योगी आदित्यनाथ ने अपराध के आंकड़ों पर पर्दा डालने के अलावा किया ही क्या : प्रियंका !    इन्फोसिस के अमेरिका में फंसे 200 से अधिक कर्मचारी, उनके परिवार चार्टर्ड विमान से पहुंचे भारत !    आइडाहो झील के ऊपर 2 विमानों की टक्कर, 8 की मौत !    देश में कोविड-19 के मामलों की संख्या 7 लाख पार! !    राम मंदिर कार्यशाला में पत्थरों को चमकाने का काम जोरों पर, 3 माह में होगा पूरा !    पुलवामा में मुठभेड़ में आतंकी ढेर, एक जवान शहीद !    सेना में महिला अधिकारियों को स्थायी कमीशन देने के लिए केंद्र को मिला एक माह का समय !    कांवड़ियों को रोकने के लिए हरियाणा, उत्तराखंड से लगती सीमाएं सील ! !    नये दिशा-निर्देश : कक्षाएं ऑनलाइन होने पर विदेशी छात्रों को छोड़ना होगा अमेरिका! !    दुनिया के सबसे अधिक उम्र के शरीर से जुड़े जुड़वा भाइयों का निधन !    

एकदा

Posted On June - 3 - 2020

ज्ञानी और संदेश
एक गांव में दो साधुओं का दल अकस्मात आमने-सामने आ गया। दोनों परस्पर परिचित थे मगर इस समय मौन थे। पूर्व की ओर से आने वाले साधु ने पश्चिम की ओर से आने वाले साधु की ओर ज़ोर से फूंक मारी और उससे मिलने आगे की ओर बढ़े। यह देखकर पश्चिम की ओर से आने वाले साधु ने भी जवाब में अपने एक पैर का पंजा उठाकर सामने वाले साधु की ओर कर दिया। दोनों साधुओं के शिष्यों ने ही दोनों के कृत्यों का अलग-अलग अर्थ निकाल लिया। पहले साधु के शिष्य दूसरे साधु के शिष्यों से भिड़ते हुए बोले— तुम्हारे गुरु ने हमारे गुरु का अपमान किया है। वह कहते हैं कि हमारे गुरु को एक फूंक में उड़ा देंगे। इस पर दूसरे साधु के शिष्य भी भड़क कर बोले—तुम्हारे गुरु ने भी तो कहा है कि हम तुम्हें अपने पैरों के बराबर भी नहीं समझते। दोनों साधु शिष्यों की बातों पर खूब हंसे। एक ने उन सबका भ्रम निवारण करते हुए कहा—अरे, मैंने फूंक मारकर यह संदेश दिया था कि जल्दी मिलो, इन सांसों का कोई भरोसा नहीं है। दूसरा बोला—और मेरे पैर उठाने का अर्थ यह था कि फिर देर किस बात की। आओ, कदम बढ़ाएं और गले मिलें। यह सब सांकेतिक भाषा थी, जिसे समझने में अभी तुम्हें पर्याप्त समय लगेगा।
प्रस्तुति : मुकेश कुमार जैन


Comments Off on एकदा
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.