32 देशों के 239 वैज्ञानिकों ने कहा-हवा में भी है कोरोना! !    श्रीनगर में लगा आधा ‘दरबार’, इस बार जम्मू में भी खुला नागरिक सचिवालय! !    कुवैत में 'अप्रवासी कोटा बिल' पर मुहर, 8 लाख भारतीयों पर लटकी वापसी की तलवार !    मुम्बई, ठाणे में भारी बारिश !    हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे पर ढाई लाख का इनाम, पूरे यूपी में लगेंगे पोस्टर !    एलएसी विवाद : पीछे हटीं चीन और भारत की सेनाएं, डोभाल ने की चीनी विदेश मंत्री से बात! !    अवैध संबंध : पत्नी ने अपने प्रेमी से करवायी पति की हत्या! !    कोरोना : भारत ने रूस को पीछे छोड़ा, कुल केस 7 लाख के करीब !    भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने साधा राहुल गांधी पर निशाना !    राहुल का कटाक्ष : हारवर्ड के अध्ययन का विषय होंगी कोविड, जीएसटी, नोटबंदी की विफलताएं !    

रक्षक ऊर्जा से भरा पिरामिड

Posted On May - 24 - 2020

वास्तु
मदन गुप्ता सपाटू
वास्तु में पिरामिड को ऊर्जा संतुलित करने वाला माना गया है। यही कारण है कि नकारात्मक ऊर्जा प्रवाह को दूर करने से लेकर हर प्रकार के वास्तु दोषों को बिना तोड़-फोड़ खत्म करने तक में पिरामिड का प्रयोग किया जाता है। यदि आप प्राचीनकाल के मंदिरों या आज के दक्षिण भारतीय मंदिरों की रचना देखें, तो जानेंगे कि सभी कुछ-कुछ पिरामिडनुमा आकार के हैं। दक्षिण भारत के मंदिरों के सामने अथवा चारों कोनों में पिरामिड आकृति के गोपुर इसी उद्देश्य से बनाए गए हैं कि व्यक्ति को उससे भरपूर ऊर्जा मिलती रहे। ये गोपुर एवं शिखर इस प्रकार बनाए गये हैं कि मंदिर में आने-जाने वाले भक्तों के चारों ओर ब्रह्मांडीय ऊर्जा का विशाल एवं प्राकृतिक आवरण तैयार हो जाए।
पिरामिड कई तरह से सुरक्षा करता है। कोरोना संकट के इन दिनों में जब स्वास्थ्य के प्रति अधिक सचेत रहना जरूरी है, तो बचाव के अन्य उपायों के साथ ही नकारात्मक ऊर्जा से बचने के लिए पिरामिड का उपयोग किया जा सकता है। पिरामिड न सिर्फ वास्तु दोषों को दूर करता है, बल्कि यह कई सकारात्मक ऊर्जाओं का स्रोत भी है। इसे घर में रखें या ऑफिस में, यह कई विपत्तियों को दूर रखता है। ‘पिरामिड’ दो ग्रीक शब्दों- ‘पायरा’ (आग, ऊर्जा या उष्मा) एवं ‘मिड’ (मध्य) से मिलकर बना है। यानी वह वस्तु जिसके मध्य सकारात्मक ऊर्जा हो और जो अन्य को सुरक्षित रखती हो।

  • पिरामिड को किसी शुभ मुहूर्त में प्राण प्रतिष्ठा करवाकर उत्तर-दक्षिण कोने में रखने से घर में सकारात्मक ऊर्जा आती रहती है। पिरामिड तांबा, पीतल या पंचधातु का हो तो बहुत शुभ रहता है। कभी भी लोहे या एल्युमीनियम का पिरामिड घर में नहीं रखना चाहिए।
  • पिरामिड बुरी आदतें छुड़ाने में भी प्रभावी है। कोई बुरी आदत है तो अपने कमरे के उस कोने में पिरामिड रखें जहां आप सबसे ज्यादा वक्त गुजारते हैं। ध्यान रखें कि इसे नियमित रूप से साफ करें, ताकि इस पर धूल-गंदगी न जमे। गंदगी जमा होने से इससे निकलने वाली सकारात्मक ऊर्जा बाधित होती है और इसका प्रभाव कम हो जाता है।
  • परिवार के सदस्य बार-बार बीमार पड़ रहे हैं तो इसका कारण नकारात्मक ऊर्जा भी हो सकती है। पिरामिड सकारात्मक ऊर्जा का एक स्रोत है। इसे स्थापित करने से संतुलित और सकारात्मक माहौल बनता है, जो मानसिक एवं शारीरिक स्वास्थ्य पाने में मदद करता है।
  • बच्चों का पढ़ाई में ध्यान न लगता हो, तो उनके कमरे में पिरामिड रखें। ध्यान केंद्रित न होना कई बार वास्तु दोषों के कारण भी होता है, पिरामिड इन दोषों को दूर कर एकाग्रता बढ़ाने में मदद करता है।
  • ऑफिस या फैक्टरी के रिसेप्शन पर वास्तु-उपाय के रूप में पिरामिड रखा जाये तो इसका सकारात्मक प्रभाव वहां काम करने वाले कर्मचारियों और वहां होने वाले हर कार्य पर पड़ता है।
  • ऑफिस के मध्य में किसी खास स्थान पर रखा पिरामिड वहां काम करने वाले कर्मचारियों के बीच सहयोग की भावना लाता है।
  • पिरामिड को घर के अंदर रखना जितना लाभदायक है, उतना ही लाभप्रद इसे गार्डन एरिया में रखना भी है। यह पौधों को बढ़ने में मदद करता है। पिरामिड को आप किसी नन्हे पौधे के पास रखें तो और भी बेहतर है।
  • आप बालकनी में भी पिरामिड रख सकते हैं। इसके अलावा आप इसे दरवाजे पर भी रख सकते हैं, लेकिन यह किसी को दिखाई नहीं देना चाहिए। कार में भी पिरामिड रखा जा सकता है।

Comments Off on रक्षक ऊर्जा से भरा पिरामिड
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.