32 देशों के 239 वैज्ञानिकों ने कहा-हवा में भी है कोरोना! !    श्रीनगर में लगा आधा ‘दरबार’, इस बार जम्मू में भी खुला नागरिक सचिवालय! !    कुवैत में 'अप्रवासी कोटा बिल' पर मुहर, 8 लाख भारतीयों पर लटकी वापसी की तलवार !    मुम्बई, ठाणे में भारी बारिश !    हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे पर ढाई लाख का इनाम, पूरे यूपी में लगेंगे पोस्टर !    एलएसी विवाद : पीछे हटीं चीन और भारत की सेनाएं, डोभाल ने की चीनी विदेश मंत्री से बात! !    अवैध संबंध : पत्नी ने अपने प्रेमी से करवायी पति की हत्या! !    कोरोना : भारत ने रूस को पीछे छोड़ा, कुल केस 7 लाख के करीब !    भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने साधा राहुल गांधी पर निशाना !    राहुल का कटाक्ष : हारवर्ड के अध्ययन का विषय होंगी कोविड, जीएसटी, नोटबंदी की विफलताएं !    

कहर बरपाने को तैयार हिमालय क्षेत्र की 897 झीलें

Posted On June - 29 - 2020

ज्ञान ठाकुर/निस
शिमला, 28 जून
हिमालय क्षेत्र में जलवायु परिवर्तन के कारण ग्लेशियरों के पिघलने से बनी 897 झीलें कभी भी हिमाचल में कहर बरपा सकती हैं। इनमें से ग्लेशियरों से बनीं अकेले 562 झीलें सतलुज बेसिन में हैं जबकि 242 झीलें चिनाब घाटी बेसिन में हैं। जलवायु परिवर्तन के कारण बनी इन झीलों से उत्पन्न खतरे को भांपते हुए हिमाचल प्रदेश के पर्यावरण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग ने ग्लेशियर झीलों की मैपिंग का कार्य आरंभ कर दिया है। मैपिंग और निगरानी हिमाचल तथा साथ लगते तिब्बतीयन हिमालय क्षेत्र में की जा रही है।
अभी तक उपलब्ध जानकारी के अनुसार जलवायु परिवर्तन केंद्र द्वारा 2019 में किए गए शोध के आधार पर सतलुज बेसिन में पाई गई 562 झीलों में से लगभग 81 प्रतिशत यानी 458 झीलें पांच हेक्टेयर से कम क्षेत्रफल की हैं। 9 प्रतिशत यानी 53 झीलें पांच से दस हेक्टेयर क्षेत्रफल की और नौ प्रतिशत यानी 51 दस हेक्टेयर से अधिक क्षेत्रफल की हैं।
इसी तरह चिनाब घाटी में बहने वाली चंद्रा, भागा और मियार सब बेसिन में 242 झीलें हैं। इनमें से 52 झीलें चंद्रा नदी के जलग्रहण क्षेत्र में, 84 झीलें भागा नदी के जलग्रहण क्षेत्र में और 139 झीलें मियार सब बेसिन में हैं।
प्रदेश की ब्यास घाटी में ग्लेशियर से बनी सबसे कम 93 झीलें हैं। इनमें से 12 झीलें ऊपरी ब्यास क्षेत्र में, 41 झीलें जीवा में और 37 झीलें पार्वती सब बेसिन में हैं।
पर्यावरण परिवर्तन केंद्र द्वारा किए गए अब तक के अध्ययन में पता चला है कि वर्ष 2018 की तुलना में वर्ष 2019 में ग्लेशियरों से बनी इन झीलों में लगभग 33 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। हिमाचल प्रदेश सरकार में विशेष सचिव व निदेशक राजस्व और आपदा प्रबंधन डीसी राणा के मुताबिक हिमाचल प्रदेश में हिमालय क्षेत्र और इसके साथ लगते तिब्बतियन हिमालय क्षेत्र के ऊंचे इलाकों में ग्लेशियर से बनने वाली झीलों की संख्या में तेजी आई है। उनका कहना है कि 20 हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र और 5 से 10 हेक्टेयर क्षेत्र की झीलें नुकसान की दृष्टि से संवेदनशील हैं।
पर्यावरण विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के सचिव रजनीश के मुताबिक विभाग हिमालय में बर्फ पिघलने के कारण बनी सभी ग्लेशियर झीलों की मैपिंग में जुट गया है। इन झीलों में काफी मात्रा में पानी होने के कारण ये झीलें भविष्य में नुकसानदेह साबित हो सकती हैं।


Comments Off on कहर बरपाने को तैयार हिमालय क्षेत्र की 897 झीलें
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.