सनी देओल, करिश्मा ने रेलवे कोर्ट के फैसले को दी चुनौती !    मेट्रो की तारीफ पर अमिताभ के खिलाफ प्रदर्शन !    तेजस में रक्षा मंत्री की पहली उड़ान, 2 मिनट खुद उड़ाया !    अयोध्या पर चुप रहें बयान बहादुर !    पीएम के प्रति ‘अपमानजनक' शब्द राजद्रोह नहीं !    अस्त्र मिसाइल के 5 सफल परीक्षण !    एनडीआरएफ में अब महिलाएं भी !    जेल में न कुर्सी मिली, न तकिया ; कम हुआ वजन !    दिल्ली में नहीं चलीं टैक्सी, ऑटो रिक्शा !    सीएम पद के लिए चेहरा पेश नहीं करेगी कांग्रेस: कैप्टन यादव !    

फोकस › ›

खास खबर
मंदी पर महाभारत

मंदी पर महाभारत

आलोक पुराणिक मंदी है या नहीं? यह सवाल है तो आर्थिक लेकिन यह विकट राजनीतिक भी है। सरकार और उसके प्रवक्ता चाहते हैं कि इसे मंदी नहीं सुस्ती मान लिया जाये और कुल मिलाकर ऐसा मसला माना जाये, जो कुछ दिनों में ठीक हो जायेगा। दूसरी तरफ, कांग्रेस समेत तमाम विपक्षी ...

Read More

ट्रैफिक रूल्स की रेड लाइट

ट्रैफिक रूल्स की रेड लाइट

अभिषेक कुमार सिंह मुमकिन है कि कई लोगों के लिए नियम-कानून तोड़ना शान की बात हो। रसूखदार, ऊंचे संपर्कों वाले और जेब में नोटों की गड्डी लेकर चलने वालों के लिए कानून को ठेंगा दिखाना कभी मुश्किल नहीं रहा, लेकिन पहली सितंबर, 2019 से देश में लागू संशोधित नये मोटर वाहन ...

Read More

कुदरती खेती कमाल की

कुदरती खेती कमाल की

राजकिशन नैन कुदरत ने महामूल्यवान संपदा के रूप में जो चीजें हमें उपहार में दी हैं, उनमें धरती यानी माटी की महिमा सबसे ज्यादा है। धरणी धन से परिपूर्ण है, इसीलिए बड़ों ने इसे वसुंधरा कहा है। मेरी मां सवेरे खाट छोड़ते ही सबसे पहले तीन बार धरती को मैया कहकर ...

Read More

बार-बार बाढ़

बार-बार बाढ़

हरीश लखेड़ा देश का एक तिहाई से ज्यादा भू-भाग इस मानसून में बारिश के कहर से बेहाल रहा है। जुलाई और अगस्त के दौरान उत्तर से दक्षिण और पूर्व से पश्चिम तक कोई न कोई भू-भाग जल में डूबा रहा है। केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र, गुजरात, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, असम, ...

Read More

दलबदल से राजबल

दलबदल से राजबल

हरीश लखेड़ा विश्व की सबसे बड़ी सियासी पार्टी होने का दावा करने वाली भारतीय जनता पार्टी का कुनबा लगातार बढ़ रहा है। यह इसलिए कि भाजपा विभिन्न राज्यों में विपक्षी दलों के नेताओं को बड़ी संख्या में अपने में शामिल कराने के अभियान में जुटी है। एक ओर पार्टी अपनी सदस्यता ...

Read More

फिर सोनिया गांधी

फिर सोनिया गांधी

हरीश लखेड़ा कांग्रेस को फिर सोनिया गांधी की शरण लेनी पड़ी है। राहुल गांधी के ‘रणछोड़ जी’ बनने के बाद संकट में आई कांग्रेस के सामने सोनिया से बेहतर कोई विकल्प भी नहीं था। इसलिए राहुल के कांग्रेस का अगला अध्यक्ष नेहरू-गांधी परिवार से बाहर के व्यक्ति को बनाने के बयान ...

Read More

आजादी का अहसास

आजादी का अहसास

अनूप भटनागर हिन्दू समाज में व्याप्त सती प्रथा, देवदासी प्रथा और बाल विवाह जैसी कुरीतियों पर अंकुश लगाने के लिये कानून बनाने के बाद देश की संसद ने मुस्लिम समाज के सुन्नी समुदाय के एक वर्ग में प्रचलित एक बार में तीन तलाक देने की कुप्रथा को अब दंडनीय अपराध बनाकर ...

Read More


  • मंदी पर महाभारत
     Posted On September - 16 - 2019
    मंदी है या नहीं? यह सवाल है तो आर्थिक लेकिन यह विकट राजनीतिक भी है। सरकार और उसके प्रवक्ता चाहते....
  • ट्रैफिक रूल्स की रेड लाइट
     Posted On September - 9 - 2019
    मुमकिन है कि कई लोगों के लिए नियम-कानून तोड़ना शान की बात हो। रसूखदार, ऊंचे संपर्कों वाले और जेब में....
  • कुदरती खेती कमाल की
     Posted On September - 2 - 2019
    कुदरत ने महामूल्यवान संपदा के रूप में जो चीजें हमें उपहार में दी हैं, उनमें धरती यानी माटी की महिमा....
  • बार-बार बाढ़
     Posted On August - 26 - 2019
    देश का एक तिहाई से ज्यादा भू-भाग इस मानसून में बारिश के कहर से बेहाल रहा है। जुलाई और अगस्त....

खोदा पहाड़ और…

Posted On May - 24 - 2018 Comments Off on खोदा पहाड़ और…
इन्फार्मल समिट’ का अर्थ क्या निकलता है? ऐसी शिखर भेंट, जो अनौपचारिक हो। बिना किसी पूर्व नियोजित एजेंडे के मिलिए। उद्यान में सैर कीजिए, थोड़ा नौका विहार भी। मूड आए तो समकक्ष शिखर नेता के साथ म्यूज़िक सुनिए। ढोल बजाना सही से नहीं आता हो, फिर भी हाथ आज़मा लीजिए। तो ये हुई ‘इन्फार्मल समिट’। ....

किसानों का कर्ज बाकी

Posted On May - 24 - 2018 Comments Off on किसानों का कर्ज बाकी
मोदी सरकार के 4 साल शनिवार को पूरे हो जाएंगे। अब कई सवाल उनसे पूछे जाएंगे। पीएम मोदी को तमाम सवालों के जवाबों के लिए तैयार होना होगा, क्योंकि वे कई सवाल अनुत्तरित हैं, जिन्हें नरेंद्र मोदी 2014 के लोकसभा चुनाव प्रचार में उठाते थे। ....

मोदी राज के 4 साल

Posted On May - 24 - 2018 Comments Off on मोदी राज के 4 साल
किसी भी सरकार के 4 साल केवल सफलता या केवल विफलता के नहीं होते। कहानी कहीं बीच की होती है। उपलब्धियों और विफलताओं के बीच के संतुलन को देखना चाहिए। मोदी सरकार की ज्यादातर उपलब्धियां सामाजिक कार्यक्रमों और प्रशासनिक फैसलों के इर्द-गिर्द हैं। ....

पहाड़ सी चुनौती

Posted On May - 17 - 2018 Comments Off on पहाड़ सी चुनौती
हिमाचल में अवैध निर्माण को लेकर उठा ताजा विवाद काफी पुराना है। प्रदेश में ढुलमुल सरकारी नीति के चलते करीब तीन दशकों से अवैध निर्माण करने वालों की पौ बारह रही है। देर-सवेर अवैध निर्माण कार्यों को नियमित करने की सरकारी नीति, नियम-कानूनों को ठेंगा दिखाकर निजी मकान या होटल बनाने वालों के हौसले बुलंद ही करती रही है। ....

कर्नाटक किसका?

Posted On May - 11 - 2018 Comments Off on कर्नाटक किसका?
क्या सचमुच कर्नाटक चुनाव के बाद 2019 की शुरुआत मान लें? ऐसा गुजरात चुनाव के समय भी कहा जा रहा था। 2018 के आखिर में मिजोरम में चुनाव है और उसके प्रकारांतर 20 जनवरी 2019 तक भाजपा शासित 3 राज्यों छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और राजस्थान में एक के बाद एक चुनाव होना है। ....

कितना रोशन इंडिया

Posted On May - 3 - 2018 Comments Off on कितना रोशन इंडिया
केंद्र सरकार सभी गांवों में बिजली पहुंचाने का दावा कर चुकी है और अब सरकार का यह भी दावा है कि इस साल 31 दिसंबर तक प्रत्येक घर में बिजली उपलब्ध करा दी जाएगी। यदि सरकार का यह दावा कागजी साबित न हुआ तो लालटेन युग में जी रहे 7.05 करोड़ घरों में भी बिजली के बल्ब जगमगाने लगेंगे। ....

कूटनीति की नयी इबारत

Posted On April - 26 - 2018 Comments Off on कूटनीति की नयी इबारत
मोदी कूटनीति का एक बड़ा हिस्सा होता है, दुनिया को चौंका कर रखो! कुछ अचानक सा। लोग थोड़ा विस्मित हों। चर्चा करें, कि ये क्या हो रहा है? पूर्वी चीन का एक नगर है, छिंगताओ। 9 और 10 जून 2018 को यहां शंघाई काॅरपोरेशन आर्गेनाइजेशन (एससीओ) की बैठक होनी है। ....

सत्ता के संत

Posted On April - 19 - 2018 Comments Off on सत्ता के संत
कभी पर्ण कुटी से लोक कल्याण हेतु राजसत्ता का मार्गदर्शन करने वाले संत अब राजदरबार का हिस्सा बनने को आतुर हैं। उनकी महत्वाकांक्षाओं का आलम मध्यप्रदेश में साकार हुआ। राज्याश्रय से राज करने का यह सफर धर्मनिरपेक्ष राज्य-व्यवस्थाओं के सिद्धांतों से मेल नहीं खाता। ....

संसद में शोरतंत्र

Posted On April - 13 - 2018 Comments Off on संसद में शोरतंत्र
हाल ही में संसद के बजट सत्र के दूसरे चरण में जो कुछ हुआ वह संसदीय दृष्टि से उचित नहीं ठहराया जा सकता। संसद में कई नियम हैं, जिनके तहत सांसद अपनी बात रख सकते हैं और विभिन्न मुद्दे उठा सकते हैं। सदन में हंगामा ही किसी समस्या का हल नहीं है। ....

आरक्षण नीति की राजनीति

Posted On April - 5 - 2018 Comments Off on आरक्षण नीति की राजनीति
देश में आरक्षण शुरू करने के पीछे सैकड़ों वर्षों का इतिहास रहा है। यहां वर्ण और जाति व्यवस्था रही है, उसमें आरक्षण था। जिसे मनुवाद कहते हैं। उसमें व्यवस्था थी कि पूजा केवल ब्राह्मण करेगा व युद्ध क्षत्रीय और व्यापार वैश्य करेगा। यह आरक्षण जन्मना था। तब आरक्षण पाने वाले उच्च वर्ग से थे। ....

हमका माफी दे दो

Posted On March - 29 - 2018 Comments Off on हमका माफी दे दो
ज्यादा समय नहीं हुआ है जब नाॅर्थ ब्लॉक से लेकर रामलीला मैदान व जंतर-मंतर तक हर वक्त समाजसेवी अन्ना हजारे के साथ मौजूद वह साधारण कद काठी का युवक दूसरों से कुछ हटकर दिखने लगा था। तब वह चीख-चीख कर कहता था कि लोकपाल कानून बनवा कर ही दम लेंगे, भ्रष्टाचार को जड़ से खत्म करेंगे और मौजूदा राजनीति को बदल देंगे। ....

मैं नास्तिक क्यों हूं

Posted On March - 22 - 2018 Comments Off on मैं नास्तिक क्यों हूं
नया प्रश्न उठ खड़ा हुआ है। क्या मैं किसी अहंकार के कारण सर्वशक्तिमान, सर्वव्यापी और सर्वज्ञानी ईश्वर के अस्तित्व पर विश्वास नहीं करता हूं? मेरे कुछ दोस्त मेरे साथ थोड़े से संपर्क में इस निष्कर्ष पर पहुंचने के लिये उत्सुक हैं कि मैं ईश्वर के अस्तित्व को नकार कर जरूरत से ज्यादा आगे जा रहा हूं। ....

पेपर लीक का खेल

Posted On March - 15 - 2018 Comments Off on पेपर लीक का खेल
देश के इतिहास में यह शायद पहला मौका होगा, जब पेपर लीक कांड के किसी मामले में उम्मीदवारों ने आंदोलन चलाया हो और सरकार उनके दबाव के आगे झुकी हो। ....

आबादी बम

Posted On March - 8 - 2018 Comments Off on आबादी बम
संयुक्त राष्ट्र के जनसंख्या संबंधित कुछ आंकड़ों के अनुसार इस समय दुनिया की आबादी 7.6 अरब है। पिछले 12 साल मेंं यह एक अरब बढ़ी है। 2030 तक इसमें एक अरब की और वृद्धि होने का अनुमान है। इस समय भारत की आबादी 1.34 अरब है, जबकि चीन की आबादी 1.41 अरब है। ....

हर पैग से बरसते पैसे

Posted On March - 1 - 2018 Comments Off on हर पैग से बरसते पैसे
सरकार की अर्थव्यवस्था और शराब का गहरा नाता है। या फिर यह कहें कि सरकारी खजाने में सबसे ज्यादा पैसा शराब पर लगने वाले टैक्स से आता है तो गलत नहीं होगा। यही कारण है कि सरकारें जल्दी से शराबबंदी का फैसला नहीं ले पातीं और जो लेती हैं वे इस पर टिक नहीं पातीं। हरियाणा सहित कई राज्यों में सरकारों ने शराबबंदी की, लेकिन लड़खड़ाती ....

बैंकों पर घोटालों की घटा

Posted On February - 22 - 2018 Comments Off on बैंकों पर घोटालों की घटा
पंजाब नेशनल बैंक से करीब 11400 करोड़ रुपये पार हो गये। कानपुर के रोटोमैक पेन के कारोबारी विक्रम कोठारी ने फर्जी दस्तावेज से 7 सरकारी बैंकों के करीब 3700 करोड़ रुपये साफ कर दिए। ऐसा लग रहा है कि सरकारी बैंकों में एक महाभोज चल रहा है, जिसमें सिर्फ बड़े उद्योगपति आमंत्रित हैं। ....
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.