हथीन 10 बांग्लादेशी मिलने से हड़कंप !    सीबीएसई : 11वीं में अब ‘अप्लाइड मैथ्स’ का भी विकल्प !    बीएस-4 मानें कोर्ट का आदेश : केंद्र !    बिना सब्सिडी गैस सिलेंडर 61.5 रुपये सस्ता !    चीन ने लक्षण मुक्त मामलों का किया खुलासा !    महामारी के 10 हॉटस्पॉट !    अभिनेता एंड्रियू जैक की कोरोना से मौत !    जम्मू-कश्मीर : समूह-4 तक की नौकरियां होंगी आरक्षित !    विप्रो व अजीम प्रेमजी फाउंडेशन देंगे 1125 करोड़ !    यूबीआई और ओबीसी का पीएनबी में विलय !    

दृष्टिबाधितों को रास्ता दिखाएगा सूटकेस

Posted On March - 15 - 2020

कुमार गौरव अजीतेन्दु

मशहूर टेक कंपनी आईबीएम ने चार अन्य कंपनियों के साथ मिलकर प्रोटोटाइप सूटकेस तैयार किया है। इसकी खासियत ये है कि यह आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस तकनीक पर बेस्ड है। कंपनी ने दावा किया है कि यह दृष्टिबाधित लोगों को रास्ते पर चलते समय गाइड करेगा। कंपनी ने स्मार्ट सूटकेस तैयार करने के लिए अल्प अल्पाइन, मिस्तुबिशी, ओमरॉन और शिमीजू जैसी कंपनियों के साथ साझेदारी की है। इसके सूटकेस के पीछे आईबीएम की फैलो हाइको असाकावा का आइडिशन था जो खुद भी दृष्टिबाधित है। यह सूटकेस न सिर्फ दृष्टिबाधित लोगों को रास्ता बताएगा बल्कि कैमरे और सेंसर की मदद से रास्ते में आने वाली बाधाओं के बारे में बोलकर बताएगा।
एआई टेक्नोलॉजी पर बेस्ड स्मार्ट यह सूटकेस यूजर की वर्तमान लोकेशन और मैप डेटा को स्कैन करेगा ताकि डेस्टिनेशन तक पहुंचने के लिए सही रास्ता ढूंढा जा सके। यह बोलकर और सूटकेस के हैंडल में वाइब्रेशन देकर यूजर को गाइड करेगा। इसमें ऑडियो सिस्टम भी है, जिसकी बदौलत ये रास्ते में आने वाले कैफे और दुकानों के बारे में यूजर को बोलकर बताता है। नेक्स्ट वेब की रिपोर्ट के मुताबिक, यह सूटकेस वीडियो कैमरा और डिस्टेंस सेंसर के जरिए डेटा एनालाइज कर रास्ते में आने वाली बाधाओं के बारे दृष्टिबाधित व्यक्ति को अलर्ट करता है। नेक्स्ट वेब ने अपनी ग्लोबल हेल्थ स्टडी रिपोर्ट में यह जानकारी दी कि 2050 में दृष्टिबाधित लोगों की संख्या 11.5 करोड़ तक पहुंच सकती है। जापान के एक अखबार को इंटरव्यू देते हुए असाकावा ने बताया कि उन्हें यह आइडिया तब आया जब वे एक बिजनेस ट्रिप के दौरान सूटकेस खींच रही थी। उन्होंने कहा कि दृष्टिबाधित व्यक्ति के लिए शहर में स्वतंत्र और सुरक्षित सफर करना काफी मुश्किल होता है। लेकिन मैंने इस नामुमकिन काम को मुमकिन बना दिया है। यह सूटकेस आईबीएम द्वारा बनाया जा रहा है। अल्प अल्पाइन इसमें हैप्टिक टेक्नोलॉजी का काम कर रही है, ओमरॉन कंपनी इसमें इमेज रिकॉग्निशन और सेंसर उपलब्ध करा रही है, शिमिजू इसके नेविगेशन सिस्टम पर काम कर रही है वहीं इसके ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजी को बेहतर बनाने की जिम्मेदारी मिस्तुबिशी पर है। सभी को उम्मीद है कि ये एआई सूटकेस दृष्टिबाधित व्यक्ति को आत्मनिर्भर बनने में सहायता करेगा।
नन्हा रोबोट यूजर तक पहुंचाता है टॉयलेट पेपर
टॉयलेट पेपर मेकर कंपनी चारमिन ने अपने टॉयलेट पेपर डिलीवरी रोबोट को पेश किया है। कंपनी ने इसे रोलबॉट नाम दिया है। यह एक सेल्फ बैलेंसिंग टू-व्हील रोबोट है जो दिखने में चलते -फिरते नन्हे टेडी बीयर सा लगता है। इसे स्मार्टफोन से कनेक्ट कर इस्तेमाल किया जा सकता है। ऐप के जरिए कमांड देने पर ये यूजर तक टॉयलेट पेपर पहुंचाता है। कंपनी ने अपनी टेक बेस्ड बाथरूम सॉल्यूशन रेंज को पेश किया है। पहली नजर में ये रोबोट किसी नन्हे कार्टून की तरह दिखाई देता है। इसमें दो छोटे-छोटे व्हील्स लगे हैं, जिस पर ये खुद बैलेंस बनाता है। कंपनी ने इसके चेहरे को कार्टून बीयर-फेस जैसा डिजाइन किया है, जो कि काफी रोचक लगता है। इसके सिर को फ्लैट बनाया गया है, जिस पर ये टॉयलेट पेपर लेकर चलता है। इसे ब्लूटूथ की मदद से स्मार्टफोन से कनेक्ट किया जा सकता है। इसमें इंफ्रारेड सेंसर्स लगे हैं, जिसकी बदौलत ये यूजर को पहचान कर उन तक पहुंचता है। कंपनी ने इसे प्रोटोटाइप मॉडल के तौर पर पेश किया है और फिलहाल इसकी कीमत और लॉन्चिंग डेट के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है।


Comments Off on दृष्टिबाधितों को रास्ता दिखाएगा सूटकेस
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Manav Mangal Smart School
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.