अश्लीलता फैलाने और राष्ट्रीय प्रतीकों के अपमान में एकता कपूर पर केस दर्ज !    भारत के लिए आयुष्मान भारत को आगे बढ़ाने का अवसर : डब्ल्यूएचओ !    पाक सेना ने एलओसी के पास ‘भारतीय जासूसी ड्रोन' को मार गिराने का किया दावा !    भारत-चीन अधिक जांच करें तो महामारी के ज्यादा मामले आएंगे : ट्रंप !    5 कर्मियों को कोरोना, ईडी का मुख्यालय सील !    भारत-चीन सीमा विवाद : दोनों देशों में हुई लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की बातचीत !    लोगों को कैश न देकर अर्थव्यवस्था बर्बाद कर रही सरकार : राहुल !    अमरनाथ यात्रा 21 जुलाई से, 14 से कम और 55 से अधिक उम्र वाले नहीं हो पाएंगे शामिल !    अमेरिकी राष्ट्रपति की दौड़ में ट्रंप को चुनौती देंगे बाइडेन !    कुछ निजी अस्पताल मरीजों को भर्ती नहीं कर ‘बेड की कालाबाजारी' कर रहे : केजरीवाल !    

सपनों में तुम फिर खो जाना

Posted On May - 16 - 2020

बाल कविता
छुट्टी के दिन होते प्यारे,
मौज हुई हम मस्ती मारे।
सुबह देर तक सोते है,
सपनों में हम खोते है।
सपनों में परियां आती,
बड़े मजे की सैर कराती,
चंद्र लोक में लेकर जाती,
तारों के संग खेल खिलाती।
परियों के संग सपनों में,
मीठी निंदिया हमको भाती।
सपनों में ये चांद सितारे,
लगते है बड़े प्यारे प्यारे।
मुर्गा कुकड़ू कू बोले,
पक्षी अम्बर में डोले,
उठो नींद से प्यारे बच्चों,
कहकर पलकों को खोलें।
गहरी निंदिया में सोये हम,
सुंदर सपनों में खोये हम,
सपनों में परियों संग खाते,
लजीज़ पास्ता पोहे हम।
गहरी निंदिया में हम हरदम,
परियों संग नाचे छम छम,
मम्मी की आवाज़ सुनी तो,
फिर सपनों की टूटी सरगम।
आंख खुली तो गौर से देखा,
ना परियां कहीं दिखाई दी।
दूर गगन में हंसते सूरज ने,
नव प्रभात की बधाई दी।
दिनभर खूब करो मेहनत
रात को फिर से सो जाना।
परीलोक के सुंदर मनभावन,
सपनों में तुम फिर खो जाना।
भूपसिंह ‘भारती,

गर्मी की सौगातें
ठंडी रबड़ी बर्फ मलाई
गर्मी कुछ सौगातें लाई
मैंगो-टैंगो, टूटी-फ्रूटी
बटरस्कोच फ्लेवर ठंडाई
गोला-चुस्की, शरबत-कुल्फी
फ्रूट शेक की रंगत छाई
कप, कोन, कैंडी का डिब्बा
आइसक्रीम सबको ललचाई
पीकर छाछ पना कैरी का
भूल गए नमकीन मिठाई
कोल्ड ड्रिंक माखणिया लस्सी
गटगट पी मुनिया सुस्ताई
आशा शर्मा


Comments Off on सपनों में तुम फिर खो जाना
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.