भाजपा ही करवा सकती है बिना भेदभाव के विकास !    कांग्रेसी अपनों पर ही उठा रहे सवाल : शाह नवाज !    रणधीर चौधरी ने छोड़ी बसपा, भाजपा में शामिल !    शिव सेना बाल ठाकरे ने बसपा उम्मीदवार को दिया समर्थन !    ‘युवा सेना के चक्रव्यूह में फंसा चौधरी परिवार’ !    जनता को बरगला रहे हुड्डा, भाजपा को मिल रहा है प्रचंड बहुमत !    सरकार ने पूरी ईमानदारी से किया विकास : राव इंद्रजीत !    श्रद्धालुओं से 20 डालर सेवा शुल्क ना वसूले पाक !    21 के मतदान तक एग्जिट पोल पर रोक !    आईसीसी के हालिया फैसलों को नहीं मानेगा बोर्ड : सीओए !    

फोकस › ›

खास खबर
प्याज का राज

प्याज का राज

50000 टन प्याज का बफर स्टाक था सरकार के पास। उसमें से 15000 टन का इस्तेमाल वह कर चुकी है 35000 टन का स्टाक अभी और है सरकार के पास। इसका इस्तेमाल करके प्याज के भाव कम किये जा सकते हैं आलोक पुराणिक जून 2019 में प्याज के रिटेल भाव दिल्ली में ...

Read More

राखीगढ़ी से निकला निष्कर्ष आर्य ही हैं हम

राखीगढ़ी से निकला निष्कर्ष आर्य ही हैं हम

राजवंती मान राखीगढ़ी हरियाणा के हिसार जिले के नारनौंद खंड में सरस्वती तथा दृषद्वती नदियों के शुष्क क्षेत्र में बसा एक महत्वपूर्ण ऐतिहासिक गांव है, जहां सिंधु घाटी सभ्यता, जिसमें लगभग 20 लाख वर्ग किलोमीटर में सिंध, बलूचिस्तान, पंजाब, जम्मू, हरियाणा, राजस्थान, कच्छ-गुजरात और महाराष्ट्र तक की आबादी शामिल थी, के ...

Read More

मंदी पर महाभारत

मंदी पर महाभारत

आलोक पुराणिक मंदी है या नहीं? यह सवाल है तो आर्थिक लेकिन यह विकट राजनीतिक भी है। सरकार और उसके प्रवक्ता चाहते हैं कि इसे मंदी नहीं सुस्ती मान लिया जाये और कुल मिलाकर ऐसा मसला माना जाये, जो कुछ दिनों में ठीक हो जायेगा। दूसरी तरफ, कांग्रेस समेत तमाम विपक्षी ...

Read More

ट्रैफिक रूल्स की रेड लाइट

ट्रैफिक रूल्स की रेड लाइट

अभिषेक कुमार सिंह मुमकिन है कि कई लोगों के लिए नियम-कानून तोड़ना शान की बात हो। रसूखदार, ऊंचे संपर्कों वाले और जेब में नोटों की गड्डी लेकर चलने वालों के लिए कानून को ठेंगा दिखाना कभी मुश्किल नहीं रहा, लेकिन पहली सितंबर, 2019 से देश में लागू संशोधित नये मोटर वाहन ...

Read More

कुदरती खेती कमाल की

कुदरती खेती कमाल की

राजकिशन नैन कुदरत ने महामूल्यवान संपदा के रूप में जो चीजें हमें उपहार में दी हैं, उनमें धरती यानी माटी की महिमा सबसे ज्यादा है। धरणी धन से परिपूर्ण है, इसीलिए बड़ों ने इसे वसुंधरा कहा है। मेरी मां सवेरे खाट छोड़ते ही सबसे पहले तीन बार धरती को मैया कहकर ...

Read More

बार-बार बाढ़

बार-बार बाढ़

हरीश लखेड़ा देश का एक तिहाई से ज्यादा भू-भाग इस मानसून में बारिश के कहर से बेहाल रहा है। जुलाई और अगस्त के दौरान उत्तर से दक्षिण और पूर्व से पश्चिम तक कोई न कोई भू-भाग जल में डूबा रहा है। केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र, गुजरात, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, असम, ...

Read More

दलबदल से राजबल

दलबदल से राजबल

हरीश लखेड़ा विश्व की सबसे बड़ी सियासी पार्टी होने का दावा करने वाली भारतीय जनता पार्टी का कुनबा लगातार बढ़ रहा है। यह इसलिए कि भाजपा विभिन्न राज्यों में विपक्षी दलों के नेताओं को बड़ी संख्या में अपने में शामिल कराने के अभियान में जुटी है। एक ओर पार्टी अपनी सदस्यता ...

Read More


  • प्याज का राज
     Posted On September - 30 - 2019
    जून 2019 में प्याज के रिटेल भाव दिल्ली में 26 रुपये किलो थे, जो सितंबर 2019 में बढ़कर 60 रुपये....
  • राखीगढ़ी से निकला निष्कर्ष आर्य ही हैं हम
     Posted On September - 23 - 2019
    राखीगढ़ी हरियाणा के हिसार जिले के नारनौंद खंड में सरस्वती तथा दृषद्वती नदियों के शुष्क क्षेत्र में बसा एक महत्वपूर्ण....
  • मंदी पर महाभारत
     Posted On September - 16 - 2019
    मंदी है या नहीं? यह सवाल है तो आर्थिक लेकिन यह विकट राजनीतिक भी है। सरकार और उसके प्रवक्ता चाहते....
  • ट्रैफिक रूल्स की रेड लाइट
     Posted On September - 9 - 2019
    मुमकिन है कि कई लोगों के लिए नियम-कानून तोड़ना शान की बात हो। रसूखदार, ऊंचे संपर्कों वाले और जेब में....

पीसी की लैपटॉप से टक्कर

Posted On March - 31 - 2010 Comments Off on पीसी की लैपटॉप से टक्कर
विद्युत प्रकाश मौर्य लैपटॉप बाजार को चुनौती अब नोटबुक पीसी से मिल रही है। नोटबुक पीसी यानी लैपटॉप से भी छोटे आकार का कंप्यूटर। नोटबुक पीसी को लेकर चलना और भी आसान है। बाजार में 14 हजार से लेकर 32 हजार के बीच में नोटबुक पीसी आ गये हैं। कई कंपनियां नोटबुक पीसी उन लोगों को ध्यान में रखकर उतार रही हैं जो कंप्यूटर के शुरुआती यूजर हैं। यानी पहली बार कंप्यूटर यूज करने वाले। ऐसे लोग आमतौर 

कंप्यूटर अकाउंटेंसी

Posted On March - 31 - 2010 Comments Off on कंप्यूटर अकाउंटेंसी
नौकरी की पक्की गारंटी रवीन्द्र भारत के मध्यमवर्गीय और निम्न मध्यमवर्गीय परिवारों में ऐसे युवाओं की कोई कमी नहीं है, जिनकी पहली प्राथमिकता कोई न कोई नौकरी पाना होता है। ये युवा सिंपल ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट करने में अपना वक्त कतई बर्बाद नहीं करना चाहते हैं। इसके बजाय वह कोई ऐसा जॉब ओरिएंटेड कोर्स करना चाहते हैं, जिसे पूरा करने के बाद उन्हें एक सम्मानजनक नौकरी मिल जाए। 

अंतिम तिथि

Posted On March - 24 - 2010 Comments Off on अंतिम तिथि
अशोक सिंह पाठ्यक्रम : एमए (हिंदी नाट्यकला एवं फिल्म अध्ययन, जनसंचार बौद्ध अध्ययन, मानव विज्ञान, समाज कार्य , हिंदी अनुवाद), मास्टर आफ इंफार्मेटिक्स एंड लैंग्वेज इंजीनियरिंग, एम फिल, पीएचडी। संस्थान : महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय वर्धा। विशेष : एमफिल/ पीएचडी में दाखिले यूजीसी के नियमों के अनुसार। प्रॉस्पैक्टस : संस्थान की वेबसाइट www.hindivishwa. 

कल्पनाशीलता व अभिव्यक्ति से छुएं आकाश को

Posted On March - 24 - 2010 Comments Off on कल्पनाशीलता व अभिव्यक्ति से छुएं आकाश को
करिअर विज्ञापन अनिल कुमार छोटी-सी सुई से लेकर हवाई जहाज तक, नमक से लेकर डिब्बाबंद खाद्य सामग्री तक यहां तक कि मनुष्य के पीने के पानी तक को खरीदने के लिए विज्ञापनों का ही सहारा लिया जा रहा है। आर्थिक उदारीकरण के माहौल में भारतीय बाजार में तथा विदेशी बाजार में कोई भी राष्ट्रीय या बहुराष्ट्रीय कंपनी अपनी सामग्रियों की खपत हेतु अपने बजट का बहुत ही बड़ा हिस्सा विज्ञापनों पर खर्च कर 

क्यों जाएं हम स्कूल?

Posted On March - 24 - 2010 Comments Off on क्यों जाएं हम स्कूल?
डा. रामप्रताप गुप्ता अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर शर्मिंदगी की स्थिति से मुक्ति पाने के लिए भारत ने जिला प्राथमिक शिक्षा कार्यक्रम के अंतर्गत विश्व बैंक की सहायता से सन् 2002 में सर्वशिक्षा अभियान प्रारंभ किया ताकि देश के हर बच्चे को पाठशाला में प्रवेश दिलाया जा सके। पिछले 8 वर्ष से चलाये जा रहे इस कार्यक्रम के माध्यम से देश के 6 वर्ष की आयु के 95 प्रतिशत बच्चों को पाठशाला में प्रवेश 

ताकि आएं खूब अंक

Posted On March - 17 - 2010 Comments Off on ताकि आएं खूब अंक
....

परीक्षा से पूर्व परीक्षा की रिहर्सल

Posted On March - 17 - 2010 Comments Off on परीक्षा से पूर्व परीक्षा की रिहर्सल
-राज कुमार ‘दिनकर’ दरअसल परीक्षाओं के दिनों में न बहुत ज्यादा पढऩा चाहिए न ही बिल्कुल कम। सवाल उठता है आखिर परीक्षाओं के दिनों में कितना पढ़ें? कभी भी चालीस या पैंतालीस मिनट से ज्यादा नहीं पढऩा चाहिए, क्योंकि किसी भी इनसान की एकाग्रता क्षमता पैंतीस से चालीस मिनट से ज्यादा नहीं होती। इसलिए चालीस मिनट पर एक ब्रेक लें। कमरे से बाहर आयें, फ्रेश हो लें और नए सिरे से पढऩे के लिए बैठें। पढ़ते 

हर कोई दीवाना इलेक्ट्रोनिक मीडिया का

Posted On March - 17 - 2010 Comments Off on हर कोई दीवाना इलेक्ट्रोनिक मीडिया का
करिअर अनिल कुमार सूचना क्रांति के इस दौर में इलेक्ट्रानिक मीडिया का व्यापक प्रसार हो रहा है। विभिन्न चैनल्स के विस्तार से दूरदर्शन केंद्र में रिक्तियों की संख्या में काफी वृद्धि हुई है। वर्तमान में देश के अंदर दूरदर्शन के लगभग 560 केंद्र क्रियाशील हैं। विकास के अन्य आयामों के साथ दूरदर्शन प्रसारण केंद्रों में भी वृद्धि हुई है। इस क्षेत्र में उद्घोषक, समाचार वाचक, समाचार सम्पादक, 

पांच सवाल

Posted On March - 17 - 2010 Comments Off on पांच सवाल
1. मल्लिका साराभाई कौन है? 2. तमिल भाषा में रामायण की रचना किसने की? 3. ताजमहल का खाका किसने तैयार किया? 4. ‘मेपललीफ’ किस राष्ट्र का प्रतीक है? 5. खेल चैनल ईएसपीएन का पूरा नाम क्या है? सवालों के जवाब शिक्षा लोक के पिछले अंक में पूछे एक सवालों के जवाब इस प्रकार हैं : 1. जी.वी. मावलंकर 2. माखनलाल चतुर्वेदी 3. अंडमान निकोबार में 4. संस्कृत 5. सालिम अली को —प्रभारी  

आत्मविश्वास कराएगा परीक्षा में पास

Posted On March - 10 - 2010 Comments Off on आत्मविश्वास कराएगा परीक्षा में पास
सुरेन्द्र राणा शिक्षा-शास्त्री विलियम जेम्स का कथन है कि-‘परीक्षा के दौरान थोड़ा-सा आत्मविश्वास परीक्षा के पूर्व चिंतित होकर की गयी ढेरों तैयारी से  कहीं अच्छा परिणाम दे सकता है।’ परीक्षा में अच्छे एवं संतुलित प्रदर्शन के लिए विद्यार्थी में आत्मविश्वास का होना बहुत जरूरी है। यही एक ऐसा मौका होता है जब आपकी पूरे वर्ष की मेहनत का मूल्यांकन होता है। कभी-कभी देखा जाता है कि 

पौधों के साथ जिंदगी और रोजगार

Posted On March - 10 - 2010 Comments Off on पौधों के साथ जिंदगी और रोजगार
करिअर/प्लांट पैथालोजिस्ट कीर्ति शेखर पेड़-पौधे हमें भोजन के अलावा प्राणवायु यानी आक्सीजन भी देते हैं। आदिकाल से ही हम इनका उपभोग करते आए हैं। यह भी बिना कुछ  बोले चुपचाप सिर्फ हमें देते ही रहे हैं। लेकिन परोपकार में लगे रहने वाले पेड़-पौधे कभी-कभी बीमार भी हो जाते हैं। इनकी बीमारी का पता लगाना व इसका उचित इलाज करने के लिए विज्ञान की एक शाखा निर्धारित की गई है। इस शाखा को 

अंतिम तिथि

Posted On March - 10 - 2010 Comments Off on अंतिम तिथि
अशोक सिंह ०पाठ्यक्रम : एमएससी (जैव प्रौद्योगिकी), एमएससी (कृषि), एमवीएससी, एमटैक (जैव प्रौद्योगिकी)। संस्थान : संयुक्त जैव प्रौद्योगिकी प्रवेश परीक्षा, जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय, नई दिल्ली-110067. (वेबसाइट-www.jnu.ac.in) अवधि : दो-दो वर्ष प्रत्येक दाखिले : दिनांक 20 मई को आयोजित की जाने वाली चयन परीक्षा के आधार पर। प्रास्पेक्टस : ‘जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय’ 
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.