वाले और जेब में....
  • कुदरती खेती कमाल की
     Posted On September - 2 - 2019
    कुदरत ने महामूल्यवान संपदा के रूप में जो चीजें हमें उपहार में दी हैं, उनमें धरती यानी माटी की महिमा....
  • बार-बार बाढ़
     Posted On August - 26 - 2019
    देश का एक तिहाई से ज्यादा भू-भाग इस मानसून में बारिश के कहर से बेहाल रहा है। जुलाई और अगस्त....

बड़ों के बिगड़ैल बच्चे

Posted On August - 17 - 2017 Comments Off on बड़ों के बिगड़ैल बच्चे
नेताओं के बिगड़ैल बेटे अकसर चर्चा में रहते हैं। इस बार हरियाणा के भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला का बेटा विकास बराला मीडिया में छाया हुआ है। आरोप है कि विकास ने रात के समय एक आईएएस की बेटी से छेड़छाड़ की। वारदात के समय वह शराब पीये हुए था। यह पहला मौका नहीं है, जब नेतापुत्रों ने दबंगई की है। इससे पहले ....

आजादी में संघ की भूमिका

Posted On August - 10 - 2017 Comments Off on आजादी में संघ की भूमिका
भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं वर्षगांठ पर देश में नयी बहस छिड़ गयी है कि क्या स्वतंत्रता संग्राम में संघ की कोई भूमिका थी? यह सवाल तब उठा जब बुधवार को संसद में ‘अगस्त क्रांति’ चर्चा के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अप्रत्यक्ष रूप से कहा कि संघ स्वतंत्रता संग्राम के आंदोलन के खिलाफ था। आजादी में उसका कोई योगदान नहीं था। ....

‘साड्डी कुड़ी मरदी पई जे, तुसी वीजा क्यों नी देंदे’

Posted On August - 4 - 2017 Comments Off on ‘साड्डी कुड़ी मरदी पई जे, तुसी वीजा क्यों नी देंदे’
जबड़े के कैंसर से जूझ रही पाकिस्तानी छात्रा फाइजा तनवीर के समर्थन में अब गुहला के लाहौरिये उतर आए हैं। ....

निजता का आधार

Posted On August - 3 - 2017 Comments Off on निजता का आधार
सरकार जन-कल्याणकारी योजनाओं के नाम पर आधार को अनिवार्य करना चाहती है। आधार में लोगों की बायोमीट्रिक जानकारी है। इसमें उंगलियों के निशान, आखों की पुतलियों की तस्वीर और अन्य जैविक विशिष्टता वाले तथ्य हैं। ऐसी संवेदनशील जानकारियों के गलत इस्तेमाल की संभावना बढ़ जाती है, फिर चाहे ये सरकार के पास सुरक्षित ही क्यों न हों। ....

शह-मात

Posted On July - 27 - 2017 Comments Off on शह-मात
बुधवार की शाम तक नीतीश कुमार बिहार में जदयू-राजद-कांग्रेस महागठबंधन सरकार के मुख्यमंत्री थे, पर इस्तीफा देकर बृहस्पतिवार सुबह जदयू भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री बन गये। ऐसे में 2015 के जनादेश तथा राजनीति में नीति, सिद्धांत, नैतिकता से संबंधित स्वाभाविक सवाल हमारी पूरी राजनीतिक व्यवस्था को ही कठघरे में खड़ा कर देता है। ....

महामहिम की महत्ता

Posted On July - 20 - 2017 Comments Off on महामहिम की महत्ता
रामनाथ कोविंद विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र के 14वें संवैधानिक प्रमुख होंगे। यह आम धारणा अर्ध सत्य ही है कि भारतीय शासन व्यवस्था में राष्ट्रपति ‘रबड़ स्टाम्प’ होता है। पूर्ण सत्य यह है कि वह ‘इमरजेंसी लाइट’ की तरह हैं, जो मुश्किल समय में मार्गदर्शक की भूिमका निभाते हैं। ....

दोस्ती, दुश्मनी, राजनीति

Posted On July - 13 - 2017 Comments Off on दोस्ती, दुश्मनी, राजनीति
अक्तूबर, 1980 में आयी हिंदी फिल्म 'दोस्ताना' का लोकप्रिय गीत : मेरे दोस्त किस्सा ये क्या हो गया, सुना है कि तू बेवफा हो गया—बिहार में महागठंधन की रार पर सटीक बैठता है। यह गीत फिल्म में अमिताभ बच्चन और शत्रुघ्न सिन्हा की दोस्ती पर फिल्माया गया था। ....

ड्रैगन की दादागीरी

Posted On July - 6 - 2017 Comments Off on ड्रैगन की दादागीरी
चीन सीमा पर विवाद कोई पहली घटना नहीं है। इससे पहले भी चीन भारत काे उकसाता रहा है। उसके सैनिक भारतीय क्षेत्र में घुसते रहे हैं और बाद में स्थिति सामान्य हो जाती है। ऐसे में डोकलाम में सीमा विवाद चीन की सोची समझी रणनीति का हिस्सा है। ....

सोने पर करम, बिस्कुट पर सितम

Posted On June - 29 - 2017 Comments Off on सोने पर करम, बिस्कुट पर सितम
देश में उच्च वर्ग यानी अमीरों को अपनी आर्थिक स्थिति के चलते करों में बढ़ोतरी चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है जबकि निम्न आय वर्ग के लिए जीएसटी कोई खास परेशानी लाने वाला नहीं है। हां, मध्य वर्ग को जरूर अपनी जेब ज्यादा ढीली करवाने के लिए तैयार रहना चाहिए। गुड्स एंड सर्विस टैक्स या माल और सेवा कर दरअसल देश की महत्वपूर्ण सेवा ....

सियासी और आर्थिक हितों का गोरखालैंड

Posted On June - 22 - 2017 Comments Off on सियासी और आर्थिक हितों का गोरखालैंड
दार्जिलिंग में जून 1986 के वे दिन मुश्किल से बिसरते हैं, जब सुभाष घीसिंग से पहली मुलाक़ात हुई थी। और ’आखि़री मुलाक़ात’ 28 जनवरी 2015 को नयी दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल के आईसीयू में देखने भर की हुई थी। उसके दूसरे दिन घीसिंग अलग गोरखालैंड की अधूरी ख्वाहिश के साथ दुनिया से चले गये। ....

हरियाणा : बढ़ रहा कर्ज का मर्ज

Posted On June - 15 - 2017 Comments Off on हरियाणा : बढ़ रहा कर्ज का मर्ज
मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र में किसान आंदोलन के तौर पर फूटे जनाक्रोश के लिए जो कारक जिम्मेदार हैं वे हरियाणा में भी उतने गहरे रूप में मौजूद हैं। पिछले तीन साल से हरियाणा में अधिकतर मुख्य फसलों की मंडियों में पिटाई हुई है। न्यूनतम समर्थन मूल्यों पर सरकारी एजेंसियों द्वारा खरीद नहीं करने के चलते किसानों की फसलें खासकर धान, सरसों, दालें, बाजरा, कपास इत्यादि ....

पंजाब : बजट से बड़ा कर्ज

Posted On June - 15 - 2017 Comments Off on पंजाब : बजट से बड़ा कर्ज
पंजाब की सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी किसानों का पूरा कर्ज माफ करने के वादे के साथ सत्ता में आई है। फिलहाल सरकार ने कृषि लागत एवं मूल्य आयोग के पूर्व चेयरमैन डाॅ. टी. हक्क की अध्यक्षता में कमेटी बनाई है। कमेटी ने दो महीने का समय मांगा है, लेकिन कैप्टन सरकार पर बजट सत्र में ही कर्ज माफी की घोषणा करने का दबाव है। ....

कृषि संकट : आर्थिक कुप्रबंधन की देन है

Posted On June - 15 - 2017 Comments Off on कृषि संकट : आर्थिक कुप्रबंधन की देन है
सच ये है कि हर प्रधानमंत्री देश को कृषि प्रधान बताता है। मगर बजट पेश करने वाला हर वित्त मंत्री बजट में एग्रीकल्चर बाटम पर व उद्योग टाप पर रखता है। लोगों को विश्वास दिलाने को कहता है कि देश कृषि प्रधान है। हम खेती को ऐसा मंच नहीं बना पाये कि खेती देश के लिये लाभकारी साबित हो सके। ....

बिहार में स्कूल प्रणाली का पतन

Posted On June - 8 - 2017 Comments Off on बिहार में स्कूल प्रणाली का पतन
बिहार एक बार फिर गलत कारण से सुर्खियों में है। इस वर्ष भी 12वीं की परीक्षा में टॉप करने वाला छात्र फर्जी निकला। उसकी उम्र छिपाने और परीक्षा दिलाने में स्कूल प्रिंसिपल और उनके पति भी धरे गये। इससे भी ज्यादा, 12वीं कक्षा में 65 प्रतिशत विद्यार्थियों के फेल होने की खबर एक बड़ी आपदा की तरह है। ....

शिक्षा की परीक्षा

Posted On June - 8 - 2017 Comments Off on शिक्षा की परीक्षा
देश की शिक्षा व्यवस्था की वर्तमान स्थिति चिंताजनक है और इसकी सबसे बड़ी वजह यह है कि सरकारी शैक्षणिक संस्थानों की साख लगातार गिरती जा रही है। जिस प्रकार की घटनाएं सामने आ रही हैं वे बेहद चौंकाने वाली हैं। बिहार में 12वीं की परीक्षा में करीब 65 फीसदी विद्यार्थी फेल हो गये। क्यों फेल हो गए, क्योंकि वहां योग्य शिक्षकों का घोर अकाल हो ....

लगातार जीतने की विराट चुनौती

Posted On June - 1 - 2017 Comments Off on लगातार जीतने की विराट चुनौती
आईपीएल खत्म होते ही विभिन्न फ्रेंचाइजी टीमों में एक साथ खेलने वाले खिलाड़ियों की राहें जुदा हो चुकी हैं। अब तक जो खिलाड़ी एक-दूसरे के प्रदर्शन पर शाबाशी दे रहे थे, वे अब चैंपियंस ट्रॉफी में अपने देश के लिए उन्हें पटखनी देने को तैयार हैं। ....
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.