विधायकों के स्टडी टूर पर बैन, अब नहीं जा सकेंगे राज्य से बाहर !    पायलट को हटाए जाने के बाद प्रियंका ने की सोनिया से मुलाकात !    सुप्रीमकोर्ट का उम्रकैद की सजा भुगत रहे बाबा रामपाल को पैरोल से इनकार !    खराब मौसम के कारण यूएई का पहला मंगल अभियान शुक्रवार तक स्थगित !    राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के लिये खुद को करें नामांकित : निशंक !    सत्य को परेशान किया जा सकता है पराजित नहीं : पायलट !    विधायक की मौत को लेकर उत्तरी बंगाल में भाजपा का बंद !    राजस्थान : सचिन पायलट से छीना उप-मुख्यमंत्री पद, 2 मंत्रियों की भी छुट्टी! !    एक अगस्त तक खाली कर दूंगी सरकारी आवास : प्रियंका !    विकास दुबे का सहयोगी शशिकांत गिरफ्तार, पुलिस से लूटी एके-47, इंसास राइफल बरामद !    

पाकिस्तानी खिलाड़ी भी बलबीर सीनियर के कायल

Posted On May - 26 - 2020

कहा- महान खिलाड़ी ही नहीं, बल्कि बेहतरीन इनसान भी थे

नयी दिल्ली, 26 मई (एजेंसी)
तीन बार के ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता बलबीर सिंह सीनियर को युवाओं के लिये ‘रोलमॉडल’ बताते हुए पाकिस्तान के दिग्गज हॉकी खिलाड़ियों ने कहा कि वह महान खिलाड़ी ही नहीं बल्कि एक बेहतरीन इनसान भी थे, जिनसे काफी कुछ सीखा जा सकता है। भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान और कोच बलबीर सीनियर का लंबे समय से चल रही स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों के बाद सोमवार को मोहाली में निधन हो गया था। लॉस एंजिलिस ओलंपिक (1984) में स्वर्ण पदक जीतने वाले पाकिस्तान के पूर्व कप्तान हसन सरदार ने कहा कि बलबीर सिंह सिर्फ भारत ही नहीं, बल्कि पूरे उपमहाद्वीप में एक लीजैंड थे। तीन ओलंपिक स्वर्ण जीतकर उन्होंने महानतम हॉकी खिलाड़ियों में अपना नाम शामिल कर लिया था। उन्होंने 1982 दिल्ली एशियाई खेलों के दौरान बलबीर से हुई मुलाकात का जिक्र करते हुए कहा कि वह बहुत अच्छे इंसान भी थे। मुझे याद है कि उन्होंने पंजाबी में मुझसे कहा था ‘ सान्नू घट्ट गोल करीं (हमारे खिलाफ कम गोल करना । उन्होंने मेरे प्रदर्शन की तारीफ भी की थी। अपने दौर के सर्वश्रेष्ठ सेंटर फारवर्ड में शुमार हसन के शानदार प्रदर्शन से पाकिस्तान ने 1982 एशियाई खेलों का स्वर्ण और उसी साल मुंबई में विश्व कप जीता था, जिसमें वह मैन आफ द मैच रहे थे। इन दोनों टूर्नामेंटों और 1976 मांट्रियल ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता पाकिस्तानी टीम के सदस्य रहे समीउल्लाह को उनके चाचा और 1960 रोम ओलंपिक की स्वर्ण पदक विजेता पाकिस्तानी टीम के लिये खेलने वाले मोतिउल्लाह ने बलबीर सीनियर के खेल के बारे में बताया था।
रफ्तार पर कायल
समीउल्लाह ने कहा, ‘बलबीर सीनियर मेरे अंकल मोतिउल्लाह के दौर में खेलते थे। उन्होंने मुझे उनकी रफ्तार और गेंद पर कमाल के नियंत्रण के बारे में बताया। मरहूम ओलंपियन अनवर अहमद ने भी बताया कि बलबीर सीनियर जैसी रफ्तार किसी के पास नहीं थी। उन्होंने कहा कि मैं 1975 के भारत दौरे पर उनसे और ध्यानचंद जी से मिला था और उसे मैं कभी भूल नहीं सकता। सिडनी विश्व कप 1994 जीतने वाली पाकिस्तानी टीम के कप्तान और तीन बार के ओलंपियन शाहबाज अहमद (शाहबाज सीनियर) ने बताया कि 1987 में लखनऊ में इंदिरा गांधी कप के दौरान बलबीर सीनियर ने उन्हें ‘प्लेयर आफ द टूर्नामेंट’ की ट्राफी दी थी और वह उनकी तरबियत के कायल हो गए थे।
हॉकी के लिए उनका प्यार बेमिसाल था
दुनिया के सर्वश्रेष्ठ लेफ्ट हाफ में शुमार और पाकिस्तान के लिये सर्वाधिक अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले वसीम अहमद ने कहा कि बलबीर सीनियर का हॉकी के लिये प्यार एक मिसाल था। उन्होंने कहा कि मैं उनका बहुत बड़ा मुरीद हूं और हॉकी के लिये उनकी मुहब्बत तो मिसाल है । अपने देश के लिये उन्होंने इतनी उपलब्धियां हासिल की और उनका दर्जा किसी महानायक से कम नहीं है। उन्होंने कहा कि मैं जब उनसे मिला तो मेरे लिये वह किसी हीरो की तरह थे और आने वाली कई पीढियों के लिये रहेंगे।


Comments Off on पाकिस्तानी खिलाड़ी भी बलबीर सीनियर के कायल
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.