ॐ आकार के द्वीप पर विराजमान ओंकारेश्वर !    पार्वती का तप !    महाशिवरात्रि : 117 साल बाद दुर्लभ संयोग !    अनुभवों से बदलें आदतें !    शहद रखे आपको फिट !    मोर के पंख !    सृष्टि के विकास का सार अर्धनारीश्वर !    व्रत-पर्व !    अंजाम !    अनुशासन का पाठ !    

हवा से बनेगा प्रोटीन

Posted On February - 15 - 2020

सोलर फूड

यूरोप के खूबसूरत और खुशहाल शहर फिनलैंड में हवा से खाना बनाने की कोशिश की जा रही है। माना जा रहा है कि इसके प्रति किलो की कीमत लगभग 390 रुपये होगी। कहा जा रहा है कि सोलेन नासा का आइडिया है, लेकिन इस पर अब फिनलैंड की कंपनी सोलर फूड्स काम कर रही है। इसके लिए कंपनी यूरोपियन स्पेस एजेंसी के साथ मिलकर काम कर रही है।
एक आंकड़े के मुताबिक दुनिया में अरबों की आबादी में 11.3 करोड़ से ज्यादा ऐसे लोग हैं जो खाने की तंगी से जूझ रहे हैं। इनमें 70 करोड़ बच्चों में एक -तिहाई या तो कुपोषित हैं या मोटापे से जूझ रहे हैं। ये बच्चे 5 साल या इससे कम उम्र के हैं। बढ़ती आबादी को खाना मुहैया कराना िवश्व की सबसे बड़ी चिंता है। इसी का हल निकालने की कोशिश कर रहे हैं फिनलैंड के वैज्ञानिक।
ऐसे बनेगा सोलर फूड
उत्तरी यूरोप के देश फिनलैंड में सोलर फूड नाम की कंपनी हवा से खाना बनाने की कोशिश कर रही है। इस खाने को तैयार करने में कार्बन डाइऑक्साइड गैस का इस्तेमाल हो रहा है। साथ में पानी और सोलर बिजली का उपयोग होगा। हवा, पानी और बिजली के इस मेल से सोलेन नाम का प्रोटीन पाउडर बनाया जाएगा। वैज्ञानिकों का कहना है कि यह पौधों से मिलने वाले प्रोटीन से 10 गुना ज्यादा फायदेमंद और पशुओं से प्राप्त प्रोटीन से लगभग 70 गुना ज्यादा बेहतर होगा। पर्यावरण के लिहाज से देखें तो ये एनिमल प्रोटीन का काफी अच्छा विकल्प हो सकता है।
प्रोटीन बनाने की प्रक्रिया
इस प्रोटीन को बनाने के लिए हवा से कार्बन डाइऑक्साइड लिया जाएगा। इसके लिए कार्बन कैप्चर टेक्नोलॉजी का होगा। बाद में इसमें पानी, विटामिन्स और न्यूट्रीएन्ट्स मिलाए जाएंगे। इसके बाद सोलर एनर्जी के इस्तेमाल से सोलेन बनाया जाएगा। इसे बनाने की प्रक्रिया नेचुरल फरमेंटेशन की तरह होगी, जिस तरह से यीस्ट और लैक्टिक एसिड बैक्टीरिया बनाया जाता है। ये खाना यानी प्रोटीन एक फरमेंटेशन टैंक के भीतर तैयार होगा। सोलेन दूसरे प्रोटीन्स की तरह ही स्वादरहित और गंधरहित होगा।
दिखने में कैसा होगा
हवा से बनने वाला सोलेन प्रोटीन पाउडर दिखने में आटे जैसा होगा। हाई प्रोटीन वाले इस फूड में 50 फीसदी प्रोटीन, 5 से 10 फीसदी फैट और 20 से 25 फीसदी कार्ब कंटेट्स होंगे। कंपनी का दावा है कि इसका टेस्ट भी आटे जैसा होगा । फिनलैंड की कंपनी हवा से बनाए जाने वाले इस फूड के लिए मार्केट तलाश रही है। इससे कई तरह का खाना बनाया जा सकता है। सबसे अच्छी बात ये है कि चूंकि इसे सीधे हवा से बनाया जा रहा है तो इसका कार्बन फुटप्रिंट छोटा होगा। इससे पर्यावरण को कम से कम नुकसान किए बगैर पूरी आबादी का पेट भरा जा सकेगा। मार्केट में इसे प्रोटीन शेक और योगर्ट के तौर पर उतारा जाएगा। हवा से मिलने वाले फूड सोलेन बनाने का प्रोसेस कॉर्बन न्यूट्रल होगा।


Comments Off on हवा से बनेगा प्रोटीन
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Manav Mangal Smart School
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.