षष्ठम‍्-कात्यायनी !    इस बार गायब है आमों की मलिका ‘नूरजहां’ !    हालात से चिंतित जर्मन राज्य के वित्त मंत्री ने की आत्महत्या !    भारतीय मूल के लोग आये आगे !    दिल्ली से पैदल मुरैना जा रहे व्यक्ति की आगरा में मौत !    राज्यों और जिलों की सीमाएं सील !    लॉकडाउन से बिजली की मांग में भारी कमी !    अजिंक्य रहाणे ने 10 लाख रुपये किये दान !    दान का सिलसिला जारी, पीएम ने राष्ट्रपति का किया धन्यवाद !    ईरान से लाये 275 लोगों को जोधपुर में रखा गया अलग !    

जरूरी सामान की कीमतों में आया उछाल

Posted On March - 26 - 2020

गुरुग्राम, 25 मार्च (हप्र)
कोरोना को फैलने से रोकने के लिए एहतियात के तौर पर बरती जा रही सावधानी ने लोगों की मुश्किलें बढ़ा दी है। प्रशासन की सख्ती के कारण परेशान दुकानदारों ने अपनी दुकानें बंद रखनी शुरू कर दी हैं। इसके चलते दैनिक उपभोग की वस्तुओं के दाम तेजी से बढ़ने लगे हैं। स्थिति यह है कि पुलिसकर्मी 11 बजे से पहले ही दुकानें बंद करवा देते हैं।
21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा के बाद लोग सकते में हैं। इन्हें इस बात की चिंता सताने लगी है कि स्थिति विकराल है तो घर की जरूरतें कैसे पूरी होंगी। इसके साथ ही उपभोक्ताओं में घर जरूरत के सामान को स्टोर करने की होड़ मच गई। परेशान लोग सुबह से इधर-उधर दौड़ते दिखाई दिए, लेकिन इन्हें निराशा ही हाथ लगी। दरअसल बीते दो दिनों से किरायाणा के दुकानदारों, फल व सब्जी विक्रेताओं पर पुलिस का हथौड़ा ज्यादा ही सख्ती से चला। बार-बार पुलिसकर्मियों की फटकार खाने और राहत के लिए गिड़गिड़ाने से परेशान दुकानदारों ने बुधवार को स्वेच्छा से ही दुकानें बंद कर दी।
बुधवार को दैनिक जरूरतों की आपूर्ति करने वाली दुकानें बंद देखकर नागरिकों की परेशानी बढ़ गई। जो दुकानें खुली थी उन पर लोगों की भीड़ बढ़ गई। भीड़ देखकर पुलिसकर्मियों की टीमों ने दुकान खुली रखने पर दुकानदारों को खूब फटकार लगाई। आखिरकार 10 बजने से पहले ही ये दुकानदार भी अपनी दुकानें बंद कर भागे। फूल विक्रेता श्रवण कुमार ने बताया कि नवरात्र के दिनों में खूब काम होता था, लेकिन अब पुलिस फूल की ठेली लगाने ही नहीं दे रही। गुरुद्वारा रोड पर स्थित सब्जी मंडी में थड़ी लगाने वाले श्रीकांत का कहना है कि पुलिस द्वारा बार-बार परेशान किए जाने के कारण बुधवार को दुकान नहीं लगाई। इधर, किरायाना की वस्तुओं की आपूर्ति बाधित होने के कारण इनके दामों भी बढ़ोतरी दर्ज की गई है। सामान्यतः 240 रुपए की 10 किलो की आटा थैली अब 280 के पार पहुंच गई। इसी तरह दाल, मंगोड़ी व दूसरे सामान के रेट भी बढ़ा दिए गए हैं। डीसी अमित खत्री ने बताया कि मोबाइल ग्रॉसरी शॉप के जरिये रिहायशी इलाकों, हाई राइज बिल्डिंग तथा कंडोमिनियम मे रहने वाले लोग वहीं पर ग्रोसरी का सामान प्राप्त कर सकेंगे।

व्रतियों को नहीं मिले फल
नवरात्र के व्रत शुरू हो चुके हैं। ऐसे में फलाहार के चलते फलों की मांग बढ़ गई है, लेकिन बाजारों, सड़कों पर लगने वाली फलों की रेहड़ी, ठेलियां गायब हैं। जो एकाध दिखती हैं वो आसमान छूते भाव बताते हैं। ऐसे में लोगों के सामने समस्या खड़ी हो गई है कि आखिर क्या करें। संदीप शर्मा के अनुसार, ‘पहला दिन इतना भारी कटा है अगले आठ दिनों के व्रत पता नहीं किस तरह से पूरे होंगे। लोगों ने प्रशासन से सवाल किया कि जब सारा दिन ठेके खुलने के आदेश हैं तो सब्जी की दुकानें क्यों बंद हैं।
फलों के दाम
                    पहले             अब
संतरा            40-50         80 से 90
केला             50-60          70 से 80
सेब               100-120      180 से 190
सब्जियों के दाम
                     पहले             अब
मटर                55                 75
बींस                80                 95
गोभी               50                 70
टमाटर            15                  35


Comments Off on जरूरी सामान की कीमतों में आया उछाल
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Manav Mangal Smart School
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.