‘नार्को टेररिस्ट' अमित गंभीर उर्फ ‘बॉबी' के खिलाफ पहला आरोपपत्र दाखिल !    सीतारमण ने एफएसडीसी बैठक में लिया अर्थव्यवस्था की स्थिति का जायजा !    ब्रिटेन में भारतीय मूल के 2 व्यक्तियों को ड्रग्स बरामदगी मामले में 34 साल की सजा !    बाबरी मस्जिद : 4 जून को भाजपा नेताओं के बयान होंगे दर्ज !    केरल में 2 महीने बाद शराब बिक्री शुरू, बेवक्यू ऐप से लेना होगा टोकन! !    आइसोलेशन सेंटरों में अलग से खाना-पानी मुहैया कराये दिल्ली सरकार : हाईकोर्ट !    सुप्रीमकोर्ट ने श्रमिक पलायन संकट पर केन्द्र से पूछे तीखे सवाल !    शराब कारोबारी ने पत्नी, बच्चों के लिये पूरा हवाई जहाज लिया किराये पर! !    दिल्ली के किसान ने श्रमिकों को विमान से भेजा पटना, प्रवासियों ने डर से बंद कर ली आंखें! !    चीनी अधिकारियों पर प्रतिबंधों को मंजूरी, अमेरिका करेगा रुख कड़ा !    

पहली बार एक दिन में 6600 से ज्यादा नये मामले

Posted On May - 24 - 2020

नयी दिल्ली, 23 मई (एजेंसी)
देश में 24 घंटे में कोरोना वायरस के रिकॉर्ड 6654 नये मामले सामने आये। इस दौरान 137 मरीजों की मौत हो गयी, जबकि 3250 स्वस्थ हुए। स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से शनिवार सुबह जारी इन आंकड़ों के साथ संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 1,25,101 तक पहुंच गए। वहीं, मृतक संख्या बढ़कर 3720 हो गई। लगातार दूसरे दिन 6 हजार से ज्यादा नये मामलों की पुष्टि हुई है। मंत्रालय के बुलेटिन के मुताबिक देशभर में 69597 संक्रमितों का इलाज चल रहा है, 51784 लोग स्वस्थ्य हो चुके हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि अब तक करीब 41.39 फीसदी मरीज ठीक हो चुके हैं।

कंटेनमेंट जोन में तैनात कर्मियों को दी जाएगी एचसीक्यू
भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन (एचसीक्यू) दवा को लेकर एक संशोधित परामर्श जारी किया है। इसमें गैर कोरोना अस्पतालों में काम कर रहे बिना लक्षण वाले स्वास्थ्यसेवा कर्मियों, कंटेनमेंट जोन में निगरानी ड्यूटी पर तैनात कर्मियों और कोरोना संक्रमण को रोकने संबंधी गतिविधियों में शामिल अर्द्धसैन्य बलों/पुलिसकर्मियों को रोग निरोधक दवा के तौर पर हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन का इस्तेमाल करने की सिफारिश की गयी है। इसके साथ ही आईसीएमआर ने आगाह भी किया है कि दवा लेने वाले व्यक्ति को यह नहीं सोचना चाहिए कि वह एकदम सुरक्षित हो गया है। संशोधित परामर्श के अनुसार एनआईवी पुणे में एचसीक्यू की जांच में यह पाया गया कि इससे संक्रमण की दर कम होती है। यह दवा औपचारिक सहमति के साथ किसी डॉक्टर की निगरानी में दी जा सकती है। आईसीएमआर ने स्पष्ट किया है कि यह दवा उन लोगों को नहीं देनी चाहिए, जो रेटिना संबंधी बीमारी से ग्रस्त हैं या जिन्हें दिल की धड़कन घटने-बढ़ने की बीमारी है। यह दवा 15 साल से कम आयु के बच्चों तथा गर्भवती एवं दूध पिलाने वाली महिलाओं को नहीं दी जानी चाहिये।


Comments Off on पहली बार एक दिन में 6600 से ज्यादा नये मामले
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.